Submit your post

Follow Us

कहानी पांच लोगों की, जिन्होंने बिना सरकारी पैसे और गोली के इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी को पकड़ा

164
शेयर्स

अर्जुन कपूर की अगली फिल्म आ रही है. शायद उनके करियर का पहला किरदार, जो फिल्म से दूर असलियत से वास्ता रखता है. आखिरी बार वो ‘नमस्ते इंग्लैंड’ में दिखे थे, जिसके लिए जनता ने भी दूर से ही हाथ जोड़ लिया था. ये फिल्म असल घटना से प्रेरित बताई जा रही है. फिल्म का नाम है ‘इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड’.और ट्रेलर से फिल्म की कहानी का पूरा आइडिया लग जा रहा है. देखने को बस ये बचता है कि ये आतंकवादी कौन था? और इसे असल में कैसे पकड़ा गया था? इससे एक उम्मीद लगी हुई है कि कुछ ढंग का देखने को मिलने वाला है क्योंकि इसे एक कायदे के फिल्ममेकर ने बनाया है. संभावित कहानी से लेकर ट्रेलर का फील और एक्टर, डायरेक्टर सब आप नीचे जानेंगे.

1) फिल्म का ट्रेलर खुलता है इंडिया में लगातार हो रहे बम ब्लास्ट की बात से. लेकिन किसी को पता ही नहीं कि ये सब कर कौन रहा है. ऐसे में पांच लोगों (शायद एजेंट्स) की एक टीम आती है, जो इस आतंकवादी को पकड़ने के लिए अपने सीनियर से परमिशन मांगती है. उनका कहना ये है कि वो इंडिया के मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी को बिना एक गोली चलाए पकड़ेंगे. लेकिन जब सीनियर से पूछने की बात आती है, तब सिर्फ परमिशन ही मिल पाती है. ये कोवर्ट ऑपरेशन के तौर पर किया जाता है, जिसको भारतीय सरकार फंड भी नहीं कर सकती है. ये पांच लोग टूरिस्ट बनकर नेपाल जाते हैं लेकिन ट्रेलर में तो आतंकवादी को पकड़ नहीं पाते हैं. फाइनली क्या और कैसे होता है, इसके लिए फिल्म देखनी पड़ेगी.

अपने सीनियर से इस मिशन के लिए परमिशन लेता प्रभात यानी अर्जुन का किरदार.
अपने सीनियर से इस मिशन के लिए परमिशन लेता प्रभात यानी अर्जुन का किरदार.

2) जहां तक ट्रेलर के फील का सवाल है, तो ये ठीक लग रही है. ठीक-ठाक मात्रा में इंटेंसिटी है. मोस्ट वॉन्टेड टेररिस्ट को पकड़ने की कहानी है. अर्जुन कपूर हैं. बिना गोली-गाली वाला एक्शन है. और देशभक्ति तो है ही. लेकिन जहां तक थ्रिल का सवाल है, तो वो ट्रेलर देखते हुए महसूस नहीं हुआ. अर्जुन कपूर सीरियस से ज़्यादा बुझे हुए लग रहे हैं. ऐसा लग रहा है, अपना करियर बचाने के लिए किसी की सलाह पर वो जबरदस्ती ये फिल्म कर रहे हैं. हालांकि इनके टीम के बाकी चार सदस्यों में से हमें एक को बोलते हुए सुनने का मौका मिलता है, जो काफी प्रॉमिसिंग लगता है. विलेन यानी आतंकवादी को छुपाकर रखा जा रहा है. उसका चेहरा हर जगह धुंधलाया हुआ या ढ़ंका हुआ दिखाया गया है. लेकिन ये इतना बड़ा फैक्टर नहीं है कि आपकी फिल्म में दिलचस्पी पैदा कर दे. बावजूद इससे अच्छे कॉन्टेंट की उम्मीद है.

ये उसी आतंकवादी की आंखें है, जिसको पकड़ने की तैयारी है. ये फिल्म 'अय्या' वाले एक्टर पृथ्वीराज लग रहे हैं.
ये उसी आतंकवादी की आंखें हैं, जिसको पकड़ने की तैयारी है. 

3) ऐसा इसलिए क्योंकि इसे राजकुमार गुप्ता बना रहे हैं. राजकुमार इससे पहले ‘आमिर’, ‘नो वन किल्ड जेसिका’, ‘घनचक्कर’ और ‘रेड’ जैसी फिल्में बना चुके हैं. इसमें ‘घनचक्कर’ के अलावा सभी फिल्में असल घटनाओं से प्रेरित हैं. और अगली ‘इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड’ के साथ भी ऐसा ही है.

4) फिल्म में अर्जुन कपूर प्रभात नाम के उस एजेंट या ऑफिसर का रोल करेंगे, जो इस मिशन को लीड कर रहा है. उनके सीनियर बने हैं राजेश शर्मा. इनके अलावा फिल्म में प्रशांत एलेग्जैंडर (मलयाली फिल्म एक्टर), गौरव मिश्रा (रांझणा), प्रवीण सिंह सिसोदिया (गैंग्स ऑफ वासेपुर) और आसिफ खान जैसे एक्टर्स नज़र आएंगे.

प्रभात की टीम के वो चार लोग इस मिशन का हिस्सा हैं.
प्रभात की टीम के वो चार लोग इस मिशन का हिस्सा हैं.

5) इस फिल्म की शूटिंग मई, 2018 में शुरू हुई थी. इसे नेपाल में शूट किया गया है. ‘इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड’ 24 मई को सिनेमाघरों में उतर रही है.

इस फिल्म का ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
India’s Most Wanted Trailer: Arjun Kapoor starrer thriller which traces the journey of capturing most wanted terrrorist directed by Rajkumar Gupta

पोस्टमॉर्टम हाउस

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!

क्या शीला दीक्षित ने कहा कि सरकारी स्कूल में बूथ न बनें, वरना लोग स्कूल देख AAP को वोट दे देंगे?

ज़ी रिबप्लिक के बाकी ट्वीट पढ़ेंगे तो पूरा मामला क्लियर हो जाएगा.