Submit your post

Follow Us

श्रीकांत और राजी तो ठीक, लेकिन 'द फैमिली मैन' के इन 5 किरदारों ने शो को इतना शानदार बनाया है

2019 में ‘द फैमिली मैन’ (The Family Man) का पहला सीज़न आया था. काफी पसंद किया गया. जिसके बाद सीज़न 2 की डिमांड भी उठने लगी. अब फाइनली करीब डेढ़ साल बाद शो का दूसरा सीज़न आया है. रिलीज़ के बाद से ही ऑडियंस का तगड़ा रिस्पॉन्स मिल रहा है. शो के लीड मनोज बाजपेयी और समांथा अक्किनेनी की हर रिव्यू कॉलम में तारीफ हो रही है. शो को लेकर लोगों का क्रेज़ ऐसा है कि धड़ल्ले से मीम्स बन रहे. फ्रेंड सर्कल से लेकर ट्विटर सर्कल तक, हर तरफ एक ही बात. फैमिली मैन देखा क्या?

शो में अपने काम से मनोज बाजपेयी और समांथा ने किल कर दिया. इस में कोई शक नहीं. यहां हम इन दोनों एक्टर्स के किरदारों की बात नहीं करेंगे. बात करेंगे उन किरदारों की जिनके बिना इस शो को इमेजिन कर पाना मुश्किल है.

#1. जेके

जेके तलपड़े. पाव भाजी का शौकीन. कहीं भी खाने जाता है तो मेनू कार्ड में राइट साइड पर नज़र रखता है. कि भाऊ, सब बजट में तो है ना. श्रीकांत का जिगरी यार है जेके. शक्ल देखकर मूड भांप लेता है श्रीकांत का. श्रीकांत किसी भी मुसीबत में हो. या जरूरत महसूस हो किसी बारे में बात करने की, तो दो ही लोगों का नंबर स्पीड डायल पर रखता है, अपनी बीवी सुचित्रा और जेके का. और जेके ऐसा है कि चाहे खुद कितना भी तनाव में हो, लेकिन उसे देखकर आपको टेंशन नहीं होगी. ऐसी एयर कैरी करते हैं जेके भाईसाहब.

Sharib Hashmi
‘डोंट कॉल मी सर, जस्ट कॉल मी जेके’. फोटो – ट्रेलर

शो के सेकंड सीज़न को जेके के किरदार ने ही उसके हिस्से का ह्यूमर बख्शा है. श्रीकांत के साथ उसके जितने भी सीन हैं, वो स्टैंड आउट करते हैं. चाहे वो दोनों का लॉकअप वाला सीन हो. जहां जेके पुलिस इंस्पेक्टर को अपने सीनियर शर्मा का नंबर डायल करने को कहता है. या फिर हॉस्पिटल वाला सीन. जेके हॉस्पिटल में एडमिट है और श्रीकांत उससे मिलने आता है. दोनों की बातचीत ऐसी है जैसी लंगोटिए यारों में होती है. बिना किसी फिल्टर वाली बातें. जेके को ऐसा बनाने में जितना क्रेडिट राइटर्स का है, उतना या कह लीजिए उससे कहीं ज्यादा हिस्सेदारी शारिब हाशमी की है. जिन्होंने जेके का रोल निभाया. जेके को देखकर आपको अपने सबसे करीबी दोस्त की याद आएगी. जिसके साथ आप वयस्क होते हुए भी बच्चों की तरह पेश आ सकते हैं. वो भी बिना किसी जजमेंट के.


#2. मिलिंद हिंदुजा

जेके की तरह मिलिंद भी पहले सीज़न से शो का हिस्सा हैं. टास्क का ही मेंबर है. अब जरा अपनी याददाश्त को थोड़ा पीछे ले जाइए. फर्स्ट सीज़न के आखिरी एपिसोड पर. मिलिंद और उसकी साथी ज़ोया ओरायन केमिकल्स नाम की फैक्ट्री में बंद हैं. दुश्मनों से लड़ रहे हैं और उधर धमाका होने को है. शो यहीं पर खत्म कर दिया गया. मिलिंद और ज़ोया के साथ क्या हुआ, वो इस सीज़न में पता चलता है. मिलिंद सुरक्षित बाहर आ जाता है. उसे कोई शारीरिक चोट नहीं आती. चोट आती जरुर है, लेकिन मानसिक स्तर पर. ओरायन केमिकल्स में घटे हादसे को कंट्रोल ना कर पाने के लिए वो खुद को कसूरवार मानता है. टास्क छोड़ देता है. खुद को सब से दूर कर लेता है. जैसे अंदर-ही-अंदर खुद को ऐसी चीज़ के लिए दोष दे रहा हो, जो उसकी गलती थी भी नहीं. खुद को दी जाने वाली इस यातना का असर आपको उसकी आंखों में दिखेगा. उसकी बोझिल होती आंखों में. थकान भरी आंखों में. मिलिंद पोस्ट ट्रॉमा स्ट्रेस डिसॉर्डर यानी PTSD से जूझ रहा था. जो एक किस्म का मेंटल डिसॉर्डर है. ऐसा तब होता है जब इंसान किसी भीषण हादसे से गुजरता है और उससे उबर नहीं पा रहा होता.

