Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

अपने बच्चे को टिफिन में ये देने से पहले लाख बार सोचें

7.04 K
शेयर्स

हमें कई बार कहा जाता है फल खाया करो, फल खाया करो. ये चीज़ बचपन से कही जा रही है पर हमें कभी पिज्जा, बर्गर, चाट-पापड़ी के अलावा कुछ जमता ही नहीं है. शायद उसी का असर हमारे पेट पर नज़र आ रहा है. खैर, वो अलग बात है. जिस मामले को समझाने के लिए भूमिका तैयार की जा रही है वो ये है कि एक बच्चे की जान यही फल खाने के चक्कर में जाते-जाते बची है. पूरा किस्सा तफ्सील से समझाते हैं. पहले सांस ले लो.

गले में अंगूर फंसने की वजह से जान जाते-जाते बची

ऑस्ट्रेलियन महिला हैं एंजेला हेंडरसन. ब्लॉग लिखती हैं. ‘फिनली एंड मी’ के नाम से. उसे फेसबुक वाली जनता के लिए अवेलेबल करवाया हुआ है. इसी सोशल साइट पर एक पोस्ट डालकर उन्होंने ये जानकारी दी. हुआ ये कि पांच साल के अपने बच्चे को अंगूर के साथ उलझा कर वो खुद किसी काम में उलझी हुई थीं. बच्चा गटागट अंगूर गटक रहा था.

थोड़ी देर बाद मम्मी ने ये देखा कि बच्चा बहुत परेशान नज़र आ रहा था. उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. जल्दी-जल्दी हॉस्पिटल ले जाकर एक्स-रे वगैरह करवाया गया.

सांकेतिक तस्वीर.
सांकेतिक तस्वीर.

अंगूर कैसा होता है? गोल. एकदम स्मूथ टेक्सचर वाला. आसानी से फिसल जाता है. उस बच्चे को वो खाने में अच्छा लगा तो वो जल्दी-जल्दी खाने लगा. बिना चबाए. इसी जल्दी में एक अंगूर उसके विंड पाइप में फंस गया और उसे सांस लेने में दिक्कत होने लगी. एक्स-रे के बाद डॉक्टरों को पूरा मसला समझ आया. इसके बाद ऑपरेशन कर उसके गले से अंगूर निकाला गया.

बच्चे की विंड पाइप में फंसे अंगूर की एक्स-रे रिपोर्ट.
बच्चे की विंड पाइप में फंसे अंगूर की एक्स-रे रिपोर्ट.

ये बहुत बड़ी समस्या है

इस खबर को पढ़कर आपको ये लगा होगा कि ‘फ्रीक इंसीडेंट’ है, कभी-कभार होता होगा. लेकिन ऑस्ट्रेलियन ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स के मुताबिक गले में कुछ फंस जाने के कारण ऑस्ट्रेलिया में हर साल नौ साल से कम उम्र के तकरीबन 2,500 बच्चे हॉस्पिटल में भर्ती किए जाते हैं. इनमें से तीस हर साल मर जाते हैं. इसलिए जैसे ही एंजेला को इस बात का इल्म हुआ, उन्होंने फटाक से अपनी फेसबुक प्रोफाइल पर सबको ये जानकारी दे दी. उन्होंने लोगों को सलाह दी कि हर बच्चा अपना खाना चबाकर नहीं खाता. स्कूल और खेलने जाने की जल्दी में वो अपना खाना सीधे निगल जाते हैं. इसलिए आप अपने बच्चों के डायट से अंगूर या ऐसी कोई भी छोटी चीज़ हटा दें. और अगर देना ही चाहते हैं तो काटकर दें.

देखिए एंजेला का वो पोस्ट.
देखिए एंजेला का वो पोस्ट. इसके साथ उन्होंने अपने बच्चे की एक्स-रे भी पोस्ट की थी. वो आप ऊपर देख चुके हैं

ये बात सिर्फ ऑस्ट्रेलिया ही नहीं पूरी दुनिया के लिए सबक की चीज़ है. जो एंजेला के बच्चे के साथ हुआ वो किसी के भी साथ हो सकता है. इसलिए अपना और अपने बच्चों का ख्याल रखें.

स्वस्थ रहें. सुरक्षित रहें. जय हिंद.


ये भी पढ़ें:

फेसबुक के पोस्ट चोर तैयार रहें, अकाउंट खतम होने वाला है!

ये हीरोइनें पांव से बड़ी चप्पलें क्यों पहनती हैं?

इस लड़की ने अपनी उंगलियों से दोनों पुतलियां पकड़ीं और अपनी आंखें नोच लीं


वीडियो देखें:

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Grape chokes Australia boy’s wind pipe, Xray reveals

10 नंबरी

ये चार काम 2019 में नरेंद्र मोदी को फिर से पीएम बनाएंगे!

इन कामों को देखकर कहोगे, यही तो हैं अच्छे दिन.

150 साल पहले के काल में स्थित इस फिल्म में आमिर व अमिताभ ठग योद्धा बने हैं

फिल्म में 'दंगल' फेम फातिमा सना शेख़ भी हैं. यहां देखिए उनके और अमिताभ बच्चन के किरदारों के टीज़र.

रिलीज़ होने से 15 दिन पहले सलमान की बनाई इस फिल्म का नाम बदला गया है

इस फिल्म से आयुष और वारिना लॉन्च हो रहे हैं.

लकी अली के वो पांच गाने, जिन्हें अक्खा इंडिया गुनगुनाता है

लकी अली ने इंडियन पॉप म्यूजिक की नींव में ईंटे रखी हैं.

8 कहानियां, जो बताती हैं कि मुग़लों, तुर्कों के दौर में समलैंगिकता को लेकर कहीं ज़्यादा खुलापन था

एक नग्न फ़कीर को मृत्युदंड देने के दसियों कारण बताए और बनाए गए, लेकिन उसकी जगज़ाहिर समलैंगिकता को उन कारणों में कहीं जगह नहीं मिली.

अक्षय कुमार के साले साहब सनी देओल के साथ फिल्मों में एंट्री लेने जा रहे हैं

अक्षय कुमार की फिल्म डायरेक्ट कर चुके टोनी डिसूज़ा बना रहे हैं ये फिल्म.

अजय देवगन की अगली फिल्म का फर्स्ट लुक और रिलीज़ डेट दोनों ही आ गए हैं और आपको पता तक नहीं चला

'प्यार का पंचनामा' और 'सोनू की टीटू की स्वीटी' की जैसी फिल्में बनाने वाले भाई साब ये फिल्म बना रहे हैं.

पीएम मोदी किस ब्रांड के शौकीन हैं, आज जान लो

प्रधानमंत्री ब्रांड्स बहुत सोच समझकर चुनते हैं.