Submit your post

Follow Us

जडेजा-मांजरेकर कॉन्ट्रोवर्सी पर रोहित शर्मा का स्टैंड बताता है कि वो इतने कामयाब क्यूं चल रहे हैं

अंग्रेजी में एक कहावत है Anger is One Letter Short of Danger यानी कि गुस्सा और खतरे के बीच सिर्फ एक शब्द का फासला होता है. इसे मोटा-माटी समझे तो जिसने गुस्सा किया उसका कुछ न कुछ बुरा हो ही जाता है. क्योंकि गुस्से में किसा गया काम कभी भी फायदा देकर नहीं जाता है. वहीं दूसरी तरफ जिसने गुस्सा नहीं किया, अपनी लाइफ को एंजॉय किया, अपने काम पर फोकस रखा वो ज़िंदगी बिल्कुल ‘चिल’ होकर जीता है.

ये जितनी बातें लिखी गई है, इसका रविंद्र जडेजा और रोहित शर्मा से गहरा संबंध है. पहले मांजरेकर ने जडेजा के लिए कुछ कहा, फिर गुस्साए जडेजा ने सोशल मीडिया पर पलटवार कर दिया. इस पर कॉन्ट्रोवर्सी हुई. फिर किसी ने जडेजा का साथ दिया तो किसी ने विरोध में लिखा. कुल मिलाकर थोड़ा ही सही, जडेजा का नुकसान ज़रूर हुआ. अब इसी मसले पर रोहित शर्मा ने अपनी बात रखी है. बिल्कुल कूल अंदाज में.

दोनों के बीच हुए विवाद पर रोहित ने कहा-

देखिए, ये एक खिलाड़ी के लिए चुनौती हो सकती है. कई तरह की ध्यान भंग करने वाली चीजें होती हैं. लेकिन व्यक्ति-व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वो उस घटना और हालात को किस तरह से ले रहा है. मैं इन सबसे दूर रहना चाहता हूं और इंग्लैंड में अच्छे मौसम का लुत्फ उठाना चाहता हूं. मेरा परिवार यहां है. ज्यादातर समय मैं बस इसी में लगा रहता हूं और मैं इन बातों के बारे में बात नहीं करता.

खेल पर फोकस करने से इस तरह की घटनाओं पर ध्यान नहीं जाता- रोहित शर्मा
खेल पर फोकस करने से इस तरह की घटनाओं पर ध्यान नहीं जाता- रोहित शर्मा

रोहित शर्मा ने कहा-

खुद पर फोकस रखने से इंसान को ऐसी चीज़ों का कोई फर्क नहीं पड़ता है. साथ ही कॉन्ट्रोवर्सी से भी इंसान खुद को दूर रख पाता है. विराट बार-बार खिलाड़ियों को समझाते हैं कि बाहर की बातों से परेशान होने की ज़रूरत नहीं है. खुद के खेल पर ध्यान लगाए. हर खिलाड़ियों को ये बात एक्सेप्ट कर लेना चाहिए कि जब तक वे खेल रहे हैं, आलोचनाओं को दूर करना उनके लिए बहुत मुश्किल होगा.

इतनी बातचीत के इतर रोहित शर्मा ने ये भी कहा कि किसी खिलाड़ी के परफॉर्मेंस के ऊपर लगातार बात करना सही नहीं है, इससे कोई भी परेशान हो सकता है. कुल मिलाकर रोहित शर्मा ने बता दिया कि शांति से किसी भी सिचुएशन को हैंडल किया जा सकता है. रोहित इस विश्वकप के टॉप स्कोरर हैं. उन्होंने 9 मैचों के 8 इनिंग में उन्होंने 647 रन बनाए हैं.

इससे पहले कॉमेंटेटर संजय मांजरेकर ने जडेजा को टुकड़ों में अच्छा प्रदर्शन करने वाला क्रिकेटर बताया था. जिसके बाद जडेजा ने गुस्से में सोशल मीडिया पर मांजरेकर के करियर से खुद के करियर की तुलना कर दी थी. इस बात पर सोशल मीडिया पर भी काफी बहस हुई थी.


वीडियो- रवींद्र जडेजा ने जो कुछ भी संजय मांजरेकर को अपने ट्वीट में कहा, वो उनकी बेवकूफ़ी है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

कोरोना से जुड़ी आठ अफवाहें, जिनको लोगों ने बिना सोचे-समझे, धड़ल्ले से शेयर किया

वायरस से ज्यादा तेज़ी से तो ये अफवाहें फ़ैलीं.

अंग्रेजों से गुरिल्ला युद्ध लड़ने वाले आदिवासी नायक जिनकी जान कॉलरा ने ले ली

कहानी झारखंड के सबसे बड़े हीरो की, जिसने 25 साल में ही दुनिया छोड़ दी थी.

इबारत : धाकड़ प्यार करने वाला कैसेनोवा कल्ट कैसे बन गया?

उसकी ये 10 बातें तो और भी क्लासिक हैं

आज़ादी से पहले जन्मे इस गायक ने सलमान को टॉप पर पहुंचाने के लिए सबसे ज़्यादा एफर्ट किए

उस कॉलेज ड्रॉपआउट के 6 गीत और ढेरों किस्से, जिसने 40,000 गाने गाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया

वो 8 बॉलीवुड स्टार्स, जो हीरो-हीरोइन बाद में इंजीनियर पहले हैं

इस लिस्ट में एक्टर्स का नाम देखकर चौंकिएगा मत.

शेन वॉर्न की बॉल ऑफ़ द सेंचुरी के अलावा 5 गेंदें जो भुलाई नहीं जा सकतीं

आज ही के दिन सदी की महानतम गेंद फेंकी गई थी.

इबारत : मशहूर लेखक फ्रेंज काफ़्का ने अपना लिखा ज़्यादातर जला क्यों दिया?

उसके बाद भी दुनिया ने काफ्का को वो जगह दी जिसके वो हक़दार थे.

थॉमस हार्डी जिनकी पहली क़िताब किसी ने नहीं छापी लेकिन बाद में दुनिया ने सराहा

एक से बढ़कर एक उपन्यास लिखे हैं थॉमस हार्डी ने.

इबारत : हेलेन केलर, जो देख-सुन नहीं सकतीं थीं लेकिन दुनिया को रास्ता दिखाया !

और उनके सीखने सिखाने की लगन ने साहित्य को नायाब तोहफ़ा दिया.

वो फिल्म जिसमें काजोल का मर्डर कर, आशुतोष राणा ने फिल्मफेयर जीत लिया

काजोल के साथ ब्लॉकबस्टर फिल्में दे चुके शाहरुख ने इस फिल्म में काम करने से मना क्यों कर दिया?