Submit your post

Follow Us

ये हैं PM मोदी के वो 7 प्लान, जिनके जरिए वो हर दिल पर छाकर 2019 जीत लेना चाहते हैं

406
शेयर्स

26 मई, 2014. यही वो दिन था जब नरेंद्र दामोदरदास मोदी ने प्रधानमन्त्री पद की शपथ ली थी. और इस तरह इस वीकेंड उनकी सरकार को चार साल पूरे होने जा रहे हैं. और इसी के चलते योजना है कि भाजपा, यानी नरेंद्र मोदी की पार्टी, 26 मई से 11 जून तक देश भर में अपनी उपलब्धियों का जश्न मनाएगी.

और उसके बाद लगभग एक साल बचेगा लोकतंत्र के सबसे बड़े उत्सव यानी आम चुनाव के होने में.

तो ये सरकार के चार साल पूरे होने की वर्षगांठ 2019 के चुनावों की पहली मार्केटिंग स्ट्रैटेजी की तरह भी देखी जा सकती है, जिससे भाजपा के पूरी इलेक्शन कैंपेन का रुख़ पता चलेगा.

इसी वर्षगांठ के चलते कल अमित शाह ने सबके सामने मोदी सरकार की उपलब्धियों का बखान किया. और साथ में उन योजनाओं को भी गिनाया जिसके चलते अमित शाह और नरेंद्र मोदी बीजेपी का सत्ता में वापस आना तय मान रहे हैं.

इसी दौरान अमित शाह जी ने ग्राम स्वराज अभियान की भी बात की. जिसमें 14 अप्रैल, 2018 से 05 मई, 2018 तक ग्राम स्वराज अभियान- सबका साथ, सबका गांव, सबका विकास कार्यक्रम आयोजित किया गया.

Gram Swaraj Abhiyaan

ग्राम स्वराज अभियान के दौरान 21,058 गांवों के लिए विशेष पहल शुरू की जा रही है. इन गांवों में उज्ज्वला योजना, मिशन इन्द्रधनुष, प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना, उजाला, प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का टारगेट पूरा किया जाएगा.

मतलब ये कि ऊपर बताई 7 योजनाएं पहले से ही अस्तित्व में हैं लेकिन अब होगा ये कि 21,058 गांवों में ये योजना फटाफट पूरी होगी. अबकी तो फंड भी अलॉट हो गए हैं.

बहरहाल ग्राम स्वराज अभियान के बुके में शामिल इन 7 योजनाओं की ज़मीनी स्तर पर क्या स्थिति है, इसके बारे में विवाद हो सकता है लेकिन कागज़ों में ये कैसी दिखती हैं? आइए जानते हैं –


# 1) मिशन इन्द्रधनुष

# उद्घाटन – 25 दिसंबर, 2014 (भारत रत्न, श्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के अवसर पर)
# ऑफिशियल वेबसाइट – http://www.missionindradhanush.in
# विभाग – स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण
# लक्षित नागरिक – बच्चे एवं उनके अभिभावक

Indradhanush

# उद्देश्य – केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने उन सभी बच्चों के लिए मिशन इन्द्रधनुष लॉन्च किया जिनको या तो टीके लगे ही नहीं हैं, या लगे भी हैं तो आंशिक यानी एक-दो. इस योजना के अंतर्गत सभी बच्चों को ‘सभी’ सात टीके लगाने का लक्ष्य है. इस लक्ष्य की मियाद 2020 है. मतलब ये कि मिशन इन्द्रधनुष लक्ष्य यदि पूरी तरह से सफल रहा तो 2020 तक सभी बच्चों को ये सात टीके लग चुके होंगे. ये सात टीके डिप्थीरिया, काली-खांसी, टीटनेस, पोलियो, तपेदिक और हेपेटाइटिस बी की रोकथाम के लिए लगते हैं.

# क्विक फैक्ट – हर साल 5 प्रतिशत या अधिक की दर से टीकाकरण करके इस लक्ष्य की पूर्ति करने का प्लान है.


# 2) उजाला योजना

# उद्घाटन – 01 मई, 2015 (मजदूर दिवस)
# ऑफिशियल वेबसाइट – http://www.ujala.gov.in/
# विभाग – विद्युत् मन्त्रालय
# लक्षित नागरिक – सभी. खास तौर पर निम्न और निम्न-मध्यवर्गीय परिवार.

