Submit your post

Follow Us

अगर पॉलिटिकल थ्रिलर देखना पसंद है, तो ये 17 जाबड़ शो आपके लिए खज़ाना साबित होंगे

अमेज़न प्राइम वीडियो पर एक सीरीज़ रिलीज़ हुई है. ‘तांडव’. पिछले महीने इस पॉलिटिकल ड्रामा का टीज़र आया था, तभी से हाइप बनने लगी थी. कास्ट ही इतनी भारी-भरकम है कि किसे गिने और किसे छोड़ें. पर यहां हम ‘तांडव’ की बात नहीं करेंगे. बताएंगे दुनिया भर में बने ऐसे पॉलिटिकल टीवी शोज़ और वेब सीरीज़, जो एवरग्रीन हैं. कुछ क्लासिक्स हैं और कुछ फ्यूचर के क्लासिक्स. जहां देखने का मौका मिले, पहली फुर्सत में देख डालिए.

Spotlight


 

# 1. हाउस ऑफ कार्ड्स
# भाषा: इंग्लिश
# क्रिएटर: बीयू विलिमॉन
# कलाकार: केविन स्पेसी, रॉबिन राइट, माइकल केली, डेरेक सेसिल

house of cards
पावर का नशा इंसान से क्या-कुछ करवा सकता है, इसी की कहानी है ‘हाउस ऑफ कार्ड्स’. फोटो – ट्रेलर

कहानी – अमेरिका टू पार्टी सिस्टम राजनीति पर चलता है. यानि पूरे पॉलिटिकल लैंडस्केप को दो पार्टियां डॉमिनेट करती हैं. डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन. शो का मुख्य किरदार फ्रैंक अंडरवुड डेमोक्रेटिक पार्टी का सीनियर मेंबर है. सपने बहुत बड़े हैं. जहां है, बस वहीं नहीं रहना चाहता. कुछ ऐसी ही ख्वाहिशें उसकी वाइफ क्लेयर की भी हैं. किससे, कब और कैसे काम निकलवाना है, ये इन दोनों मियां-बीवी को खूब अच्छे से आता है. पार्टी फ्रैंक को आगे नहीं आने देती. सेक्रेटरी ऑफ स्टेट बनाकर छोड़ देती है. फ्रैंक तिलमिला जाता है. अपनी वाइफ के साथ मिलकर प्लान बनाता है. साम-दाम-दंड-भेद, कुछ भी करना पड़े. पर अमेरिका की सबसे पावरफुल गद्दी पर बैठेगा.

1 फरवरी, 2013 को शुरू हुआ ये शो 6 सीज़न्स तक चला. इसके सारे सीज़न्स आप नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं.


 

# 2. बॉडीगार्ड
# भाषा: इंग्लिश
# क्रिएटर: जेड मेरकुरियो  
# कलाकार: रिचर्ड मैडन, सोफी रंडल, विंसेंट फ़्रेंकलिन, अंजली मोहिंदर

Bodyguard
रिचर्ड मैडन को आप ‘गेम ऑफ थ्रोन्स’ में भी रॉब स्टार्क के रोल में देख चुके हैं. फोटो – ट्रेलर

कहानी – ‘बॉडीगार्ड’ डेविड बड की कहानी है. एक रिटायर्ड वॉर हीरो जो अब लंदन के मेट्रोपोलिटन पुलिस सर्विस में प्रोटेक्शन ऑफिसर के तौर पर काम कर रहा है. एक दिन अपनी बहादुरी से ट्रेन में टेररिस्ट अटैक रोक लेता है. जिसके बाद उसे होम सेक्रेटरी जूलिया की सुरक्षा के लिए नियुक्त कर दिया जाता है. डेविड अफ़ग़ानिस्तान वॉर का हिस्सा था जहां उसने अपने कई साथियों को मरते हुए देखा. इस बात से भी पूरी तरह वाक़िफ है कि जूलिया उस वॉर के लिए ज़िम्मेदार थी. यहीं खुद को दो हिस्सों में बंटा पाता है. ड्यूटी और व्यक्तिगत धारणा के बीच. किसे खुद पर हावी होने देगा, इसी जद्दोजहद पर आगे की कहानी है.

