Submit your post

Follow Us

अनिल कपूर का सपूत मर्डर कर के भाग गया था क्या?

221
शेयर्स

अनिल और सुनीता का बेटा भी काम से लग गया है. बसंती को रंगने वाले राकेश ओमप्रकाश मेहरा पिच्चर बना रहे हैं. मिर्जया नाम है. बच्चा हर्षवर्धन उसमें हीरो बना है. मिर्जा का रोल कर रहा है. उसकी साहिबा बनी है सेयानी खेर. सेयानी तन्वी आजमी की भतीजी हैं.

आज मिर्जया का ट्रेलर आ गया है . ये देखिए. ट्रेलर देखके लगता है, लड़की एकदम बड़के घर की है. अनिल कपूर का लड़का अस्तबल वाला लगता है. लव ट्राईएंगल जैसा भी सीन नजर आए है. हीरोइन की बात सुन ऐसा भी लगता है कि लड़का मर्डर कर भाग गया था, अब लौट आया है. प्यार करने. ट्रेलर देख लीजिए आप तो.

टीजर ट्रेलर आया था इसके पहले.

मिर्जया का मुझे इंतजार है. एक तो इसकी कहानी गुलजार ने लिखी है. वो हमें पसंद हैं. दूसरा मेहरा साहब भी फिल्में अच्छी बनाते हैं. अकसर ही. म्यूजिक शंकर एहसान लॉय का है. कहानी राजस्थान में सेट है. कंकाल मिर्जा साहिबा की लोककथा का है. कंक्रीट आज का होगा.

फिल्म का टीजर पहले आया था. टीजर में बालक के शारीरिक सौष्ठव पर फोकस था.मुंह दिखाई तब नहीं हुई थी. न हर्ष की और न सेयामी की. फेसबुक पर फोटो चेक कर रहा था. तो पता चला कि सेयामी खेलों के लिए पगलाई रहती है. सचिन, रोजर फेडरर समेत कई स्टार खिलाड़ियों के साथ फोटू लगा रखे हैं लड़की ने. अच्छा है. तंदरुस्त रहेगा तभी तो बढ़ेगा इंडिया.

 

मिर्जा साहिबा की असली कहानी
जाटों के टोले की कहानी है ये. एक बच्चा हुआ. डिलीवरी के दौरान उसकी मम्मी मर गई. वहीं एक और औरत मम्मी बनी थी. उसकी बेटी हुई थी. उसने बच्चे को भी दूध पिलाया. तो इस लॉजिक से बच्चा और बच्ची बन गए मिल्क सिबलिंग.
बच्ची का नाम था फातेह. उसका एक बेटा हुआ. मिर्जा. मिर्जा अपनी मम्मी के मिल्क ब्रदर खेवा के यहां पढ़ने गया. वहां उसे खेवा की बेटी साहिबा से प्यार हो गया.
बच्चे थे. स्कूल का इश्क. बढ़ा तो बढ़ता ही गया. वो दोनों भी बढ़ रहे थे. मिर्जा बड़ा होकर कमाल का घुड़सवार बना. और धनुष चलाने में पूरा लिंबाराम. निशाना चूकता ही नहीं. और साहिबा. वफा भी बेवफा हो जाए इत्ती खूबसूरत.
घरवालों को पता चल गया. मिर्जा को उसके मम्मी पापा के घर भेज दिया गया. साहिबा की शादी तय कर दी. मिर्जा का मन नहीं माना. आ गए दिलवाले दुलहनिया लेने. ऐन शादी के पहले कर लिया क्यूट किडनैप. रस्ते में लिया ब्रेक. मिर्जा सो गया. साहिबा ने सोचा, मेरे भाई आएंगे. और मिर्जा उनको मार तीर बराबर कर देगा. तो उसने तीर तोड़ दिए. भाई आए. बिना वॉर्निंग उन्होंने मिर्जा को भुच्च दिया. मिर्जा घायल, मगर लड़ने को तैयार. मगर उसने तरकश देखा तो तीर गायब. नीचे देखा तो टूटे पड़े. उसने अपनी बुद्धू कुड बी बीवी की तरफ देखा. साहिबा को काटो तो ब्लड नहीं. भइया के अगले तीर से पहले वो सनम के सीने के सामने आ गई. और हर महान लव स्टोरी की तरह दोनों मर गए.

गानों के शौकीन हों तो

मिर्जा साहिबा पर हरभजन मान का गाया एलबम बहुत चला था. फुरसत में हों तो सुन लीजिए

और वाकई सुनने का शऊर है तो नूरजहां बीबी को सुनिए.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इस टीज़र में आयुष्मान ने वो कर दिया जो सलमान, शाहरुख़ करने से पहले 100 बार सोचते

फिल्म 'बाला' का ये एक मिनट का टीज़र आपको फुल मज़ा देगा.

'इतना सन्नाटा क्यों है भाई' कहने वाले 'शोले' के रहीम चाचा अपनी जवानी में दिखते कैसे थे?

जिस आदमी को सिनेमा के परदे पर हमेशा बूढा देखा वो अपनी जवानी के दौर में राज कपूर से ज्यादा खूबसूरत हुआ करता था.

शोले के 'रहीम चाचा' जो बुढ़ापे में फिल्मों में आए और 50 साल काम करते रहे

ताउम्र मामूली रोल करके भी महान हो गए हंगल सा'ब को 7 साल हुए गुज़रे हुए.

जानिए वर्ल्ड चैंपियन पी वी सिंधु के बारे में 10 खास बातें

37 मिनट में एकतरफा ढंग से वर्ल्ड चैंपियन का खिताब अपने नाम कर लिया.

सलमान की अगली फिल्म के विलेन की पिक्चर, जिसके एक मिनट के सीन पर 20-20 लाख रुपए खर्चे गए हैं

'पहलवान' ट्रेलर: साउथ के इस सुपरस्टार को सुनील शेट्टी अपनी पहली ही फिल्म में पहलवानी सिखा रहे हैं.

संत रविदास के 10 दोहे, जिनके नाम पर दिल्ली में दंगे हो रहे हैं

जो उनके नाम पर गाड़ियां जला रहे हैं उन्होंने शायद रविदास को पढ़ा ही नहीं है.

'सेक्रेड गेम्स' वाले गुरुजी के ये 11 वचन, आपके जीवन की गोची सुलझा देंगे

ग़ज़ब का ज्ञान बांटा है गुरुजी ने.

'मैं मरूं तो मेरी नाक पर सौ का नोट रखकर देखना, शायद उठ जाऊं'

आज हरिशंकर परसाई का जन्मदिन है. पढ़ो उनके सबसे तीखे, कांटेदार कोट्स.

वो एक्टर, जिनकी फिल्मों की टिकट लेते 4-5 लोग तो भीड़ में दबकर मर जाते हैं

आज इन मेगास्टार का बड्‌डे है.

अक्षय कुमार की भयानक बासी फिल्म का सीक्वल, जिसकी टक्कर रणबीर की सबसे बड़ी फिल्म से होगी

'पंचनामा सीरीज़' और 'दोस्ताना' के बाद कार्तिक आर्यन के हत्थे एक और सीक्वल.