Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

7 अजूबों के बाहर की दुनिया

371
शेयर्स

दुनिया घूमने का शौक होता है कुछ लोगों को. वो घूमने टहलने में खोज डालते हैं कुछ नायाब चीजें. कुछ ऐसी धांसू लोकेशंस जो इसी दुनिया में हैं लेकिन उन पर किसी ने लाइट नहीं डाली. ये कुछ ऐसी ही जगहें हैं जिनको जान लो तो लोगों पर भौकाल जमाना आसान रहेगा

1- विलेंड्रा की मूंगो झील

ऑस्ट्रेलिया में बहती थी ये झील. बहुत बहुत साल पहले. अब उसके निशान बचे हैं. कहते हैं यहां इंसान की सबसे पुरानी सभ्यता के आदिवासी रहते थे. 50 हजार साल तक उनके जीने का रास्ता यही झील थी.

2- सायरीन के खंडहर

लीबिया में अब इस शहर के खंडहर बचे हैं.जो कभी यूनान का मशहूर शहर हुआ करता था. रोम की राजधानी रहा सन 365 ईसवी तक. जब तक कि भूकंप में नष्ट नहीं हो गया.

3- कसीर अमरा

जॉर्डन में स्थित है ये किला. इसको रेगिस्तानी महल कहते हैं. 8वीं सदी में बनी थी ये खूबसूरत बिल्डिंग. बनवाया था वालिद इब्न यजीद ने. इस्लामी सभ्यता की शुरुआत की बेहतरीन कलाकारी का नमूना है.

4- मेडागास्कर में चूना पत्थर के पहाड़

सिंगी डी बेमरहा कहते हैं इस जगह को. मेडागास्कर पता है न. वहीं मेलाकी में ये चूना पत्थर के खूबसूरत पहाड़ बने हैं. कुदरत ने खुद कसीदाकारी की है इन पहाड़ों की. देख लो एक बार तो पलकें न झपकें.

5- फिलीपींस के बारोक चर्च

16वीं सदी के लास्ट में बने थे ये चार चर्च. स्पैनिश आर्किटेक्चर की बेहतरीन कलाकारी. बाहर से जितनी खूबसूरत इनकी इमारत है अंदर की लक्जरी उससे कई गुना ज्यादा. फिलीपींस के इतिहास में इन चर्चों की खास जगह है.

6- बुखारा सेंटर उज्बेकिस्तान

उज्बेकिस्तान देश के सिल्क रूट में ये शहर है बुखारा. ये शहर 2000 साल पुराना है. मने इत्ते साल से बस रहा है और पुरानी धरोहर भी संभाले हुए है. यहां 10वीं सदी में बना इस्माइल समानी का मकबरा ज्यों का त्यों चमक रहा है. इसके अलावा खास ईंटों से बनी मीनार भी है.

7- ऐम्सटर्डैम के रक्षा किले

1880 से 1920 के बीच में बनाई गई ये किलों का चेन. ऐम्सटर्डैम में बने ये 42 किले 135 किलोमीटर की दूरी तक फैले हैं. इनको ढलान वाली जमीन पर इसलिए बनाया गया था कि युद्ध के हालात में किनारे पानी भरा जा सके. पानी सिर्फ 30 सेंटीमीटर भरा जाता था जिसमें हल्की बोट चल सकें. इसके इर्द गिर्द 1 किलोमीटर में फैली इमारतें लकड़ी की हैं.

8- न्यू लेनार्क विलेज

विलेज माने गांव. नदी के किनारे जंगल में खूबसूरत वादियों में ये खूबसूरत गांव बसा है स्कॉटलैंड देश में. इससे डेढ़ किलोमीटर दूर असली लेनार्क कस्बा भी है. ये गांव 1786 में बसाया डेविड डेल ने. इसे बनाने की खास वजह थी. वहां की मिलों में काम करने वाले मजदूर थे. उनके लिए घर बनाना जरूरी था. बस उनके लिए ये बसा दिया ये खूबसूरत गांव.

9- हंबरस्टोन और सांता लौरा की रिफाइनरी

चिली में एक रेगिस्तान है एटाकामा. वहां ये रिफाइनरी लगाई गई 1872 में. तब ये जगह पेरू में आती थी. 1960 में बिजनेस टूटने के बाद इनको बंद कर दिया गया. फिर ये भूतिया महल की तरह फेमस हो गई. 1970 में इनको फिर खोला गया. टूरिस्ट प्लेस बना कर.

10- गोरी आइसलैंड

नाम से कनफ्यूज होने की जरूरत नहीं है. इसका नाम भले गोरी है लेकिन कभी ये गुलामों की खरीद बिक्री के काले कारनामों का मेन अड्डा था. पश्चिमी अफ्रीका में एक देश है सेनेगल. यहां एक शहर है डकर. इस शहर से केवल दो किलोमीटर दूर समुद्र में है ये टापू. 15वी सदी से 19वीं सदी तक गुलामों के व्यापार का मेन बाजार था.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Less known heritages of the world

पोस्टमॉर्टम हाउस

2.0 का ट्रेलर आ गया, जिसे देखकर मोबाइल फ़ोन रखने वाले हर आदमी को डर लगेगा

साथ ही पढ़िए इस फिल्म की मेकिंग से जुड़ी 9 दिलचस्प बातें.

'डोंबिवली फास्ट': जब एक अकेला आदमी सिस्टम सुधारने निकल पड़ा

और फिर पूरे सिस्टम ने उसे मिटा डालने के लिए कमर कस ली.

फिल्म रिव्यू: काशी इन सर्च ऑफ गंगा

ऐसी फ़िल्में देखकर हर फिल्म क्रिटिक को अपने प्रोफेशन पर गर्व होता है!

फिल्म रिव्यू: बाज़ार

हाल-फिलहाल में जितने भी स्टारकिड्स ने डेब्यू किया है, उनमें से किसी को रोहन जैसा पोटासभरा कैरेक्टर प्ले करने का मौका नहीं मिला है.

फ़िल्म रिव्यू: नमस्ते इंग्लैंड

ये ऐसी फ़िल्म है जिसका कोई स्पॉइलर नहीं हो सकता!

फिल्म रिव्यू: बधाई हो

मां की प्रेग्नेंसी जैसे असहज करने वाले सब्जेक्ट पर बनी सपरिवार देखने लायक फिल्म.

जब हेमा के पापा ने धर्मेंद्र को जीतेंद्र के सामने धक्का देकर घर से निकाल दिया

घरवाले हेमा-धर्मेंद्र की शादी के सख्त खिलाफ थे.

क्या आपको पता है हेमा को 'ड्रीम गर्ल' कहना भी एक स्ट्रैटजी थी?

आज अपना 70वां जन्मदिन मना रही हैं हेमा मालिनी.

म्यूज़िक रिव्यू - जलेबी

इस म्यूज़िक एलबम के किसी गीत में उंगली रखकर आप ये नहीं कह सकते कि ये वाला गीत बेस्ट है.

मूवी रिव्यू: हेलीकॉप्टर ईला

जब आप ऊपर वाले के हाथ की कठपुतली नहीं होते, तब अपनी मां के हाथ की कठपुतली होते हैं.