6 एपिसोड्स में बंटे शो को नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं. इसका पहला सीज़न 2018 में आया था. हालांकि, उसके आद इसे ना ही कैंसल किया गया और ना ही रिन्यू. डेविड के रोल के लिए रिचर्ड मैडन को गोल्डन ग्लोब से भी सम्मानित किया गया था.


 

# 3.  बोरगन
# भाषा: डैनिश  
# क्रिएटर: एडम प्राइस
# कलाकार: बिरगिटे सोरेनसन, थॉमस लेवीन, एमिल पॉलसन

borgen
भाषा के फेर से निकलकर इस शो को भी मौका दीजिए. फोटो – ट्रेलर

कहानी –  ‘बोरगन’. जिसका मतलब है किला या गढ़. डेनमार्क में क्रिश्चियनबॉर्ग पैलेस है. जहां पार्लियामेंट, प्राइम मिनिस्टर ऑफिस और सुप्रीम कोर्ट, तीनों एक ही जगह है. इसी पैलेस को आम बोलचाल की भाषा में बोरगन कहा जाता है. कहानी है बिरगिटे नायबॉर्ग की. एक माइनर पॉलिटिशयन. आगे ऐसा क्या होता है कि डेनमार्क की पहली फीमेल प्राइम मिनिस्टर बन जाती है. उसकी अपनी पार्टी और अपने लोग इस फ़ैसले को कैसे अपनाते हैं? डेनमार्क के इंटरनेशनल रीलेशन पर इसका क्या असर पड़ता है? वहीं, बिरगिटे की पर्सनल लाइफ को कितना जूझना पड़ता है, यही शो के 3 सीज़न्स ने एक्सप्लोर किया है.

शो को आप नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम कर सकते हैं.


 

# 4.  वीप
# भाषा: इंग्लिश
# क्रिएटर: अरमैंडो इयानुची  
# कलाकार: जूलिया लुइ, टोनी हेल, मैट वॉल्श, गैरी कोल

veep
पॉलिटिक्स के ड्रामा को कॉमेडी की शक्ल दी है. फोटो – ट्रेलर

कहानी – पॉलिटिक्स लोगों के लिए होती है, ऐसा कहने वाली अमेरिका की वाइस प्रेसीडेंट सेलिना मेयर. बस कहने वाली, मानने वाली नहीं. सेलिना पहले एक सिनेटर थी. वाइस प्रेसीडेंट बनने पर एक बात समझ आती है. वैसा कुछ भी नहीं है जैसे सपने देखे थे. पब्लिक और पर्सनल लाइफ बैलेंस बिगड़ने लगता है. खुद के स्टाफ में ही अनबन होने लगती है. अपनी राजनैतिक महत्वाकांक्षाओ को चेक में रखते हुए इन सब बखेड़ों से कैसे डील करती है, यही शो का प्लॉट है. बेसिकली, शो आपको वॉशिंगटन के बंद दरवाजों के पीछे क्या चलता है, उस सब की झलक देगा. पर एक कॉमेडी के फॉर्म में. इसे आप डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर देख सकते हैं.


 

# 5. पाताल लोक  
# भाषा: हिंदी
# क्रिएटर: सुदीप शर्मा
# कलाकार: जयदीप अहलावत, स्वास्तिका मुखर्जी, अभिषेक बैनर्जी, नीरज कबी

पिछले साल आई एक झामफाड़ सीरीज़. फोटो - ट्रेलर
सर, सलाम तो हम ठोक रहे हैं आपको. फोटो – ट्रेलर

