Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

KGF मूवी रिव्यू

5
शेयर्स

एल डोराडो. लॉस्ट सिटी ऑफ़ गोल्ड. पश्चिमी देशों का एक मिथक. इसी एल डोराडो से शुरू करते हुए एक लेखक कहानी सुनाना शुरू करता है. 1951 से शुरू हुई ये कहानी केजीएफ, यानी कोलार गोल्ड फील्ड्स की कहानी है. ये कहानी है रॉकी की, जिसकी मां ने मरने से पहले उससे वादा लिया है कि वो जिये जैसे भी, लेकिन मरेगा दुनिया का सबसे अमीर आदमी बनकर. कहानी को दो भागों में बांटा गया है और इसका पहला भाग है ये ‘केजीएफ़ – चैप्टर वन’ नाम की मूवी.

फिल्म में ड्रामा भी है और इमोशन भी. म्यूज़िक भी है और रिलेशन भी.
फिल्म में ड्रामा भी है और इमोशन भी. म्यूज़िक भी है और रिलेशन भी.

# केजीएफ़. जो ‘बाहुबली’ की तरह मिथकीय और साउथ इंडियन है.

# केजीएफ़. जिसका बैकड्रॉप ‘गैंग्स ऑफ़ वासेपुर’ की तरह एक माइनिंग फ़ील्ड है.

# केजीएफ़. जिसके ‘बाहुबली’ और ‘गैंग्स ऑफ़ वासेपुर’ की तरह ही पहले से ही सूचित किए गए दो पार्ट हैं. ‘धूम’ या ‘गोलमाल’ की तरह पहली फिल्म की सफलता को कैश करवाते हुए नहीं.

इंटरवल से पहले कसी हुई स्क्रिप्ट वाली ये मूवी इंटरवल के बाद हॉलीवुड की किसी जेल ब्रेक मूवी और नाज़ी कैंप वाली मूवी का मिक्सचर हो जाती है. लेकिन इसका मतलब ये न लगाएं कि कमतर हो जाती है. बल्कि ये कहना मुफ़ीद होगा कि सेकेंड हाफ, फर्स्ट हाफ से कहीं बेहतर है.

प्रशांत नील का डायरेक्शन लाउड और यूनिक हुए बगैर ही अच्छा है.

स्क्रिप्ट भी उनकी ही है. स्क्रिप्ट में सारे मूवी मसाले डाले हुए हैं. रॉकी के रूप में यश कमाल लग रहे हैं. बाकी ऐक्टर्स के लिए कुछ ज़्यादा काम नहीं है. इस वाले पार्ट में विलन ‘गरुड़ा’ का किरदार निभाने वाले ऐक्टर ने भी ठीक काम किया है.

आनंद बक्षी के बोलों पर थिरकती मौनी रॉय
आनंद बख्शी के बोलों पर थिरकती मौनी रॉय

बैकग्राउंड म्यूज़िक फिल्म को और निखारता है. ऐसी नॉन-लीनियर (कभी फ़्लैशबैक की और कभी इस वक्त की बात करने वाली) मूवीज़ में बैकग्राउंड म्यूज़िक का बहुत बड़ा रोल होता है और ये फिल्म के टूटे हुए हिस्सों को आपस में जोड़ता है. जैसे इस फिल्म में मां-बेटे के रिश्ते वाले सीन्स में आप केवल बैकग्राउंड थीम भर से ही इनोशनल हो जाते हैं.

कई जगह भूवन की सिनेमाटोग्रफ़ी देखते ही बनती है. माइनिंग वाले और 50 से 80 के दशक वाले सेट्स भी विशालकाय और अच्छे हैं.

