Submit your post

Follow Us

7 अजूबों के बाहर की दुनिया

369
शेयर्स

दुनिया घूमने का शौक होता है कुछ लोगों को. वो घूमने टहलने में खोज डालते हैं कुछ नायाब चीजें. कुछ ऐसी धांसू लोकेशंस जो इसी दुनिया में हैं लेकिन उन पर किसी ने लाइट नहीं डाली. ये कुछ ऐसी ही जगहें हैं जिनको जान लो तो लोगों पर भौकाल जमाना आसान रहेगा

1- विलेंड्रा की मूंगो झील

ऑस्ट्रेलिया में बहती थी ये झील. बहुत बहुत साल पहले. अब उसके निशान बचे हैं. कहते हैं यहां इंसान की सबसे पुरानी सभ्यता के आदिवासी रहते थे. 50 हजार साल तक उनके जीने का रास्ता यही झील थी.

2- सायरीन के खंडहर

लीबिया में अब इस शहर के खंडहर बचे हैं.जो कभी यूनान का मशहूर शहर हुआ करता था. रोम की राजधानी रहा सन 365 ईसवी तक. जब तक कि भूकंप में नष्ट नहीं हो गया.

3- कसीर अमरा

जॉर्डन में स्थित है ये किला. इसको रेगिस्तानी महल कहते हैं. 8वीं सदी में बनी थी ये खूबसूरत बिल्डिंग. बनवाया था वालिद इब्न यजीद ने. इस्लामी सभ्यता की शुरुआत की बेहतरीन कलाकारी का नमूना है.

4- मेडागास्कर में चूना पत्थर के पहाड़

सिंगी डी बेमरहा कहते हैं इस जगह को. मेडागास्कर पता है न. वहीं मेलाकी में ये चूना पत्थर के खूबसूरत पहाड़ बने हैं. कुदरत ने खुद कसीदाकारी की है इन पहाड़ों की. देख लो एक बार तो पलकें न झपकें.

5- फिलीपींस के बारोक चर्च

16वीं सदी के लास्ट में बने थे ये चार चर्च. स्पैनिश आर्किटेक्चर की बेहतरीन कलाकारी. बाहर से जितनी खूबसूरत इनकी इमारत है अंदर की लक्जरी उससे कई गुना ज्यादा. फिलीपींस के इतिहास में इन चर्चों की खास जगह है.

6- बुखारा सेंटर उज्बेकिस्तान

उज्बेकिस्तान देश के सिल्क रूट में ये शहर है बुखारा. ये शहर 2000 साल पुराना है. मने इत्ते साल से बस रहा है और पुरानी धरोहर भी संभाले हुए है. यहां 10वीं सदी में बना इस्माइल समानी का मकबरा ज्यों का त्यों चमक रहा है. इसके अलावा खास ईंटों से बनी मीनार भी है.

7- ऐम्सटर्डैम के रक्षा किले

1880 से 1920 के बीच में बनाई गई ये किलों का चेन. ऐम्सटर्डैम में बने ये 42 किले 135 किलोमीटर की दूरी तक फैले हैं. इनको ढलान वाली जमीन पर इसलिए बनाया गया था कि युद्ध के हालात में किनारे पानी भरा जा सके. पानी सिर्फ 30 सेंटीमीटर भरा जाता था जिसमें हल्की बोट चल सकें. इसके इर्द गिर्द 1 किलोमीटर में फैली इमारतें लकड़ी की हैं.

8- न्यू लेनार्क विलेज

विलेज माने गांव. नदी के किनारे जंगल में खूबसूरत वादियों में ये खूबसूरत गांव बसा है स्कॉटलैंड देश में. इससे डेढ़ किलोमीटर दूर असली लेनार्क कस्बा भी है. ये गांव 1786 में बसाया डेविड डेल ने. इसे बनाने की खास वजह थी. वहां की मिलों में काम करने वाले मजदूर थे. उनके लिए घर बनाना जरूरी था. बस उनके लिए ये बसा दिया ये खूबसूरत गांव.

9- हंबरस्टोन और सांता लौरा की रिफाइनरी

चिली में एक रेगिस्तान है एटाकामा. वहां ये रिफाइनरी लगाई गई 1872 में. तब ये जगह पेरू में आती थी. 1960 में बिजनेस टूटने के बाद इनको बंद कर दिया गया. फिर ये भूतिया महल की तरह फेमस हो गई. 1970 में इनको फिर खोला गया. टूरिस्ट प्लेस बना कर.

10- गोरी आइसलैंड

नाम से कनफ्यूज होने की जरूरत नहीं है. इसका नाम भले गोरी है लेकिन कभी ये गुलामों की खरीद बिक्री के काले कारनामों का मेन अड्डा था. पश्चिमी अफ्रीका में एक देश है सेनेगल. यहां एक शहर है डकर. इस शहर से केवल दो किलोमीटर दूर समुद्र में है ये टापू. 15वी सदी से 19वीं सदी तक गुलामों के व्यापार का मेन बाजार था.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Less known heritages of the world

पोस्टमॉर्टम हाउस

पड़ताल: दोनों में से कौन सा 500 रुपए का नोट सही है?

आपको पता है 500 के सही और फर्जी नोट में क्या अंतर होता है?

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!