Submit your post

Follow Us

बॉलीवुड का वो धाकड़ विलेन जिसका शरीर दो दिन तक सड़ता रहा!

बॉलीवुड की फिल्मों में पिटने वाले विलेन तो कितने ही देखे होंगे, लेकिन एक ऐसा भी विलेन था. जो हीरो को भी पीटता था, लम्बी कदकाठी के उस विलेन का नाम है ‘महेश आंनद’. महेश ने ‘गंगा जमुना सरस्वती’ , शहंशाह, थानेदार और कूली नं.1 जैसी मशहूर फिल्मों में काम किया था. 80 और 90 के दशक में महेश आनंद का जलवा हुआ करता था लेकिन महेश की जिन्दगी में एक ऐसी घटना घटी कि वह दुनिया से एकदम कट गए.नब्बे के दशक के इस मशहूर खलनायक का सितारा ऐसा डूबा कि इंडस्ट्री में एकदम अकेले पड़ गए. इतना अकेले कि जब इनकी मौत भी हुई तो दुनिया को दो दिन बाद जाकर पता चला.

आखिर वो घटना कौन सी थी जिसने बॉलीवुड के इस खलनायक को अर्श से फर्श पर लाकर पटक दिया ?

बात साल 2000 की है. महेश एक फिल्म की शूटिंग कर रहे थे तभी उन्हें एक स्टंट करना था. उस समय केबल-वायर की सुविधा नहीं हुआ करती थी. उस स्टंट को करते समय महेश को भयंकर चोट लग गई. चोट इतनी तगड़ी लगी कि महेश को 6 महीने हॉस्पिटल में ही गुजारने पड़े. इस चोट के बाद महेश को तीन साल घर पर ही बेड रेस्ट करना पड़ा. इस बीच महेश का बॉलीवुड से एकदम ही कांटेक्ट टूट गया. साल 2003 से लेकर 2018 तक के बीच महेश को फिल्मों में कोई काम नहीं मिला. 15 साल बाद गोविंदा की फिल्म रंगीला राजा’ में उन्हें कोई 6 मिनट का काम मिल पाया. काम न मिल पाने के कारण महेश डिप्रेशन में रहने लगे. 9 फरवरी, 2019 को मुंबई के अपने फ्लैट में कार्डियक अरेस्ट के कारण महेश की मौत हो गई. जिसकी खबर भी पुलिस को ‘खाने का डिब्बा’ देने वाले डिलीवरी बॉय ने दी थी.

आज बॉलीवुड के इस महान खलनायक का जन्मदिन है.उनकी जिन्दगी के कुछ रोचक हिस्से भी रहे. जिन में से कुछ किस्सों-घटनाओं को आज यहां जान लेते हैं.

#जब अमिताभ बच्चन ने महेश को बचाया!

बात 90 के दशक के शुरुआत की है. रात के तीन बज रहे थे. महेश आनंद अपनी कार चला रहे थे. सड़क पर सो रहे तीन झुग्गी वालों पर महेश की कार चढ़ गई. चूंकि घटना अमिताभ बच्चन के घर के सामने हुई थी. इसलिए मामला मीडिया में भी खूब चला. कहते हैं कि अमिताभ बच्चन ने ही बाद में महेश आनन्द को कानूनी पचड़े से बचाया था.

mahesh-amitabh bachchan

#25 साल बाद भी अपने इकलौते बेटे से नहीं मिल पाए महेश!

महेश की दूसरी पत्नी थी एरिका मारिया डिसूजा. जिससे महेश का एक बेटा हुआ ‘त्रिशूल’. त्रिशूल के जन्म के 9 महीने बाद ही एरिका से महेश का तलाक हो गया. बाद में भी महेश कई महिलाओं के साथ रहे. लेकिन त्रिशूल ही उनकी इकलौती संतान था. त्रिशूल की माँ और उसके नए पिता ने त्रिशूल को कभी महेश से मिलने नहीं दिया. अपनी मौत से कुछ दिन पहले भी महेश ने अपने बेटे त्रिशूल के लिए बड़ा ही भावुक फेसबुक पोस्ट लिखा. 15 मार्च, 2017 को महेश ने फेसबुक पर लिखा कि-

“मेरे बेटे त्रिशूल. भगवान तुम्हारा ख़याल रखे. मेरे मरने से पहले एक बार मुझे गले लगा लो.”


एक इंटरव्यू में महेश ने बताया था कि एक फिल्मशूट के दौरान उन्हें चोट लग गई थी जिसके कारण 3 साल बिस्तर पर काटने पड़े,  इन तीनों सालों में वह अपने बेटे को ही याद करते रहे. इस बीच उनका 38 किलो वज़न भी घट गया था.

#जब महेश की एक फ़ोन कॉल को ही कर दिया गया पब्लिश!

बात 1992 की है. एक पत्रकार ने महेश आनंद को एक इंटरव्यू के लिए कॉल किया. महेश ने उस रिपोर्टर का फ़ोन होल्ड पर रख दिया. फ़ोन पर महेश किसी तीसरे आदमी से अपने लिए एक नौकरी की बात कर रहे थे. और नौकरी थी एक एस्कॉर्ट की. महेश इस नौकरी के बदले 10 हजार रूपए लेने की बात कर रहे थे. उस पत्रकार ने इस पूरी बातचीत को एक मैगज़ीन सिने ब्लिट्ज में पब्लिश कर दिया. मैगज़ीन के उस आर्टिकल में ये भी लिखा कि ये बातचीत महेश के फाइनेंसियल क्राइसिस को दर्शाती है.

