Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू: जिया और जिया

दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं. एक वो जो फिल्में बनाते हैं, दूसरे वो जो फिल्में देखते हैं. देखने वाले कैसे भी हों, लेकिन अगर फिल्म बनाने वाले अपना काम गोड़ दें, तो बड़ी तकलीफ होती है. भाई इमोशनल मामला है अपना फिल्मों के साथ. ज़िंदगी में कुछ भले लोग ऐसे मिले, जिन्होंने फिल्में देखना सिखाया. पता चला कि डायरेक्टर कैसे झंडू एक्टर से भी काम निकलवा सकता है, कैसे खराब एडिटिंग पूरी फिल्म की दइय्या कर देती है. ये सारी बातें आपको इसलिए बता रहा हूं, क्योंकि ‘जिया और जिया’ देखने गया था. अब उसका रिव्यू लिखना है.

फिल्म के डायरेक्टर हैं हॉवर्ड रोज़मेयर. ये इनकी पहली फिल्म है. हॉवर्ड को ये तो पता है कि फिल्म में क्या-क्या दिखाना है, लेकिन कैसे दिखाना है, कितनी इंटेंसिटी से दिखाना है, कितनी खूबसूरती से दिखाना है, ये नहीं पता है. ‘जिया और जिया’ दो लड़कियों की कहानी है, जो साथ में एक टूर पर स्वीडन जाती हैं. एक लड़की जीना नहीं चाहती है. वो खुदकुशी के मकसद से स्वीडन जाती है, जबकि दूसरी को कैंसर है, वो मर रही है, फिर भी अपनी बची-खुची ज़िंदगी हंसते-खेलते बिताना चाहती है. ये दोनों कैरेक्टर कल्कि कोचलिन और ऋचा चड्ढा ने प्ले किए हैं.

डायरेक्टर हॉवर्ड रोज़मेयर
डायरेक्टर हॉवर्ड रोज़मेयर

फिल्म की कहानी और कॉन्सेप्ट शानदार है. हमने अब तक ‘दिल चाहता है’ और ‘ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा’ जैसे कई फिल्में देखी हैं, जिसमें लड़के ट्रिप पर जाते हैं. अगर सिर्फ लड़कियां किसी ट्रिप पर जाएं, तो उनका एक्सपीरियंस दिखाने वाली फिल्में कम ही बनी हैं. हॉवर्ड ने इस पर फिल्म बनाई, अच्छी बात है. उनकी कहानी ऐसी है, जो आपको बीच-बीच में ‘आनंद’ और ‘दि बकेट लिस्ट’ की याद दिलाती है, लेकिन इन फिल्मों का ख्याल आते ही आपको झटका लगता है कि ‘जिया और जिया’ औसत से भी कम है. और फिल्म के लीड अपोज़िट- अर्सलन गोनी… उनसे अच्छी एक्टिंग तो एक सीन में दिखा रेस्ट्रॉन्ट का वेटर करता है.

'दि बकेट लिस्ट' के एक सीन में जैक निकोलसन और मॉर्गन फ्रीमैन
‘दि बकेट लिस्ट’ के एक सीन में जैक निकोलसन और मॉर्गन फ्रीमैन

फिल्म में कई मोटी गलतियां हैं. शुरुआत में दोनों लड़कियों के कैरेक्टर मजबूती से स्टैबलिश नहीं किए गए. आपको इंतज़ार करना पड़ता है उनकी बाकी चीजें जानने के लिए. फिल्म की एडिटिंग कमज़ोर है. जैसे फिल्म में किसी शहर को स्थापित करने के लिए उसके कुछ शॉट दिखाए जाते हैं. उन्हें ज़रा ठहरकर दिखाते हैं, ताकि दर्शक कनेक्ट करे. इस फिल्म में हर चीज… मतलब हर चीज स्क्रीन पर आती है और चली जाती है. कहानी एकदम फ्लैट चल रही होती है. कोई उतार-चढ़ाव नहीं. कैमरा कहीं भी जूम-इन जूम-आउट होता रहता है. इससे ज्यादा वैरिएशन तो मच्छरों की तान में होता है.

फिल्म का एक दृश्य
फिल्म का एक दृश्य

और कुछ स्टीरियोटाइप भी हैं. स्वीडन में वहां की लड़कियां कल्कि और ऋचा के साथ हिंदी गाने पर डांस कर रही हैं. पार्टी करते-करते ऋचा न जाने कैसे बौरा जाती हैं और सुसाइड करने चल देती हैं. कल्कि का एक्सिडेंट होता है, तो उन्हें वहां तुरंत हिंदी बोलने वाला डॉक्टर मिल जाता है. भयंकर बीमारी की हालत में कल्कि जब ऋचा को खोजने निकलती हैं, तो गाड़ी के बजाय पैदल घूमती हैं. मतलब चीजें सामने दिख रही होती हैं कि भाई, ऐसा न किया होता, तो फिल्म कुछ देखने लायक हो जाती. डायलॉग पर मेहनत हुई है, लेकिन कहीं-कहीं ज्यादा ही मेहनत हो गई. फिर वो ज्यादा ड्रमैटिक लगने लगता है.

