Submit your post

Follow Us

CSK ने KKR को हराकर फिर दिखा दिया- कहां पड़े हो चक्कर में, कोई नहीं है टक्कर में

742
शेयर्स

आईपीएल के सुपर संडे का पहला मैच. सीजन का 29वां मैच. कोलकाता नाइट राइडर्स और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच ये मुकाबला कोलकाता में खेला गया. चेन्ई के विजय रथ को कोलकाता नहीं रोक पाया और चेन्नई ने 5 विकेट से ये मैच भी जीत लिया. इस तरह चेन्नई सुपरकिंग्स 8 मैचों में 7 जीत के 14 पॉइंट्स पाने वाली पहली टीम हो गई है. लगातार पिछले तीन मैच जीतकर धोनी की टीम ने साफ कर दिया है कि उनकी टक्कर में कोई नहीं है.  एक नजर इस मैच की चार बड़ी हाइलाइट्स पर-

गजब के कैच
चेन्नई टीम अलग ही है. इनमें गजब की फाइटर्स स्पिरिट है. यही कारण है कि धोनी की ये फौज सीजन दर सीजन गजब की परफॉर्मेंस दिखा रही है. टॉस जीता और पहले फील्डिंग करने का फैसला किया. फिर फील्ड पर जो किया उसी ने जीत का रास्ता खोल दिया. गजब की फील्डिंग की और एक के बाद एक कैच लपके. मसलन सुनील नारायण, नीतिश राणा, रोबिन उथप्पा और दिनेश कार्तिक के कैच अकेले फफ डु प्लेसी ने लपक लिए. पूरे चार कैच. 11वें ओवर की चौथी गेंद पर डु प्लेसी ने क्या मैजिकल कैच लिया है. डु प्लेसी 20-25 यार्ड तक भागे और कैच लपक ले गए. जिसने भी देखा, वो बोला क्या गजब कैच है. साथ ही चेन्नई की गजब फील्डिंग का अंदाजा तब भी लगा जब इस आईपीएल के सबसे बड़े हिटर आंद्रे रसल को चेन्नई के ध्रुव शौरी ने अदभुत कैच लेकर पवेलियन लौटा दिया. चेन्नई की कैचिंग इतनी अच्छी रही कि पारी में एक भी कैच नहीं छूटा और 8 में से 7 बल्लेबाज कैच आउट हुए.

Untitled design (67)

इमरान ताहिर का दिन
साउथ अफ्रीका के इस लेगब्रेक गुगली करवाने वाले स्पिनर ने कोलकाता के नाक में रस्सी डाल दी. ताहिर ने अपने 4 ओवरों में 27 रन दिए और चार विकेट झटके. क्रिस लिन, नीतिश राणा, रोबिन उथप्पा और आंद्रे रसल जैसे महत्वपूर्ण विकेट लिए इमरान ताहिर ने. इसी के बूते चेन्नई कोलकाता को 20 ओवरों में 161 पर रोक पाई. आईपीएल में ये स्कोर बेहद मामूली माना जाएगा. पहली बार हुआ कि आंद्रे रसल का बल्ला नहीं चल पाया और वो 10 रन पर ही वापस लौट गए. अभी तक इमरान ने 8 माच खेले हैं और 13 विकेट लिए हैं.

Untitled design (66)

क्रिस लिन का धमाल
कोलकाता के लिए आज आंद्रे रसल नहीं चले. मगर क्रिस लिन का बल्ला बोला. लिन ने 51 गेंदों पर 82 रन मारे. 6 छक्के और 7 चौके. 160.78 का स्ट्राइक रेट. इस एक पारी ने कोलकाता को एक कंपीटिटिव टोटल दिया नहीं तो आज हालत ये थे कि टीम 100 भी नहीं बना पाती. क्योंकि लिन के अलावा कोई नहीं चला. सुनील नारायण ने 2, राणा ने 21, उथप्पा ने 0, कार्तिक ने 18, रसल ने 10, शुभमन ने 15, पीयूष ने 4 और कुलदीप यादव ने 0 रन बनाए.

Untitled design (68)

सुरेश रैना की क्लास
162 रनों के लक्ष्य के साथ बैटिंग करने उतरी चेन्नई सुपरकिंग्स मैच से कभी बाहर ही नहीं हुई. रनचेज इतना सरल बना दिया कि कोई दिक्कत ही नहीं हुई. क्रेडिट सुरेश रैना की नाबाद 58 रनों की पारी को. तीसरे नंबर पर बैटिंग करने आए रैना ने 42 गेंदों पर 58 रनों की पारी खेली और टीम को जीत तक ले गए. पारी में एक छक्का और सात चौके लगाए. साथ रवींद्र जडेजा ने भी बखूबी दिया. जड्डू ने 17 गेंदों में नाबाद 31 रन बनाए. रैना की पारी की खासियत ये रही कि इस खिलाड़ी ने रन रेट को लगातार कंट्रोल में रखा और टीम जीत गई.

Untitled design (65)


लल्लनटॉप वीडियो भी देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
IPL 2019: CSK beat KKR by 5 wickets and secures top position with 14 points from 7 wins

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या हुआ जब दो चोर, एक भले आदमी की सायकल लेकर फरार हो गए

सायकल भी ऐसी जिसे इलाके में सब पहचानते थे.

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.