Submit your post

Follow Us

पापी पेट का फेरः सबसे बड़े पहलवान ने पहना घाघरा चोली

549
शेयर्स

खूबसूरत हीरोइनें जब गानों पर थिरकती हैं तो मर्दों की सांस अटक जाती है. लेकिन इन हीरोज ने लड़कियों के कपड़े पहन कर कमर मटकाई. नाज नखरे दिखाए तो कभी हंसी के फव्वारे छूटे. कभी राखी सावंत को सपनों में बुलाने वाले चालू टाइप मर्द लोग अपनी पसंद पर फिर से विचार करने लगे. चलो अब देखा जाए कि किन एक्टर्स ने कौन से गानों पर हीरो बटा हीरोइन का रोल किया:

1. जॉनी 'फर्स्ट कॉमेडियन' वाकर

सर जो तेरा चकराए या दिल डूबा जाए. तो कहीं न जा प्यारे इंटरनेट खंगाल रे. उसमें से छू मंतर फिल्म का गाना निकाल रे. जॉनी वाकर नाचती मिलेंगी सॉरी नाचते मिलेंगे. 1956 में ये पिच्चर आई थी.

2. किशोर 'कलाकार' कुमार

कोई भी उल्टी खोपड़ी वाला आइडिया उनकी ही खोपड़ी में आता था. हाफ टिकट आई थी 1962 में. इसके एक गाने में खुल के खुराफात दिखाई थी. 'आके सीधी लगी दिल पे जैसे कटरिया' वही खतरनाक गाना था जिसे किशोर कुमार ने हीरो हिरोइन दोनों के लिए गाया भी और हिरोइन बन कर नाचे भी. प्राण के सामने अगर भेद खुल जाता कि उनके सामने छमिया के रूप में छैला उचक रहा है तो उसके प्राण ही ले लेते. इसके बहुत पहले 1955 में. 'बाप रे बाप' फिल्म का एक गाना 'जाने भो दो जाना' में भी साड़ी ब्लाउज में आए.

 

3. शम्मी 'झटका' कपूर

शम्मी कपूर अपने झटकेदार डांस के लिए मशहूर रहे हैं. उनके डांस स्टेप्स को कॉपी करने के चक्कर में आदमी को कमर दर्द हो सकता है. शम्मी ने 1963 में आई 'ब्लफ मास्टर' में फीमेल कव्वाली सिंगर का किरदार निभाया. ऐसी नजाकत से नाचे कि देखने वाले भौंचकिया गए एकदम से.

4. दारा 'हनुमान' सिंह

दारा सिंह कुश्ती लड़ते लड़ते बन गए बजरंग बली. राक्षसों का नाश किया रामायण में. लेकिन एक बार ऐसा फंसे कि घाघरा चोली पहन 'पतली कमर नाजुक उमर' गाना पड़ा. 'लुटेरा' फिल्म आई थी 1965 में, उसी में ऐसा कर्रा नाचे हैं कि ठरकियों की आह निकल गई. अगर कोई गलती से प्रपोज कर बैठता तो धुंई हो जाता.

5. महमूद 'यक चतुर नार वाले'

बॉलीवुड के कॉमेडी किंग को उंगली पकड़ाने की जरूरत तो थी नहीं कि ऐसा करो वैसा करो. जो उनको बता दिया घुस गए उस रोल में. लेडी बन कर नाचने को कहा गया. किसी से कम नहीं थे. जमाय दिए धर के. 'हत्यारा' फिल्म के इस गाने में.

6. बिस्वजीत चटर्जी

1968 में इनकी पिच्चर आई थी किस्मत. गाना था- 'कजरा मोहब्बत वाला, अंखियों में ऐसा डाला'. गजबै उलटबांसी गाना था. बबिता कपूर मर्दों की ड्रेस झाड़े थी और बिस्वजीत नारी रूप में नाच रहे थे. अपने जमाने का आइटम नंबर था ये गाना.

7. शशि 'मेरे पास मां है' कपूर

हीरो तो चॉकलेटी थे ही लेकिन जब मौका रोल के लिए जेंडर चेंज करने का आया तो चॉकलेट से बन गए स्वीट कैंडी. एक ही गाने में हर तरह की लड़की का रूप धरे तो भगवान विष्णु भी टेंसन में आ गए कि मुझसे ज्यादा मोहिनी रूप तो शशि को सूट करता है. यह गाना था 'सुनो सुनो कन्याओं का वर्णन' हसीना मान जाएगी फिल्म में.

