Submit your post

Follow Us

हाउसफुल 4 : मूवी रिव्यू

251
शेयर्स

क्लाइमेक्स चल रहा है. अक्षय कुमार के किरदार को पीछे से चार चाकू लगे हुए हैं. इसी हालत में वो दौड़ रहे हैं, हंस रहे हैं, हिरोइन के गले लग रहे हैं और खूब कॉमेडी कर रहे हैं. या करने की कोशिश कर रहे हैं. ये सीन फिल्म का न तो इकलौता न सबसे ज़्यादा असंभव सा लगने वाला सीन है.

# कहानी-

हैरी (अक्षय कुमार), रॉय (रितेश देशमुख) और मैक्स (बॉबी देओल) लंदन में रहते हैं. तीनों को माइकल (शरद केलकर) नाम के डॉन के रुपए चुकाने हैं. और इसलिए वो अमीर बाप की बेटियों से शादी करने का प्लान बनाते हैं. लड़कियों के पिता ठकराल (रंजीत) जब इस रिश्ते को अप्रूव कर देते हैं, तो सब शादी के लिए इंडिया के सीतमगढ़ नाम के काल्पनिक शहर आते हैं. यहां पर इन सभी का पिछला जन्म इनके वर्तमान को प्रभावित करने लगता है. पिछला जन्म यानी 600 साल पुराना फ़्लैशबैक. इसी सब में कहीं सिचुएशनल और कहीं स्लैप-स्टिक कॉमेडी का पुनर्जन्म होता है और मूवी अपनी परिणति यानी क्लाइमेक्स को प्राप्त होती है.

अक्षय कुमार को फिल्म में चार चाकू लगते हैं और फिर भी वो हिरोइन के पीछे भागते दिखते हैं.
अक्षय कुमार को फिल्म में चार चाकू लगते हैं और फिर भी वो हिरोइन के पीछे भागते दिखते हैं.

# कॉमेडी की मात्रा-

‘लाफ्टर रॉयट’, ‘लाफ्टर राइड’ जैसे अंग्रेज़ी के मेटाफर उन फिल्मों को दिए जाते हैं, जो आपको हंसा-हंसाकर लोटपोट कर दें. ‘हाउसफुल 4’ में ऐसा नहीं है. अगर आप ट्रैक रखना चाहें, तो पौने तीन घंटे के लगभग की इस फिल्म में आप गिनकर बता सकते हैं कि कितने इंस्टेंट या कितने सीन ऐसे हैं जो आपको हंसाने का माद्दा रखते हैं.

’20 के बाद क्या आता है 21’ या ‘माइ-कल आने के बदले आज आ गया’ टाइप के पुराने या बहुत ही लेज़ी से पंचेज़ और उनका दूर-दूर छितरा होना हाउसफुल 4 को ‘कॉमेडी’ के लिहाज़ से बहुत ही औसत फिल्म बना देता है. राणा दग्गुबती के पिछले जन्म का कैरेक्टर है, जो बोलता है- ‘गामा मारेगा’. अब इस जन्म में वो गायक है, तो बोलता है ‘गा मा मा रे गा’. ये और इस जैसे ‘पन’ किसी स्टेंडअप कॉमेडी में अच्छे लगते हैं, किसी बिग बजट मूवी में नहीं. क्यूंकि इनको एप्रिशिएट करके ताली तो बजाई जा सकती है, लेकिन इनमें ‘लाफ्टर रॉयट’ वाली बात नहीं होती.

फिल्म के एक सीन में राणा दग्गुबती.
फिल्म के एक सीन में राणा दग्गुबती.

# रिविज़न-

कई जगह रेफरेंसेज़ अच्छे हैं. जैसे, बॉबी देओल के पिछले जन्म के करैक्टर का नाम ‘धर्मपुत्र’ होना. या जैसे, नवाज़ुद्दीन का स्पेशल एपीयिरेंस वाला किरदार, जो भूत पकड़ता है, का नाम ‘रामसे बाबा’ होना. और जैसे, उनके करैक्टर का ‘अपुनिच भगवान है’ बोलना. साथ में जैसे, ‘बाहुबली’ के एक गीत की पैरोडी. लेकिन ये और ऐसे बाकी सारे रेफरेंसेज़ कॉमेडी की तरह ही शॉर्ट लिव्ड हैं.

बॉबी देओल के पिछले जन्म के करैक्टर का नाम ‘धर्मपुत्र है.
बॉबी देओल के पिछले जन्म के करैक्टर का नाम ‘धर्मपुत्र है.