Ujala

# उद्देश्य – उजाला, जो दरअसल ‘उन्नत ज्योति बाय अफोर्डेबल एलईडी फॉर ऑल’ का संक्षिप्तीकरण है, के तहत देश भर में एलईडी बल्ब के उपयोग को बढ़ावा देना है. इस योजना के तहत कम मूल्य में एलईडी बल्ब बांटे जाते हैं. सरकार का मानना है कि इस योजना की सफलता सरकार के एक दूसरे लक्ष्य को भी प्राप्त करने में मददगार होगी. वो दूसरा लक्ष्य है – हर घर में 24 घंटे बिजली.

# क्विक फैक्ट – 01 मई, 2015 से पहले भी यह योजना अस्तित्व में थी और इस योजना का नाम ‘बचत लैंप योजना’ था. मतलब कि रिश्ता वही, सोच नई.


# 3) उज्ज्वला योजना

# उद्घाटन – 01 मई, 2016 (मजदूर दिवस)
# ऑफिशियल वेबसाइट – http://www.pmujjwalayojana.in/
# विभाग – पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय
# लक्षित नागरिक – गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले परिवार. खास तौर पर इन परिवारों की महिलाएं.

Ujjawala

# उद्देश्य – इसके अंतर्गत गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों को मुफ़्त में एलपीजी कनेक्शन बांटे जाते हैं. इस योजना का उद्देश्य एलपीजी के उपयोग को बढ़ावा देना, महिला सशक्तीकरण, स्वास्थ्य और पर्यावरण की रक्षा करना है.

# क्विक फैक्ट – यह योजना मजदूर दिवस के दिन लॉन्च हुई थी और योजना का उद्घाटन करते हुए मोदी ने खुद को ‘श्रमिक नंबर वन’ बताया था.


# 4) जनधन योजना

# उद्घाटन – 28 अगस्त, 2014
# ऑफिशियल वेबसाइट – https://www.pmjdy.gov.in/
# विभाग – वित्त मंत्रालय
# लक्षित नागरिक – बैंकिंग, कैशलेस सेवाओं से वंचित परिवार

Jan Dhan Yojna

# उद्देश्य – ‘मेरा खाता, भाग्य विधाता’ टैगलाइन के साथ शुरू की गई इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश के सभी परिवारों को बैंकिंग सुविधाएं मुहैया कराना है.

इस योजना के अंतर्गत खाता धारकों को ऐसे बैंक खाते दिए जाते हैं जिसमें मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की आवश्यकता नहीं होती. उनके लिए RuPay डेबिट कार्ड जारी किए जाते हैं. उन्हें ₹ 1 लाख का दुर्घटना बीमा कवर मिलता है. खाता खुल चुकने के छह महीने बाद धारक बैंक से ₹ 5,000 ओवरड्राफ्ट के पात्र होते हैं.

साथ ही एनपीसीआई की सहायता से, मनी ट्रान्सफर, शेष राशि की जांच आदि एसएमएस से ही कर सकता है. मतलब स्मार्टफोन, इंटरनेट और ऐप की ज़रूरत नहीं पड़ती.

# क्विक फैक्ट – योजना के उद्घाटन के दिन ही 1.5 करोड़ बैंक खाते खुल गए थे.


# 5) सौभाग्य योजना

# उद्घाटन – 25 सितंबर, 2017  (पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती)
# ऑफिशियल वेबसाइट – http://saubhagya.gov.in
# विभाग – विद्युत् मन्त्रालय
# लक्षित नागरिक – गांव के लोग जो आज़ादी के 70 साल बात तक भी बिजली नाम की चिड़िया से नावाकिफ़ हैं.

