Submit your post

Follow Us

हनी सिंह के वो 6 गाने, जिनमें शराब या लड़की नहीं है और जो बहुत कम लोगों ने सुने होंगे

यो यो हनी सिंह.  कुछ साल पहले तक ये नाम एक ब्रांड था. ऐसा ब्रांड, जिसकी पॉपुलैरिटी को बॉलीवुड ने खूब भुनाया. क्या अमिताभ बच्चन, क्या सलमान-शाहरुख़ और क्या अजय-अक्षय. इन सब सुपरस्टार्स को अपनी फिल्में यो यो हनी सिंह नाम के इस ब्रांड से जोड़नी पड़ीं, जिसके गाने हिंदुस्तान के कोने-कोने में बज रहे थे. हज़ारों सिंगर्स में से कुछ एक ही ऐसे होते हैं, जिनका दौर आता है. दौर ऐसा, जब लोग इंतज़ार करते हैं सिंगर के अगले गाने का. जैसे नाइंटीज़ में कुमार सानू, अर्ली 2000 में सोनू निगम, मिड 2000 में हिमेश रेशमिया और आतिफ़ असलम का दौर आया था. वैसे ही 2013 से 2015 का दौर था यो यो हनी सिंह का. इंडियन यूथ को एक नया पॉप आइकॉन मिला था. जिसके गानों के साथ-साथ उसकी हेयरस्टाइल भी खूब पॉपुलर हो रही थी. शहर के हेयर कटिंग सलून्स के होर्डिंग्स पर अब हनी सिंह छपा दिखता था. बड़े शहरों के पब्स से लेकर छोटे शहरों के मैगी पॉइंट्स तक हर जगह ‘यो यो हनी सिंह’ नाम गूंज रहा था.

‘जो है नाम वाला, वही तो बदनाम है’

हनी सिंह बच्चों और यूथ के बीच जितना पॉपुलर हो रहे थे, उतने ही पेरेंट्स और ‘इंटेलेक्चुअल’ क्लास के बीच बदनाम. कारण था हनी के गाने, जो दो चीज़ों के इर्द-गिर्द घूमते थे. शराब और लड़कियां. हनी सिंह के कई गानों में शराब पीने को एक प्राउड एक्टिविटी की तरह दिखाया जाता था. वहीं उनके कई गानों के लिरिक्स काफी वुमन बैशिंग रहे हैं. इन गानों की वजह से हनी सिंह का नाम कई बार देश के अलग-अलग पुलिस थानों में दर्ज भी कराया जा चुका है.

मगर ये भी फैक्ट है हनी सिंह ने भले ही कुछ वक़्त के लिए ही सही, लेकिन म्यूज़िक इंडस्ट्री को रूल किया है. एक वक़्त था जब बड़े न्यूज़ चैनल्स के बड़े एंकर्स भी प्राइम टाइम में हनी सिंह का इंटरव्यू कर रहे थे. लेकिन किस्मत ने पलटी मारी और हनी सिंह को बाइपोलर डिसऑर्डर जैसी बीमारी से निजात पाने के लिए ब्रेक लेना पड़ा. कुछ सालों के ब्रेक के बाद हनी सिंह की गाड़ी अब एक बार वापस पटरी पर लौटती दिख रही है. हालांकि गाड़ी में अभी पहली वाली ‘रफ़्तार’ नहीं है.

आज हम आपको हनी सिंह के कुछ ऐसे गानों के बारे में बताते हैं, जिन्हें सुनकर आपको कमर्शियल यो यो हनी सिंह और इंडिपेंडेंट हनी सिंह का फर्क महसूस होगा. ये हनी के कुछ ऐसे गाने हैं जो उतने पॉपुलर नहीं हुए, जितने वो वुमन बैशिंग और शराब वाले गाने हुए.

# भगत सिंह: ट्रिब्यूट टू द रियल हीरो

‘चक्को पैर ओथे, मेरे दिल च सवार

अखियां च खून रहंदा, सीने च उबाल

तैनू छड सीने लाया, चीज़ बेगानी नु

गड्डी पीछे फोटो लाके गल नैयो बन नी

फेर कट्ठे होके गल टे विचार पैनी करनी

की असली रुतबे दा हकदार कौन है

धक्के नाल थोपेया ते सच्चा प्यार कौन है

रखवाला सीगा जो इस मुल्क महान दा

ओहनू आपा भूले साडे टे लाख लानतां’

अगर आप भी यही समझते हैं कि हनी सिंह ने सिर्फ लड़कियों और शराब पर गाने गाए हैं तो एक बार इस गाने को ज़रूर सुनें. ये गाना हनी सिंह ने ‘ब्लू है पानी पानी’ जैसे गानों से बहुत पहले बनाया था. वैसे आपको बता दें ये हनी सिंह का सबसे कम व्यूज पाने वाला गाना भी है. अब इसी बात से आप अंदाज़ा लगा सकते हैं क्यों हनी सिंह शराब बेस्ड गाने ज्यादा बनाते हैं और ऐसे गाने कम.

