Submit your post

Follow Us

मूवी रिव्यू: जगमे थंदीरम

नेटफ्लिक्स पर एक तमिल फिल्म रिलीज़ हुई है. ‘जगमे थंदीरम’. लीड में हैं धनुष. फिल्म की रिलीज को लेकर काफी समय से बज बना हुआ था. पहले थिएटर पर रिलीज की जानी थी. लेकिन पैंडेमिक में मेकर्स को और नुकसान ना हो, इसलिए फिल्म को डायरेक्ट ओटीटी प्लेटफार्म पर रिलीज किया गया. फिल्म को लेकर सिर्फ फैन्स ही नहीं, इंडस्ट्री से जुड़े लोग भी उत्साहित हैं. मार्वल वाले रूसो ब्रदर्स भी धनुष स्टारर फिल्म को लेकर अपनी उत्सुकता जाहिर कर चुके हैं. हमनें भी ये फिल्म देखी, यही जानने के लिए कि क्या ये इस हाईप के वर्थ है या नहीं.

# Jagame Thandhiram की कहानी क्या है?

कहानी खुलती है लंदन से. मेनली दो गैंग ऑपरेट करते हैं यहां. पहला है शिवदास का. एक तमिलियन. बंदूकों से लेकर सोने तक, सब स्मगल करता है. दूसरा है पीटर का. पीटर एक ब्रिटिशर है. रूढ़िवादी किस्म का. हार्डकोर रेसिस्ट. ऐसा लगेगा जैसे इसके किरदार को अमेरिका के एक पूर्व राष्ट्रपति पर आधारित किया गया है. क्योंकि ये बातें वैसी ही करता है. कि ब्रिटेन को फिर से महान बनाएंगे. बाहर के लोगों ने आकर यहां की संस्कृति खत्म कर दी वगैरह वगैरह. पीटर और शिवदास एक दूसरे के कट्टर दुश्मन हैं. इन दोनों के अलावा कहानी का तीसरा किरदार है सुरुली. ब्रिटेन से कोसों दूर इंडिया में रहता है.

Stylish 2
फुल ऑन मसाला फिल्म. फोटो – ट्रेलर

सुरुली. एक लोकल गैंगस्टर. लेकिन टिपिकल किस्म का नहीं. किसी चीज़ की टेंशन नहीं लेता. इतना चिल रहता है कि उसे देख सामने वाले को टेंशन होने लगे. कि यार, कोई बंदा इतना चिल कैसे रह सकता है. खैर, पीटर को कहीं से पता चलता है कि इंडिया में एक गैंगस्टर है. सुरुली नाम का. बेहद खतरनाक. वो उसे अपने पास बुला लेता है. ताकि अपने दुश्मन शिवदास का सफाया करा सके. सुरुली मान जाता है, क्योंकि उसे सिर्फ पैसे से मतलब है. सुरुली अपने मिशन में कामयाब होता है या नहीं. और क्या वाकई पीटर का उसे लंदन बुलाने का मकसद सिर्फ इतना ही है, ये सब आपको फिल्म देखकर पता चलेगा.


# वही सब दिखाया लेकिन ज़रा स्टाइल से

तमिल सिनेमा के डायरेक्टर हैं कार्तिक सुब्बाराज. इनके बारे में एक बात बड़ी खास है, कि इनका सिनेमा बड़ा स्टाइलिश होता है. बोले तो स्टाइलिश का मतलब स्विट्ज़रलैंड में गाना या ऐसा कुछ नहीं. इनका सिनेमा वही सब दिखाता है जो हम अनेकों बार देख चुके हैं. लेकिन ज़रा स्टाइल से. फिर चाहे वो म्यूज़िक के साथ थोड़ा खेलना हो. या कैमरा मूवमेंट के साथ. ‘जगमे थंदीरम’ में भी उन्होंने कुछ ऐसा ही किया है.

