Submit your post

Follow Us

कहानी पांच लोगों की, जिन्होंने बिना सरकारी पैसे और गोली के इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी को पकड़ा

164
शेयर्स

अर्जुन कपूर की अगली फिल्म आ रही है. शायद उनके करियर का पहला किरदार, जो फिल्म से दूर असलियत से वास्ता रखता है. आखिरी बार वो ‘नमस्ते इंग्लैंड’ में दिखे थे, जिसके लिए जनता ने भी दूर से ही हाथ जोड़ लिया था. ये फिल्म असल घटना से प्रेरित बताई जा रही है. फिल्म का नाम है ‘इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड’.और ट्रेलर से फिल्म की कहानी का पूरा आइडिया लग जा रहा है. देखने को बस ये बचता है कि ये आतंकवादी कौन था? और इसे असल में कैसे पकड़ा गया था? इससे एक उम्मीद लगी हुई है कि कुछ ढंग का देखने को मिलने वाला है क्योंकि इसे एक कायदे के फिल्ममेकर ने बनाया है. संभावित कहानी से लेकर ट्रेलर का फील और एक्टर, डायरेक्टर सब आप नीचे जानेंगे.

1) फिल्म का ट्रेलर खुलता है इंडिया में लगातार हो रहे बम ब्लास्ट की बात से. लेकिन किसी को पता ही नहीं कि ये सब कर कौन रहा है. ऐसे में पांच लोगों (शायद एजेंट्स) की एक टीम आती है, जो इस आतंकवादी को पकड़ने के लिए अपने सीनियर से परमिशन मांगती है. उनका कहना ये है कि वो इंडिया के मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी को बिना एक गोली चलाए पकड़ेंगे. लेकिन जब सीनियर से पूछने की बात आती है, तब सिर्फ परमिशन ही मिल पाती है. ये कोवर्ट ऑपरेशन के तौर पर किया जाता है, जिसको भारतीय सरकार फंड भी नहीं कर सकती है. ये पांच लोग टूरिस्ट बनकर नेपाल जाते हैं लेकिन ट्रेलर में तो आतंकवादी को पकड़ नहीं पाते हैं. फाइनली क्या और कैसे होता है, इसके लिए फिल्म देखनी पड़ेगी.

अपने सीनियर से इस मिशन के लिए परमिशन लेता प्रभात यानी अर्जुन का किरदार.
अपने सीनियर से इस मिशन के लिए परमिशन लेता प्रभात यानी अर्जुन का किरदार.

2) जहां तक ट्रेलर के फील का सवाल है, तो ये ठीक लग रही है. ठीक-ठाक मात्रा में इंटेंसिटी है. मोस्ट वॉन्टेड टेररिस्ट को पकड़ने की कहानी है. अर्जुन कपूर हैं. बिना गोली-गाली वाला एक्शन है. और देशभक्ति तो है ही. लेकिन जहां तक थ्रिल का सवाल है, तो वो ट्रेलर देखते हुए महसूस नहीं हुआ. अर्जुन कपूर सीरियस से ज़्यादा बुझे हुए लग रहे हैं. ऐसा लग रहा है, अपना करियर बचाने के लिए किसी की सलाह पर वो जबरदस्ती ये फिल्म कर रहे हैं. हालांकि इनके टीम के बाकी चार सदस्यों में से हमें एक को बोलते हुए सुनने का मौका मिलता है, जो काफी प्रॉमिसिंग लगता है. विलेन यानी आतंकवादी को छुपाकर रखा जा रहा है. उसका चेहरा हर जगह धुंधलाया हुआ या ढ़ंका हुआ दिखाया गया है. लेकिन ये इतना बड़ा फैक्टर नहीं है कि आपकी फिल्म में दिलचस्पी पैदा कर दे. बावजूद इससे अच्छे कॉन्टेंट की उम्मीद है.

ये उसी आतंकवादी की आंखें है, जिसको पकड़ने की तैयारी है. ये फिल्म 'अय्या' वाले एक्टर पृथ्वीराज लग रहे हैं.
ये उसी आतंकवादी की आंखें हैं, जिसको पकड़ने की तैयारी है. 

3) ऐसा इसलिए क्योंकि इसे राजकुमार गुप्ता बना रहे हैं. राजकुमार इससे पहले ‘आमिर’, ‘नो वन किल्ड जेसिका’, ‘घनचक्कर’ और ‘रेड’ जैसी फिल्में बना चुके हैं. इसमें ‘घनचक्कर’ के अलावा सभी फिल्में असल घटनाओं से प्रेरित हैं. और अगली ‘इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड’ के साथ भी ऐसा ही है.

4) फिल्म में अर्जुन कपूर प्रभात नाम के उस एजेंट या ऑफिसर का रोल करेंगे, जो इस मिशन को लीड कर रहा है. उनके सीनियर बने हैं राजेश शर्मा. इनके अलावा फिल्म में प्रशांत एलेग्जैंडर (मलयाली फिल्म एक्टर), गौरव मिश्रा (रांझणा), प्रवीण सिंह सिसोदिया (गैंग्स ऑफ वासेपुर) और आसिफ खान जैसे एक्टर्स नज़र आएंगे.

प्रभात की टीम के वो चार लोग इस मिशन का हिस्सा हैं.
प्रभात की टीम के वो चार लोग इस मिशन का हिस्सा हैं.

5) इस फिल्म की शूटिंग मई, 2018 में शुरू हुई थी. इसे नेपाल में शूट किया गया है. ‘इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड’ 24 मई को सिनेमाघरों में उतर रही है.

इस फिल्म का ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: सेक्शन 375

ये फिल्म एक केस की मदद से ये आज के समय की सबसे प्रासंगिक और कम कही गई बात कहती है.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई. आज वॉर्न अपना पचासवां बड्डे मना रहे हैं.

फिल्म रिव्यू: ड्रीम गर्ल

जेंडर के फ्यूजन और तगड़े कन्फ्यूजन वाली मज़ेदार फिल्म.

गैंग्स ऑफ वासेपुर की मेकिंग से जुड़ी ये 24 बातें जानते हैं आप?

अनुराग कश्यप के बड्डे के मौके पर जानिए दो हिस्सों वाली इस फिल्म के प्रोडक्शन से जुड़ी बहुत सी बातें हैं. देखें, आप कितनी जानते हैं.

फिल्म रिव्यू: छिछोरे

उम्मीद से ज़्यादा उम्मीद पर खरी उतरने वाली फिल्म.

ट्रेलर रिव्यू झलकीः बाल मजदूरी पर बनी ये फिल्म समय निकालकर देखनी ही चाहिए

शहर लाकर मजदूरी में धकेले गए भाई को ढूंढ़ती बच्ची की कहानी.

जब अपना स्कूल बचाने के लिए बच्चों को पूरे गांव से लड़ना पड़ा

क्या उनका स्कूल बच सका?

फिल्म रिव्यू: साहो

सह सको तो सहो.

संजय दत्त की अगली फिल्म, जो उन्हें सुपरस्टार वाला खोया रुतबा वापस दिला सकती है

'प्रस्थानम' ट्रेलर फिल्म के सफल होने वाली बात पर जोरदार मुहर लगा रही है.

सेक्रेड गेम्स 2: रिव्यू

त्रिवेदी के बाद अब 'साल का सवाल', क्या अगला सीज़न भी आएगा?