कहानी – दिल्ली के आउटर यमुना पार थाने का इंस्पेक्टर हाथीराम चौधरी. कहानी का मुख्य किरदार. जहां रहता है उस जगह को ‘पाताल लोक’ मानता है. क्यूंकि स्वर्ग लोग तो लुटियंस दिल्ली है. इंडिया के जानेमाने जर्नलिस्ट पर हमला होता है. जर्नलिस्ट बच जाता है, हमलावर पकड़े जाते हैं. हाथीराम इस केस पर लग जाता है. खुद को साबित करने के लिए, अपना नाम चमकाने के लिए. पर जल्द ही समझ जाता है कि ऊपर से ओपन एंड शट लगने वाला ये केस दलदल की तरह गहरा है. कौन-कौन इसमें शामिल हैं और उनका एजेंडा क्या है, यही हाथीराम और ऑडियंस के होश उड़ा देता है. वैरायटी मैगज़ीन ने इसे पिछले साल के बेस्ट इंटरनेशनल शोज़ में शुमार किया था. इसे आप अमेज़न प्राइम वीडियो पर देख सकते हैं.


 

# 6. दी वेस्ट विंग  
# भाषा: इंग्लिश
# क्रिएटर: ऐरन सोरकिन  
# कलाकार: ब्रैडले विटफील्ड, मार्टिन शीन, एलीसन जेनी, जॉन स्पेंसर

political shows
पॉलिटिकल शोज़ की बात हो तो ये कोई-ना-कोई रिकमेंड कर ही देगा.

 कहानी – ‘अ फ्यू गुड मैन’, ‘द सोशल नेटवर्क’ और ‘स्टीव जॉब्स’ जैसी फिल्में लिखने वाले ऐरन सोरकिन के दिमाग की उपज. 7 सीज़न्स में फैला शो. पहला एपिसोड एयर हुआ 22 सितंबर, 1999 को और आखिरी 14 मई, 2006 को. इंटरनेट पर कभी भी बेस्ट पॉलिटिकल शोज़ सर्च करें, और ‘वेस्ट विंग’ दिखाई ना दे, ऐसा संभव नहीं. कहानी है डेमोक्रेटिक प्रेसीडेंट जेड बार्टलेट और उसके एड्मिनिस्ट्रेशन की. जहां बेवकूफ और बेवकूफियों के लिए कोई जगह नहीं. इस दौरान उसके और उसके स्टाफ के हिस्से क्या-क्या स्कैंडल और खतरे आते हैं, ये पॉलिटिकल ड्रामा उसी की कहानी है. ‘टाइम’, ‘एम्पायर’ और ‘रोलिंग स्टोन’ जैसी मैगज़ीन्स ने इसे अब तक बने बेस्ट टेलिविज़न शोज़ में गिना है. अब सवाल है कि इसे देखें कहां? मसला है कि ये आसानी से मिलेगा नहीं. फिर भी आप इसे stan.com.au पर देख सकते हैं. बस मेंबरशिप लेनी होगी.


 # 7. ऑक्युपाइड
# भाषा: नॉर्वेइयन
# क्रिएटर: जो नेसबो, कैरिएन, एरिक
# कलाकार: हेनरिक मेस्टाड, एलडर स्कार, एन डैल तोरप

norweign show
क्या होता है जब ऐसे ही एक देश दूसरे पर कब्ज़ा कर लेता है, शो देखकर जान लीजिए. फोटो – ट्रेलर

कहानी –  कहानी फ्यूचर में सेट है. रूस नॉर्वे पर कब्ज़ा कर लेता है. और ऐसा करता है यूरोपियन यूनियन के बिहाफ पर. कारण है कि नॉर्वे में नई सरकार इलेक्ट हुई है. एनवायरमेंट फ़्रेंडली किस्म की सरकार. जिसने आते ही एक मेजर ऑइल और गैस के प्रोडक्शन पर रोक लगा दी. इसी वक्त यूरोप में एक बड़ा एनर्जी क्राइसिस आ जाता है. जिसकी पूर्ति नॉर्वे के इस प्रोडक्शन से हो सकती है. काफी हद तक. नॉर्वे की नई सरकार इस सिचुएशन से निकलने के लिए क्या करती है, उसी की कहानी बताता है ये पॉलिटिकल थ्रिलर. तीन सीज़न्स में बंटे इस शो को आप नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं.


