Submit your post

Follow Us

इरफ़ान की 15 विदेशी फ़िल्में और सीरीज़ जो टाइम निकालकर देखनी चाहिए

इरफ़ान नहीं रहे. उनकी बातें हैं. यादें हैं. फिल्में हैं. उन फिल्मों में शानदार काम है. मक़बूल, पान सिंह तोमर, हासिल जैसी फिल्मों में उन्होंने नायाब, ठोस, ज़मीनी एक्टिंग दिखाई. सिने फैंस के बीच बहुत पॉपुलर हुए. लाइफ इन अ मेट्रो, हिंदी मीडियम, ब्लैकमेल जैसी कमर्शियल लगने वाली फिल्मों में भी न जाने कितने मेनस्ट्रीम दर्शकों को मोहित किया.

लेकिन आज हम बात करेंगे उनके दूसरे काम की. वो जो उन्होंने भारत से बाहर किया था. जो उनके इंटरनेशनल फिल्म और टीवी प्रोजेक्ट्स में दिखा. कहीं लीड रोल किया तो कहीं छोटे रोल में भी असर छोड़ गए. वो प्रोजेक्ट्स जो ज़रूर देखने चाहिए.

1.द वॉरियर(2001)

डायरेक्टर: ब्रिटिश फिल्मकार आसिफ़ कपाड़िया. ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी की कंपनियों ने इसे प्रोड्यूस किया था.

प्लॉट – राजस्थान में सामंतवादी व्यवस्था है. एक सामंत का लड़ाकू (इरफ़ान) अपनी तलवार को छोड़ देने का फैसला लेता है. हिंसा त्याग कर अब शांति से जीवन जीने के लिए. लेकिन कुछ लोग उसकी जान के प्यासे हो जाते हैं. उसके बेटे की हत्या कर देते हैं. उसकी किस्मत में अभी बहुत खून-खराबा लिखा हुआ है.

1. Warrior
‘द वॉरियर’ फिल्म के सीन में इरफ़ान

2.द नेमसेक(2006)

डायरेक्टर: मीरा नायर. इंडियन, अमेरिकन और जापानी स्टूडियोज़ ने इस अंग्रेज़ी फिल्म को प्रोड्यूस किया था.

प्लॉट – अशोक गांगुली (इरफ़ान) और उनकी पत्नी आशिमा (तब्बू) कलकत्ता छोड़कर न्यू यॉर्क आए हैं. वहां उन्हें दो बच्चे पैदा होते हैं – गोगोल और सोनिया. गोगोल का नाम फेमस लेखक निकोलाई गोगोल के नाम पर रखा गया है. उसे इंडियन कल्चर से कुछ ख़ास मतलब नहीं है. पुरानी इंडियन परंपरा और रिचुअल उसे बोरिंग लगते हैं. वह एक ड्रग्स लेने वाला आलसी, बिगड़ा हुआ टीनेजर है. अपने मां-बाप को अपनी अमेरिकन गर्लफ्रेंड मैक्सिन से मिलवाता है. वे उसके विचारों और लाइफस्टाइल को लेकर सहज नहीं हैं. उसे अपने मां-बाप रूढ़िवादी लगने लगते हैं. अशोक और आशिमा दो अलग संस्कृतियों के बीच फंसा हुआ महसूस करते हैं.

3.इन ट्रीटमेंट(टीवी सीरीज, 2008-2012)

क्रिएटर – एचबीओ की इस ड्रामा सीरीज़ को डिवेलप किया है रोड्रिगो गार्सिया ने.  इसके सीज़न 3 में इरफ़ान ‘सुनील’ के रोल में दिखते हैं.

प्लॉट –पॉल क़रीबन 50 साल का एक साइको-थैरेपिस्ट है. बहुत से लोग उसके पास ट्रीटमेंट के लिए आते हैं. हफ़्ते में एक बार. इंडिया से अमेरिका आया हुआ सुनील अपनी पत्नी के गुज़र जाने से परेशान है. वह अपने बेटे और बहू के साथ रहता है. उसकी बहू का असंवेदनशील व्यवहार भी उसे आहत करता है. वह पॉल के पास मदद के लिए जाता है. (इरफ़ान वाले एपिसोड सोमवार के दिन टेलीकास्ट होते थे.)