# कॉपी राईट-

स्क्रिप्ट की एक दिक्कत ये है कि अक्षय कुमार ने जो ‘बाला’ नाम का किरदार निभाया है, ‘दी डिक्टेटर’ मूवी में साशा बारन कोयन के किरदार ‘सुप्रीम लीडर अल्लादीन’ की ट्रू कॉपी है. फिर भी न तो उसके दसवें हिस्से के बराबर फनी है और न उसके सौवें हिस्से के बराबर व्यंगात्मक. लेकिन ये स्क्रिप्ट की न तो इकलौती और न सबसे बड़ी दिक्कत है. स्टेचू ऑफ़ लिबर्टी से भी ऊंची तो इस मूवी की सिनेमेटिक लिबर्टी है जहां से देखने पर लॉजिक का बड़ा सा समुद्र भी घिसी-पीटी कॉमेडी वाली तलैया लगता है. फरहाद सामजी के डायरेक्शन का हाल दिवाली की सोन पापड़ी सरीखा है. यानी कॉपी करना ही राईट है.

फिल्म में सेट अच्छे बने हैं और यही फिल्म की सबसे अच्छी बात है.
फिल्म में सेट अच्छे बने हैं और यही फिल्म की सबसे अच्छी बात है.

# एक्टिंग-

अक्षय कुमार की टाइमिंग अच्छी है. वही रितेश देश्मुख का भी फोर्टे है. बॉबी देओल को ‘जॉन स्नो नोज़ नथिंग’ टाइप का ये किरदार सूट करता है. तीनों फीमेल आर्टिस्ट में डिफरेंशिएट करना मुश्किल है. न केवल चेहरे-मोहरे और फिजिक के चलते बल्कि उनकी एक्टिंग के चलते. न ही कोई एक्सेप्शनल है, न ही कोई बिलो एवरेज. चंकी पांडे के हिस्से एक भी पंच नहीं आया है. रंजीत का रोल भी ‘स्पेशल एपियरेन्स’ वाली कैटेगरी में आता है. चाहे ये बात ऑफिशियली न कही गई हो. जॉनी लीवर अपने दोनों रोल्स में प्रभावित करते हैं. पहले विंस्टन चर्चगेट के किरदार में, जो शशी थरूर के लेवल की अंग्रेज़ी बोलता है, फिर एक ‘ट्रांसजेंडर’ टाइप किरदार में, जो एक लंबे सिंगल टेक शॉट में कई राज़ खोलता है. नवाज़ अपने स्पेशल एपीयरेन्स को ‘जस्टिफाई’ करके जाते हैं.

बाबी का किरदार ‘जॉन स्नो नोज़ नथिंग’जैसा लगता है.
बाबी का किरदार ‘जॉन स्नो नोज़ नथिंग’जैसा लगता है.

# म्यूज़िक डिपार्टमेंट-

‘बाहुबली’ के ‘गली गली तेरी लौ जली’ गीत की पैरोडी और ‘देव डी’ के ‘इमोशन अत्याचार’ की हल्की सी बानगी के अलावा इस फिल्म में कुल 5 और गीत हैं. ‘बदला’ और ‘भूत’ गीत के लिरिक्स क्रिएटिव लगते हैं लेकिन एल्बम में न तो म्यूज़िक के लिहाज़ से कोई ऐसा गीत है जो डिस्कोथेक में सुनाई दे जाए और न लिरिक्स के लिहाज़ से ऐसा, जो इयरफोन लगाकर लूप में सुना जाए. भूत वैसे भी एक तेलुगु मूवी ‘खिलाड़ी नंबर 150’ के गीत ‘अम्माडू, लेट्स डू कम्माडू’ का ऑफिशियल रिमेक है.

‘बाहुबली’ के ‘गली गली तेरी लौ जली’ गीत की पैरोडी बना दी है फिल्म में.
‘बाहुबली’ के ‘गली गली तेरी लौ जली’ गीत की पैरोडी बना दी है फिल्म में.

कोरियोग्राफी की बात की जाए तो ‘भूत’ गाना देखते वक्त श्रीदेवी का ‘कोई बताए, समझ में न आए’ गाना याद आ जाता है, ‘चालबाज़’ का. फर्क सिफ इतना है कि उसमें श्रीदेवी के फेशियल एक्सप्रेशंस का जलवा था. इसमें फूहड़ता है. वहीं ‘दी डिक्टेटर’ में अलादीन के करैक्टर को ही नहीं उसके एक स्टेप को भी ‘शैतान का साला’ गीत की कोरियोग्राफी में भी कॉपी कर लिया गया है.

