Submit your post

Follow Us

हम लिस्टिकल्स क्यों पढ़ते हैं? अब दोबारा मत पूछना.

30
शेयर्स

चुनावी मौसम हो या कहीं कोई नया प्रोडक्ट लॉन्च हुआ हो. चाहे नई पिच्चर  टोरेंट पर लीक हो गई हो. अपडेटेड रहना अनिवार्यता है. वो भी कम से कम समय में. लम्बे लेख पढ़ने का समय नहीं है. ऐसे में हमारे ‘रेस्क्यू रेंजर्स’ बन कर आते हैं, लिस्टिकल्स.

ऐसे आर्टिकल्स जो लिस्ट वाले हों. कुछ पॉइंट्स हों. 10 कारण जो मुंबई को दिल्ली से बेहतर शहर बनाते हैं’ या 7 जगहें जहां आपको ज़िन्दगी में एक बार जाना ही चाहिए’. इस तरह के आर्टिकल इंटरनेट पर खूब चलते हैं. हम लोग ढूंढ-ढूंढ के पढ़ते हैं.

पर इसके पीछे क्या रीजन है जो हम लोग लिस्टिकल्स पढ़ने में इतने इंटरेस्टेड रहते हैं. हम बताते हैं. वो भी लिस्ट बना कर.

रस्ते का माल सस्ते में:

 

excited

आप मेट्रो में सफ़र कर रहे हैं. एक लम्बा सा आर्टिकल दिखा. ‘सफल होने के तरीके’. आप उसको शायद इतना सीरियसली नहीं लेंगे. लेकिन कहीं अगर मिल जाए ‘सफल होने के 5 तरीके’. आप पक्का क्लिक करेंगे. आपके दिमाग़ में एक बेसिक मैप बन जाएगा कि इन 5 पॉइंट्स को पढ़ने के बाद आपको सफल होंने का कुछ ना कुछ गुर तो मिल ही जाएगा. चाहे आप एक-एक पॉइंट पूरा ना पढ़ा करें लेकिन हेडिंग पढ़ कर आपको एक आइडिया लग जाएगा. आर्टिकल की शुरुआत में ही आप समझ जाएंगे कि आपको उसे पढने में कितना टाइम लगेगा. अगर 5 पॉइंट हैं तो आप शायद तुरंत पढ़ लेंगे. अगर 34 पॉइंट्स हैं तो आप उसे बाद के लिए सेव कर लेंगे. *विन-विन*


हम सब एक हैं

 

giphy (1)

लिस्टिकल्स में बहुत अपनापन होता है. एक-एक पॉइंट को पढ़ कर लगता है जैसे बिलकुल हमारे लिए ही लिखा गया हो. नई बातें पता चलती हैं. समझ आता है कि इस तरह की बातें सोचने वाले हम अकेले नहीं हैं. बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिनके दिमाग हमारी ही तरह ढेर फितूरी चलते है. ‘वसुधैव कुटुम्बकम ‘ पर विश्वास पक्का हो जाता है.


टू द पॉइंट बातें

giphy (2)

स्कूल में जब लम्बे आंसर लिखने होते थे. टीचर कहती थीं पॉइंट में लिखना. हमारे लिए लिखना भी आसान हो जाता था. टीचर के लिए समझना भी. सेम टू सेम वही वाला हाल है. किसी एक बात के लिए पूरा पन्ना पढ़ने की ज़रूरत नहीं पड़ती. एकदम कॉम्पैक्ट और क्रिस्प सी भाषा होती है. मुद्दे की बात दो लाइन में समझ आ जाती है.


मूड फ्रेशनर

bored again

कोई बोरिंग सा असाइनमेंट कर रहे हैं? किसी कलीग ने दिमाग़ का दही कर के रखा है? या बॉस से बहुत कर्री वाली डांट पड़ी है? काम करने में मन नही लग रहा? कोई बात नहीं बालक. जाओ सोशल मीडिया पर ऐसा कोई लिस्टिकल देख लो जो ‘देश के 10 घूमने लायक जगहें’ दिखा दे. अंडमान का बीच, नार्थ-ईस्ट की पहाड़ियां. हसीन वादियां. बस. अपने डेस्क पर बैठे-बैठे देश भ्रमण कर आए. दिल खुश हो गया. माइंड एकदम फ्रेश. अब फिर से अपने काम में जुटने के लिए दिमाग नए सिरे से तैयार हो गया.


gifs आर ऑसम

giphy (3)

दुनिया की सबसे बढ़िया चीज़ हैं gif.  कुछ भी समझ न आया हो उसकी कसर gif पूरी कर देते हैं. भले ही उन gif का उस पॉइंट से कोई सीधा रिश्ता ना हो लेकिन वो इत्ते क्यूट होते हैं कि आधे से ज्यादा लोग ये सब आर्टिकल gifs के लिए ही पढ़ते हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
listicles on why do we love reading listicles

पोस्टमॉर्टम हाउस

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!

क्या शीला दीक्षित ने कहा कि सरकारी स्कूल में बूथ न बनें, वरना लोग स्कूल देख AAP को वोट दे देंगे?

ज़ी रिबप्लिक के बाकी ट्वीट पढ़ेंगे तो पूरा मामला क्लियर हो जाएगा.