Submit your post

Follow Us

क्या ये फोटो गुजरात से भाग रहे यूपी-बिहार के लोगों की है?

28 सितंबर को उत्तरी गुजरात के साबरकांठा में 14 महीने की एक बच्ची से बलात्कार हुआ. बच्ची का परिवार ठाकोर समुदाय का है. जिसके ऊपर रेप का इल्जाम है, वो हिंदी भाषी प्रदेश से आया एक आदमी है. इस घटना के बाद गुजरात में बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के लोग टारगेट किए जाने लगे. उन पर हमले हुए. उन्हें खदेड़ा गया. नतीजा, गुजरात में रहकर कमा-खा रहे इन राज्यों के लोग काम-काज छोड़कर भागने लगे. अब सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है. लोग कह रहे हैं कि ये फोटो देखकर उन्हें विभाजन का दौर याद आ रहा है.

्््
लोग कह रहे हैं कि उन्हें ये तस्वीर देखकर बंटवारे का दौर याद आ रहा है.

 

््
यूपी-बिहार के लोग हजारों की संख्या में गुजरात छोड़कर भाग रहे हैं. ये तस्वीर शेयर कर रहे लोगों का कहना है कि ये भी माइग्रेंट्स से भरी ट्रेन है.

क्या है ये वायरल पोस्ट?
खचाखच भरी एक ट्रेन की फोटो है. ट्रेन के अंदर इतनी भीड़ है कि गेट के बाहर भी ढेर सारे लोग लटके हुए हैं. ट्रेन की छत पर भी बहुत भीड़ है. लोगों का कहना है कि ये बिहार और यूपी के लोग हैं, जो गुजरात छोड़कर भाग रहे हैं. लोगों का कहना है कि स्थितियां उतनी ही खराब हैं, जैसी बंटवारे के समय थीं. जब खचाखच भरी ट्रेनें लोगों को लेकर इस पार से उस पार आ-जा रही थीं.

ये न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की फोटो है. इसके ऊपर 24 जुलाई, 2010 की तारीख है. ट्रेन में तीर्थयात्रियों की भीड़ थी.
ये न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की फोटो है. इसके ऊपर 24 जुलाई, 2010 की तारीख है. ट्रेन में तीर्थयात्रियों की भीड़ थी.

इस वायरल फोटो की असलियत क्या है?
ये तस्वीर गुजरात की नहीं है. न ही गुजरात से आ रही ट्रेन की है. न ही ये फोटो अभी की है. ये फोटो है 24 जुलाई, 2010 की. गुरु पूर्णिमा का मौका था. ये सारे लोग मथुरा के पास बसे गोवर्धन को आ रहे थे. वहां गुरु पूर्णिमा पर एक परिक्रमा होती है. दूर-दूर से लोग इसमें शरीक होने आते हैं. इस दौरान इधर आने वाली ट्रेनों में काफी भीड़ होती है. ऐसी ही एक भीड़ भरी ट्रेन ये भी थी, जिसकी फोटो ली रॉयटर्स न्यूज एजेंसी के लिए फटॉग्रफर के के अरोड़ा ने.

गुजरात वाले केस में क्या स्थिति है?
स्थितियां सच में खराब हैं. बाहर से आए मजदूरों की बस्तियों, झोपड़ियों और कारखानों को भी निशाना बनाया गया है. गुजरात से काफी संख्या में बिहार-यूपी के लोग भाग रहे हैं. इनकी संख्या हजारों में है. स्थितियां ज्यादा बिगड़ गईं, तब गुजरात सरकार सख्त हुई. अब तक वहां 400 से ज्यादा गिरफ्तारियां हो चुकी हैं. वहां हालात खराब हैं, मगर इतने खराब नहीं कि उसकी तुलना बंटवारे से की जाए. विभाजन के वक्त जो हुआ, वो शायद मानव इतिहास की सबसे खौफनाक त्रासदियों में से एक था. उसकी तुलना मिलना भी बहुत मुश्किल है.


क्या नरेंद्र मोदी की मां को ऑटो रिक्शा में अस्पताल जाना पड़ा?

वायरल फेसबुक वीडियो ने सिक्किम के संतोष की जिंदगी बदल दी

बहन का रेप करने पर हिंदू द्वारा मुस्लिम का सिर काटने का सच क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इबारत : शरद जोशी की वो 10 बातें जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

इबारत : सुमित्रानंदन पंत, वो कवि जिसे पैदा होते ही मरा समझ लिया था परिवार ने!

इनकी सबसे प्रभावी और मशहूर रचनाओं से ये हिस्से आप भी पढ़िए

गिरीश कर्नाड और विजय तेंडुलकर के लिखे वो 15 डायलॉग, जो ख़ज़ाने से कम नहीं!

आज गिरीश कर्नाड का जन्मदिन और विजय तेंडुलकर की बरसी है.

पाताल लोक की वो 12 बातें जिसके चलते इस सीरीज़ को देखे बिन नहीं रह पाएंगे

'जिसे मैंने मुसलमान तक नहीं बनने दिया, आप लोगों ने उसे जिहादी बना दिया.'

ऑनलाइन देखें वो 18 फ़िल्में जो अक्षय कुमार, अजय देवगन जैसे स्टार्स की फेवरेट हैं

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशन है अक्षय, अजय, रणवीर सिंह, आयुष्मान, ऋतिक रोशन, अर्जुन कपूर, काजोल जैसे एक्टर्स की.

कैरीमिनाटी का वीडियो हटने पर भुवन बाम, हर्ष बेनीवाल और आशीष चंचलानी क्या कह रहे?

कैरी के सपोर्ट में को 'शक्तिमान' मुकेश खन्ना भी उतर आए हैं.

वो देश, जहां मिलिट्री सर्विस अनिवार्य है

क्या भारत में ऐसा होने जा रहा है?

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

17 साल पहले रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने ज़लज़ला ला दिया था

4 फील गुड फ़िल्में जो ऑनलाइन देखने के बाद दूसरों को भी दिखाते फिरेंगे

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशंस हमारी साथी स्वाति ने दी हैं.

आर. के. नारायण, जिनका लिखा 'मालगुडी डेज़' हम सबका नॉस्टैल्जिया बन गया

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है