Submit your post

Follow Us

प्रियंका-निक के अलावा, 77वें गोल्डन ग्लोब्स अवॉर्ड सैरेमनी से जुड़ी 8 जाबड़ बातें ये थीं

अमेरिका में ऑस्कर के बाद कोई दूसरा सबसे बड़ा अवॉर्ड है तो वो है गोल्डन ग्लोब. जहां ऑस्कर सिर्फ फिल्मों के लिए दिया जाता है, वहीं गोल्डन ग्लोब, फिल्मों और टीवी दोनों के लिए दिया जाता है. एक और बड़ा अंतर ये कि जहां ऑस्कर में विदेशी फिल्मों को पुरस्कृत करने के लिए केवल एक कैटेगरी है, वहीं गोल्डन ग्लोब में विश्व सिनेमा को ज़्यादा प्रतिनिधित्व मिलता है.

गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स हर साल ‘हॉलीवुड फॉरेन प्रेस एसोसिएशन’ द्वारा दिए जाते हैं. इसमें 100 से भी कम वोटर होते हैं. ये वोटर वो एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट और फोटोग्राफर होते हैं जो अमेरिका में रहते हुए अलग-अलग तरह के, विदेशी मीडिया (अधिकतर) के लिए काम करते हैं.

77 वीं गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स सैरेमनी, बेवर्ली हिल्स के बेवर्ली हिल्टन होटल में 05 जनवरी, 2020 को आयोजित की गई. इसमें पिछले साल रिलीज़ हुईं फ़िल्में, टीवी शोज़, मिनी सीरीज़ और वेब सीरीज़ पुरस्कृत की गईं. ये अवॉर्ड कुल 25 श्रेणियों में दिए गए. इनमें टीवी अवॉर्ड्स की 11 और फिल्म अवॉर्ड्स की 14 कैटेगरी थीं. गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स साल का पहला इंटरनेशनल अवॉर्ड कहा जाता है. आप खुद देख लीजिए, अभी साल शुरू हुए जुम्मा-जुम्मा 5 दिन हुए हैं और 77वां गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड दे भी दिया गया है.

अबकी बार का गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड इंडिया में भी ट्रेंड कर रहा है. बावज़ूद इसके कि किसी इंडियन मूवी, सीरियल या वेब सीरीज़ को अवॉर्ड मिलना तो दूर, नॉमिनेशन तक में नाम नहीं है. दरअसल ये ट्रेंड कर रहा है प्रियंका-निक की उपस्थिति और फिल्म ‘जोकर’ के चलते. ‘जोकर’ को भारतीय दर्शकों ने भी काफी पसंद किया था. लेकिन गोल्डन ग्लोब के 77वें संस्करण के बारे और भी 2019 बहुत कुछ जानने और सहेजने वाला है. चलिए फटाफट इनके बारे में पॉइंटर्स में बात कर लेते हैं-

#1) सबसे ज़्यादा नॉमिनेशन्स- इस बार के गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड में ‘मैरिज स्टोरी’ नाम की हॉलीवुड मूवी के सबसे ज़्यादा नॉमिनेशन्स थे, लेकिन इसे प्राइज सिर्फ एक ही मिला- सपोर्टिंग एक्ट्रेस कैटेगरी में लॉरा डर्न को. नॉरा फैनशॉ का किरदार निभाने के लिए.

‘मैरिज स्टोरी’ एक शादीशुदा कपल की कहानी है. पति चार्ली और पत्नी निकोल, दोनों थियेटर और टीवी से जुड़े हुए हैं, और अब अपनी शादी से खुश नहीं हैं. नॉरा फैनशॉ ने इसमें निकोल की वकील का किरदार निभाया था.

#2) वंस अपॉन अ टाइम इन हॉलीवुड-सबसे पहले कान फिल्म फेस्टिवल में प्रीमियर की गई. कई लोगों के लिए तो ये फिल्म सिर्फ इस एक बात से ख़ास हो जाती है कि इसके निर्देशक ‘पल्प फिक्शन’ और ‘किल बिल’ फेम क्वेंटिन टैरेंटीनो हैं. ‘वंस अपॉन…’ की स्टार कास्ट भी जानने लायक है. लिओनार्डो डी कैप्रियो, ब्रैड पिट, अल पचीनो जैसे अपने-अपने दौर के हॉलीवुड सुपरस्टार्स. होने को ये मूवी भी ‘मैरिज स्टोरी’ की तरह ही एक्टर-एक्टर्स की कहानी कहती है, लेकिन इसका प्लॉट बिलकुल अलहदा है. ‘वंस अपॉन…’ हॉलीवुड के स्वर्णिम काल पर पर एक तंज़ सरीखी है. इसे गोल्डन ग्लोब में 5 नॉमिनेशन और दो प्राइज मिले. म्यूज़िक और कॉमेडी विधा की बेस्ट मूवी का प्राइज और ब्रेड पिट को इसमें निभाए उनके किरदार क्लिफ बूथ के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का अवॉर्ड.