#लंदन

“अंखा नीलियां च काला कजला

शौक़ीन जट नाल विहाई लगदी

फिरे फसलां दे नाम पूछ दी

गोरी लंदन तो आई लगदी”

वैसे ये गाना गाया तो मनी ओजिला ने है. लेकिन म्यूज़िक और म्यूज़िक वीडियो की स्टोरी हनी सिंह की कलम से ही निकली है. कहानी है लंदन से आई एक विदेशी मूल की लड़की की. जो टैक्सी में पंजाब घूम रही है. वो पंजाब की खूबसूरती देख वशीभूत हुई जा रही है. इस नज़ारे को टैक्सी ड्राईवर बने मनी ओजिला खूबसूरती से बयान कर रहे हैं. विडियो में हनी सिंह भी दिखते हैं. खूबसूरत मैलोडी है.

#बंजारे

“सच बोलो तो मुंह की खाते

झूठी दुनिया, झूठे सारे

डोंट नो विच वे टू गो

आगे होगा क्या “

दोस्ती का गीत. ये ट्रैक 2014 में अक्षय कुमार प्रोडक्शन में बनी फिल्म ‘फ़गली’ से है. मार्केट में क्या चल रहा है इसकी महीन परख रखने वाले अक्षय कुमार ने फिल्म के म्यूज़िक की पूरी ज़िम्मेदारी यो यो हनी सिंह को सौंपी थी. इस फ़िल्म के टाइटल सांग ‘फगली फगली क्या है’ में सलमान और अक्षय कुमार ने फीचर किया था. इस ट्रैक को खुद हनी सिंह ने गाया था. ‘फगली’ अल्बम का दूसरा गाना ‘ढुपचिक’ हनी सिंह और रफ़्तार की दोस्ती टूटने का प्रमुख कारण बना. रफ़्तार ने कहा था ये गाना उन्होंने खुद लिखा है लेकिन क्रेडिट में उनका नाम नहीं दिया गया. इसी फिल्म से कियारा अडवाणी ने डेब्यू भी किया था. हनी सिंह के कुछ अंडररेटेड ट्रैक्स में से एक है ये.

 #सरगी

ये गाना है हुड़जाबी में.  1947 से पहले पंजाब में बोली जाती थी. सियालकोट का एक गांव जहां एक 24 साल की लड़की जिसे लड़के वाले देखने आए हैं, अपनी अम्मी से क्या कहती है,

“सरगी दा वेहरा, ओ जुम्मे दी सवेर सी

ओहदे उठने च हले थोड़ी देर सी

कच्ची नींद रे ओ अम्मी ने जगा लिया

कोठे तो हांक मार, हेठां सी बुला लिया

पोल-पोल नंगे पैर उतरी सी पौड़ीया

अम्मी दी गल्ला ओहनू लगेया सी कौड़ियाँ

रुसदे ही ओहनू बापू ने मना लिया

वड्डे वीरे ने भी गले नाल ला लिया

उठान वाले आए ने लेन नु

तू बियाह दे छोटी बहन नु

ओ अम्मी मैं नैय्यो जाना”

2013 में हनी सिंह और अमरिंदर गिल की पंजाबी फिल्म आई थी ‘तू मेरा 22 मैं तेरा 22’. फिल्म में म्यूज़िक भी हनी सिंह का था. इसी फिल्म का ये खूबसूरत गाना है. फिल्म में तो गाना अमरिंदर गिल की आवाज़ में हैं लेकिन जब हनी सिंह ने स्टार प्लस के शो ‘रॉ स्टार’ में इसे गाया तो अलग ही स्वाद आ गया था. आप भी सुनें.

#दमा दम मस्त कलंदर

“मेरा मोमिन तू

मेरा काज़ी तू

मेरा रुसेया तू

मेरा राज़ी तू

मेरा आब वी तू

मेरा आतिश तू

मैंता दूर वि तू

मेरे साथ भी तू

इस काफ़िर दी औकात भी तू “

13वी सदी में आमिर खुसरो ने ये गीत लिखा था. इसके बाद 18वी सदी में बुल्ले शाह ने इसे अपने लहज़े में दुबारा लिखा. सदियां बीतती गईं और ये नज़्म आशिक़ हुसैन, नूर जहां, नुसरत फतेह अली खान, हंसराज हंस, वडाली बदर्स से गुज़रती हुई 2014 में मीका सिंह और यो यो हनी सिंह के लबों तक भी पहुँच गई.