Saubhagya

# उद्देश्य – ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना’ का उद्देश्य हर गांव तक बिजली पहुंचाना था. सरकार की मानें तो ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना’ का टारगेट पूरा कर भी लिया गया था. लेकिन सरकार के इस दावे को लेकर काफी बवाल उठे. पूरी जानकारी के लिए आप ये पोस्ट पढ़ सकते हैं –

मोदी जी ने ‘हर गांव को बिजली’ देने में ये खेल किया है

बहरहाल इस ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना’ की तरह ही एक और योजना है. नाम है – सौभाग्य योजना. जैसे ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना’ का उद्देश्य हर गांव तक बिजली पहुंचाना है, वैसे ही ‘सौभाग्य योजना’ का उद्देश्य हर घर तक बिजली पहुंचाना है. देश के दूरदराज इलाकों में जहां हर घर में बिजली का कनेक्शन पहुंचाना मुश्किल है, वहां सरकार घरों को रोशन करने के लिए सौर ऊर्जा का सहारा लेगी. प्रधानमंत्री ने योजना की घोषणा करते हुए कहा था कि हमारा लक्ष्य दिसंबर 2018 तक विद्युतीकरण प्रक्रिया को पूरा करना है. इसमें लाभार्थी परिवार को पांच एलईडी बल्ब, एक पंखा, एक पावर प्लग भी दिया जाएगा. इन उपकरणों का 5 साल तक रखरखाव भी इसी योजना का हिस्सा है. 2011 की जनगणना (एसईसीसी) के आधार पर ऐसे घर चुने जाएंगे जिन्हें मुफ़्त में ये बिजली कनेक्शन दिया जाएगा, बाकियों को इसके लिए 500 रुपये देने होंगे.

# क्विक फैक्ट – ये दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना के अंदर आने वाली एक और योजना है. जिसका मकसद है 2019 तक देश के हर गांव में हफ्ते के सातों दिन, दिन के 24 घंटे बिजली पहुंचाना. ‘सहज बिजली हर घर योजना’ इसका पूरा नाम है.


# 6, 7) प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना / प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना

# उद्घाटन – 9 मई, 2015
# ऑफिशियल वेबसाइट – https://www.licindia.in/Products/Pradhan-Mantri-Jeevan-Jyoti-Bima-Yojana-(PMJJBY)
# विभाग – वित्त मंत्रालय
# लक्षित नागरिक – हर कोई.

Insurance

# उद्देश्य – प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के अंतर्गत 330 रुपये में एक वर्ष का बीमा होगा. यानी यदि बीमा अवधि के दौरान पॉलिसी धारक की मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार वालों को 2 लाख रुपये मिलेंगे.

ऐसी ही एक और पॉलिसी है जिसका नाम है प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना. जिसमें 18 से 70 साल की उम्र के नागरिक की दुर्घटनावश मृत्‍यु या पूर्ण विकलांगता की स्‍थि‍ति में 2 लाख का कवर दिया जाता है. और चूंकि इसमें केवल दुर्घटनाएं कवर होती हैं, इसलिए इसका प्रीमियम केवल 12 रुपये सालाना है.  

# क्विक फैक्ट – ये पॉलिसी आपको एलआईसी के माध्यम से मिलती है.


इन सभी योजनाओं के अलावा भी ढेरों योजनाएं हैं जो पिछले चार साल में शुरू हुई हैं. इनका कल अमित शाह ने तो नाम नहीं लिया, क्यूंकि ये ग्राम स्वराज अभियान का हिस्सा नहीं थीं. लेकिन ये आने वाले एक साल में चर्चा का विषय बन सकती हैं, और चुनावों में निर्णायक हो सकती हैं –

डिजिटल इंडिया

मेक इन इंडिया

सांसद आदर्श ग्राम योजना

अटल पेंशन योजना

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना

स्टैंड अप इंडिया स्कीम

सुकन्‍या समृद्धि योजना

मुद्रा बैंक योजना

कृषि‍ बीमा योजना

प्रधानमंत्री ग्राम सिंचाई योजना

स्‍वायल हेल्‍थ कार्ड स्‍कीम

नेशनल हेरिटेज सिटी डेवलपमेंट एंड ऑग्‍मेंटेशन योजना

दीन दयाल उपाध्‍याय ग्रामीण कौशल्‍या योजना

महात्‍मा गांधी प्रवासी सुरक्षा योजना

उड़ान प्रोजेक्‍ट


और ऊपर की सभी योजनाओं के अलावा एक अभियान का ज़िक्र किए बिना प्रधानमन्त्री की उपलब्धियां अधूरी हैं. कम-से-कम कागजों में – स्वच्छ भारत अभियान.

