Submit your post

Follow Us

हाउस अरेस्ट: मूवी रिव्यू

5
शेयर्स

हाउस अरेस्ट का बेसिक कॉन्सेप्ट एक शब्द का है. और वो शब्द है ‘हिकिकोमोरी‘.

हिकिकोमोरी एक जापानी कॉन्सेप्ट है. जापान के लोग, खासतौर पर युवा अपने को कई दिनों, महीनों या सालों तक घर में बंद कर लेते हैं. वो कहते हैं न भीड़ में रहकर अकेला होना, बस वही है हिकिकोमोरी. नेटफ्लिक्स पर 15 नवंबर को रिलीज़ हुई मूवी ‘हाउस अरेस्ट’ इसी हिकिकोमोरी का इंडियन या फिर कहें कि दिल्ली वाला वर्ज़न है. और इसलिए ही मूवी में हिकिकोमोरी शब्द बार-बार आता है और आपको याद हो जाता है. एक बार तो इसका डिस्टॉर्टेड वर्ज़न भी- हकूना-मटाटा.

# कहानी क्या है-

करण को लगभग 9 महीने हो गए हैं घर में बंद हुए. पहले तो लगता है कि इसके पीछे कोई खास मोटिव नहीं है, बस दुनिया से दूर रहने के लिए उसने ऐसा किया है. लेकिन मूवी एंड होते-होते उसके घर में बंद रहने के पीछे की असली वजह भी सामने आ जाती है.

खैर इन 9 महीनों में भी वो घर में सिंगल तो है, पर लोनली नहीं. खास तौर पर जिन 24 घंटों में मूवी की कहानी घटती है, उसमें उसके घर के भीतर और बाहर बहुत सी ऐसी घटनाएं होती हैं, जिनका सेंट्रल कैरेक्टर करण ही रहता है. इस दौरान उसके बचपन के दोस्त जेडी के बहुत से कॉल आते हैं. जेडी, जो उसे किसी न किसी तरह घर से बाहर निकालने पर आमादा है. उसकी पड़ोसन पिंकी उसके घर में आती है. अपने लंबे चौड़े बाउंसर के साथ जिसकी फिजिक खली टाइप की है. पिंकी, पिंक कलर से हद ऑब्सेस्ड है और इसलिए ही उसके सारे कपड़े पिंक कलर के हैं. पिंकी ऑलमोस्ट धमकाकर, ज़बरदस्ती करण के घर में एक बेबी-पिंक कलर का सूटकेस रख जाती है. जिसके अंदर लाश है. उधर जेडी करण के घर में ज़बरदस्ती एक जर्नलिस्ट भेज देता है. जर्नलिस्ट जिसने एक साल जापान में अंग्रेज़ी पढ़ाई है और अब हिकिकोमोरी पर रिसर्च कर रही है. नाम है सायरा.

लाश, जो ज़िन्दा है!
लाश, जो ज़िन्दा है!

इन सबके बीच कुछ पुलिसवाले, कुछ गून्स, पता कन्फ्यूज़ कर गए डिलीवरी बॉयज़, नीचे एक सिक्योरिटी गार्ड और कामवाली जैसे छोटे बड़े कैरेक्टर्स उसके घर, उसकी दहलीज या उसके अपार्टमेंट में आते-जाते रहते हैं. इस सब कैरेक्टर्स से दो-चार होने के बाद, करण की ज़िंदगी का एक पूरा दिन बीत जाता है और अंततः मूवी ‘रोमांटिक नोट’ पर एंड हो जाती है.

# एक्टिंग-

करण बने हैं अली फज़ल, मिर्ज़ापुर के ‘गुड्डू पंडित’. जहां मिर्ज़ापुर में उनकी एक्टिंग की काफी तारीफ़ हुई थी लेकिन फीडबैक ये भी आया था कि अपनी मासूमियत को नहीं छुपा पाए, वहीं ‘हाउस अरेस्ट’ में वो अपनी ‘गुड्डू पंडिताई’ नहीं छुपा पा रहे लगते हैं. बेशक एक्टिंग यहां भी बुरी नहीं है. रिपोर्टर सायरा बनी श्रिया पिलगांवकर ने अच्छी परफोर्मेंस दी है. जिम सरभ को कई वेब सीरीज़ और वेब मूवीज़ में देखकर लगता है कि वो एक टाइप के रोल में टाइपकास्ट हो गए हैं. अर्बन एल्फा मैन. रिच. स्पॉइल्ड. पिंकी बनी बरखा सिंह को ओवर एक्टिंग करनी थी और ओवर एक्टिंग करने की एक्टिंग उन्होंने अच्छी की है.

