Submit your post

Follow Us

उस मोखड़ाजी दादा की 13 बातें, जिनका नाम लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रो-रो सर्विस शुरू की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 अक्टूबर को भावनगर जिले के घोघा बंदरगाह पर रो-रो सर्विस की शुरुआत की है. इस दौरान लोगों से बात करते हुए उन्होंने कई बार एक शख्स का नाम लिया और उनकी शान में लोगों से नारे लगवाए. ये नाम था मोखड़ाजी दादा का, जिन्होंने घोघा राज्य पर शासन किया था. जानते हैं उनके बारे में 13 ऐसी बातें, जिनकी वजह से वो आज भी लोगों के बीच सम्मान की नजरों से देखे जाते हैं.
1. मोखड़ाजी दादा का पूरा नाम मोखड़ाजी गोहिल था, जो खेहरगढ़ के सेजाकाजी गोहिल के वंशज थे.
2. इनके पूर्वज राजस्थान से विस्थापित होकर सौराष्ट्र आए थे. इनके पिता रनजी गोहिल की रनपुर नाम की छोटी सी जागीर थी, जो अब अहमदाबाद में है.
3. इन्होंने 1309 से 1347 के बीच शासन किया था. इस दौरान दिल्ली पर तुगलक वंश का शासन था.
4. अहमदाबाद में ही एक और छोटी सी जागीर थी धौलेरा. इसके राजा धनमेर ठाकोर ने अपने बुढ़ापे को देखते हुए अपना राज्य मोखड़ाजी को सौंप दिया और खुद हिमालय चले गए.
5. मोखड़ाजी ने बाद में दिल्ली की भी यात्रा की, जहां से लौटने पर उन्होंने तुगलक शासन से टकराने का फैसला किया.
6. इसके लिए उन्हें अपने साम्राज्य का विस्तार करना था. इसे देखते हुए मोखड़ाजी गोहिल ने घोघा पर कब्जा कर लिया और पिराम द्वीप को राजधानी के तौर पर बसाया.

Mokhdaji temple
भावनगर में कई जगहों पर अब भी मोखड़ाजी के मंदिर बन रहे हैं. (फोटो: Facebook)

7. सूचना मिलने पर उन्होंने खंभात बंदरगाह पर दिल्ली सल्तनत का पूरा खजाना और गोला-बारूद लूट लिया. इस खजाने से उन्होंने अपनी नौसेना को और भी मजबूत किया था.
8. मोखड़ाजी ने जेठवा राजपूत इलाके पर भी कब्जा कर लिया. राज्य को कब्जे में लेने के बाद मोखड़ाजी ने जेठवा की बेटी से शादी कर ली थी. इससे पहले उन्होंने राजपिपला की राजकुमारी से भी शादी की थी. इसके बाद मोखड़ाजी ने खंभात से लेकर सोमनाथ तक पूरे समुद्र तट पर कब्जा कर लिया.
9. दिल्ली सल्तनत के लिए जब खंभात बंदरगाह से कारोबार करना मुश्किल हो गया, तो तुगलक की सेना ने मोखड़ाजी की राजधानी पिराम को चारों ओर से घेर लिया. तुगलक की सेना को समुद्री तट पर लड़ने की आदत नहीं थी, इसलिए वो हार गई और मोखड़ाजी जीत गए.
10. इसके बाद खुद मोहम्मद बिन तुगलक ने मोर्चा संभाला और पिराम के चारों ओर सेना तैनात कर दी. यह साल था 1347.
11. अपने राज्य को बचाने के लिए मोखड़ाजी सैनिकों के साथ खुद वहां लड़ने के लिए गए. उनकी सेना समुद्र में लड़ने के लिए तो मजबूत थी, लेकिन लड़ाई समुद्र तट पर हुई.
12. इस लड़ाई में मोखड़ाजी के सैनिक तुगलकी सैनिकों के आगे नहीं टिक सके. लड़ाई में खुद मोखड़ाजी की गर्दन कट कई और वो शहीद हो गए.
13. उनकी वीरता की कहानी आज भी समुद्र तट पर सुनाई जाती है. समुद्र तट पर उनके मंदिर बने हैं. मछली पकड़ने के लिए जाने वाले मछुआरे पहले मोखड़ाजी दादा को नारियल चढ़ाते हैं, उसके बाद ही अपनी नावें उतारते हैं.


वीडियो में देखें लल्लनटॉप बुलेटिन

ये भी पढ़ें:

रो-रो फेरी सर्विस की वो खास बातें, जिसने 8 घंटे के वक्त को 1 घंटे में बदल दिया है

90 के दशक में ही इस आदमी ने बोला था, नरेंद्र भाई पीएम बनने के लिए तैयार हो जाइए

अमित शाहः गांधीवादी मां के लाल की लाइफ के 11 अनजाने फैक्ट्स

 

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.