Submit your post

Follow Us

भारतीय गणतंत्र के इतिहास से सबसे लल्लनटॉप तस्वीरें

5.68 K
शेयर्स

दिल्ली के सुप्रीम कोर्ट को अपनी आंखों के सामने बनते देखा है? पता है कभी पी एम ऑफिस में खेती होती थी. जब इंटरनेट और टीवी नहीं थे तो कैसे होता था चुनाव प्रचार. तस्वीरें बोलती हैं. इन तस्वीरों में देखिए अतीत की झलकियां.

इंडिया की पहली लेडी पायलट सरला ठकराल

भारत में हवाई जहाज उड़ाने वाली पहली महिला थी सरला. 1914 में पैदा हुई. 1936 में 21 साल की उम्र थी.  जब पायलट का लाइसेंस हासिल किया. 16 साल की उम्र में ही शादी हो गई थी. और गोद में एक चार साल की बच्ची. लेकिन खानदान ही पायलटों वाला था. 9 पायलट थे उनके मायके में. लाइसेंस मिलने के बाद पूरे एक हजार घंटे जहाज उड़ाया था.

सन 1950 में दिल्ली में कार पार्किंग

वो जमाना ऐसा था कि लोगों के पास पैसा कम था. था भी तो बहुत कम लोगों के पास. तब दिल्ली में ऐसे कारें खड़ी रहती थी. मजे की बात कि तब ऑड और ईवन नंबर के साथ भेदभाव करने की जरूरत नहीं थी.

पीएम के घर में गेंहू की खेती

पहले पी एम ऑफिस के मैदान में खेती होती थी. 1952 की इस तस्वीर में गेंहूं की कटाई हो रही है. प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू थे. बेटी इंदिरा पॉलिटिक्स में नहीं थी. तस्वीर में बड़े ध्यान से गेंहू कटते हुए देख रही हैं.

3G तकनीक थी नहीं, बैलों से होता था चुनाव प्रचार

1952 में चुनाव प्रचार इतना हाइटेक नहीं था. फेसबुक व्हाट्ऐप था ही नहीं. दिल्ली में इस तरह बैलों
का इस्तेमाल किया गया था. इसके पीछे एक वजह और थी. कांग्रेस का चुनाव निशान गाय और बछड़ा हुआ करता था.

सुप्रीम कोर्ट बिल्डिंग का कांसट्रक्शन

आजादी के बाद नया नया संविधान बना था. सरकारी दफ्तरों के निर्माण का काम जोर पर था. 1956 की यह फोटो है. जिसमें सुप्रीम कोर्ट की बिल्डिंग बनते दिख रही है.

भारत का पहला डिजिटल कंप्यूटर

वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा और टाटा के फाउंडर जमशेद टाटा ने साथ प्रयास किया. 1945 में टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च खुला. फोटो में दिख रहा है एक कंप्यूटर. यह इसी इंस्टीट्यूट में बना 1960 में. ये पहला डिजिटल कंप्यूटर था जो भारत में बना.

महिलाओं की मिलिट्री ट्रेनिंग

1962 में चीन भारत में तगड़ी लड़ाई छिड़ी हुई थी. कोई किसी से कम नहीं. भारत लड़ाई की तैयारियों में कोई कसर नहीं छोड़ी. सैनिकों की कमी न आने पाए इसलिए बाकायदा औरतों को भी लड़ने की सख्त ट्रेनिंग दी गई.

सुब्रमण्यम स्वामी द हिडेन मैन

साहब आजकल खूब चर्चा में रहते हैं. अपने बयानों की वजह से. लेकिन एक वक्त ऐसा आया था कि उनको छिपना पड़ा. 1975 का साल, पूरे देश में आपातकाल लगा था. सब सरकार विरोधी पकड़ पकड़ के जेल भेजे जा रहे थे. जिसको जैसे बन पड़ा वो भागा. सुब्रमण्यम स्वामी सरदार का रूप धर कर छिपे थे.

चे गुएरा की भारत यात्रा

क्यूबा की क्रांति का हीरो था मार्क्सवादी चे गुएरा. वही जिसकी फोटो लगी टीशर्ट पहन के हम लोग भौकाल बनाते हैं. वो जब इंडिया आया था तो मिला जवाहर लाल नेहरू से. गिफ्ट में दिया था क्यूबा के महंगे सिगार का डिब्बा. गिफ्ट देख कर ऐसे मुस्कराए थे जवाहर लाल नेहरू.

पहली भारतीय मिस वर्ल्ड रीता फारिया

इस जमाने की सुंदरियों ऐश्वर्या, सुष्मिता के फैन शायद न जानते होंगे. बाप दादा लोगों के जमाने में भी अपने देश में कोई मिस वर्ल्ड हुई है. रीता फारिया पेशे से डॉक्टर और मॉडल थी. 1966 में लंदन में हुआ मिस वर्ल्ड कंपटीशन. उसमें पार्टीसिपेट किया और जीत गई. लेकिनमॉडलिंग के करियर को टाटा कर दिया. फिल्मों का ऑफर भी ठुकरा दिया और फुल टाइम डॉक्टर बन गई. 1971 में डॉक्टर डेविड पॉवेल से शादी कर ली. आजकल डबलिन में हैं. इस तस्वीर में वो एक अमेरिकी फौजी की कैप पर ऑटोग्राफ दे रही हैं. वियतनाम का सीन है.

All images- @IndiaHistorypic

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Indian historical pictures

पोस्टमॉर्टम हाउस

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!

क्या शीला दीक्षित ने कहा कि सरकारी स्कूल में बूथ न बनें, वरना लोग स्कूल देख AAP को वोट दे देंगे?

ज़ी रिबप्लिक के बाकी ट्वीट पढ़ेंगे तो पूरा मामला क्लियर हो जाएगा.