टायक्वोंडो, डांस और मॉडलिंग सब में थे एकदम लल्लनटॉप

बहुत कम लोग जानते होंगे कि महेश टायक्वोंडो में ब्लैक बेल्ट हुआ करते थे. उन्होंने कई अंतराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भाग भी लिया था. इसके आलावा महेश आनन्द एक शानदार डांसर भी थे. फिल्मों में आने से पहले महेश देश के सबसे टॉप मॉडल्स में से एक हुआ करते थे. कई फिल्मों में महेश ने बतौर डांसर काम भी किया था.

mahesh-anand-modeling

ये पूरी कहानी ही बॉलीवुड का सच है. जिसके सबसे अधिक चमकने वाले ध्रुव तारे तो सबको दिखाई देते हैं.लेकिन इस चकाचौंध में डूब चुके सितारों का क्या होता है. किसी को मालुम नहीं होता. खुद फिल्म इंडस्ट्री को भी नहीं.

#फ़िल्में जिनमें याद रहेंगे महेश आंनद

भले ही साल 2000 के बाद से ही महेश फिल्म इंडस्ट्री से एकदम गायब हो गए थे. लेकिन फिल्मों में उनके दमदार रोल हमेशा अमर रहेंगे. जिनमें से कुछ फिल्मों के कुछ सीन्स को यहां देख लेते हैं.

फिल्म-गुमराह

इस सीन में महेश ‘टाइगर’ नाम का फाइटर बने हैं. जिसके सामने लड़ने की हिम्मत किसी में नहीं होती. फिर एंट्री होती है संजय दत्त की. जिसे अपनी प्रेमिका रोशनी को बचाने के लिए पैसों की जरूरत है. दोनों गठीले शरीर वाले हैं. आगे क्या होता है वो सीन देखकर पता चलेगा.

फिल्म-स्वर्ग

कॉलर पर रुमाल लपेटे हुए लम्बी कदकाठी के महेश जब गोविंदा के मूंह पर पंच मारते हैं.तो जितनी दूर गोविंदा गिरते हैं वह महेश के कद को देखकर बिल्कुल भी ज्यादा नहीं लगता. काली बनियान पहने हुए महेश एक ऐसे गुंडे के रोल में हैं. जिसके ग्रुप का एक आदमी गोविंदा के सूटकेस को छीन ले आता है.

कूली न.1

इस फिल्म में महेश को पुलिस ढूंढ रही है.महेश कूली बने गोविंदा को चोरी के सामान वाले सूटकेस को पकड़ा कर भाग जाता है. चूंकि फिल्म में गोविंदा को कूली न.1 कहा गया है फिर क्या है! गोविंदा गुंडा यानी महेश का पीछा करते हैं और धूम-धड़ाक करने के बाद गुंडे को पुलिस के हवाले कर देते हैं.बाकी का पूरा सीन खुद ही देख लीजिए.

फिल्म- तूफ़ान

ये दरअसल एक कॉमेडी सीन है. इसमें महेश आनंद एक लड़की को छेड़ने की कोशिश कर रहे हैं. फिर एंट्री होती है तूफ़ान की. तूफ़ान आंधी वाला तूफ़ान नहीं है बल्कि अमिताभ बच्चन हैं. अमिताभ बच्चन अपनी फनी मैजिक ट्रिक चलाकर महेश आनन्द को नंगा कर देते हैं. बाकी पूरा सीन वीडियो पर क्लिक करके खुद ही देख लीजिए.

***

ये स्टोरी हमारे यहां इंटर्नशिप कर रहे श्याम ने की है. 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की रगों में क्या है?

एक लघु टिप्पणी दोनों के बीच विवाद पर. जिसमें नसीर ने अनुपम को क्लाउन यानी विदूषक कहा था.

पंगा: मूवी रिव्यू

मूवी देखकर कंगना रनौत को इस दौर की सबसे अच्छी एक्ट्रेस कहने का मन करता है.

फिल्म रिव्यू- स्ट्रीट डांसर 3डी

अगर 'स्ट्रीट डांसर' से डांस निकाल दिया जाए, तो फिल्म स्ट्रीट पर आ जाएगी.

कोड एम: वेब सीरीज़ रिव्यू

सच्ची घटनाओं से प्रेरित ये सीरीज़ इंडियन आर्मी के किस अंदरूनी राज़ को खोलती है?

जामताड़ा: वेब सीरीज़ रिव्यू

फोन करके आपके अकाउंट से पैसे उड़ाने वालों के ऊपर बनी ये सीरीज़ इस फ्रॉड के कितने डीप में घुसने का साहस करती है?

तान्हाजी: मूवी रिव्यू

क्या अपने ट्रेलर की तरह ही ग्रैंड है अजय देवगन और काजोल की ये मूवी?

फिल्म रिव्यू- छपाक

'छपाक' एक ऐसी फिल्म है, जिसके बारे में हम ये चाहेंगे कि इसकी प्रासंगिकता जल्द से जल्द खत्म हो जाए.

हॉस्टल डेज़: वेब सीरीज़ रिव्यू

हॉस्टल में रह चुके लोगों को अपने वो दिन खूब याद आएंगे.

घोस्ट स्टोरीज़ : मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

करण जौहर, अनुराग कश्यप, ज़ोया अख्तर और दिबाकर बनर्जी की जुगलबंदी ने तीसरी बार क्या गुल खिलाया है?

गुड न्यूज़: मूवी रिव्यू

साल की सबसे बेहतरीन कॉमेडी मूवी साल खत्म होते-होते आई है!