मिलिंद के किरदार के जरिए मेंटल हेल्थ पर बात करने की एक नेक कोशिश की गई है. मिलिंद का वल्नरेबल होना ही उसे एक असली हीरो बनाता है. ऐसे पोट्रेयल के लिए सनी हिंदुजा की तारीफ होनी चाहिए.


 #3. मुत्थु पंडियन

तमिल और तेलुगु फिल्मों में काम कर चुके रविंद्र विजय ने मुत्थु का किरदार निभाया. श्रीकांत और जेके की तरह मुत्थु भी एक इंटेलिजेंस ऑफिसर है. चेन्नई में बेस्ड. सीज़न 2 का मिशन श्रीकांत एंड कंपनी को चेन्नई ले जाता है. वहां उन्हें कोऑर्डिनेट करना है मुत्थु के साथ. मुत्थु नो-नॉनसेंस किस्म का ऑफिसर है. अपनी बात रखने से पीछे नहीं हटता. किसी को करेक्ट करने से पीछे नहीं हटता. शो से ही इसका उदाहरण देते हैं. श्रीकांत, जेके, मुत्थु और बाकी साथी गाड़ी में जा रहे होते हैं. जेके बोलता है कि उसे साउथ इंडियन खाना पसंद है. तभी मुत्थु टोकता है. पूछता है कि साउथ इंडिया में पांच राज्य हैं. तुम किसकी बात कर रहे हो? जेके मुंह ताकता रह जाता है.

 

 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Ravindra Vijay (@ravindravijayisms)


#4. तन्मय घोष

एक लाइन से आप इस किरदार को पहचान जाएंगे. ‘श्रीकांत, डोंट बी अ मिनिमम गाय’. तन्मय घोष, ऐसा बॉस जिस पर बने मीम्स सब ने शेयर किए. हां, लेकिन अपने बॉस को हाइड कर के. तन्मय सिर्फ 28 साल का है. आईटी कंपनी में टॉप पोज़िशन पर है. देखकर लगता है कि कम उम्र में ही लाइफ में बहुत कुछ हासिल कर लिया. इस कामयाबी ने उसे हम्बल बनाने की जगह और अक्खड़ बना दिया. उसे देखकर लगेगा कि वो अकेला ‘हसल कल्चर’ का स्वघोषित प्रतिनिधि है. हसल कल्चर, जो आपको सिखाता है कि आराम हराम है. एक भी सेकंड मत गवाओं. अर्रे, एक सेकंड में तो करोड़ों की डील साइन हो जाती है.


View this post on Instagram

A post shared by Kaustubh Kumar (@impulsiveinstinct)

तन्मय की एनर्जी ऐसी है कि वो हर समय फुदकता रहता है. एक जगह टिककर नहीं बैठता. बोले तो चैन से नहीं रहता. ना किसी को रहने देता है. श्रीकांत को भी खटकता है. एक ऐसे ही मौके पर श्रीकांत उसकी क्लास भी लगाता है. डेस्क पर खींच कर थप्पड़ों से अपना आभार व्यक्त करता है. ये सीन बड़ा सुकून भरा है. कि ऐसे इरिटेटिंग बंदे के साथ सही हुआ. लेकिन आपको इस सीन के पीछे की कहानी बताते हैं. मनोज बाजपेयी के किरदार ने तन्मय को खींच कर थप्पड़ लगाए और उठकर बाहर चले गए. सीन कट. कट होते ही मनोज बाजपेयी ने तन्मय बने कौस्तभ कुमार को गले लगाया. कहा कि क्या बढ़िया टेक दिया है. ये जानकारी खुद शारिब हाशमी ने मेन्स एक्सपी के एक इंटरव्यू में दी.


#5. धृति

शो के दूसरे सीज़न में धृति की स्टोरीलाइन को लेकर जनता दो पक्षों में बंट गई. कुछ पितृसत्तात्मक विचारधारा के पक्षधर उसके चरित्र पर सवाल उठाने लगे. तो कुछ उसे अपने हालात का विक्टिम बताने लगे. लेकिन धृति ने जो कुछ भी किया या उसके साथ जो कुछ भी हुआ, वो आपको सही या गलत तभी लगेगा जब आप उसे व्हाइट या ब्लैक के चश्मे से देखेंगे. जबकि, शो और उससे जुड़े अधिकतर किरदार ग्रे लाइन पर चलते रहे हैं.

