Submit your post

Follow Us

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

लवर बॉय ऋषि कपूर फ़िल्म फैंस की स्मृतियों में अपने नॉस्टेलजिया की वजह से हमेशा रहेंगे. और वो स्मृतियां बनी हैं उन एक्ट्रेसेज़ / हीरोइन्स की वजह से जिन्होंने उनके साथ काम किया. 'चिंटूजी' के जाने के बाद उनकी कुछ हीरोइन्स उन्हें कैसे याद कर रही हैं, यहां जानते हैं.

1. पद्मिनी कोल्हापुरे‘असली हीरो की तरह मुझे आग में जलने से बचाया’

ऋषि के साथ ‘प्रेम रोग’ में उन्होंने काम किया था. पद्मिनी के करियर की हाइलाइट भी वही फिल्म रही. वे कहती हैं, यक़ीन नहीं आ रहा कि वे ऋषि को दोबारा कभी नहीं देख पाएंगी. इस बात पर भी दुःख ज़ाहिर किया कि वे अंतिम समय में ऋषि और उनके परिवार के साथ नहीं हो सकीं. पद्मिनी ने मिड डे अख़बार से बात करते हुए कहा कि वे ऋषि के साथ काम करती थीं लेकिन उनको ख़ुद से ज़्यादा ऋषि और नीतू की जोड़ी फ़िल्मों में बहुत पसंद थी. वे उन दोनों की कोई फिल्म नहीं छोड़ती थीं. ऋषि के साथ फिल्म करने को वे अपने करियर का बड़ा मोड़ मानती हैं. मिड डे से बातचीत में उन्होंने कहा –

“ऋषि ने ही नासिर हुसैन को मेरा नाम सुझाया था. इस तरह मुझे ‘ज़माने को दिखाना है’ में रोल मिला. पहला शॉट था एक गाने के लिए ‘पूछो ना यार क्या हुआ’. आज तक मुझे साफ़ साफ़ याद है. मुझे डांस करना था और फिर उन्हें गले लगाना था. मैं कांप रही थी, क्योंकि मैं उनकी फैन थी.”

Padmini Kolhapure Rishi Kapoor
प्रेम रोग (1982) में ऋषि और पद्मिनी.

पद्मिनी इसी बातचीत में एक दूसरी फिल्म का किस्सा भी बताती हैं. फिल्म थी ‘होगा तुमसे प्यारा कौन’. ट्रेन के ऊपर शूट कर रहे थे. गर्मी थी और वे अपना बेस्ट दिखने की कोशिश कर रहे थे. तभी पद्मिनी के स्कार्फ़ में आग लग गई. वे कहती हैं कि ऋषि एक असली हीरो की तरह उनकी तरफ भागे, और उन्हें बचाया.

उनकी फ़िल्मों के सेट पर एक मज़ेदार चीज़ होती थी ऋषि का खाने को लेकर जुनून.  नीतू घर से सेहतमंद पंजाबी खाना पैक करके फिल्म सेट पर भेजती थीं. वो खाना पद्मिनी को पसंद आता था और वो खाती थीं. और ऋषि खाते थे झींगे और मछली करी, जो पद्मिनी लेकर आती थीं. ऋषि के जाने के बाद पद्मिनी ने उनके बच्चों रणबीर और रिद्धिमा के लिए प्यार भेजा है.

2. पूनम ढिल्लों‘कैमरा चालू होते ही किरदार में बदल जाते थे’

पूनम को याद ही नहीं कि ऋषि के साथ कुल कितनी फिल्में की. ‘एक चादर मैली सी’, ‘सितमगर’, ‘ज़माना’, दोस्ती दुश्मनी’ के अलावा बहुत सी फिल्में. पूनम ने मिड डे से बातचीत में बताया कि उस समय ऋषि अकेले ऐसे स्टार थे, जिन्हें नौसिखियों के साथ काम करने से ऐतराज़ नहीं था.

“मैं उन्हें कहती थी कि आपका नाम तो गिनीज़ बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में होना चाहिए. इतनी इतनी सारी नई हीरोइन के साथ काम करने के लिए. उन्हें उन सबके नाम याद रहते थे. कई बार सोचते कि उनमें से कुछ हीरोइन कहां गायब हो गईं. वे एक नेचुरल एक्टर थे, जो यूनिट के साथ हंसी-मज़ाक करते रहते. लेकिन जैसे ही कैमरा चालू होता, वे अचानक से किरदार में ढल जाते.”

