Submit your post

Follow Us

वो इंडियन फिल्म स्टार्स, जो एक्टर से पहले डॉक्टर हैं

सिनेमा को कम पढ़-लिखे वालों की इंडस्ट्री माना जाता रहा है. क्योंकि यहां काम करने वाले ढेर सारे लोग बिना किसी फॉर्मल एजुकेशन के आते हैं. कई सुपरस्टार्स ये बात मीडिया के सामने भी स्वीकार चुके हैं. ऐसे में एक इमेज बन गई. पर हकीकत में ऐसा नहीं है. आज इंडस्ट्री में आपको इंजीनियर, डॉक्टर से लेकर सीए तक सब मिल जाएंगे.  हम आपको उन एक्टर्स-सेलेब्रिटीज़ के बारे में बता चुके हैं, जो पहले इंजीनियर हुआ करते थे. या इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी. आज बात उन लोगों की, जो डॉक्टर हैं. पीएचडी या डॉक्टरेट की उपाधि पाने वाले डॉक्टर नहीं, प्रॉपर डिग्रीधारी इलाज करने वाले डॉक्टर.

1) डॉ. श्रीराम लागू– शुरुआत यादों की बारात से करते हैं. मशहूर थिएटर और फिल्म एक्टर, जिन्होंने ओरिजिनल ‘हेरा फेरी’ (1976) से लेकर ‘घरौंदा’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘लावारिस’ और ‘पुकार’ समेत 250 से ज़्यादा फिल्मों में काम किया. श्रीराम लागू डॉक्टर भी थे. महाराष्ट्र के सातारा के रहने वाले लागू ने पुणे से मेडिकल की पढ़ाई की. फिर डॉक्टरी की प्रैक्टिस शुरू कर दी. तीन साल तक तंजानिया में बतौर ईएनटी (कान नाक गला) विशेषज्ञ के तौर पर काम किया. 42 की उम्र में  वो सबकुछ छोड़कर अपने बचपन का ख्वाब पूरा करने, एक्टिंग करने इंडिया लौट आए.

डॉ. श्रीराम लागू की डॉक्टर जैसी दिखने वाली एक तस्वीर. क्योंकि उनके डॉक्टरी वाले दिनों की फोटो अवेलेबल नहीं है.
डॉ. श्रीराम लागू की डॉक्टर जैसी दिखने वाली एक तस्वीर. क्योंकि उनके डॉक्टरी वाले दिनों की फोटो अवेलेबल नहीं है.

2) अदिति गोवित्रिकर– ‘दुल्हन की विदाई का वक्त बदलना है’ वाली फिल्म ’16 दिसंबर’ याद है? उसमें इन्होंने सोनल का रोल किया था. इसके अलावा ‘पहेली’ और ‘दे दना दन’ जैसी फिल्मों में काम कर चुकी हैं. अदिति एक्टर बनने से पहले मॉडल थीं. मिसेज़ इंडिया और मिसेज़ वर्ल्ड जैसे बड़े टाइटल्स जीत चुकी थीं. अगर उनकी पढ़ाई-लिखाई की बात करें, तो वो इंडिया की पहली सुपरमॉडल थीं, जिसके पास मेडिकल और साइकोलॉजी की डिग्री थी. अदिति ने मुंबई के ग्रांट कॉलेज से मेडिकल की पढ़ाई की थी लेकिन उन्होंने डॉक्टरी को अपने पेशे के तौर पर नहीं चुना.

अदिति ने अपने करियर में कभी डॉक्टरी को प्रोफेशन के तौर पर नहीं चुना. पहले वो मॉडल थीं और बाद में एक्ट्रेस.
अदिति ने कभी डॉक्टरी को प्रोफेशन के तौर पर नहीं चुना. पहले वो मॉडल थीं और बाद में एक्ट्रेस.

3) पलाश सेन– ‘यूफोरिया’ बैंड की नींव रखने वाले एक्टर और सिंगर. बताया जाता है कि पलाश राजवैद्यों के परिवार से आते हैं. वो अपनी फैमिली के 17वें जनरेशन के फिज़िशियन हैं. उन्होंने अपने बैंड के साथ मिलकर ‘धूम’, ‘गली’, ‘महफूज़’ समेत 10 से ज़्यादा म्यूज़िक एल्बम बनाए. 2002 में मेघना गुलज़ार की फिल्म ‘फिलहाल’ से बॉलीवुड में एक्टिंग डेब्यू किया लेकिन ‘मुंबई कटिंग’ और कुछ इक्का-दुक्का फिल्मों में काम करने के बाद एक्टिंग से अलग हो गए. पलाश ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज़ (अब फैकल्टी ऑफ मेडिकल साइंसेज़) से एमबीबीएस की डिग्री ली थी.