# दूर से देखा मौसम हंसी था-

‘बदला’, ‘भेजा फ्राई’ और ‘पीहू’ जैसी कई ऐसी मूवीज़ आईं हैं, जिनकी पूरी स्क्रिप्ट या उसका बहुत बड़ा पार्ट एक रूम या एक सेटअप में शूट हुआ है. ऐसी मूवीज़ का सबसे बड़ा स्टार कोई एक्टर या एक्ट्रेस नहीं बल्कि स्क्रिप्ट होती है. क्यूंकि अगर स्क्रिप्ट क्रिस्प और इंगेजिंग नहीं हुई तो फिर वो इतनी (फीचर फिल्म के बराबर की) लंबी लेंथ को जस्टिफाई नहीं कर पाएगी. साथ ही अपने सेटअप के चलते एक ‘नाट्य मंचन’ की तरह भी लगेगी.

इसलिए इस तरह के प्रोजेक्ट में हाथ लगाना एक नंगी तलवार पर चलने सरीखा है. और ‘हाउस अरेस्ट’ के डायरेक्टर्स स्मित बासु और शशांक घोष ऐसा करने में पूरी तरह असफल रहे हैं. फिल्म एक ऐसी च्युइंग गम है जो दस मिनट बाद ही टेस्टलेस हो जाती है, फिर आपकी मर्ज़ी है कि आप इसे बाकी बचे डेढ़ घंटे चबाना चाहते हैं या नहीं.

‘हिकिकोमोरी’ नाम का कॉन्सेप्ट एक मूवी के बेसिक प्लॉट के लिहाज़ से तो बहुत अच्छा है, लेकिन फिर? उसके आगे?

जापान में ट्रेंड बन चुका है हिकिकोमोरी.
जापान में ट्रेंड बन चुका है हिकिकोमोरी.

और इसी सवाल के उत्तर न मिल पाने के चलते शुरू में मूवी अपने यूनिक कॉन्सेप्ट की वजह से आपको अपनी ओर खींचती तो है लेकिन फिर आपको ‘दूर से देखा’ वाले बचपन के राइम को दोहराने का मन होता है.

# ये कहां आ गए हम-

जहां बड़े पर्दे की स्क्रिप्ट्स छोटे शहरों और ‘रियल्टी’ की तरफ मुड़ रही हैं, वहीं वेब बेस्ड कंटेंट, एक नीटनेस की तरफ. एक नकलीपन की तरफ. ये लार्जर दैन लाइफ बेशक न हो, लेकिन इतने चमकदार और ग्लिटरिंग हैं कि आखें चौधियां जाती हैं. ‘मेड इन हेवन’, ‘परमानेंट रूममेट्स’, ‘फोर मोर शॉट्स प्लीज़’ के बाद ये एक और कंटेट है जिसमें आपको घर, घर नहीं फाइव स्टार होटल लगता है. खाने को खाना नहीं कोई फ्रेंच नाम देने का मन करता है. ‘आला कार्टे’. ‘कार्टे दी ज़ोर’. रिलेशन टिंडरमय हैं तो बचपन की दोस्ती टू प्रोफेशनल. ये सब कुछ टू अनरियलिस्टिक है. टू अनबिलिवेबल है.

वो जो छोटे शहरों के बैकड्रॉप पर बनी फिल्म्स का एक शहरी फ्लेवर होता है, ‘हाउस अरेस्ट’ टाइप के कॉन्टेंट में मिसिंग रहता है. इसमें आपको दिल्ली कहीं नहीं दिखेगी. करण की कामवाली बाई तक मुंबई की कामवाली का फील देती है.

# ऐब्स्ट्रैक्ट और एवरेज के बीच की फाइन लाइन-

इस मूवी को देखने के बाद आपको पता चल जाएगा कि बिलकुल सेम स्क्रिप्ट होते हुए ट्रीटमेंट और डायरेक्शन के डिफ़रेंस से कैसे एक मूवी कल्ट आर्ट हाउस मूवी और दूसरी एक दोयम या औसत मूवी बनकर रह जाती है. लाश का ज़िन्दा हो जाना या किसी का घर में आकर ऐसे ही कोई ‘पैकेट’ रख जाना, या किसी का पिंक के प्रति इतना ऑब्सेशन. ये सब बेशक रियल्टी में न होता हो. लेकिन अगर इनका ‘जादुई’ ट्रीटमेंट किया जाता तो एक अलग ही ऐब्स्ट्रैक्ट चीज़ बाहर निकलकर आती. जिसमें ह्यूमर भी होता और दर्शन भी. अनुराग कश्यप की ‘नो स्मोकिंग’ या स्टेनली क्यूब्रिक की ‘डॉक्टर स्ट्रेंजलव’ की तरह. या काफी हद तक ‘जाने भी दो यारों’ के द्रौपदी चीर हरण वाले, थोड़ा खाओ थोड़ा फैंको टाइप के सीन्स की तरह.