फिल्म के कई मजबूत पक्षों में से एक है इसके डायलॉग, जो कहीं-कहीं वन लाइनर बन जाते हैं.जैसे –

# सोने के गुल्लक को चिल्लर बटोरने के लिए नहीं रखा जाता.

# हाथ में मछली लेकर मगरमच्छ को खिलाने जा रहे हो, लेकिन मगरमच्छ को मछली नहीं हाथ पसंद है.

# इतिहास जल्दबाज़ी में नहीं रचा जा सकता, लेकिन आप प्लानिंग करके ब्लूप्रिंट बनाकर भी इतिहास नहीं बना सकते.

फिल्म में आनंद बख्शी के गीत का एक नया वर्ज़न डाला गया है– गली गली में फिरता है, तू क्यूं बनके बंजारा.

मूवी अस्सी के दशक की 'फटा पोस्टर, निकला हीरो' वाली फील दे जाती है.
मूवी अस्सी के दशक की ‘फटा पोस्टर, निकला हीरो’ वाली फील दे जाती है.

फिल्म देखते हुए आपको हमेशा ही अस्सी के दशक के अमिताभ और अमिताभ की मूवीज़ याद आती है. कई बार ऐसे सीन्स आते हैं, जो बेशक जानबूझ कर कॉपी नहीं किए गए हैं लेकिन अस्सी के दशक की याद दिलाते हैं. जैसे ‘अग्निपथ’ वाला अमिताभ, जब बैकग्राउंड में कविता और फोरग्राउंड में गुंडों की कुटाई चल रही होती है. एक और बार गुंडों की दरवाज़ा बंद करके कुटाई ‘दीवार’ की याद दिलाती है, भगवान को नहीं बल्कि मां को मानने वाली बात ‘नास्तिक’ की याद करवाती है. दरअसल ये पूरी फिल्म ही अस्सी के दशक की मसाला फिल्म सरीखी है, लेकिन फिर भी पुरानी नहीं लगती. यानी नए और पुराने के बीच बैलेंस बना कर चलती है.

यूं फिल्म का एक और मज़बूत पक्ष है- बैलेंस.

फिल्म बंगलुरू और मुंबई में कलरफुल और केजीएफ की माइनिंग साइट में ब्लैक-ऐंड-वाइट हो जाती है.

जब किसी मूवी में कोई चीज़, कहानी या करेक्टर स्थापित किया जा रहा होता है, तो मूवी बोरिंग होती हुई लगती है. अगर स्थापित न करो, तो लगता है फिल्म काफी सतही है. लेकिन मूवी में यहां पर भी बैलेंस रखा गया है. रॉकी, क्लाइमेक्स आने से पहले ‘सही समय’ का इंतज़ार करता है, लेकिन ये इतंज़ार लंबा और बोरिंग होने से पहले ही ख़त्म हो जाता है.

फिल्म तब पूरी तरह कमर्शल और ‘फ़िल्मी’ लगती है, जब रॉकी सौ गुंडों की भीड़ को दौड़ा-दौड़ा कर अकेले मारता है. एक नहीं कई बार. लेकिन फिर, किसी यातना शिविर (जैसा कभी हिटलर ने यहूदियों के लिए बनवाया था) सरीखे माइनिंग साइट में लोगों के दर्द को देखकर आपको ‘दी शॉशंक रिडंप्शन’ की याद हो आती है. खासतौर पर एक अंधे को देखकर, जिसके अंधेपन का पता लग जाने पर सिक्यॉरिटी गार्ड उसे मार डालेंगे. क्योंकि वो किसी काम का नहीं, इसलिए वो अंधा न होने की ऐक्टिंग करता है.

फिल्म के सेट्स अच्छे हैं. शुरुआत में इक्का दुक्का पुरानी रियल क्ल्पिस भी ली गई हैं.
फिल्म के सेट्स अच्छे हैं. शुरुआत में इक्का -दुक्का पुरानी रियल क्ल्पिस भी ली गई हैं.

जबकि इस मूवी का दूसरा पार्ट आना है, लेकिन बैलेंस का दामन क्लाइमेक्स में भी नहीं छोड़ा गया है. जहां ऐंड दर्शकों को संतुष्ट करता है, वहीं वो अगले पार्ट की भूमिका भी तैयार करता है.

