Submit your post

Follow Us

कोरोना काल में भी रेलवे ने ये 'तीसमार खां' टाइप काम कर डाले

भारतीय रेलवे. कुछ महीनों पहले तक इसमें ऑस्ट्रेलिया की आबादी के बराबर लोग रोजाना सफर किया करते थे. यानी करीब ढाई करोड़ यात्री रोजाना. फिर आया कोरोना वायरस. भारत में लॉकडाउन लगा और ट्रेनों के पहिए भी कुछ दिनों के लिए थमे. लेकिन अब स्पेशल ट्रेनों के जरिए रेलवे दौड़ रहा है. इन सबके बीच रेलवे ने पिछले कुछ दिनों में कई नए कदम उठाए हैं. इन्हें क्रांतिकारी बदलाव भी कहा जा रहा है. तो क्या हैं रेलवे के ये बदलाव और नए कदम, आइए जानते हैं.

डाक मैंसेजर सिस्टम

रेलवे ने गोपनीय जानकारी या बड़े फैसलों को व्यक्तिगत और डाक मैंसेजर के जरिए भेजने का सिलसिला बंद करने का फैसला लिया है. देश में अंग्रेजों ने जब रेलगाड़ी चलाई थी, तब से यह परंपरा चली आ रही है. दरअसल, चपरासी के पद पर नियुक्त व्यक्ति को डाक मैंसेजर का काम भी दिया जाता है. इसके तहत फाइलों, दस्तावेजों, संवेदनशील जानकारियों को रेलवे के अलग-अलग विभागों, जोन और डिवीजन में ले जाने का जिम्मा रहता है. लेकिन अब से यह काम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और ईमेल के जरिए ही किया जाएगा. रेल मंत्रालय का कहना है कि इससे खर्चों में कटौती होगी.

भारतीय रेलवे यानी देश की लाइफलाइन.
भारतीय रेलवे यानी देश की लाइफलाइन.

एनाकोंडा मालगाड़ी

एनाकोंडा, दक्षिणी अमेरिका के जंगलों में पाया जाने वाला एक सांप. यह दुनिया का सबसे वजनी सांप होता है. हॉलीवुड में इस पर कई फिल्में भी बनी है. अब रेलवे ‘एनाकोंडा’ मालगाड़ियां चला रहा है. यह एक नया प्रयोग है. इसके तहत दो से ज्यादा मालगाड़ियों को आपस में जोड़कर चलाने का प्रयोग किया जा रहा है. इसकी शुरुआत साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे जोन में हुई. 29 जून को बिलासपुर और चक्रधरपुर डिवीजन के बीच तीन मालगाड़ियों को जोड़कर चलाया गया.

रेलवे ने बताया कि इस प्रयोग के जरिए एकसाथ 15 हजार टन कोयला ले जाया गया. इस मालगाड़ी में 177 वैगन (मालवाहक डिब्बे) थे.  इससे पहले भिलाई और कोरबा के बीच मई के आखिर में इसी तरह का ट्रायल किया गया था.

रेलवे अब तीन मालगाड़ियों को मिलाकर चला रहा है. इन्हें 'एनाकोंडा' ट्रेन कहा जा रहा है.
रेलवे अब तीन मालगाड़ियों को मिलाकर चला रहा है. इन्हें ‘एनाकोंडा’ ट्रेन कहा जा रहा है.

दो मंजिला मालगाड़ियों के लिए दुनिया की पहली इलेक्ट्रिफाइड सुरंग का निर्माण

हरियाणा के सोहना के पास अरावली की पहाड़ियों को खोदकर यह सुरंग बनाई जा रही है. इसकी लंबाई एक किलोमीटर होगी. इसकी खुदाई का काम पूरा हो चुका है. यह सुरंग रेवाड़ी-दादरी रूट पर बन रही है. अगले एक साल में इसका काम पूरा होने की उम्मीद है. यह सुरंग मालगाड़ियों के लिए बनाए जा रहे पश्चिमी डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का हिस्सा है.

इसमें डबल स्लैक कंटेनर यानी दो मंजिला मालगाड़ियां भी आसानी से गुजर सकेंगी. यह रेल लाइन पूरी तरह से इलेक्ट्रिक होगी.सुरंग में डबल लाइन पटरियां होगीं यानी एक साथ दो मालगाड़ियां साथ गुजर सकती हैं. रेलवे का कहना है इस सुरंग से मालगाड़ियां 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गुजर सकेंगी.

12 हजार हॉर्स पावर वाला इंजन

रेलवे ताकतवर इंजन बनाने पर भी काम कर रहा है. इसी दिशा में 12 हजार हॉर्स पावर वाला WAG-12B रेल इंजन बनाया है. WAG12B में W का मतलब है ब्रॉड गेज, A यानी एसी करंट, G यानी मालवाहक और 12B का मतलब है 12वीं पीढ़ी. यह रेल इंजन फ्रांसिसी कंपनी एल्स्टम के साथ मिलकर बनाया गया है. एल्स्टम और रेलवे मिलकर 800 रेल इंजन बनाएंगे. इसके लिए दोनों के बीच 25 हजार करोड़ रुपये का सौदा हुआ है. यह रेल इंजन बिहार के मधेपुरा में बन रहे हैं.