Swachcha Bharat Abhiyan

मोदी जी ने 24 सितंबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान को मंजूरी दी थी. इसे 2 अक्टूबर 2014 को  (गांधी जयंती के दिन) शुरू किया गया. बेशक स्वच्छता एक ‘एबस्ट्रक्ट’ चीज़ है लेकिन फिर भी 2019 तक यानी महात्मा गांधी की 150वीं जयंती तक भारत को स्वच्छ बनाने का लक्ष्‍य रखा गया है. इसमें जनता में सफाई के लिए, साफ सड़कों और गलियों के लिए, अतिक्रमण हटाने के लिए जागरूकता पैदा करना भी शामिल है. ‘खुले में शौच मुक्त भारत’ के द्वारा भी इस अभियान में जान फूंकने की कोशिशें की जाती रही हैं.

https://www.thelallantop.com/tehkhana/how-wordplay-and-government-lexicon-helped-pm-modi-to-claim-that-every-village-in-india-has-been-electrified-when-its-actually-not/


ये भी पढ़ें:

सस्ता पेट्रोल चाहिए तो पाकिस्तान चले जाओ!

जीप पर कश्मीरी को बांधने वाले आर्मी मेजर गोगोई एक लड़की के साथ हिरासत में लिए गए

मैं चाहता हूं कि पेट्रोल सौ रुपये लीटर हो जाए, वजह सोचने पर मजबूर कर देगी!

वो आदमी जिसने मनमोहन सिंह की इज्ज़त में पलीता लगा दिया


Video देखें:

टीवी में छोटी पट्टी पर दिखने वाले इन नंबर्स का क्या मतलब है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

अपने डबल स्टैंडर्ड पर एक बार फिर ट्रोल हो गई हैं प्रियंका चोपड़ा

लोग उन्हें उनकी पुरानी बातें याद दिला रहे हैं.

उजड़ा चमन : मूवी रिव्यू

रिव्यू पढ़कर जानिए ‘मास्टरपीस’ और ‘औसत’ के बीच का क्या अंतर होता है.

फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर - डार्क फेट

नया कुछ नहीं लेकिन एक्शन से पैसे वसूल हो जाएंगे.

इस एक्टर ने फिल्म देखने गई फैमिली को सिनेमाघर में हैरस किया, वो भी गलत वजह से

इतनी बद्तमीजी करने के बावजूद ये लोग थिएटर में 'भारत माता की जय' का जयकारा लगा रहे थे.

हाउसफुल 4 : मूवी रिव्यू

दिवाली की छुट्टियां. एक हिट हो चुकी फ़्रेन्चाइज़ की चौथी क़िस्त. अक्षय कुमार जैसा सुपर स्टार और कॉमेडी नाम की विधा.

फिल्म रिव्यू: मेड इन चाइना

तीन घंटे से कुछ छोटी फिल्म सेक्स और समाज से जुड़ी हर बड़ी और ज़रूरी बात आप तक पहुंचा देना चाहती है. लेकिन चाहने और होने में फर्क होता है.

सांड की आंख: मूवी रिव्यू

मूवी को देखकर लगता है कि मेकअप वाली गड़बड़ी जानबूझकर की गई है.

कबीर सिंह के तमिल रीमेक का ट्रेलर देखकर सीख लीजिए कि कॉपी कैसे की जाती है

तेलुगू से हिंदी, हिंदी से तमिल एक ही डिश बिना एक्स्ट्रा तड़के के परोसी जा रही.

हर्षित: मूवी रिव्यू

शेक्सपीयर के नाटक हेमलेट पर आधारित है.

लाल कप्तान: मूवी रिव्यू

‘तुम्हारा शिकार, तुम्हारा मालिक है. वो जिधर जाता है, तुम उधर जाते हो.’