3. In Treatment
‘इन ट्रीटमेंट’ के सीन में इरफ़ान

4.न्यू यॉर्क, आई लव यू(2008)

डायरेक्टर – ये एक एंथोलोजी फिल्म है. यानि कई डायरेक्टर्स की बनाई हुई शॉर्ट फिल्मों का कलेक्शन. इस फिल्म की थीम है प्यार. न्यू यॉर्क शहर में. फ़ातिह एकिन, शुंजी इवाई, शेखर कपूर जैसे 11 डायरेक्टर्स ने ये 11 शॉर्ट फिल्में बनाई हैं. इरफ़ान खान मीरा नायर द्वारा बनाई हुई शॉर्ट फिल्म में दिखते हैं. ये फिल्म एक फ्रेंच प्रोडक्शन है.

क्या है फिल्म –इरफ़ान के किरदार का नाम है ‘मनसुखभाई’. उनके साथ दिखाई देती हैं एक्ट्रेस नैटेली पोर्टमैन. ‘रिफ़्का मैलोन’ के रोल में. मनसुखभाई और रिफ़्का की कहानी में बहुत से मुश्किल मोड़ हैं.

4. New York I Love You
‘न्यू यॉर्क, आई लव यू’ की शूटिंग पर मीरा नायर के साथ इरफ़ान; फिल्म के सीन में नैटेली और इरफ़ान

5. द सॉन्ग ऑफ़ स्कॉर्पियंस(2017)

डायरेक्टर: जेनेवा-बेस्ड इंडियन फिल्ममेकर अनूप सिंह. फिल्म को प्रोड्यूस किया स्विज़रलैंड, फ्रांस और सिंगापोर की फिल्म कंपनियों ने.

प्लॉट –राजस्थान में एक मान्यता है कि अगर बिच्छू काट ले, तो आदमी 24 घंटे में मर जाता है. उसे बचाने का तरीका है ‘द सॉन्ग ऑफ़ स्कॉर्पियंस’. यानि एक बिच्छू वाला गाना, जो ज़हर को मिटा देता है. नूरां ने यह गाना अपनी दादी से सीखा है. उसके साथ कुछ दुखद घटना होती है. वह गांव के लोगों के गुस्से का शिकार बनती है. ऊंटों के व्यापारी आदम (इरफ़ान) को उससे प्यार हो गया है. वह उसे शादी का प्रस्ताव देता है. लेकिन उनकी शादी होते ही नूरां को फिर से एक झटका लगता है. अब वह हरेक ज़ुल्म का बदला लेने के लिए निकल पड़ती है.

6.पज़ल(2018)

डायरेक्टर:मार्क टर्टलटॉब ने. ये फिल्म एक अमेरिकन प्रोडक्शन थी.

प्लॉट –एक औरत है एग्नेस. मिडिल क्लास हाउसवाइफ़. जिसके पति को उससे ख़ास मतलब नहीं है. अपने जन्मदिन पर एग्नेस को गिफ्ट मिलते हैं. जिनमें निकलती है एक जिगसॉ पज़ल. 1000 टुकड़ों को जोड़कर एक तस्वीर बनाने वाली पहेली. उसकी बोरिंग रूटीन वाली ज़िंदगी में यह पहेली मज़ेदार साबित होती है. वह ज़्यादा मुश्किल पहेलियां ढूंढने के लिए एक दुकान पर जाती है. वहां लगा हुआ है एक पोस्टर. रॉबर्ट (इरफ़ान) को एक पार्टनर चाहिए. किसलिए? अगले महीने होने वाली पज़ल चैंपियनशिप के लिए.

..

7.डूब: नो बैड ऑफ़ रोज़ेज़(2017)

डायरेक्टर: मुस्तफ़ा सरवर फ़ारूक़ी ने. ये एक बांग्लादेशी फिल्म है जिसे प्रोड्यूस किया बांग्लादेश की जैज़ मल्टीमीडिया ने. को-प्रोड्यूसर थे इंडिया की एसके मूवीज़ और खुद इरफ़ान.