फिल्म का एक दृश्य
फिल्म का एक दृश्य

हॉवर्ड की ये पहली फिल्म है. उन्होंने अच्छी कहानी उठाई. अगर उनके अंदर वाकई कोई डायरेक्टर है, तो शायद उनकी अगली फिल्म में कुछ बेहतरी दिखे. अगर ऐसा नहीं होता है, तो उन्हें फिल्में बनानी बंद कर देनी चाहिए. कम बजट का असर दिख रहा था, पर डायरेक्शन कमज़ोर था. कल्कि और ऋचा जैसी बेहतरीन एक्ट्रेसेस को हम पूरी फिल्म में एक ही एक्सप्रेशन के साथ नहीं देख सकते. उन्होंने खुद से अच्छी कोशिश की, पर ऐसी कहानी के साथ उनसे बहुत कुछ निकलवाया जा सकता था.

देखिए ‘जिया और जिया’ का ट्रेलर


आप भी फिल्मों के कीड़े हैं, तो हमारे पास आपके लिए बहुत कुछ है:

‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ की मेकिंग की 21 बातें जो कलेजा ठंडा कर देंगी!

वो अनुपम खेर बहुत पीछे छूट गया जो एक कलाकार ज्यादा था और बाकी सब कम

राज कुमार के 42 डायलॉगः जिन्हें सुनकर विरोधी बेइज्ज़ती से मर जाते थे!

‘मुझे विचलित करता है जब आदमी क्रूर हो जाता है’: गोविंद नामदेव

वो लैजेंड एक्टर जो खुद को अमिताभ बच्चन का दूसरा बाप कहता था

मिलिए दी लल्लनटॉप शो में आईं ऋचा चड्ढा से…

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

'बिग बॉस 14' में होस्ट सलमान खान के अलावा नज़र आएंगे ये 10 सेलेब्रिटीज़

'बिग बॉस 14' का प्रोमो आ चुका है, इस मौके पर जानिए शो के इस सीज़न से जुड़े हर सवाल का जवाब.

विदेश में रहने वाले भारतीयों को लल्लनटॉप का न्योता

देश के लिए कुछ करने का मौका.

सलमान खान अगले कुछ समय में इन 5 धांसू एक्शन फिल्मों में नज़र आने वाले हैं

लॉकडाउन के दौरान सलमान ने अपनी पूरी प्लानिंग बदलकर रख दी है.

बॉलीवुड का वो धाकड़ विलेन जिसका शरीर दो दिन तक सड़ता रहा!

जानिए महेश आनंद की लाइफ और उनकी फिल्मों से जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से.

कोविड-19 महामारी के बाद बॉलीवुड बनाने जा रहा ये 10 जबरदस्त फिल्में

इस लिस्ट में बड़े बजट पर मेगा-स्टार्स के साथ बनने वाली फिल्में भी हैं नया कॉन्टेंट ड्रिवन सिनेमा भी.

'चक दे! इंडिया' की 12 मज़ेदार बातें: कैसे सलमान हॉकी कोच बनते-बनते रह गए

शाहरुख खान की इस यादगार फिल्म की रिलीज को 13 साल पूरे हो गए हैं.

देखिए सुषमा स्वराज की 25 दुर्लभ तस्वीरें, हर तस्वीर एक दास्तां है

सुषमा की ज़िंदगी एक खूबसूरत जर्नी थी, और ये तस्वीरें माइलस्टोंस.

नौशाद ने शकील बदायूंनी को कमरे में बंद कर लिया, तब जाकर 'टाइमलेस' गीत जन्मा

नन्हा मुन्ना राही हूं, मन तड़पत हरि दर्शन को, जैसे कई गीत रचने वाले बदायूंनी का आज जन्मदिन है.

वो गाना जिसे गाते हुए रफी साहब के गले से खून आ गया

मोहम्मद रफी के कुछ रोचक मगर कम चर्चित किस्से.

रफाल तो अब आया, इससे पहले भारत किन-किन फाइटर प्लेन से दुश्मनों का दिल दहलाता था

'इंडियन एयरफोर्स कोई चुन्नु-मुन्नु की सेना नहीं है.'