Submit your post

Follow Us

सेना से जुड़े वो 5 मुद्दे जिन्होंने बीते 6 महीने में नरेंद्र मोदी के लिए माहौल बनाया

265
शेयर्स

चुनाव से 6 महीने पहले तक अलग-अलग मुद्दों पर बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बैकफुट पर जाते दिख रहे थे. कई रिपोर्ट्स प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बेरोजगारी और मंहगाई जैसे मुद्दों पर घेर रहे थे. इसी बीच देश में कुछ ऐसी घटना घटी जिससे पूरा माहौल ही बदल गया. देश में राष्ट्रवाद और देशभक्ति की लहर चलने लगी. एक नजर ऐसे ही 5 फैक्टर्स पर जो पीएम मोदी के पक्ष में काम कर गए और 2019 इलेक्शन में मोदी को बंपर जीत दिला गए.

1. बालाकोट एयरस्ट्राइक

14 फरवरी 2019 को कश्मीर के पुलवामा में एक आंतकी आत्मघाती हमले ने सीआरपीएफ के 44 जवानों की जान ले ली. देश गुस्से में आ गया. हर कोई पाकिस्तान को सबक सिखाने की मांग करने लगा. प्रधानमंत्री ने सार्वजनिक मंचों से खुलेआम कहा कि पाकिस्तान को इसके लिए बड़ी कीमत चुकानी होगी. फिर अचानक 26 फरवरी को खबर आई कि इंडियन एयर फोर्स ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में जाकर आतंकी ठिकानों को एयर स्ट्राइक कर ध्वस्त कर दिया है. देश में माहौल बन गया कि प्रधानमंत्री मोदी के आदेश पर ये स्ट्राइक्स की गईं. हालांकि इस बात पर भी दबी जुबान सवाल उठे कि आतंकी ठिकानों को कोई नुकसान हुआ भी या नहीं. उधर पाकिस्तान के क्लेम किया कि इंडियन एयर फोर्स के जहाज जंगल में बम गिराकर चले गए. प्रधानमंत्री मोदी की खूब तारीफ हुई. उनके पक्ष में माहौल बना. लोग उनसे बेरोजगारी, मंहगाई और राफेल डील से जुड़े सवाल भूलकर पाकिस्तान से बदला लेने के लिए नरेंद्र मोदी के पीछे खड़े हो गए.

2. अभिनंदन की वापसी

एयर स्ट्राइक्स से जो माहौल देश में बना उसे अलग ही हाइट पर ले गया एक और केस. देश में युद्ध की स्थिति बन चुकी थी. ऐसी स्थिति बन गई कि किसी भी पल हमला हो सकता है. इसी बीच इंडियन एयरफोर्स का एक विमान पाकिस्तान की सीमा में दाखिल हो गया और पायलट अभिनंदन को पाकिस्तानी सेना ने पकड़ लिया. देश में गुस्सा और बढ़ गया. मीडिया में अभिनंदन की तस्वीरों ने हर किसी में देशभक्ति को और उबाल दिया. 60 घंटों तक पाकिस्तान की गिरफ्त में रहने और इंटरनेशनल प्रेशर के बाद अभिनंद की वापसी हुई. अपना जवान सुरक्षित लौट कर आया इसे प्रधानमंत्री की उपलब्धि और इच्छाशक्ति की मिसाल के तौर पर पेश किया गया. साथ ही चुनाव प्रचार भी चल रहा था और रैलियों में लोग अभिनंदन की तस्वीर लिए पहुंच रहे थे. ये वो मुद्दा था जिसने हर किसी को मोदी के समर्थन में खड़ा कर दिया. चुनाव प्रचार में अभिनंदन की तस्वीर के उपयोग पर भी सवाल उठे.

पीएम मोदी ने चुनावों में भी एयरस्ट्राइक का खूब जिक्र किया.
पीएम मोदी ने चुनावों में भी एयरस्ट्राइक का खूब जिक्र किया.

3. उड़ी सर्जिकल स्ट्राइक

18 सितंबर 2016 को पाकिस्तानी आतंकियों ने जम्मू कश्मीर के उड़ी सेक्टर में आंतकी हमला किया. आतंकियों ने सोते हुए सैनिकों पर गोलियां बरसा दीं. 19 जवानों समेत 4 सिविलियन की जान गई. इस हमले के जवाब में इंडिया की तरफ से सर्जिकल स्ट्राइक की गई. 28 सितंबर को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकी अड्डों पर आंतकी ठिकानों को हिट करने की बात सरकार ने कही. विपक्ष को भरोसा नहीं हुआ तो सबूत मांगे. सरकार ने उन तमाम लोगों को देशद्रोही कहा जो सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक्स के सबूत मांग रहे थे. मगर कहीं न कहीं प्रधानमंत्री मोदी के बारे में पाकिस्तान के खिलाफ एक्शन लेने वाले को तौर पर इमेज वहीं से बननी शुरू हो गई थी. अब 2019 में इसी पर जब फिल्म आई तो इसे और ज्यादा सराहा गया.

4. OROP

One Rank One Pension (OROP) के मामले में भूतपूर्व सैनिकों के भी खुश करने की कोशिश प्रधानमंत्री मोदी ने की. पहले एक रैंक एक पेंशन को मंजूरी दी फिर मार्च में आए बजट में 35,000 करोड़ रुपए का बजट भी इस स्कीम के लिए अप्रूव किया. रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने ये भी ऐलान किया कि सैनिकों का बकाया भी क्लियर कर दिया गया है. साथ ही सरकार ने ये भी कहा कि इस स्कीम में अभी भी कई दिकक्तें हैं, जिन्हें जल्दी ही ठीक कर लिया जाएगा. इससे देश के सुरक्षा बलों में प्रधानमंत्री के पक्ष में माहौल बना.

5. ASAT मिसाइल

27 मार्च 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए बताया कि इंडिया अब दुनिया में स्पेस पावर बनने वाला चौथा देश है. इंडिया से सफलतापूर्वक ASAT नाम की एंटी सेटेलाइट लॉन्च कर ली है जो देश की सेटेलाइट्स की रक्षा करती है और विरोधियों की सैटेलाइट को मार गिराती है. यानी ये स्पेस की बाउंड्री की रक्षा के लिए इंडिया का एक कदम है. रूस, चीन और अमेरिका के बाद इंडिया के पास ये हथियार है जो लाइव सैटेलाइट को मार गिरा सकता है. इंडिया ने अपने मिशन शक्ति को पूरा करने में तीन मिनट का वक्त लिया. इसे भी प्रधानमंत्री मोदी की छाती पर एक और तमगे की तरह देखा गया.


लल्लनटॉप वीडियो भी देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Lok Sabha Elections 2019 results: Five reasons related to Indian Armed forces that helped Modi win

पोस्टमॉर्टम हाउस

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.

मूवी रिव्यू: दे दे प्यार दे

ट्रेलर देखा, फिल्म देखी, एक ही बात है.

क्या वाकई सलमान खान कन्हैया कुमार की बायोपिक में काम करने जा रहे हैं?

बताया जा रहा है कि सलमान इसके लिए वजन कम करेंगे और बिहारी हिंदी बोलना सीखेंगे.