Dhruti
धृति का बेबाक होना ही उसे कास्ट में यूनिक बनाता है. फोटो – यूट्यूब

धृति का इस लिस्ट में होने की सबसे बडी वजह है उसकी बेबाकी. करेक्ट करने में अपने पिता श्रीकांत को भी नहीं बख्शती. सीज़न वन का एक सीन बताते हैं. जब श्रीकांत अपने दोनों बच्चों के साथ ग्रोसरी शॉपिंग करने जाता है. वहां सैनेटरी नैपकिन देखकर छोटा बेटा अथर्व पूछता है कि ये क्या है. श्रीकांत टिपिकल आदमी की तरह बात टाल देता है. आगे बढ़ने को कहता है. तभी धृति उसे टोकती है. और बताती है कि सैनेटरी नैपकिन क्या होते हैं. ऐसा ही एक सीन सेकंड सीज़न में भी है. जब फिर से श्रीकांत को किसी मौके पर टोकती है. और समाज की पितृसत्तात्मकता पर कमेंट करती है. श्रीकांत उसकी बात पर ध्यान नहीं देता. बस बेटी की फर्राटेदार अंग्रेजी की तारीफ करने लगता है. शो में धृति का किरदार निभाया है अश्लेषा ठाकुर ने.

ये थे ‘द फैमिली मैन सीज़न 2’ से जुड़े 5 असरदार किरदार. हम जानते हैं कि आप क्या पूछेंगे. कि लिस्ट में से चेल्लम सर को काहे उड़ा दिया? तो हमारा डिफेंस है कि चेल्लम सर अपने आप में एक आयाम हैं. उन्हें चंद शब्दों में नापा नहीं जा सकता. फिर भी अगर आप चेल्लम सर के बारे में जानना चाहते हैं तो यहां पढ़ सकते हैं.


वीडियो: The Family Man 2 के ज़बरदस्त डायलॉग में आपका फ़ेवरेट कौन सा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

मनोज बाजपेयी, के के मेनन, गजराज राव, अली फ़ज़ल, क्या-क्या नाम गिनाएं!

वेब सीरीज़ रिव्यू: द फैमिली मैन सीज़न 2

वेब सीरीज़ रिव्यू: द फैमिली मैन सीज़न 2

काफी डिले के बाद आया शो का सीज़न 2 आखिर है कैसा?

विद्या बालन की 'शेरनी' के ट्रेलर की ये ख़ास बातें नोट की क्या?

विद्या बालन की 'शेरनी' के ट्रेलर की ये ख़ास बातें नोट की क्या?

'न्यूटन' वाले डायरेक्टर फ़िल्म में ज़बरदस्त कास्ट लेकर आए हैं.

रिव्यू: Friends: The Reunion

रिव्यू: Friends: The Reunion

क्या-क्या मज़ेदार हुआ, जब छह पुराने दोस्त 17 साल बाद फिर मिले?

क्या कोरोना वैक्सीन लगवाने के दो साल के अंदर मौत हो जाएगी? सच जानिए

क्या कोरोना वैक्सीन लगवाने के दो साल के अंदर मौत हो जाएगी? सच जानिए

लुच मोंतानिए के दावे में कितना दम है.

'एवेंजर्स एंडगेम' के तूफ़ान के बाद मार्वल्स की नई फिल्म 'एटर्नल्स' की कास्ट देखकर कहेंगे, वाह!

'एवेंजर्स एंडगेम' के तूफ़ान के बाद मार्वल्स की नई फिल्म 'एटर्नल्स' की कास्ट देखकर कहेंगे, वाह!

ट्रेलर आ गया है. कहानी से लेकर स्टारकास्ट तक सब धांसू लग रहा है.

द फैमिली मैन सीज़न 2 का ट्रेलर देख बोल पड़ेंगे- बवाल चीज़ है, सारा सिस्टम हिल गया!

द फैमिली मैन सीज़न 2 का ट्रेलर देख बोल पड़ेंगे- बवाल चीज़ है, सारा सिस्टम हिल गया!

श्रीकांत तिवारी अब कौन से नए मिशन पर निकल पड़े हैं?

मूवी रिव्यू: राधे - योर मोस्ट वांटेड भाई

मूवी रिव्यू: राधे - योर मोस्ट वांटेड भाई

ईद के मौके पर आई सलमान खान की ये फिल्म क्या आपको देखनी चाहिए?

Realme 8 5G रिव्यू: कंपनी ने 5G तो दिया लेकिन कटौती कहां कर दी?

Realme 8 5G रिव्यू: कंपनी ने 5G तो दिया लेकिन कटौती कहां कर दी?

मित्रो! ये फ़ोन लेना चैये कि नई लेना चैये?

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.