 

# 8. प्रिज़नर्स ऑफ वॉर  
# भाषा: अरबी  
# क्रिएटर: गिडीयन रैफ  
# कलाकार: इशाई गोलन, योरम टोलदानो, येल ऐटन

अमेरिकन शो 'होमलैंड' भी इसी का रीमेक है. फोटो - ट्रेलर
अमेरिकन शो ‘होमलैंड’ भी इसी का रीमेक है. फोटो – ट्रेलर

कहानी – 17 साल कैद में रहने के बाद 4 इज़रायली सैनिक अपने देश लौटते हैं. जहां अब उन्हें नैशनल हीरो का दर्जा दिया जा चुका है. इतने सालों के ट्रॉमा को पीछे छोड़ना चाहते हैं. जैसे भी हो, अपनी लाइफ में नई शुरुआत करना चाहते हैं. इस ट्रॉमा से उभरने के लिए उन्हें मिलिट्री की ओर से एक मनोवैज्ञानिक असाइन होता है. इनसे अपने अनुभव पर बात करने को कहता है. पाता है कि तीनों की कहानी के वर्ज़न अलग-अलग है. शक जताता है. कि कुछ तो है जो ये तीनों छुपा रहे हैं. यही पता करने के लिए जांच शुरू होती है. आगे क्या सामने आता है, वो शो देखकर ही पता चलेगा. शो अभी इंडिया के किसी प्लेटफॉर्म पर स्ट्रीम नहीं हो रहा है. अगर कोई अपडेट आता है, तो आपको जरूर देंगे.


 

# 9. सीक्रेट सिटी    
# भाषा: इंग्लिश  
# डायरेक्टर: एमा फ्रीमैन
# कलाकार: एना टोर्व, जस्टिन स्मिथ, मार्कस ग्राहम

must watch political show
क्या अपनी सरकार से सवाल पूछना गलत है? फोटो – ट्रेलर

कहानी – ऑस्ट्रेलियन पॉलिटिकल थ्रिलर. ऑस्ट्रेलिया और चाइना के रिश्तों में तनाव चल रहा है. ऑस्ट्रेलियन सरकार इसे अपने तरीके से हैंडल कर रही है. कम से कम जनता को तो यही भरोसा दिलाया है. पर जर्नलिस्ट हैरियट डनक्ले को कुछ खटकता है. लगने लगता है कि मामला कुछ और है. सरकार ये सारा ढोंग कुछ छुपाने के लिए कर रही है. कुछ ऐसा जो सामने आया, तो उसकी और सारे ऑस्ट्रेलिया के नागरिकों की आज़ादी को खतरे में डाल देगा. हैरियट सच्चाई की तह तक कैसे पहुंचेगी और अपनी ही सरकार के खिलाफ क्या कर पाएगी, यही शो के 2 सीज़न्स की कहानी है. शो को आप नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं.


 

# 10. दी गुड वाइफ    
# भाषा: इंग्लिश  
# क्रिएटर: मिशेल किंग, रॉबर्ट किंग
# कलाकार: जूलियाना, एलेन कमिंग, जोश चार्ल्स

political show
बिल क्लिंटन का स्कैंडल शो की प्रेरणा बना. फोटो – ट्रेलर

कहानी – शुरू होता है पीटर से. अमेरिका का हाई प्रोफाइल पॉलिटिशियन. अपने एक पब्लिक सेक्स स्कैंडल और करप्शन के केस के चलते जेल पहुंच जाता है. अब ज़िम्मेदारी आती है उसकी बीवी एलीशिया पर. अपने करियर को रीस्टार्ट करने की. अपनी फैमिली का बैकबोन बनने की. शो के क्रिएटर्स मिशेल और रॉबर्ट को प्रेरणा मिली बिल क्लिंटन और सिनेटर जॉन एडवर्ड्स के स्कैंडल से. जहां पति ने पूरी दुनिया के सामने अपनी गलती कुबूली. और इस दौरान इनकी पत्नियां इनके पीछे खड़ी थीं. दोनों को जिज्ञासा हुई कि पति के ऐसा करने के बावजूद पत्नियां इनका साथ क्यूं दे रही थी? क्यूं इन्होंने अपने करियर को पीछे छोड़, अपने पतियों के राजनैतिक अरमानों को अपना सपना बना लिया. बस इसी सोच पर टिका है ये शो. जिसके सातों सीज़न्स आप वूट पर देख सकते हैं.