फिल्म में मां वाला इमोशन भी है, रोमांस वाला भी, गरीबी वाला भी है और मज़बूरी वाला भी.

मूवी में रवि और तनिष्क बागची का म्यूज़िक तो अच्छा है, लेकिन लिरिक्स दोयम हैं. हम हिंदी वाले वर्ज़न की बात कर रहे हैं और इसलिए ऐसा शायद ‘ट्रांसलेशन’ की दिक्कतों के चलते हो.

कुल मिलाकर, एक समीक्षक को औसत लगने वाली ये फिल्म निश्चित तौर पर एक दर्शक को कमाल लगेगी. लेकिन- कि समीक्षक को भी बुरी नहीं, कम अच्छी या औसत लगेगी. यूं अडवांस बुकिंग के रेकॉर्ड तोड़ देने वाली ये फिल्म लंबी रेस का घोड़ा है. मैं ये बात बावज़ूद इसके कह रहा हूं कि इसके समानांतर में ही शाहरुख़ की ‘ज़ीरो’ भी बगल वाले ऑडी में लगी हुई है.

तो दोस्तों केजीएफ देख कर आइए, इंडियन फिल्म इंडस्ट्री को सेलिब्रेट कीजिए, उसके सभी मसालों के साथ.

केजीएफ के पहले पार्ट में तो श्रीनिधि का छोटा सा ही रोल है, अगले पार्ट में स्कोप बना हुआ है,
केजीएफ के पहले पार्ट में तो श्रीनिधि का छोटा सा ही रोल है, अगले पार्ट में स्कोप बना हुआ है.

वीडियो देखें:

फिल्म रिव्यू: ज़ीरो –

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
KGF – Chapter 1 Film Review, starring – Yash, Srinidhi Shetty, Directed by – Prashanth Neel

10 नंबरी

गोविंदा के 48 गाने: ख़ून में घुलकर बहने वाली ऐसी भरपूर ख़ुशी दूजी नहीं

ये गाने हों तो कड़ी धूप में मजदूरी कर लूं, 18 घंटे ऑटो चला लूं, काली अंधेरी रात पैदल पार कर लूं. सुख से.

एक ही दिन चार बड़े सितारों की फिल्में रिलीज़ हो रही हैं, आप कौनसी देखेंगे?

दो फिल्में देशभक्ति की, एक आम आदमी की और एक एक्शन ड्रामा. फुल वैरायटी.

मणिकर्णिका का ट्रेलर आ गया लेकिन इसके डायरेक्टर वाले खाने में कंगना का नाम क्यों लिखा है?

सोनू सूद ने शूटिंग के बाद इस फिल्म को छोड़कर रणवीर सिंह की 'सिंबा' कर ली.

सरकार की टाइपिंग की ये गलतियां हम कभी पकड़ नहीं पाए!

सुप्रीम कोर्ट को दिए हलफनामे में सरकार ने किसी टाइपिंग एरर का जिक्र किया था.

बॉलीवुड सुपरस्टार्स जैसे दिखने वाले ये एक्टर्स लॉन्च तो हुए धूमधाम से,लेकिन बुरी तरह फेल हो गए

ये साबित हो गया कि सिर्फ चेहरा स्टार जैसा होने से कुछ नहीं होता.

विजय माल्या के बारे में वो दस फनी बातें, जो आपको गूगल पर भी नहीं मिलेंगी

माल्या को जब इंडिया लाया जाएगा तो आप उससे पॉइंट 8 और 9 के बारे में पूछ लेना.

'कभी खुशी कभी गम' में काम करने वाले बच्चे आज कल क्या कर रहे हैं?

कहां हैं लड्डू, पूजा, कृष और छोटा राहुल?

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

इशिता मॉम, जिसके लिए तमाम औरतें काम-धाम छोड़कर टीवी से चिपक जाती हैं

क्या वजह है कि तमाम सांप-बिच्छू, सास-सौत के सीरियल्स के बीच लोग इनको पसंद करते हैं?