प्लॉट –जावेद हसन (इरफ़ान) बांग्लादेश में एक मशहूर फिल्मकार है. उसे अपनी फिल्मों की हीरोइन ‘नीतू’ से प्यार हो जाता है. जो जावेद की बेटी ‘सबेरी’ की दोस्त भी है. वह अपनी पत्नी को तलाक दे देता है. पूरे देश में स्कैंडल का माहौल है. नीतू को एक नेशनल विलेन की तरह देखा जा रहा है. जावेद उसे डिफेंड करता है. साथ ही उसे अपने परिवार की याद भी आ रही है.

8. लाइफ ऑफ पाई (2012)

डायरेक्टर एंग ली की ये फिल्म बहुत बड़ा हॉलीवुड प्रोजेक्ट थी. कहानी थी पाई पटेल की. एक युवक की जो बीच समंदर एक नाव पर एक शेर के साथ फंस जाता है. इसमें एडल्ट पाई का रोल इरफान ने किया था. फिल्म ने 4 ऑस्कर जीते थे.

..
9. स्लमडॉग मिलियनेयर(2008)

इरफ़ान इंस्पेक्टर के रोल में थे. इस ब्रिटिश फिल्म को डायरेक्ट किया था डैनी बॉयल ने. फिल्म को ‘बेस्ट फिल्म’ सहित 8 ऑस्कर अवॉर्ड मिले. ‘स्लमडॉग मिलिनेयर’ की ऑस्कर सेरेमनी का यह तीन मिनट का वीडियो देखिए. इरफ़ान स्टेज पर कितने उत्साहित नज़र आ रहे हैं.

11. द अमेजिंग स्पाइडरमैन (2012)

इस मार्वल सुपरहीरो फिल्म में इरफ़ान ने रजत रथ का रोल किया. जो ऑस्कॉर्प इंडस्ट्रीज़ नाम की कंपनी में सुपरवाइज़र है. इस मूवी को डायरेक्ट किया मार्क वेब ने. उनका कहना था कि ‘इन ट्रीटमेंट’, ‘द वॉरियर’ और ‘द नेमसेक’ में उनकी एक्टिंग देखने के बाद वे इरफान के फैन हो गए थे.

12. इनफर्नो(2016)

इरफ़ान ने इसमें हैरी सिम्स ‘द प्रोवोस्ट’ का रोल निभाया. वो एक प्राइवेट सिक्योरिटी कंपनी का चीफ़ है. हीरो को मरवाना चाहता है. टॉम हैंक्स के किरदार को.

Irrfan Khan With Tom Hanks
इरफ़ान के साथ रॉन हॉवर्ड और टॉम हैंक्स

13. अ माइटी हार्ट(2007)

माइकल विंटरबॉटम ने ये फिल्म डायरेक्ट की. वॉल स्ट्रीट जर्नल के पत्रकार डेनियल पर्ल की किडनैपिंग और हत्या की कहानी. एंजलीना जोली ने डेनियल की वाइफ का रोल किया. इरफ़ान ने कराची पुलिस चीफ़ का किरदार निभाया था.

..
14. द जंगल बुक(2016)

इस एनिमेशन फिल्म को इंडिया में हिंदी डबिंग के साथ रिलीज़ किया गया. इरफ़ान ने आवाज़ दी थी ‘बल्लू’ के लिए. कुछ तो यह भालू वाला किरदार पहले से मज़ाकिया था, और ऊपर से इरफ़ान की शानदार डबिंग.

15. द दार्जिलिंग लिमिटेड (2007)

इसे डायरेक्ट किया धाकड़ फिल्ममेकर वेस एंडरसन ने. पूरी कहानी इंडिया में बेस्ड थी. तीन विदेशी भाइयों की कहानी जो इंडिया में किसी कारण से भ्रमण कर रहे हैं.  इरफान ने इसमें एक ग्रामीण का रोल किया था जिसके बच्चे की मौत डूबने से हो जाती है.


वीडियो देखें – इरफान का सौरभ द्विवेदी के साथ वो इंटरव्यू, जिसमें वो सब कुछ बोल गए थे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

पॉलिटिक्स और डिप्लोमेसी वाला खेल है Among Us.

फिल्म रिव्यू- कार्गो

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.