 

# 11. 24
# भाषा: इंग्लिश  
# क्रिएटर: जोएल सर्नो, रॉबर्ट कोचरन  
# कलाकार: किफर सदरलैंड, मेरी लिन, कार्लोस बर्नार्ड

political show
अनिल कपूर का शो इसी का रीमेक था. फोटो – ट्रेलर

कहानी – 9 सीज़न्स. हर एक में 24 एपिसोड्स. हर सीज़न है 24 घंटों की कहानी. ऊपर से हर एपिसोड रियल टाइम में चलता है. यानि किरदारों का एक घंटा और आपका घंटा सेम. यही कारण है कि शो के दौरान आपको घड़ी टिक-टिक करती हुई दिखेगी. शो का मुख्य किरदार है जैक बावर. अमेरिका की काउंटर टेररिस्ट यूनिट का मेंबर. इस यूनिट का एक ही काम है. अमेरिकी धरती पे टेररिस्ट अटैक रोकना. जैक वक्त के साथ रेस लगाता है. कई बार टेररिस्ट अटैक रोकने के लिए, तो कई बार अपनी फैमिली पर आई मुसीबत टालने के लिए. वक्त और टेक्नोलॉजी के साथ अटैक्स भी बदलते हैं. मेजर साइबर अटैक, राष्ट्रपति उम्मीदवार पर हमला तो कभी वेपन ऑफ मास डिस्ट्रक्शन की शक्ल लेते हैं. शो के सारे सीज़न्स आप डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर देख सकते हैं. 2013 में इसी नाम से आया अनिल कपूर का शो इसका ऑफिशियल रीमेक था.


 

# 12 .  हॉस्टेजेस
# भाषा: हिंदी    
# डायरेक्टर: सुधीर मिश्रा, सचिन कृष्ण
# कलाकार: टिस्का चोपड़ा, रॉनित रॉय, मल्हार राठोड़

best political shows
क्या एक मासूम को मारकर अपनी फैमिली को बचाओगे? फोटो – ट्रेलर

कहानी – शो की टैगलाइन थी, क्या एक मासूम को मारकर अपने परिवार को बचाओगे. सुनने में बड़ी आसान चॉइस लगती है पर है नहीं. डॉ. मीरा को एक रूटीन ऑपरेशन करना है. चीफ मिनिस्टर का ऑपरेशन. उसी से एक रात पहले कहानी में ट्विस्ट आता है. जब चार नकाबपोश मीरा के घर में घुस जाते हैं. पूरी फैमिली को बंदूक की नोंक पे हॉस्टेज बना लेते हैं. मीरा को एक चॉइस देते हैं. सीएम को मार दो और अपने परिवार को बचा लो. अब मीरा क्या करती है, यही आगे का सस्पेंस है. शो का पहला सीज़न सुधीर मिश्रा ने डायरेक्ट किया था. जो ‘हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी’ और ‘चमेली’ जैसी फिल्में बना चुके हैं. शो के दोनों सीज़न आप डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर देख सकते हैं.