Suruli 6
धनुष कहां फिट नहीं बैठ सकते. फोटो – ट्रेलर

पहला पॉइंट है फिल्म का बैकग्राउंड म्यूज़िक. जिसे कम्पोज़ किया है संतोष नारायणन ने. मतलब फिल्म के हर सीन की फील को सेट करने का काम किया है इसके बैकग्राउंड म्यूज़िक ने. दूसरा पॉइंट है सिनेमेटॉग्राफी. सिनेमेटोग्राफर श्रेयस कृष्णा के काम ने फिल्म को स्टाइलिश कैसे बनाया, अब वो बताते हैं. एक सीन है जहां पीटर और शिवदास आमने-सामने बैठे हैं. शिवदास के बगल में उसका गार्ड खड़ा है. वहीं, पीटर के बगल में है सुरुली. ये वैसा ही सीन है जहां एक पार्टी दूसरे को धोखा देने वाली होती है. और पहले एक साइड से हंसी तेज़ होती है, फिर दूसरी से. मानो हमनें तुम्हारा धोखा पकड़ लिया है. यहां शिवदास पीटर को बंदूक दिखाता है. और हंसने लगता है. कैमरा गोल घूमना शुरू हो जाता है. अब शिवदास और उसका आदमी हंस रहे हैं. पीटर और सुरुली हैरान. फिर पीटर हंसना शुरू करता है. धीरे-धीरे सुरुली भी. याद रखिए, कैमरा अभी भी गोल घूम रहा है. सिचुएशन अभी हल नहीं हुई. इसलिए रुका नहीं.

Peter Racist
फिल्म में टिपिकल कार्तिक सुब्बाराज वाला टच है. फोटो – ट्रेलर

कैमरा जब तक रुकता है तब तक पूरा गेम बदल चुका होता है. किसी टिपिकल सीन को नए अंदाज में दिखाने की कोशिश फिल्म में आपको कई जगह दिखाई देगी. लेकिन बावजूद ऐसे फैक्टर्स के, फिल्म अपनी छाप छोड़ने में बेअसर साबित होती है. और ऐसा क्यों, वही बताते हैं.


# फिल्म की लेंथ निकली दुश्मन

फिल्म एक गैंगस्टर ड्रामा है. लेकिन सिर्फ ऊपर से. फिल्म उससे गहरे सब्जेक्ट पर बात करती है. बढ़ते नस्लभेद पर. ऐसा टॉपिक जो दुर्भाग्यवश आज के समय में भी रेलेवेंट है. फिल्म का केंद्र बिंदु सुरुली, पीटर या शिवदास नहीं. फिल्म का केंद्र बिंदु हैं वो प्रवासी जिनके लिए उनकी पहचान बताने वाला कागज का टुकड़ा उनकी जान से ज्यादा कीमती है. पॉलिटिक्स की वजह से इंसानों को कैसे बांट दिया गया है, फिल्म उस पर बात करने की कोशिश करती है. लेकिन सिर्फ कोशिश करती है. सवाल नहीं उठाती. जैसे ये उसकी मंशा ही ना हो.

Pravasi 2
फिल्म प्रवासियों और उनके खिलाफ हो रहे नस्लभेद पर बात करती है लेकिन गहराई में नहीं उतरती. फोटो – ट्रेलर

फिल्म ने एंटरटेनमेंट अपील बढ़ाने के चक्कर में अपने प्रभावशाली सीन्स को चंद में सिमेट कर रख दिया. ऐसे डायलॉग्स और सीन्स को बढ़ाया जा सकता था. खासतौर पर जब आपकी फिल्म की लेंथ 2 घंटे 38 मिनट हो. फिल्म ने कुछ क्रिएटिव जुगाड़ लगाकर गैर-जरूरी सीन भी काटे. जैसे एक सीन में गुंडे सुरुली को पकड़ने की सोचते हैं. फिर अगला सीन खुलता है सुरुली से. जो गुंडों के अड्डे पर है. उसके मुंह से खून बह रहा होता है. बताने की जरूरत नहीं, लेकिन ऑडियंस समझ जाती है कि क्या हुआ होगा.

काश कार्तिक का ऐसा ही अप्रोच फिल्म की लेंथ को लेकर भी होता. क्योंकि फिल्म चाहे कितनी भी एंटरटेनिंग हो, एक पॉइंट पर आकर आपको थका देती है. और फिल्म का सबसे बड़ा नेगेटिव पॉइंट बनकर उभरती है.


# दी लल्लनटॉप टेक

फुल ऑन इंटरटेनमेंट है. मसाले की कमी नहीं. और दांतों के बीच जीभ मोड़कर गोलियां चलाने वाला धनुष तो खुश कर देगा. सब कुछ सही होकर भी यहां एक लेकिन है. वो है फिल्म की लेंथ. फिल्म का रनटाइम झेलने पर ही फिल्म इंजॉय कर पाएंगे.