# एक नया कॉन्सेप्ट-

वैसे इस फिल्म में एक नया सा कॉन्सेप्ट देखने को मिला, जिसने मुझे प्रभावित किया. जब करण को किसी का फोन आता है तो स्क्रीन दो भागों में बंटने के बजाय या फिर दोनों बंदों को एक-एक करके दिखाने के बजाय करण के घर में ही दूसरे बंदे का सेटअप लग जाता है. एज़-इफ वो बंदा करण के पास ही बेड में सोया हो.

इस सीन (तस्वीर) को देखकर आपको लग रहा होगा कि दोनों करैक्टर्स अगल बगल में हैं. लेकिन दरअसल दोनों करैक्टर्स कॉल पर हैं.
इस सीन (तस्वीर) को देखकर आपको लग रहा होगा कि दोनों करैक्टर्स अगल बगल में हैं. लेकिन दरअसल दोनों करैक्टर्स कॉल पर हैं.

# नेटफ्लिक्स को ये क्या हो गया-

पहले ‘ड्राइव’ और फिर ये ‘हाउस अरेस्ट’. पूरी दुनिया के लिए उम्दा कॉन्टेंट बनाने वाला नेटफ्लिक्स हम भारतीयों के साथ सौतेला व्यवहार क्यूं कर रहा है, समझ से बाहर है. ऑल्ट बालाजी की अपनी एक अलग फैन फॉलोइंग है, उसे केटर करने के विचार को नेटफ्लिक्स जितनी ज़ल्दी त्याग दे उतना ही हम दर्शकों के साथ न्याय होगा, दर्शक खुश होंगे तो नेटफ्लिक्स को खुद तो फायदा होगा ही.


वीडियो देखें:

‘सैटेलाइट शंकर’ फिल्म रिव्यू: ऐसी एक्सपेरिटमेंट कोशिश जो सफलता-असफलता के बीच कोशिश ही बनकर रह जाती है-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

अंग्रेजों से गुरिल्ला युद्ध लड़ने वाले आदिवासी नायक जिनकी जान कॉलरा ने ले ली

कहानी झारखंड के सबसे बड़े हीरो की, जिसने 25 साल में ही दुनिया छोड़ दी थी.

10 बातें, जिनसे पता चलता है कि नरेंद्र मोदी, नेहरू के सबसे बड़े फॉलोवर हैं

आज नेहरू का हैपी बर्थडे है.

नोटबंदी के दौरान PM मोदी ने भी एक अफवाह उड़ाई थी, जानते हो क्या?

नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर पढ़िए वो 10 अफवाहें, जिन्होंने प्रेशर बनाए रखा.

वो 15 गाने, जिनके बिना छठ पूजा अधूरी है

पुराने गानों के बिना व्रत ही पूरा नहीं होता.

राग दरबारी : वो किताब जिसने सिखाया कि व्यंग्य कितनी खतरनाक चीज़ है

पढ़िए इस किताब से कुछ हाहाकारी वन लाइनर्स.

वो 8 कंटेस्टेंट जो 'बिग बॉस' में आए और सलमान खान से दुश्मनी मोल ले ली

लड़ाईयां जो शुरू घर से हुईं लेकिन चलीं बाहर तक.

जॉन अब्राहम की फिल्म का ट्रेलर देखकर भूतों को भी डर लगने लगेगा

'पागलपंती' ट्रेलर की शुरुआत में जो बात कही गई है, उस पर सभी को अमल करना चाहिए.

मुंबई में भी वोट पड़े, हीरो-हिरोइन की इंक वाली फोटो को देखना तो बनता है बॉस!

देखिए, कितने लाइक्स बटोर चुकी हैं ये फ़ोटोज.

जब फिल्मों में रोल पाने के लिए नाग-नागिन तो क्या चिड़िया, बाघ और मक्खी तक बन गए ये सुपरस्टार्स

अर्जुन कपूर अगली फिल्म में मगरमच्छ के रोल में दिख सकते हैं.

जब शाहरुख की इस फिल्म की रिलीज़ से पहले डॉन ने फोन कर करण जौहर को जान से मारने की धमकी दी

शाहरुख करण को कमरे से खींचकर लाए और कहा- '' मैं भी पठान हूं, देखता हूं तुम्हें कौन गोली मारता है!''