अपने बैंड 'यूफोरिया' के मेंबर्स के साथ डॉ. पलाश सेन.
अपने बैंड ‘यूफोरिया’ के मेंबर्स के साथ डॉ. पलाश सेन.

4) साई पल्लवी– साउथ इंडियन फिल्मों की तगड़ी एक्ट्रेस. ‘प्रेमम’ जैसी कल्ट फिल्म में इन्होंने निविन पॉली की टीचर मलर का रोल किया था. इसके अलावा ‘फिदा’, ‘एनजीके’ और ‘मारी 2’ जैसी बॉक्स ऑफिस ब्लॉकबस्टर फिल्मों में काम कर चुकी हैं. कोयंबटूर से आने वाली साई ने जॉर्जिया के टीएसएम (Tbilisi State Medical) यूनिवर्सिटी से मेडिकल की डिग्री ली थी. हालांकि कुछ टेक्निकल दिक्कतों की वजह से पल्लवी अभी तक इंडिया में बतौर मेडिकल प्रैक्टिशनर खुद को रजिस्टर नहीं करवा पाईं हैं.

जॉर्जिया में मेडिकल की पढ़ाई के दौरान अपनी टीचर के साथ साई.
जॉर्जिया में मेडिकल की पढ़ाई के दौरान अपनी टीचर के साथ साई.

5) विनीत कुमार– ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ के दानिश खान. विनीत ने एक टैलेंट हंट जीतकर संजय दत्त की फिल्म ‘पिता’ (2002) से अपना एक्टिंग डेब्यू किया था. उसके बाद से वो ‘बॉम्बे टॉकीज़’, ‘अग्ली’, ‘मुक्काबाज़’, ‘दासदेव’ और ‘सांड की आंख’ जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं. बीएचयू से ग्रैजुएशन करने के बाद विनीत ने सीपीएमटी (कंबाइन्ड मेडिकल प्री-टेस्ट) पास किया और अपने मेडिकल कॉलेज के टॉपर बने. उनके पास आयुर्वेद में एमडी (डॉक्टर ऑफ मेडिसिन) की डिग्री है. साथ ही बाकायदा डॉक्टरी की प्रैक्टिस करने का लाइसेंस भी.

फिल्म 'सांड की आंख' के एक सीन में विनीत कुमार. विनीत ने फिल्म में डॉ. यशपाल का किरदार निभाया था.
फिल्म ‘सांड की आंख’ के एक सीन में विनीत कुमार. विनीत ने फिल्म में डॉ. यशपाल का किरदार निभाया था.

वीडियो देखें: आलिया, शाहिद, रनबीर और प्रियंका के निकनेम और उसके पीछे का खेल जानिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

सैमसंग के नए-नवेले गैलेक्सी M01s और रियलमी नार्ज़ो 10A की टक्कर में कौन जीतेगा?

सैमसंग गैलेक्सी M01s 9,999 रुपए में लॉन्च हुआ है.

अनदेखी: वेब सीरीज़ रिव्यू

लंबे समय बाद आई कुछ उम्दा क्राइम थ्रिलर्स में से एक.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू: पंडित उस्मान

एक चलते-फिरते 'पैराडोक्स' की कहानी.

फ़िल्म रिव्यूः भोंसले

मनोज बाजपेयी की ये अवॉर्ड विनिंग फिल्म कैसी है? और कहां देख सकते हैं?

जॉर्ज ऑरवेल का लिखा क्लासिक 'एनिमल फार्म', जिसने कुछ साल पहले शिल्पा शेट्‌टी की दुर्गति कर दी थी

यहां देखें इस पर बनी दो मजेदार फिल्में. हिंदी वालों के लिए ये कहानी हिंदी में.

फिल्म रिव्यू: बुलबुल

'परी' जैसी हटके हॉरर फिल्म देने वाली अनुष्का शर्मा का नया प्रॉडक्ट कैसा निकला?

फ़िल्म रिव्यूः गुलाबो सिताबो

विकी डोनर, अक्टूबर और पीकू की राइटर-डायरेक्टर टीम ये कॉमेडी फ़िल्म लेकर आई है.

फिल्म रिव्यू: चिंटू का बर्थडे

जैसे हम कई बार बातचीत में कह देते हैं कि 'ये दुनिया प्यार से ही जीती जा सकती है', उस बात को 'चिंटू का बर्थडे' काफी सीरियसली ले लेती है.

फ़िल्म रिव्यूः चोक्ड - पैसा बोलता है

आज, 5 जून को रिलीज़ हुई ये हिंदी फ़िल्म अनुराग कश्यप ने डायरेक्ट की है.

फिल्म रिव्यू- ईब आले ऊ

साधारण लोगों की असाधारण कहानी, जो बिलकुल किसी फिल्म जैसी नहीं लगती.