Suruli Chill
धनुष कुछ भी करें, उन्हें स्क्रीन पर देखना डिलाइट था. फोटो – ट्रेलर

वीडियो: विद्या बालन की ‘शेरनी’ में क्या ख़ास है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

आर्यन खान मामले पर रिया चक्रवर्ती ने क्या कमेंट कर दिया?

आर्यन खान मामले पर रिया चक्रवर्ती ने क्या कमेंट कर दिया?

जिस सिचुएशन में अभी आर्यन हैं, कुछ समय पहले रिया भी वैसी ही सिचुएशन में फंसी हुई थीं

आर्यन मामले में इंडस्ट्री की चुप्पी पर भड़के शत्रुघ्न सिन्हा, कहा- 'ये लोग गोदी कलाकार हैं'

आर्यन मामले में इंडस्ट्री की चुप्पी पर भड़के शत्रुघ्न सिन्हा, कहा- 'ये लोग गोदी कलाकार हैं'

शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा- 'ये इंडस्ट्री कुछ डरपोक लोगों का झुंड है.'

अपनी को-एक्टर की ये बात बताकर नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने पूरी इंडस्ट्री की पोल खोल दी!

अपनी को-एक्टर की ये बात बताकर नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने पूरी इंडस्ट्री की पोल खोल दी!

नवाज ने बताया कि लोगों को लगता है नेपोटिज़्म हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की सबसे बड़ी समस्या है. मगर सबसे बड़ी समस्या ये है!

करीना को 12 करोड़ पर कलपने वालो, रणबीर को 'रामायण' के लिए इतने करोड़ मिल रहे

करीना को 12 करोड़ पर कलपने वालो, रणबीर को 'रामायण' के लिए इतने करोड़ मिल रहे

ऋतिक को भी इतने पैसे ऑफर हुए हैं.

ढेरों फिल्में रिजेक्ट करने के बाद कैरी मिनाटी ने ये फिल्म क्यों की?

ढेरों फिल्में रिजेक्ट करने के बाद कैरी मिनाटी ने ये फिल्म क्यों की?

साथ ही वो 11 यूट्यूबर्स, जिन्होंने वीडियो बनाते-बनाते फिल्में-सीरीज़ कर डाली.

मेंटल हेल्थ पर जो बात घरवाले नहीं करते, वो ये 11 फिल्में करती हैं

मेंटल हेल्थ पर जो बात घरवाले नहीं करते, वो ये 11 फिल्में करती हैं

'देवराई', 'डियर ज़िन्दगी' और 'तमाशा' जैसी 11 फिल्में जिन्होंने मेंटल हेल्थ पर वो किया, जो किसी ने नहीं सोचा.

आर्यन खान के बचाव में सोमी अली ने कहा- दिव्या भारती के साथ फूंका गांजा

आर्यन खान के बचाव में सोमी अली ने कहा- दिव्या भारती के साथ फूंका गांजा

सोमी अली 'मैंने प्यार किया' देखने के बाद सलमान खान से शादी करने इंडिया आ गई थीं.

आर्यन खान के लिए ऋतिक रोशन ने जो लिखा, पढ़कर इमोशनल हो जाएंगे

आर्यन खान के लिए ऋतिक रोशन ने जो लिखा, पढ़कर इमोशनल हो जाएंगे

ऋतिक की एक्स वाइफ सुज़ैनने भी आर्यन के सपोर्ट में बातें कही थीं.

'मन्नत' के बाहर फैन्स ने ऐसा पोस्टर लगाया कि शाहरुख प्राउड फील करेंगे

'मन्नत' के बाहर फैन्स ने ऐसा पोस्टर लगाया कि शाहरुख प्राउड फील करेंगे

कुछ फैन्स शाहरुख के घर मन्नत पहुंच गए.

विनोद खन्ना के 8 किस्से, मौत का वो अनुभव जो ओशो के पास ले गया

विनोद खन्ना के 8 किस्से, मौत का वो अनुभव जो ओशो के पास ले गया

जब चलते करियर के बीच विनोद खन्ना ने सन्यास ले लिया.