Submit your post

Follow Us

उड़ी फिल्म में ‘हाउ इज़ द जोश’ कहां से आया, असली कहानी जानिए

5.12 K
शेयर्स

अंग्रेजी में ‘हाउ इज़ द जोश’ और फ्लो में बोले तो ‘हाउज़ द जोश’. 11 जनवरी को रिलीज़ हुई फिल्म ‘उड़ी-द सर्जिकल स्ट्राइक’ के इस डायलॉग ने मार्केट में गदर मचाया हुआ है. बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी की जुबान पर चढ़ गया ‘हाउ इज़ द जोश’. वित्त मंत्री का बजट भाषण याद है आपको. इस दिन भी ये डायलॉग संसद के भीतर गूंजा था. सांसदों ने खूब ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाया था ‘हाउज़ द जोश’ और खुद ही जवाब भी दिए थे ‘हाई सर’.

खैर, कुल मिलाकर खूब फेमस हुआ ये डायलॉग. इस फिल्म के डायरेक्टर आदित्य धर ने खुद ही इस डायलॉग को लेकर एक किस्सा बताया है. न्यूज़ एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि इस लाइन को उन्होंने अपनी बचपन की यादों से निकाला है. उन्होंने बताया कि बचपन में उनके कुछ दोस्त डिफेंस के बैकग्राउंड से थे, जिनके साथ वो मिलकर अक्सर आर्मी क्लब जाया करते थे.

क्लब में कई मौकों पर एक ब्रिगेडियर इस लाइन का इस्तेमाल किया करते थे. उन्होंने बताया कि रिटायर्ड ब्रिगेडियर पहले सभी बच्चों को लाइन में लगाते. फिर हाथ में चॉकलेट दिखाकर सभी बच्चों से पूछते ‘हाउ इज़ द जोश’ और फिर जो बच्चा सबसे तेज़ बोलता ‘हाई सर’. वो चॉकलेट उसे मिल जाती थी. आदित्य ने बताया कि वो खाने के काफी शौकीन थे, जिसकी वजह से वो भी इस लाइन में लग जाया करते थे, और हमेशा वो ही चॉकलेट जीतते थे.

आदित्य ने ये भी बताया कि जब वो इस फिल्म की स्क्रिप्ट लिखनी शुरू कर रहे थे. तभी ठान लिया था कि वो इस डायलॉग को अपनी फिल्म में शामिल करेंगे. फिर फाइनली उन्होंने फिल्म बनाई और बिल्कुल सही जगह पर इसे फिट कर दिया. अब इसका रिज़ल्ट कैसा है वो तो आप सभी देख ही रहे हैं.

अब ये डायलॉग इतना फेमस हुआ कि कई मौके पर खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका इस्तेमाल कर चुके हैं. वैसे उड़ी-द सर्जिकल स्ट्राइल फिल्म के बारे में भी हल्का बता दें, साल 2016 में जम्मू कश्मीर के उड़ी में आतंकी हमला हुआ था. इस हमले में भारत के 18 सैनिकों की जान चली गई थी. जिसके जवाब में भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक किया. सैनिकों ने 29 सितंबर की रात पीओके में घुस कर आतंकी ठिकानों को तबाह किया था. ये फिल्म इसी घटना पर आधारित है. जिसमें विक्की कौशल ने लीड रोल किया है. ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर लगातार धमाल मचा रही है. और कमाई की रफ्तार इतनी सही है कि जल्द ही ये फिल्म 200 करोड़ के आंकड़े को पार कर लेगी.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
How’s the Josh Uri maker aditya dhar explains his Inspiration behind the Iconic Dialogue

पोस्टमॉर्टम हाउस

हट जा ताऊ: इस सदी का सबसे क्रांतिकारी गाना है

सपना चौधरी के गीत ‘हट जा ताऊ’ ने मेरी जिंदगी बदल दी. इसे किसी देश का राष्ट्रगान नहीं, बल्कि विश्वगान बना देना चाहिए.

फिल्म रिव्यू: मर्द को दर्द नहीं होता

अपने ढंग की अनोखी, सुपर स्टाइलिश पिच्चर.

फिल्म रिव्यू: केसरी

21 फौजियों के जज़्बे का नॉन-ड्रामेटिक, नॉन-नॉनसेंस सिनेमाईकरण.

फिल्म रिव्यू: हामिद

जब एक कश्मीरी बच्चे की अल्लाह को कॉल लग जाती है.

फिल्म रिव्यू: मिलन टॉकीज़

'मिर्ज़ापुर' वाले गुड्डू भैया की पिच्चर.

फिल्म रिव्यू: फोटोग्राफ

फिल्म में आवाज़ से ज़्यादा शांति है. ऐसी शांति जो आपने अपनी रियल लाइफ में कुछ टाइम से फील नहीं की.

फिल्म रिव्यू: मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर

क्या हुआ, जब झोपड़पट्टी में रहने वाले एक लड़के ने प्रधानमंत्री को ख़त लिखा!

फिल्म रिव्यू: बदला

इस फिल्म का अपना फ्लो है, जो आप चाह कर भी खराब नहीं कर सकते. मगर आपने अगर कोई भी एक सीन मिस कर दिया, तो फिल्म से कैच अप नहीं पाएंगे.

फिल्म रिव्यू: लुका छुपी

कम से कोई तो ऐसी फिल्म है, जो एक ऐसे मुद्दे के बारे में बात कर रही है, जिसका नाम भी बहुत सारे लोग सही से नहीं ले पाते. जो हमें अनकंफर्टेबल करते हुए भी हंसने पर मजबूर कर रही है.