Submit your post

Follow Us

अंकित राजपूत ने पांच विकेट लेकर कमाई इज्ज़त, धवन को गाली देकर गंवा दी

अंकित राजपूत. युवा क्रिकेटर. तेज़ गेंदबाज़. आईपीएल में कोई देसी तेज़ गेंदबाज़ सही परफॉर्म कर लें तो सबकी निगाहों में चढ़ जाता है. वो गेंदबाज़ अगर अन-कैप्ड प्लेयर हो तो बात ही क्या! हर कोई उसकी प्रतिभा की एक्स्ट्रा सराहना करता है. ऐसा होना भी चाहिए. अंकित राजपूत के साथ भी यही हुआ. 26 अप्रैल को किंग्स इलेवन पंजाब और सनराइज़र्स हैदराबाद के बीच हुए मैच में अंकित की परफॉरमेंस शानदार रही. उन्होंने अपने चार ओवर में सिर्फ 14 रन देकर पांच विकेट झटक लिए. ये ग़ज़ब की बॉलिंग थी. ज़ाहिर सी बात है, ऐसे प्रदर्शन के बाद अंकित राजपूत पर तारीफों की बारिश होनी ही थी.

लेकिन इसी मैच में अंकित राजपूत ने कुछ ऐसा भी किया, जिसे न सिर्फ सख्त नापसंद किया जाना चाहिए बल्कि जिसके लिए अंकित की तीखी आलोचना भी की जानी चाहिए. अंकित ने शिखर धवन का विकेट लेने के बाद गाली दी. ये गाली न सिर्फ गैरज़रूरी थी, इसने अंकित की उम्दा परफॉरमेंस पर कालिख भी मल दी.

अंकित राजपूत.
अंकित राजपूत.

पारी का तीसरा ओवर था. राजपूत का दूसरा. उनकी दूर जाती गेंद पर शिखर धवन बल्ला अड़ा बैठे और स्लिप में करुण नायर ने आगे की तरफ गिरते हुए शानदार कैच लिया. यकीनन ये एक शानदार गेंद थी. किसी भी तेज़ गेंदबाज़ को इस पर गर्व होता. इस सफलता से उत्तेजित अंकित ने साफ़-साफ़ गाली दी. उनके हावभाव बेहद आक्रामक थे. अंकित इस शानदार गेंद को जी भर के सेलिब्रेट करते लेकिन गाली दिए बगैर. गाली देकर उन्होंने अपने उम्दा काम पर खुद ही कालिख पोत दी.

अंकित को ये याद रखना होगा कि अभी उनके करियर की शुरुआत ही है. उन्हें बहुत आगे जाना है. इस वक़्त अगर वो अपनी ऊर्जा गाली देने में खर्च करेंगे तो हो चुका काम. इस ऊर्जा को अंकित अगर किसी और जगह यूज़ करते तो ठीक रहता. जैसे दूसरी इनिंग में बैटिंग करते हुए. जब आख़िरी ओवर में पंजाब को पांच गेंदों में 14 रन बनाने थे, तब अंकित ही स्ट्राइक पर थे. अपना एग्रेशन अगर वो उस वक़्त दिखाते तो शायद उनकी टीम को कुछ फायदा होता. अंकित आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज़ थे. उनकी टीम 13 रनों से मैच हार गई. जिसकी वजह से उनकी शानदार बॉलिंग भी बेकार चली गई.

अभी अंकित नए हैं. उनका आईपीएल टीम में भी स्थान पक्का नहीं है, इंडिया की टीम की तो बात ही छोड़िए. अब तक पंजाब की टीम ने जो सात मुकाबले खेले हैं, उनमें से सिर्फ तीन में ही अंकित को खिलाया है. ऐसे में अंकित को अपने खेल पर ध्यान देना चाहिए, न कि सीनियर खिलाड़ियों को गाली देने में अपनी एनर्जी बरबाद करनी चाहिए. शिखर धवन उनसे कहीं ज़्यादा बड़े खिलाड़ी हैं. अचीवर हैं. उनका विकेट लेकर खुश होना अलग बात है और गाली देना अलग है. पहली बात प्रतिभा की निशानी है, दूसरी बात आपके बदतमीज़ होने का सबूत है.

देखिए अंकित की बदतमीज़ी का ये वीडियो:


ये भी पढ़ें:

क्रिस गेल से मिले 4 छक्कों का बदला राशिद खान ने इस तरह पंजाब की पूरी टीम से लिया

पिछले दो मैचों में हैदराबाद ने जो किया है, IPL की सभी टीमें उनसे कांपेंगी

धोनी को इस एक पारी के लिए मैन ऑफ द मैच नहीं, मैन ऑफ द सीरीज दे देना चाहिए

मनीष पांडेय अंपायर की ये गलती न पकड़ते तो कल हैदराबाद पक्का हारती

वीडियो: के. एल. राहुल ने क्रिस गेल से लेकर युसूफ पठान सबको पीछे छोड़ दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इबारत : शरद जोशी की वो 10 बातें जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

इबारत : सुमित्रानंदन पंत, वो कवि जिसे पैदा होते ही मरा समझ लिया था परिवार ने!

इनकी सबसे प्रभावी और मशहूर रचनाओं से ये हिस्से आप भी पढ़िए

गिरीश कर्नाड और विजय तेंडुलकर के लिखे वो 15 डायलॉग, जो ख़ज़ाने से कम नहीं!

आज गिरीश कर्नाड का जन्मदिन और विजय तेंडुलकर की बरसी है.

पाताल लोक की वो 12 बातें जिसके चलते इस सीरीज़ को देखे बिन नहीं रह पाएंगे

'जिसे मैंने मुसलमान तक नहीं बनने दिया, आप लोगों ने उसे जिहादी बना दिया.'

ऑनलाइन देखें वो 18 फ़िल्में जो अक्षय कुमार, अजय देवगन जैसे स्टार्स की फेवरेट हैं

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशन है अक्षय, अजय, रणवीर सिंह, आयुष्मान, ऋतिक रोशन, अर्जुन कपूर, काजोल जैसे एक्टर्स की.

कैरीमिनाटी का वीडियो हटने पर भुवन बाम, हर्ष बेनीवाल और आशीष चंचलानी क्या कह रहे?

कैरी के सपोर्ट में को 'शक्तिमान' मुकेश खन्ना भी उतर आए हैं.

वो देश, जहां मिलिट्री सर्विस अनिवार्य है

क्या भारत में ऐसा होने जा रहा है?

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

17 साल पहले रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने ज़लज़ला ला दिया था

4 फील गुड फ़िल्में जो ऑनलाइन देखने के बाद दूसरों को भी दिखाते फिरेंगे

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशंस हमारी साथी स्वाति ने दी हैं.

आर. के. नारायण, जिनका लिखा 'मालगुडी डेज़' हम सबका नॉस्टैल्जिया बन गया

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है