Submit your post

Follow Us

इबारत : शरद जोशी की वो 10 बातें जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

शरद जोशी. हिंदी के प्रमुख साहित्यकारों में से एक. व्यंग्य की विधा में शरद जोशी ने एक से बढ़कर एक रचनाएं दीं. शरद जोशी ने पत्र-पत्रिकाओं में व्यंग्य के लिए निरंतर लेखन तो किया ही, साथ ही टीवी धारावाहिकों के लिए भी ख़ूब लिखा. आज शरद जोशी का जन्मदिन है. इबारत में आज पढ़िए शरद जोशी के लिखे में से वो दस बातें जिन्हें लोग आज भी याद करते हैं.

# लेखक विद्वान हो न हो, आलोचक सदैव विद्वान होता है.

Joshi 01

# जो लिखेगा सो दिखेगा, जो दिखेगा सो बिकेगा-यही जीवन का मूल मंत्र है.

Joshi 02

# एक मनुष्य ज़्यादा दिनों देवता के साथ नहीं रह सकता. देवता का काम है दर्शन दे और लौट जाए, तुम भी लौट जाओ अतिथि.

Joshi 03

# उत्तेजना को समय में लपेटा जा सकता है. धीरे-धीरे बात ठंडी पड़ने लगती है. लोग संदर्भ भूलने लगते हैं.

Joshi 04

# आदमी हैं, मगर मनुष्यता नहीं रही. दिल हैं मगर मिलते नहीं. देश अपना हुआ, मगर लोग पराये हो गए.

Joshi 05

# अरे! रेल चल रही है और आप उसमें जीवित बैठे हैं, यह अपने आप में कम उपलब्धि नहीं है.

Joshi 06

# शासन ने हम बुद्धिजीवियों को यह रोटी इसी शर्त पर दी है, कि इसे मुंह में ले हम अपनी चोंच को बंद रखें.

Joshi 07

# मैं ज़रा प्रतिबद्ध हो गया हूं आजकल. यों मैं स्वतंत्र हूं और आश्चर्य नहीं कि समय आने पर मैं बोलूं भी.

Joshi 09

# आलोचना शब्द लुच धातु से बना है जिसका अर्थ है देखना. लुच धातु से ही बना है ‘लुच्चा’.

Joshi 08

# अतिथि केवल देवता नहीं होता, वो मनुष्य और कई बार राक्षस भी हो सकता है.

Joshi 10


ये वीडियो भी देखें:

क़िस्सागोई: जब एक राजकुमारी के बदले की भावना प्रेम कहानी में तब्दील हो गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

पाताल लोक: वेब सीरीज़ रिव्यू

'वैसे तो ये शास्त्रों में लिखा हुआ है लेकिन मैंने वॉट्सऐप पे पढ़ा था.‘

इरफ़ान के ये विचार आपको ज़िंदगी के बारे में सोचने पर मजबूर कर देंगे

उनकी टीचर ने नीले आसमान का ऐसा सच बताया कि उनके पैरों की ज़मीन खिसक गई.

'पैरासाइट' को बोरिंग बताने वाले बाहुबली फेम राजामौली क्या विदेशी फिल्मों की नकल करते हैं?

ऐसा क्यों लगता है कि आरोप सही हैं.

रामायण में 'त्रिजटा' का रोल आयुष्मान खुराना की सास ने किया था?

रामायण की सीता, दीपिका चिखालिया ने किए 'त्रिजटा' से जुड़े भयानक खुलासे.

क्या दूरदर्शन ने 'रामायण' मामले में वाकई दर्शकों के साथ धोखा किया है?

क्योंकि प्रसार भारती के सीईओ ने जो कहा, वो पूरी तरह सही नहीं है. आपको टीवी पर जो सीन्स नहीं दिखे, वो यहां हैं.

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!