#हॉर्न ओके प्लीज़

तू गया तो कहां, मेरा सूना है जहां

कहीं दिखता नहीं तेरे जूते का निशान

सर पे तू हां, कोई सजदा तो नहीं

तेरे बिना जिंदगी से खा लूं शिकवा तो नहीं”

ये गाना ‘इश्क़िया’ के सिक़्वल ‘डेढ़ इश्क़िया’ से है. गाने को हनी सिंह और सुखविंदर सिंह ने गाया है और बोल हैं गुलज़ार के. बताइए आज से दस साल पहले कोई सोच सकता था कि कभी हनी सिंह जैसे रैप आर्टिस्ट गुलज़ार के लिखे बोल गाएंगे.

#यो यो स्टीरियोटाइप

ये हनी सिंह के वो गाने हैं जो उनकी इमेज से हटकर हैं. लेकिन ये गाने उतने चले नहीं जितना ‘ब्लू आईज़’,’चार बोतल वोडका’,’ ब्रेकअप पार्टी’ जैसे गाने चले.अब म्यूज़िक लेबल्स तो उन्हीं गानों पर पैसा लगाएंगे, जो चलेंगे. इसलिए आज भी हनी सिंह के गाने शराब और लड़कियों पर ही केंद्रित रहते हैं. ऐसा ही एक गाना कुछ दिन पहले रिलीज़ हुआ है ‘सैंया जी’. इस लिस्ट में दिए छह गानों के मिलाकर भी ‘सैंया जी’ जितने व्यूज नहीं हैं. क्या ही कहें!


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है.


विडियो:’खड़के ग्लासी’ के सिंगर अशोक मस्ती ने कहा, ‘हनी सिंह के बिना पिछले 20 साल का म्यूजिक अधूरा’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

Malik ट्रेलर में फहाद फाज़िल की क्रूरता देख खौफज़दा हो जाएंगे

Malik ट्रेलर में फहाद फाज़िल की क्रूरता देख खौफज़दा हो जाएंगे

ये आदमी सही काम, गलत तरीके से करता है. 'मलिक' ट्रेलर की खास बातें पढ़ते चलिए.

फिल्म रिव्यू: द टुमॉरो वॉर

फिल्म रिव्यू: द टुमॉरो वॉर

'एवेंजर्स' वाले क्रिस प्रैट क्या इस बार दुनिया को बचा पाए?

फिल्म रिव्यू- कोल्ड केस

फिल्म रिव्यू- कोल्ड केस

हर फिल्म को देखने के बाद एक भाव आता है, जो आपके साथ रह जाता है. मगर 'कोल्ड केस' को देखने के बाद आप श्योर नहीं हो पाते कि वो भाव क्या है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: ग्रहण

वेब सीरीज़ रिव्यू: ग्रहण

1984 के सिख दंगों पर बनी ये सीरीज़ आज भी रेलवेंट है.

मूवी रिव्यू: जगमे थंदीरम

मूवी रिव्यू: जगमे थंदीरम

धनुष की जिस फिल्म को लेकर इतना हाईप था, वो आखिर है कैसी?

मूवी रिव्यू- शेरनी

मूवी रिव्यू- शेरनी

जानिए 'न्यूटन' फेम अमित मसुरकर और विद्या बालन ने साथ मिलकर क्या बनाया है!

मूवी रिव्यू: स्केटर गर्ल

मूवी रिव्यू: स्केटर गर्ल

फिल्म को देखकर दिमाग नहीं घूमेगा, बस बिज़ी लाइफ में ठहराव महसूस होगा.

वेब सीरीज़ रिव्यू- सनफ्लावर

वेब सीरीज़ रिव्यू- सनफ्लावर

अच्छे एक्टर्स की शानदार परफॉरमेंस से लैस ये सीरीज़ एक सुनहरा मौका गंवाती सी लगती है.

तापसी पन्नू की 'हसीन दिलरुबा' का ट्रेलर तो बहुत जबराट है

तापसी पन्नू की 'हसीन दिलरुबा' का ट्रेलर तो बहुत जबराट है

बड़े दिन बाद मार्केट में मर्डर मिस्ट्री आई है.

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

मनोज बाजपेयी, के के मेनन, गजराज राव, अली फ़ज़ल, क्या-क्या नाम गिनाएं!