8. ऋषि 'स्वेटर शॉप' कपूर

पांच मिनट का गाना तो ठीक है लेकिन पूरी फिल्म में जब औरत बनकर बहादुरी दिखानी पड़े तो माहौल सीरियस हो जाता है. 1975 में रफूचक्कर में काम करने के बाद ऋषि कपूर को रिवाइज होकर मर्द बनने में कुछ दिन लग गए होंगे. उस फिल्म में वो गाना था न 'बॉम्बे से बड़ोदा' उसमें नाची भी थी, आई मीन नाचे भी थे.

9. बच्चन 'इलाहाबादी' अमिताभ

'मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है...' लावारिस का ये गाना सबने देखा सुना है. अमिताभ ने इसको अपनी भारी आवाज में गाते हुए अलग अलग तरह की औरतों का किरदार निभाया. उस गाने को देखते हुए आदमी सोचता है कि उसकी बीवी पतली, मोटी, काली, गोरी कुछ भी हो लेकिन वह इतनी मोटी आवाज में गाना न गाती हो.

10. 'सुनील दत्त के बिटुवा' संजय दत्त

संजय दत्त ने जब औरत के रूप में डांस किया होगा तो धरती कांप उठी आकाश रो पड़ा होगा. बड़ा मुश्किल लगता है न इमेजिन करना. लेकिन इस अनहोनी को भी सच कर दिया संजय ने फिल्म 'मेरा फैसला' में. 16 सिंगार करके एक औरत जैसी कुछ बन कर नाचे वो 'ओ अल्लाह मेरी लाज बचाना' गाने में. थैंक गॉड अल्लाह बचाने नहीं आए नहीं तो उनकी जान कौन बचाता.

11. कमल 'कमाल' हासन

कमल हासन ने कमाल किया चाची 420 में. पूरी फिल्म में चाचा को नचाने वाली चाची गाने भी गाती थी. जो गाना फेमस हुआ वो था 'जागो गोरी.' चाचा की आशिकमिजाजी और चाची की बेइमानी ने बहुत लोगों को झेलाया था.

12. 'परम गुस्सहिल' गोविंदा

गोविंदा ने औरतों के कपड़े पहनकर नारीत्व के सम्मान में चार चांद तो कई फिल्मों में लगाए हैं लेकिन एक फिल्म में तो हद कर दी आपने, मतलब साड़ी पहन कर नाचे भी. वो कौन सा गाना था यार...हां, 'अपने जिगर को थाम के बैठो.' 'आंटी नंबर वन' का ये गाना देखने के बाद तो जिगर, किडनी और फेफड़े सब थामने पड़ जाते हैं.

'3 इडियट्स में से एक' आमिर खान

'मिस्टर परफेक्शनिस्ट' को परफेक्ट बनने के लिए क्या क्या पापड़ नहीं बेलने पड़े. फिल्म 'बाजी' में परेश रावल के सामने कातिल डांसर बन कर नाचना पड़ा. नै वैसी बात नहीं है, कत्ल तो बाद में किया काहे कि परेश उस फिल्म में गुंडा बने थे. मोहिनी रूप में आमिर ने 'डोले डोले दिल डोले' पर परफॉर्म किया था.

सलमान 'भाई' खान

सलमान खान हर फिलिम में शर्ट फाड़ेंगे. भले फाड़ के उतारें या उतार के फाड़ें. उनके लिए तो औरत बनकर नाचना और मुश्किल रहा होगा 'दीदी तेरा देवर दीवाना' वाले गाने में. तभी तो कुछ ही सेकेंड के लिए जनाना कपड़े पहनकर प्रेग्नेंट बन गए.

'मां कसम' मिथुन

'रोटी की कीमत' पिच्चर का नाम. गाना 'आंखों से पी ले'. रोटी की कीमत से कई गुना थी फिल्म देखने की कीमत. लेकिन मिथुन को औरत बन कर नाचते देखना सपना था जिन लोगों का. वो तो जरूर गए होंगे. है कि नहीं.

रितेश देशमुख, सैफ और राम कपूर

रितेश देशमुख तो खैर बड़ी कंटरास खूबसूरत गर्ल का रोल कर चुके थे 'अपना सपना मनी मनी' में. लेकिन सैफ अली खान क्या सोच कर कूदे. और राम कपूर तो उफ... यही दिन देखना बदा था. तीनों औरत बनकर नाचे कूदे. और दिमाग का फ्यूज उड़ा दिया. फिल्म थी 'हमशकल्स' और गाना 'खोल दे दिल की खिड़की.'

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Bollywood heroes played heroine rolls

पोस्टमॉर्टम हाउस

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.

मूवी रिव्यू: दे दे प्यार दे

ट्रेलर देखा, फिल्म देखी, एक ही बात है.

क्या वाकई सलमान खान कन्हैया कुमार की बायोपिक में काम करने जा रहे हैं?

बताया जा रहा है कि सलमान इसके लिए वजन कम करेंगे और बिहारी हिंदी बोलना सीखेंगे.