 

# 13. डॉयचलैंड 83
# भाषा: जर्मन    
# क्रिएटर: एना विंगर, जोर्ग विंगर  
# कलाकार: जोनस ने, मारिया श्रेडर, लुडविग ट्रप्त, सिल्वेस्टर ग्रोथ

german show
एक दशक की कहानी बताते हैं 3 सीज़न. फोटो – शो

कहानी – 80 के दशक की कहानी. जब जर्मनी दो हिस्सों में बंटा था. ईस्ट और वेस्ट जर्मनी. बीच में थी बर्लिन की दीवार. वो दौर ऐसा था कि ईस्ट जर्मनी सोवियत संघ के अंडर आता था. वहीं, वेस्ट जर्मनी ब्रिटिश, अमेरिकन और फ्रेंच आर्मी के अंडर पड़ता था. ईस्ट के नियम बड़े सख्त थे. छोटी सी बात पे बड़ी सज़ा हो जाती थी. विचारों की अभिव्यक्ति पर रोक-टोक थी. यही कारण है कि लोग ईस्ट से भागकर वेस्ट में रहने आ जाते थे. शो की कहानी शुरू होती है मार्टिन रॉच से. ईस्ट जर्मनी का नागरिक. उसे अंडरकवर स्पाई बनाकर वेस्ट भेजा जाता है. ताकि वहां के इंटेलिजेंस की रग-रग से वाकिफ़ हो सकें. मार्टिन का यही पूरा अनुभव सीज़न वन कवर करता है. इसके बाद 80 के दशक पर ही बेस्ड सीज़न 2 और 3 भी आए. सीज़न 3 का नाम था डॉयचलैंड 89. उस साल की कहानी जब बर्लिन की दीवार ढहा दी गई थी. तीनों सीज़न आप अमेज़न प्राइम वीडियो पर देख सकते हैं.


 

# 14. दी अमेरिकन्स  
# भाषा: इंग्लिश      
# क्रिएटर: जो वाइसबर्ग
# कलाकार: केरी रसेल, हॉली टेलर, मैथ्यू रॉयस  

अमेरिका और रूस के कोल्ड वॉर के समय की कहानी. फोटो - ट्रेलर
अमेरिका और रूस के कोल्ड वॉर के समय की कहानी. फोटो – ट्रेलर

कहानी – फिलिप और एलिज़ाबेथ. अमेरिका के वॉशिंगटन डीसी में रहने वाला एक टिपिकल कपल. शादी को 20 साल हो गए. 2 बच्चे भी हैं. साथ मिलकर एक ट्रैवल एजेंसी चलाते हैं. कुल मिलाकर लाइफ सही है. पर जो आंखों को दिखे, वो हमेशा सच नहीं होता. यहां भी ऐसा ही केस है. दोनों असल में रशियन जासूस हैं. जिन्हें 20 साल पहले अमेरिका भेजा गया था. अब चल रहा है 80 का दशक. जब अमेरिका और रूस के बीच की कोल्ड वॉर चरम पर है. अमेरिका अपनी धरती पे छुपे जासूसों को ढूंढ रहा है. दोनों इस बात से बेखबर हैं कि इन्हीं के पड़ोसी को रशियन जासूसों को पकड़ने का काम सौंपा गया है. शो सिर्फ इतना नहीं. ये एक और चीज़ एक्सप्लोर करता है. दोनों देशों के जासूसों की धारणाएं और उनसे पैदा होने वाला मतभेद, कौन कितना सही है और कौन कितना गलत. शो को डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर देख सकते हैं.


 

