Submit your post

Follow Us

सैफ की नई पिच्चर का ट्रेलर आया है, जिसमें वो बावर्ची बने हैं

सैफ अली खान की नई फिल्म ‘शेफ’ का ट्रेलर आ गया है. इस फिल्म में सैफ एक ‘शेफ’ यानी रसोइए के किरदार में नज़र आएंगे. ये फिल्म सिर्फ खाना बनाने के बारे में नहीं है. ये एक ऐसे आदमी की कहानी है, जो अपनी ज़िंदगी में ख़ुशी ढूंढ रहा है. उसे लगता है कि उसे ख़ुशी सिर्फ खाना बनाने से मिलती है. अपने इस प्यार लिए दुनिया की सारी खुशियां कुर्बान कर देता है. लेकिन वक़्त रहते उसे अहसास हो जाता है कि असल में सबसे ज़रूरी और ख़ुशी देने वाली चीज़ क्या है. उसकी इस तलाश में कोच्चि में रह रही उसकी फ्रेंड और इकलौता बेटा भी साथ देते हैं.

ओरिजिनल फिल्म 'शेफ' और उसके हिंदी रीमेक का पोस्टर.
ओरिजनल फिल्म ‘शेफ’ और उसके हिंदी रीमेक का पोस्टर.

फिल्म ‘शेफ’ से जुड़ी कुछ ख़ास बातें:

#1. सैफ अली खान की ये फिल्म 2014 में आई हॉलीवुड फिल्म ‘शेफ’ की ऑफिशियल रीमेक है. असल फिल्म की कहानी एक शेफ के बारे में थी, जो अपनी नौकरी में कुछ नया करना चाहता है. फिल्म का लीड कैरेक्टर अपनी रसोई में घिसी-पिटी डिशेज़ के बजाए कुछ नया बनाना चाहता है. लेकिन उसे अपने जॉब पर ये सब करने की मनाही है. बाद का घटनाक्रम कुछ ऐसा बनता है कि शेफ वो नौकरी छोड़कर अपने घर वापस लौट जाता है. वहां जाकर फ़ूड ट्रक में अपनी मनपसंद डिशेज़ बनाकर बेचता है. इस दौरान उसके अपनी पत्नी और बच्चे से संबंध भी सुधर जाते हैं.

हॉलीवुड फिल्म 'शेफ' का एक सीन.
हॉलीवुड फिल्म ‘शेफ’ का एक सीन.

#2. हमारे यहां इस फिल्म को थोड़े बदलाव के साथ बनाया जा रहा है. सैफ की ‘शेफ’ बाप और बेटे के रिश्तों के बारे में है. सैफ का किरदार यानी कि दिल्ली के चांदनी चौक का रोशन सिंह कालरा विदेश में किसी होटल में शेफ की नौकरी करता है. अपनी जॉब से उसे बहुत प्यार है. लेकिन अपने बच्चे की स्कूल परफॉर्मेंस देखने भारत आया रोशन चाह कर भी वापस नहीं जा पाता है.

फिल्म 'शेफ' के एक सीन में खाना बनाते सैफ अली खान.
फिल्म ‘शेफ’ के एक सीन में खाना बनाते सैफ अली खान.

फिर एक समय ऐसा आ जाता है जब सैफ भारत में ही अपना फ़ूड ट्रक खोलने का मन बनाता है. इस जर्नी में उसकी फ्रेंड और बच्चा भी साथ होता है. फ़ूड ट्रक की प्लानिंग से लेकर उसको तैयार करने तक में इन तीनों की आपस में अच्छी बॉन्डिंग हो जाती है.

फिल्म के एक सीन में अपने बच्चे के साथ सैफ का किरदार.
फिल्म के एक सीन में अपने बच्चे के साथ सैफ का किरदार.

#3. इस फिल्म को प्रोड्यूस किया है टी सीरीज़ के भूषण और किशन कुमार ने. डायरेक्शन राजा कृष्ण मेनन को दिया गया है. राजा ने इससे पहले अक्षय कुमार की ‘एयरलिफ्ट’ डायरेक्ट की थी. फिल्म में सैफ अली खान के अलावा स्वर कांबले, पद्मप्रिया और चंदन रॉय सान्याल भी मुख्य किरदारों में हैं. ये फिल्म 6 अक्टूबर को रिलीज़ होगी.

यहां देखें फिल्म का ट्रेलर:


और पढ़ेंः

‘धागे के इंघे बेवक़ूफ़ होवे है और उंघे चू**’ का ज्ञान देने वाले को हैप्पी बड्डे

‘चक दे! इंडिया’ की 12 मज़ेदार बातें: कैसे सलमान हॉकी कोच बनते-बनते रह गए

वो म्यूज़िक डायरेक्टर जो अपने संगीत को बचाने के लिए फिल्म डायरेक्टर बना

ये तख्ती फरहान अख्तर की है लेकिन खून लगा मुंह किसका है?

क्यों अनुराग कश्यप ने इसे 2017 की सबसे खतरनाक फिल्म कहा है!

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इन 8 बॉलीवुड सेलेब्स के मदर्स डे वाले वीडियोज़ और फोटो आप मिस नहीं करना चाहेंगे

बच्चन ने मां को गाकर याद किया है, वहीं अनन्या पांडे ने बचपन के दो बेहद क्यूट वीडियोज़ पोस्ट किए हैं.

मंटो, जिन्हें लिखने के फ़ितूर ने पहले अदालत फिर पागलखाने पहुंचाया, उनकी ये 15 बातें याद रहेंगी

धर्म से लेकर इंसानियत तक, सबपर सब कुछ कहा है मंटो ने.

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

दुनिया के 10 सबसे कमज़ोर पासवर्ड कौन से हैं?

रिस्की पासवर्ड का पता कैसे चलता है?

'इक कुड़ी जिदा नां मुहब्बत' वाले शिव बटालवी ने बताया कि हम सब 'स्लो सुसाइड' के प्रोसेस में हैं

इन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए जो 'इश्तेहार' लिखा, वो आज दुनिया गाती है

शराब पर बस ये पढ़ लीजिए, बिना लाइन में लगे झूम उठेंगे!

लिखने वालों ने भी क्या ख़ूब लिखा है.

वो चार वॉर मूवीज़ जो बताती हैं कि फौजी जैसे होते हैं, वैसे क्यूं होते हैं

फौजियों पर बनी ज़्यादातर फिल्मों में नायक फौजी होते ही नहीं. उनमें नायक युद्ध होता है. फौजियों को देखना है तो ये फिल्में देखिए.

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.