Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

रणजी ट्रॉफी की वो 12 बातें जो आपको पता होनी ही चाहिए

591
शेयर्स

रणजी ट्रॉफी भारत का सबसे पॉपुलर घरेलु क्रिकेट टूर्नामेंट है. नेशनल टीम में एंट्री की राह में सबसे अहम मुकाम. इंडियन टीम में कितने ही खिलाड़ी बारास्ता रणजी ट्रॉफी पहुंचे हैं. हर साल बिना नागा ये टूर्नामेंट आयोजित होता है. आइए इसके बारे में कुछ दिलचस्प बातें जानते हैं.

1. रणजी ट्रॉफी का पहला मैच 4 नवंबर 1934 को खेला गया. चेन्नई के चेपक स्टेडियम पर. मद्रास और मैसूर की टीम के बीच.

2. पहली गेंद मद्रास के एम. जे. गोपालन ने मैसूर के एन. कर्टिस को फेंकी.

3. रणजी की पहली सेंचुरी हैदराबाद के खिलाड़ी एस. एम. हादी के नाम है. उन्होंने पहले ही सीज़न में मुंबई के खिलाफ़ सिकंदराबाद में 132 रन बनाए थे.

4. रणजी ट्रॉफी का शुरूआती नाम ‘क्रिकेट चैंपियनशिप ऑफ़ इंडिया’ हुआ करता था.

5. बाद में इसका नाम महाराजा रणजीत सिंहजी के नाम पर रख दिया गया जो भारत की नवानगर रियासत के राजा थे. हालांकि रणजीत सिंहजी ने इंडिया के लिए कभी क्रिकेट ही नहीं खेला.

6. उनकी मौत रणजी ट्रॉफी शुरू होने से एक साल पहले ही हो गई थी.

7. रणजी ट्रॉफी खेलनेवाली ज़्यादातर टीमें भारत की राज्य टीमें हैं.

8. रेलवेज़ और सर्विसेज़ (आर्मी) की टीमें भी रणजी में खेलती हैं. 

9. आज़ादी से पहले रणजी ट्रॉफी खेलने वाली टीमें ज़्यादातर रियासतें हुआ करती थी.

10. रणजी ट्रॉफी के 83 साल के इतिहास में मुंबई सबसे ज़्यादा कामयाब टीम रही है. मुंबई ने कुल 41 बार ट्रॉफी जीती है.

11. एक दौर तो ऐसा था कि मुंबई को हराना लगभग नामुमकिन था. 1958 से 1973 तक उन्होंने लगातार 15 बार ट्रॉफी पर कब्ज़ा किया.

12. इस टूर्नामेंट में सबसे ज़्यादा रन वसीम जाफर के नाम हैं. उन्होंने 10,000 से ज़्यादा रन बनाए हैं. इसके अलावा मुंबई के अमोल मजूमदार भी रणजी में बल्लेबाजी के बड़े नाम हैं.

इस रणजी ट्रॉफी का विजेता हमें अगले साल मालूम चलेगा क्यूंकि फाइनल 29 दिसंबर से शुरू होने वाला है. बशर्ते मैच तीन ही दिन में ख़त्म न हो जाए. 😉


क्रिकेट की दुनिया से और भी बहुत कुछ यहां पढ़ें:

वो स्टाइलिश इंडियन क्रिकेटर, जिसका एक ख़राब शॉट उसका करियर खा गया

वो इंडियन खिलाड़ी जिसने अरब सागर में छक्का मारा था

वो बॉलर, जिसके फेंके एक ओवर ने भारतीय खिलाड़ियों के घरों पर पत्थर फिंकवाए

वो क्रिकेटर नहीं, तूफ़ान था. आता था, तबाही मचाता था, चला जाता था


वीडियो: जब 14 की उम्र में सचिन को महान बल्लेबाज घोषित कर दिया गया था

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Interesting facts about India’s prime domestic cricket tournament Ranji Trophy

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: पीहू

अगर आप इस फिल्म को देखने के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचना चाहते हैं, तो आप किसी गलत ऑडिटोरियम में घुस गए हैं.

फिल्म रिव्यू: ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान

आप कभी बाज़ार में घूमते हुए मुंह के स्वाद के लिए कुछ खा लेते हैं. लेकिन वो खाना आप रोज नहीं खा सकते क्योंकि उससे हाजमा खराब होने का डर बना रहता है. 'ठग्स...' वही है.

इस नए वायरल वीडियो में मोदी एक विकलांग बुजुर्ग का अपमान करते क्यूं लगते हैं?

जिनका अपमान होने की बात कही जा रही है, वो बुजुर्ग गुजरात में मुख्यमंत्री से ज़्यादा बड़ी हैसियत रखते हैं!

2.0 का ट्रेलर आ गया, जिसे देखकर मोबाइल फ़ोन रखने वाले हर आदमी को डर लगेगा

साथ ही पढ़िए इस फिल्म की मेकिंग से जुड़ी 9 दिलचस्प बातें.

'डोंबिवली फास्ट': जब एक अकेला आदमी सिस्टम सुधारने निकल पड़ा

और फिर पूरे सिस्टम ने उसे मिटा डालने के लिए कमर कस ली.

फिल्म रिव्यू: काशी इन सर्च ऑफ गंगा

ऐसी फ़िल्में देखकर हर फिल्म क्रिटिक को अपने प्रोफेशन पर गर्व होता है!

फिल्म रिव्यू: बाज़ार

हाल-फिलहाल में जितने भी स्टारकिड्स ने डेब्यू किया है, उनमें से किसी को रोहन जैसा पोटासभरा कैरेक्टर प्ले करने का मौका नहीं मिला है.

फ़िल्म रिव्यू: नमस्ते इंग्लैंड

ये ऐसी फ़िल्म है जिसका कोई स्पॉइलर नहीं हो सकता!

फिल्म रिव्यू: बधाई हो

मां की प्रेग्नेंसी जैसे असहज करने वाले सब्जेक्ट पर बनी सपरिवार देखने लायक फिल्म.

जब हेमा के पापा ने धर्मेंद्र को जीतेंद्र के सामने धक्का देकर घर से निकाल दिया

घरवाले हेमा-धर्मेंद्र की शादी के सख्त खिलाफ थे.