# 15 . स्कैंडल  
# भाषा: इंग्लिश      
# क्रिएटर: शॉन्डा राइम्स  
# कलाकार: केरी वॉशिंगटन, कोलंबस शॉर्ट, जेफ़ पेरी

political shows
ओलिविया की फर्म लोगों की प्रॉब्लम सॉल्व करती है. फोटो – ट्रेलर

कहानी – ओलिविया पोप एक क्राइसिस मैनेजमेंट फर्म चलाती है. यानि पेशे से लोगों की प्रॉब्लम सॉल्व करती है. और सॉल्व भी ऐसे करती है कि किसी को मालूम भी ना चले सच में कोई प्रॉब्लम थी क्या. ओलिविया के क्लाइंटस् में बड़े-बड़े नाम हैं. पैसे वाले पावरफुल लोगों से लेकर अमेरिका के प्रेसीडेंट तक. पर अगर दूसरों के दाग साफ करने हैं तो खुद के हाथ तो गंदे होंगे ही. ओलिविया और उसकी टीम की ज़िंदगी दूसरों की प्रॉब्लम्स के ही इर्द-गिर्द घूमती है. इसका असर उनकी पर्सनल लाइफ पर भी पड़ना शुरू हो जाता है. इतना कि धीरे-धीरे सबके लिए सही और गलत की लाइन धुंधली होने लगती है. शो अभी इंडिया में उपलब्ध नहीं है. पर आगे फ्यूचर में जब भी होता है, बिना ज़्यादा सोचे देख डालिएगा.


 

# 16 . कक्काजी कहिन    
# भाषा: हिंदी      
# डायरेक्टर: बासु चैटर्जी    
# कलाकार: ओम पुरी, शैल चतुर्वेदी

om puri
ओम पुरी साहब ने एक मोटी चमड़ी वाले नेता का किरदार निभाया था. फोटो – शो

कहानी – दूरदर्शन के गोल्डन पीरीयड में प्रसारित होने वाला शो. क्या एक्टिंग, क्या डायरेक्शन और क्या राइटिंग. एकदम कमाल. इसे डायरेक्ट किया लिजेंड्री डायरेक्टर बासु चैटर्जी ने. बासु दा ने कई कमाल की फिल्में भी बनाईं. ‘रजनीगंधा’, ‘चमेली की शादी’, ‘चितचोर’, ‘सारा आकाश’, उन्हीं में से कुछ नाम हैं. शो एक पॉलिटिकल सटायर था. जहां ओम पुरी साहब ने एक नेता का किरदार निभाया. दांत फाड़-फाड़कर हंसने वाला धूर्त किस्म का नेता. जिसकी हरकतें देखकर आपको खुंदक चढ़ेगी और हाव-भाव देखकर हंसी आएगी. ये मनोहर श्याम जोशी की किताब ‘नेताजी कहिन’ पर आधारित था. वही मनोहर श्याम जोशी, जिनकी कलम ने भारत को उसका पहला धारावाहिक ‘हम लोग’ दिया और साहित्य जगत को ‘कुरु कुरु स्वाहा’ जैसी रचना. फिलहाल तो ये शो इंटरनेट पर नहीं है. इसे लिस्ट का हिस्सा बनाने का एक ही कारण था. हमारे अपने देश से निकले ऐसे शो को याद करना जिसने सटायर या कॉमेडी के नाम पे फूहड़ता नहीं परोसी. ऐसा शो जो 1988 में आने के बावजूद अपने समय से आगे था. बाकी ये शो जब भी किसी स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध होता है तो हम आपको जरूर बताएंगे. इतना वादा है.


 

# 17 . यस मिनिस्टर
# भाषा: इंग्लिश        
# क्रिएटर: एंटनी जे, जोनाथन लिन
# कलाकार: पॉल एडिंगटन, नाइजेल होथॉर्न, डायना होडीनॉट

sitcom
उस समय की इंग्लैंड की प्राइम मिनिस्टर मारग्रेट थैचर का फेवरेट शो. फोटो – शो

कहानी – जिम हैकर एक मेंबर ऑफ पार्लियामेंट है, जिसकी पार्टी ने हाल ही में चुनाव जीता है. जिम का भी प्रोमोशन होता है. उसे एड्मिनिस्ट्रेटिव अफेयर्स का मिनिस्टर बना दिया जाता है. यानि एड्मिनिस्ट्रेटिव अफेयर्स का पूरा डिपार्ट्मेंट अब उसके अंडर. वो अब अपने तरीके से काम करना चाहता है. पर डिपार्ट्मेंट हेड सर हम्फ़्री को ये रास नहीं आता. जिम जिद्दी किस्म का इंसान है तो वहीं, हम्फ़्री अपना काम निकालने में माहिर. दोनों की इस टक्कर में बीच वालों का क्या हाल होता है, यही इस सिटकॉम की कहानी है. 1980 से लेकर 1984 तक टेलीकास्ट होने वाले इस शो की पॉपुलैरिटी भयंकर थी. इतनी कि उस समय की इंग्लैंड की प्राइम मिनिस्टर मारग्रेट थैचर का भी ये फेवरेट शो था. ‘यस मिनिस्टर’ अमेज़न प्राइम वीडियो पर स्ट्रीम किया जा सकता है.

star plus
शो का हिंदी रीमेक ‘जी मंत्रीजी’ स्टार प्लस पर टेलीकास्ट होता था.

