Submit your post

Follow Us

इबारत : हेलेन केलर, जो देख-सुन नहीं सकतीं थीं लेकिन दुनिया को रास्ता दिखाया !

सिनेमा देखते हुए अचानक पर्दे पर अंधेरा छा जाए तो कैसा लगता है? जी घबराने लगता है न? हममें से ज़्यादातर की ज़िंदगी में ये अंधेरा जाने के लिए आता है. लेकिन हेलेन केलर की ज़िंदगी में अंधेरा आया तो फिर कभी वापस नहीं गया. अमरीकी लेखक हेलेन साल भर की थीं, जब बीमारी ने उनकी सुनने और देखने की ताक़त छीन ली. जब सात बरस की हुईं तो समंदर के लाइट हाउस की तरह इनकी टीचर ‘ऐने सुलेवना’ इनसे मिलीं. हेलेन कहती हैं तब इनकी ‘आत्मा का जन्म हुआ’. ऐने हर तरह की कोशिश करके हेलेन को पढ़ना और इशारों में बात करना सिखाने लगीं. और आख़िरकार हेलेन साल 1900 में कैम्ब्रिज से ग्रेजुएशन करने वाली ऐसी पहली स्टूडेंट बनीं जो देख-सुन नहीं सकती थीं.

हेलेन की टीचर उन्हें हथेली पर उंगलियों के इशारे से बात करना सिखाती थीं.
हेलेन की टीचर उन्हें हथेली पर उंगलियों के इशारे से बात करना सिखाती थीं.

ग्रेजुएशन के दौरान ही हेलेन ने अपनी कालजयी क़िताब ‘The Story of My Life’ लिखी. अभाव में जीवन जीने वालों के लिए हेलेन जीवन भर आवाज़ उठाती रहीं. आज हेलेन केलर की बरसी है. आज हेलेन के लिखे से आपको दस बेहतरीन चीज़ें पढ़ाते हैं –

# ज़िंदगी या तो ख़तरों से भरा खेल है, या कुछ भी नहीं है.

# मौत और कुछ नहीं, बस एक कमरे से दूसरे कमरे में जाना भर है.

# दुनिया का सबसे निराश शख्स वो है जिसके पास नज़र तो है, लेकिन नज़रिया नहीं है.

# शिक्षा का सबसे बेहतरीन परिणाम है सहनशीलता.

# विज्ञान ने दुनिया के हर मर्ज़ की दवा खोज ली, लेकिन उदासी की दवा अब तक नहीं मिली है.

# लोग सोचना नहीं चाहते, क्योंकि सोचने से नतीजा निकलेगा और नतीजे हमेशा मन माफ़िक नहीं होते.

# अपनी कमज़ोरियों को देखो और उनका मुक़ाबला करो, ख़ुद को कमज़ोरियों का गुलाम मत बनने दो.

# ख़ुशी का एक दरवाज़ा बंद होता है, तो दूसरा खुल जाता है. लेकिन बंद दरवाज़े के आगे देर तक खड़े नहीं रहना चाहिए.

# मैं उजाले में अकेले चलने की जगह, एक दोस्त के साथ अंधेरे में चलना पसंद करूंगी.

# दुनिया की सबसे ख़ूबसूरत चीज़ें देखीं और छुई नहीं जा सकतीं, उन्हें दिल से महसूस करना होता है.


ये वीडियो भी देखें:

किताबवाला: जनरल सैम मानेकशॉ ने इंदिरा गांधी को तब इस्तीफे की धमकी क्यों दी थी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

इललीगल- जस्टिस आउट ऑफ़ ऑर्डर: वेब सीरीज़ रिव्यू

कहानी का छोटे से छोटा किरदार भी इतनी ख़ूबसूरती से गढ़ा गया है कि बेवजह नहीं लगता.

बेताल: नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

ये सीरीज़ अपने बारे में सबसे बड़ा स्पॉयलर देने से पहले स्पॉयलर अलर्ट भी नहीं लिखती.

पाताल लोक: वेब सीरीज़ रिव्यू

'वैसे तो ये शास्त्रों में लिखा हुआ है लेकिन मैंने वॉट्सऐप पे पढ़ा था.‘

इरफ़ान के ये विचार आपको ज़िंदगी के बारे में सोचने पर मजबूर कर देंगे

उनकी टीचर ने नीले आसमान का ऐसा सच बताया कि उनके पैरों की ज़मीन खिसक गई.

'पैरासाइट' को बोरिंग बताने वाले बाहुबली फेम राजामौली क्या विदेशी फिल्मों की नकल करते हैं?

ऐसा क्यों लगता है कि आरोप सही हैं.

रामायण में 'त्रिजटा' का रोल आयुष्मान खुराना की सास ने किया था?

रामायण की सीता, दीपिका चिखालिया ने किए 'त्रिजटा' से जुड़े भयानक खुलासे.

क्या दूरदर्शन ने 'रामायण' मामले में वाकई दर्शकों के साथ धोखा किया है?

क्योंकि प्रसार भारती के सीईओ ने जो कहा, वो पूरी तरह सही नहीं है. आपको टीवी पर जो सीन्स नहीं दिखे, वो यहां हैं.

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.