# स्पेशल इफ़ेक्ट-

स्पेशल इफ़ेक्ट इस मूवी का सबसे स्ट्रॉन्ग डिपार्टमेंट है. इसलिए क्यूंकि ये ‘क्रिएटिविटी’ से ज़्यादा ‘क्राफ्टमेनशिप’ मांगता है. इसीलिए कंप्यूटर ग्राफिक्स, वीएफएक्स या क्रोमा जैसी चीज़ों का परफेक्शन मूवी के बजट के सापेक्ष बढ़ता जाता है. फिल्म शुरु होने से पहले क्रेडिट्स वाले पार्ट में स्पेशल इफ़ेक्ट इतने अच्छे हैं कि गेम ऑफ़ थ्रोंस की याद दिलाते हैं. महल, गुफा, सेना सब कुछ बेहतरीन और असली दिखते हैं.

स्पेशल इफ़ेक्ट इतने अच्छे हैं कि गेम ऑफ़ थ्रोंस की याद दिलाते हैं.
स्पेशल इफ़ेक्ट इतने अच्छे हैं कि गेम ऑफ़ थ्रोंस की याद दिलाते हैं.

# ओवरऑल फील-

दिवाली की छुट्टियां. एक हिट हो चुकी फ़्रेन्चाइज़ ‘हाउसफुल’ की चौथी क़िस्त. अक्षय कुमार जैसा सुपर स्टार और कॉमेडी. इन सब के साथ मूवी बनाना प्रोड्यूसर्स के लिए ऐसा ही है जैसे इंडिया नेपाल क्रिकेट मैच में इंडिया पर सट्टा लगाना. मतलब कैलकुलेटेड रिस्क.

फिल्म कैसी है वो तो आप तय करिए, लेकिन ये तय है कि पैसे तो वसूल नहीं ही होंगे.
फिल्म कैसी है वो तो आप तय करिए, लेकिन ये तय है कि पैसे तो वसूल नहीं ही होंगे.

बनाती होंगी स्क्रिप्ट, एक्टिंग, स्क्रीनप्ले, कोरियोग्राफी जैसी चीज़ें किसी मूवीज़ को कालजयी. लेकिन जो मूवी पूरी तरह कॉमर्शियल टारगेट्स को पूरा करने के लिए बनाई गई हो, उसे इन सब कसौटियों में कसना, मूवी के साथ अन्याय होगा. इसलिए सवाल सिर्फ ये कि क्या ये मूवी प्रोड्यूसर्स के साथ-साथ दर्शकों के लिए भी पैसा वसूल है? और उत्तर है- नहीं.


Video: ‘मेड इन चाइना’ फ़िल्म रिव्यू

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो 8 कंटेस्टेंट जो 'बिग बॉस' में आए और सलमान खान से दुश्मनी मोल ले ली

लड़ाईयां जो शुरू घर से हुईं लेकिन चलीं बाहर तक.

जॉन अब्राहम की फिल्म का ट्रेलर देखकर भूतों को भी डर लगने लगेगा

'पागलपंती' ट्रेलर की शुरुआत में जो बात कही गई है, उस पर सभी को अमल करना चाहिए.

मुंबई में भी वोट पड़े, हीरो-हिरोइन की इंक वाली फोटो को देखना तो बनता है बॉस!

देखिए, कितने लाइक्स बटोर चुकी हैं ये फ़ोटोज.

जब फिल्मों में रोल पाने के लिए नाग-नागिन तो क्या चिड़िया, बाघ और मक्खी तक बन गए ये सुपरस्टार्स

अर्जुन कपूर अगली फिल्म में मगरमच्छ के रोल में दिख सकते हैं.

जब शाहरुख की इस फिल्म की रिलीज़ से पहले डॉन ने फोन कर करण जौहर को जान से मारने की धमकी दी

शाहरुख करण को कमरे से खींचकर लाए और कहा- '' मैं भी पठान हूं, देखता हूं तुम्हें कौन गोली मारता है!''

इस अजीबोगरीब साइ-फाई फिल्म को देखकर पता चलेगा कि लोग मरने के बाद कहां जाते हैं

एक स्पेसशिप है, जो मर चुके लोगों को रोज सुबह लेने आता है. लेकिन लेकर कहां जाता है?

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

आज अपना 62 वां बड्डे मना रही हैं मीरा नायर.

अगर रावण आज के टाइम में होता, तो सबसे बड़ी दिक्कत उसे ये होती

नम्बर सात पढ़ कर तो आप भी बोलेंगे, बात तो सही है बॉस.

राज कुमार के 42 डायलॉगः जिन्हें सुनकर विरोधी बेइज्ज़ती से मर जाते थे!

हिंदी सिनेमा में सबसे ज्यादा अकड़ किसी सुपरस्टार के किरदारों में थी तो वो इनके.

ऋतिक-टाइगर की 'वॉर' ने कमाई के रिकॉर्ड्स की झड़ी लगा दी

'वॉर' इत्ते झंडे गाड़ेगी ऋतिक-टाइगर, डायरेक्टर-प्रोड्यूसर किसी ने नहीं सोचा होगा.