12000 हॉर्स पावर का यह रेल इंजन रेलवे और फ्रांसिसी कंपनी एल्स्टम मिलकर बना रहे हैं.
12000 हॉर्स पावर का यह रेल इंजन रेलवे और फ्रांसिसी कंपनी एल्स्टम मिलकर बना रहे हैं.

इस रेल इंजन को सबसे पहले यूपी में दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन से शिवपुर स्टेशन के बीच चलाया गया. रेलवे का कहना है कि इसकी अधिकतम स्पीड 120 किलोमीटर प्रतिघंटे है. इस इंजन को मालगाड़ियों में ही इस्तेमाल किया जाएगा. यह इंजन वर्तमान के सभी इंजनों से ज्यादा ताकतवर है. भारत केवल छठा ही देश है, जिसके पास 12 हजार हॉर्स पावर का रेल इंजन है.

प्राइवेट ट्रेन और मालगाड़ियां

रेलवे का ध्यान अभी ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाने पर है. ऐसे में उसने प्राइवेट कंपनियों को पैसेंजर ट्रेनें चलाने का न्योता दिया है. कोरोना काल से पहले तक दिल्ली से लखनऊ के बीच एक प्राइवेट ट्रेन चल भी रही थी. अब रेलवे 151 प्राइवेट ट्रेनें चलाने की योजना पर काम कर रहा है. देश में 12 प्राइवेट ट्रेनों का पहले सेट साल 2023 से शुरू हो जाएगा.

रेलवे प्राइवेट ट्रेनों के जरिए शाही सफर के दावे कर रहा है. लेकिन इनमें यात्रा करने के लिए ज्यादा किराया खर्च करना होगा.
रेलवे प्राइवेट ट्रेनों के जरिए शाही सफर के दावे कर रहा है. लेकिन इनमें यात्रा करने के लिए ज्यादा किराया खर्च करना होगा.

रेलवे ने प्राइवेट ट्रेनें चलाने के लिए 12 क्लस्टर चुने हैं, जिनमें शामिल हैं- मुंबई (2 क्लस्टर), दिल्ली (2 क्लस्टर), चंडीगढ़, हावड़ा, पटना, प्रयागराज, सिकंदराबाद, जयपुर, चेन्नै, बेंगलुरु. इन क्लस्टर पर 109 रूट की पहचान की गई है. इन पर कम से कम 16 कोच की 151 प्राइवेट ट्रेनें चलाने का प्लान है.

वहीं रेलवे प्राइवेट मालगाड़ियां भी चलाने की कोशिश में है. अभी देश में मालगाड़ियों के लिए दो डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर बनाए जा रहे हैं. एक, पूर्व में जो बिहार, यूपी जैसे राज्यों से गुजरता है. दूसरा, पश्चिम में जो मुंबई, गुजरात, राजस्थान जैसे राज्यों से गुजरता है. रेलवे की योजना इसी पर प्राइवेट मालगाड़ियां चलाने की है.


Video: ‘ग्रीनफ़ील्ड एक्सप्रेसवे’ से अब अमृतसर से दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट, सिर्फ चार घंटे में!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- दिल बेचारा

सुशांत के लिए सबसे बड़ा ट्रिब्यूट ये होगा कि 'दिल बेचारा' को उनकी आखिरी फिल्म की तरह नहीं, एक आम फिल्म की तरह देखा जाए.

सैमसंग के नए-नवेले गैलेक्सी M01s और रियलमी नार्ज़ो 10A की टक्कर में कौन जीतेगा?

सैमसंग गैलेक्सी M01s 9,999 रुपए में लॉन्च हुआ है.

अनदेखी: वेब सीरीज़ रिव्यू

लंबे समय बाद आई कुछ उम्दा क्राइम थ्रिलर्स में से एक.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू: पंडित उस्मान

एक चलते-फिरते 'पैराडोक्स' की कहानी.

फ़िल्म रिव्यूः भोंसले

मनोज बाजपेयी की ये अवॉर्ड विनिंग फिल्म कैसी है? और कहां देख सकते हैं?

जॉर्ज ऑरवेल का लिखा क्लासिक 'एनिमल फार्म', जिसने कुछ साल पहले शिल्पा शेट्‌टी की दुर्गति कर दी थी

यहां देखें इस पर बनी दो मजेदार फिल्में. हिंदी वालों के लिए ये कहानी हिंदी में.

फिल्म रिव्यू: बुलबुल

'परी' जैसी हटके हॉरर फिल्म देने वाली अनुष्का शर्मा का नया प्रॉडक्ट कैसा निकला?

फ़िल्म रिव्यूः गुलाबो सिताबो

विकी डोनर, अक्टूबर और पीकू की राइटर-डायरेक्टर टीम ये कॉमेडी फ़िल्म लेकर आई है.

फिल्म रिव्यू: चिंटू का बर्थडे

जैसे हम कई बार बातचीत में कह देते हैं कि 'ये दुनिया प्यार से ही जीती जा सकती है', उस बात को 'चिंटू का बर्थडे' काफी सीरियसली ले लेती है.

फ़िल्म रिव्यूः चोक्ड - पैसा बोलता है

आज, 5 जून को रिलीज़ हुई ये हिंदी फ़िल्म अनुराग कश्यप ने डायरेक्ट की है.