Submit your post

Follow Us

इतने भद्दे टीवी ऐड कि जी घिना जाए

अगर आपको लगता है सबसे चोमू विज्ञापन वो होते हैं जिनमें एक क्रीम आपको दूध जैसा सफेद करने का वादा करती है, या वो जिसमें एक बौराई लड़की किसी मर्द के पीछे उसके डिओडोरेंट की खुशबू से पगलाई भाग रही होती है, तो शायद आपने ये ऐड्स मिस कर दिए जिनके बारे हम अब बात करने वाले हैं. ये ऐड्स इतने घिनापे से भरे हुए हैं कि लगता है इन्हें बनाने वाले के पास जाएं. फिर हुसड़ के एक कंटाप धर दें. ऐसा कंटाप कि वो बहरा हो जाए. क्योंकि ये ऐड्स हद्द सेक्सिस्ट हैं.


 

1. हेड एंड शोल्डर्स शैम्पू

तो ये हैं जनाब जो बीवी का शैम्पू यूज करते करते बीवी जैसे ही हो गए हैं. इनकी मर्दानगी जा चुकी है और ये सास-बहू धारावाहिक देख कर आंसू बहा रहे हैं. विज्ञापन यह तो कह ही रहा है एक शैम्पू का ब्रांड आपका लिंग परिवर्तन करने की ताकत रखता है. पर जो बात दिमाग सड़ा देती है वो ये कि पत्नियों का काम सिर्फ घर बैठ कर, डेली सोप देखकर आंसू बहाना है. फुटबॉल जैसे खेल सिर्फ मर्दों के लिए बने हैं और अगर आप हेड एंड शोल्डर्स का मेंस शैम्पू यूज करेंगे तो कॉन्फिडेंस के साथ अपनी बीवी से रिमोट छीन सकेंगे. भइया इतना कुछ बता दिया तो यह भी बता देते कि मर्दाना और जनाना बालों में फर्क क्या है. अगला विज्ञापन देखने से पहले सभी मर्द ये नोट कर लें कि जापनी तेल और हेड एंड शोल्डर्स मेंस शैम्पू में बस विज्ञापन भर का फर्क है.


 

2. मदर डेरी दूध

मम्मी बच्चे के सामने पापा की ट्रॉफी तोड़ देने जैसे बड़े गुनाह को अपने सर ले लेती है जिससे बच्चे को ये सीख मिले कि मां तो है ही इसलिए कि पापा से डांट खा सके. और ये सीख ले कर बेटा आगे चल कर अपनी बीवी के साथ ऐसा ही बर्ताव करे. और पति तो ऐसे महापुरुष हैं कि पत्नी घर पर डस्टिंग भी करे, और कोई गलती हो जाए तो माफी की भी गुंजाइश न रहे. औरत एक अच्छी पत्नी की तरह चुप-चाप पति की बकवास सुने. और अंत में विज्ञापन सब कुछ जस्टिफाई कर देता है ये कह कर कि मां जैसा कोई नहीं, मानो मां तो वीनस ग्रह से बेवकूफ होने की ट्रेनिंग लेकर आई है.


 

3. क्लीन एंड ड्राई इंटिमेट वाश

‘गुप्त अंग की त्वचा को रखे क्लीन, सुरक्षित, और रंगत निखारे’. भाई क्लीन और सुरक्षित तो समझ में आता है, पर ‘गुप्त अंग’ की रंगत निखारने से रूठे हुए पति/बॉयफ्रेंड मान जाते हैं, ये तो नयी खबर है. कुल मिलाकर इस विज्ञापन में रिश्तों के खराब हो जाने का कारण पत्नी या गर्लफ्रेंड की वजाइना का साफ-सुथरा न रहना है. पर उसके लिए औरत नहा-धो सकती है. तो प्रोडक्ट का सेलिंग पॉइंट हुआ रंगत निखारना. तो अगर भारतीय विज्ञापनों की मानें तो पहले तो गोरी न होने के कारण लड़की की शादी नहीं होती. और अगर शादी हो जाए, तो वजाइना के गोरे न होने के कारण टूट सकती है. आर यू किडिंग मी?


 

4. एटीन अगेन वजाइना टाइटनिंग जेल

पिछले तीन विज्ञापन आपने पेशेंस के साथ देखे और पांचवे तक पहुंच सके, ये काबिल-ए-तारीफ है. पर एटीन अगेन जेल का विज्ञापन इतना दो कौड़ी का है, कि KRK के फिल्म रिव्यू भी उससे बेहतर लगेंगे. औरतों के चेहरे और वजाइना का गोरा होना ही काफी नहीं है, उनकी वजाइना 70 साल की उम्र तक वैसे ही दिखनी चाहिए जैसे 18 की उम्र में दिखती है. पति को ऑफिस और बच्चे को स्कूल भेजने के बाद भी, सास ससुर की सेवा करने के बाद भी जब पत्नी ‘वर्जिन’ फील करेगी, तब पति उसपर लट्टू हो जायेगा और रिश्ता पहले जैसा नया हो जायेगा. कुल मिलाकर पहले तो मां बनना औरत की नैतिक जिम्मेदारी है, फिर बच्चे के पैदा होने से ढीले पड़ गए वजाइनल मसल टिशूज को तंग रखना उसका फर्ज जिससे उसका रिश्ता नया सा रह सके. क्या घिनापा है भाई?


आपने भी कोई ऐसा ऐड देखा हो जो इतना सेक्सिस्ट हो कि टीवी में घुस के तमाचा मारने का मन किया हो, तो कमेंट बॉक्स में शेयर करिए. हम उसे अपनी लिस्ट में जोड़ लेंगे. :-)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.

फिल्म रिव्यू: लव आज कल

ये वाली 'लव आज कल' भी आज और बीते हुए कल में हुए लव की बात करती है.

शिकारा: मूवी रिव्यू

एक साहसी मूवी, जो कभी-कभी टिकट खिड़की से डरने लगती है.

फिल्म रिव्यू: मलंग

तमाम बातों के बीच में ये चीज़ भी स्वीकार करनी होगी कि बहुत अच्छी फिल्म बनने के चक्कर में 'मलंग' पूरी तरह खराब भी नहीं हुई है.