बीबीसी से परमिशन लेकर इसका हिंदी वर्ज़न भी बनाया गया. नाम था ‘जी मंत्रीजी’. यहां जिम का किरदार निभाया सदाबहार फ़ारुख शेख ने. वहीं, डिपार्ट्मेंट हेड हम्फ़्री के किरदार में दिखे जयंत कृपलानी. कहानी ओरिजिनल शो के फुट्प्रिंट्स पर ही चली. बस इंडियन कॉन्टेक्स्ट के हिसाब से कुछ चेंजेस किए गए. शो का पहला एपिसोड 26 अप्रैल, 2001 को स्टार प्लस पर टेलीकास्ट हुआ था.


वीडियो: बॉलीवुड की ये 12 फिल्में, जिनको कोरोना के चलते सिनेमाघर की शक्ल देखना नसीब न हुआ

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू - मास्टर

फिल्म रिव्यू - मास्टर

साल की पहली मेजर फिल्म कैसी है, जहां दो सुपरस्टार आमने-सामने हैं?

रिव्यू: गुल्लक सीज़न 2

रिव्यू: गुल्लक सीज़न 2

मिडल क्लास फैमिली की शानदार कहानी.

मूवी रिव्यू: कागज़

मूवी रिव्यू: कागज़

पंकज त्रिपाठी की लोकप्रियता भुनाने का प्रयास कितना सफल?

काजोल के डिजिटल डेब्यू 'त्रिभंग' की ख़ास बातें, जिसे रेणुका शहाणे ने डायरेक्ट किया है

काजोल के डिजिटल डेब्यू 'त्रिभंग' की ख़ास बातें, जिसे रेणुका शहाणे ने डायरेक्ट किया है

'त्रिभंग' का ट्रेलर रिलीज़ हुआ है, जो कमाल लग रहा है.

मूवी रिव्यू: AK vs AK

मूवी रिव्यू: AK vs AK

'AK vs Ak' की सबसे बड़ी ताकत इसका कॉन्सेप्ट ही है, जो काफी हद तक एंगेजिंग है.

फिल्म रिव्यू: कुली नंबर 1

फिल्म रिव्यू: कुली नंबर 1

ये रीमेक न होकर कोई ओरिजिनल फ़िल्म होती, तब भी इतना ही निराश करती.

जब नए साल की शुरुआत किसी की तेरहवीं से की जाए

जब नए साल की शुरुआत किसी की तेरहवीं से की जाए

राम प्रसाद की तेरहवीं का ट्रेलर रिलीज़ हो गया.

मूवी रिव्यू: पावा कढ़ईगल - 4 कहानियां, जो आपको अंदर से झकझोर देंगी

मूवी रिव्यू: पावा कढ़ईगल - 4 कहानियां, जो आपको अंदर से झकझोर देंगी

4 कमाल के डायरेक्टर्स की पेशकश.

मूवी रिव्यू: अनपॉज्ड - कोविड काल की कमाल कहानियां, जो आपका दिल खुश कर देंगी

मूवी रिव्यू: अनपॉज्ड - कोविड काल की कमाल कहानियां, जो आपका दिल खुश कर देंगी

पांच शानदार डायरेक्टर्स की फिल्मों का गुलदस्ता.

मूवी रिव्यू: तोरबाज़

मूवी रिव्यू: तोरबाज़

कैसी है कैंसर की खबर के बाद रिलीज़ हुई संजय दत्त की पहली फिल्म?