पूनम ने भी उनके चटोरेपन के बारे में बताया. कहा कि कपूर खानदान के बाकी लोगों की तरह उन्हें भी खाने का शौक था. जब भी वे आर.के. स्टूडियो जाती थीं, उनके आगे ढेर सारा खाना लगा दिया जाता था. जब अमेरिका में ऋषि का इलाज चल रहा था, तब भी उनकी बातें होती रहती थीं. वे वापस इंडिया आए तो उनका मिलना हुआ. वे इस बात को भी नहीं छुपाते थे कि उन्हें पीना पसंद है. उनकी पत्नी एक्ट्रेस नीतू ध्यान रखतीं कि वे सेहतमंद खाना खाएं. लेकिन वे चुपके से बाकी चीज़ें खा लेते. बच्चों जैसी आदत थी उनकी.

3. जूही चावला ‘उनकी बहुत याद आएगी मुझे’

जूही ने ऋषि के साथ ‘ईना मीना डीका’, ‘घर घर की कहानी’ और ‘घर की इज़्ज़त’ जैसी फिल्मों में काम किया था. वे बताती हैं कि ‘चिंटू जी’, यानि ऋषि कपूर बहुत आसानी से एक्टिंग करते थे. कभी रिहर्सल नहीं करते थे, और डायरेक्टर हमेशा उनके पहले ‘टेक’ से ही खुश हो जाते थे. बाद में जूही ने उनके साथ ‘बोल राधा बोल’ और ‘साजन का घर’ जैसी फिल्मों में काम किया. उस समय सेट्स पर अपने अनुभव को याद करती हैं –

“चिंटू जी और मैं सेट्स पर स्क्रैबल खेलते थे. मैं अच्छा खेलती थी, लेकिन वे कुछ ज़्यादा ही. अक्सर मुझे हरा देते थे. फिर भी मैं जीतने की कोशिश करती रहती.”

Rishi Kapoor Ghar Ki Izzat Sets
‘घर की इज़्ज़त’ के सेट्स पर जितेंद्र, जूही और ऋषि (फोटो: मूवीज़ एन मेमरीज़ ट्विटर)

ऋषि कपूर ने आखिरी बार ‘शर्मा जी नमकीन’ फिल्म में काम किया. इसे फरहान अख्तर की कंपनी ‘एक्सेल एंटरटेनमेंट’ ने प्रोड्यूस किया है. हितेश भाटिया डायरेक्ट कर रहे थे. दिल्ली में शूटिंग चल रही थी, जब ऋषि बीमार हो गए. उसके बाद कोरोना की वजह से लॉकडाउन हो गया. अब लगता है कि शायद फिल्म बंद करनी पड़े, या दोबारा शूट करनी पड़े. इस फिल्म में भी ऋषि के साथ जूही चावला थीं. उन्होंने बताया कि प्रोड्यूसर हनी त्रेहान पूरी कास्ट और टीम के आगे एक स्क्रिप्ट रीडिंग चाहते थे. पहले तो ऋषि इसके लिए खुश नहीं थे. तैयार नहीं थे. लेकिन फिर मान गए. और स्क्रिप्ट इतनी मज़ेदार थी, कि वे आखिर तक बैठे रहे.

जूही ने मिड डे को बताया कि मार्च की शुरुआत में एच.के. हॉस्पिटल में उनसे आखिरी बार मिलीं. जहां ऋषि रूटीन ट्रीटमेंट के लिए आए हुए थे. उनके जाने पर याद करते हुए कहा –

“कुछ दिन पहले सोचा था, कि उनका हालचाल पता करूं. आज सुबह उनके चले जाने की खबर सुनी. बहुत धक्का लगा. उनके साथ मेरी बहुत सी अच्छी यादें हैं. उनके साथ सेट्स पर कितना हंसी हूं. उनकी बहुत याद आएगी मुझे.”


वीडियो देखें – ऋषि कपूर के साथ तस्वीर शेयर करते हुए लता ने भावुक कर दिया  

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

पॉलिटिक्स और डिप्लोमेसी वाला खेल है Among Us.

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.