#3) जोकर-जिसका इंडिया के दर्शकों के बीच उतना की क्रेज था जितना दुनिया के बाकी देशों के दर्शकों के बीच. ये मूवी डीसी कॉमिक्स के एक काल्पनिक शहर है ‘गॉथम’ के सुपर विलेन जोकर की दास्तां कहती है, कि वो जोकर बना कैसे. इस मूवी के गोल्डन ग्लोब में कुल 4 नॉमिनेशन थे और इसे कुल 2 अवॉर्ड मिले. वाकीन फ़ीनिक्स को दिया गया इस मूवी में ‘जोकर’ का किरदार निभाने के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड. ड्रामा कैटेगरी में. ड्रामा कैटेगरी में बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड दिया गया ‘जूडी’ में जूडी का किरदार निभाने के लिए रेने ज़ेलवेगर को.

म्यूज़िक और कॉमेडी विधा में बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड दिया गया नॉरा लूम (ऑक्वाफिना) को. ‘दी फेयरवेल’ में उनके किरदार बिली वांग के लिए. और बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड मिला टेरॉन एगर्टन को. ‘रॉकेटमैन’ में उनके किरदार एल्टन जॉन के लिए.

#4) 1917- हालांकि ‘जोकर’ का नॉमिनेशन ड्रामा कैटेगरी की बेस्ट मूवी के लिए भी हुआ था, लेकिन प्राइज मिला ‘1917’ को. फर्स्ट वर्ल्ड वॉर की एक सत्य घटना पर आधारित मूवी. दो भाई. दोनों सेना में. उन्हें एक टास्क दिया गया है. एक मैसेज डिलीवर करना है. ये टास्क मुश्किल इसलिए क्यूंकि ऐसा करने के लिए उन्हें दुश्मन के इलाके में घुसना था.

#5) पैरासाइट- यूएस और यूके की अंग्रेज़ी मूवीज़ के अलावा जिस मूवी का सबसे ज़्यादा बज़ रहा वो थी ‘पैरासाइट’. गोल्डन ग्लोब में ही नहीं आने वाले महीनों में भी इनका बज़ हर प्राइज सेरेमनी में रहने वाला है. ‘पैरासाइट’ के खाते में तीन नॉमिनेशन और एक प्राइज (बेस्ट फॉरन लैंग्वेज फिल्म) गए.

‘पैरासाइट’ एक साउथ कोरियन मूवी जो ‘वंस अपॉन अ टाइम इन हॉलीवुड’ की तरह ही सबसे पहले कान फिल्म फेस्टिवल में प्रीमियर की गई. ये मूवी ऑस्कर में भी नॉमिनेट हुई है. ‘पैरासाइट’ दो परिवारों की कहानी है. एक धनी एक निर्धन. पैरासाइट शब्द को मेटाफर की तरह यूज़ किया जाता है. उन लोगों के लिए जो दूसरों पर आश्रित रहते हैं, लगभग अतिक्रमण करते हुए.

#6) प्रियंका चोपड़ा अपने पति निक से साथ क्यूं पहुंची थीं- म्यूज़िक और कॉमेडी विधा की बेस्ट टेलिविज़न सीरीज़ का प्राइज देने के लिए. ये प्राइज मिला ‘फ्लीबैग’ को. ब्रिटिश कॉमेडी-ड्रामा शो, जो लंडन में रहने वाली एक औरत की ट्रेजी-कॉमेडी दास्तां है. ‘फ्लीबैग’ एक अवॉर्ड विनिंग नाटक का टीवी एडॉप्शन था.

इसी सीरीज़ के लिए फीबी वॉलर ब्रिज को म्यूज़िक और कॉमेडी विधा में बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी मिला. ‘फ्लीबैग’ का किरदार निभाने के लिए. बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड रामी युसूफ को दिया गया. ‘रामी हसन’ नाम की कॉमेडी-ड्रामा टीवी वेब सीरीज़ में रामी का किरदार निभाने के लिए.

#7) सक्सेशन- टीवी के ही अन्य पुरस्कारों में ‘सक्सेशन’ को ड्रामा जॉनर में बेस्ट टेलिविज़न सीरीज़ का प्राइज दिया गया. कुल 2 सीज़न और 20 एपिसोड के इस सीरियल में ‘वेस्टर रॉयको’ कंपनी की मालिक, रॉय फैमिली की कथा दिखाई गई है. वेस्टर रॉयको एक काल्पनिक मल्टी-बिलयन डॉलर मीडिया कंपनी है. आपको ये सब सुनकर एक बार को दूरदर्शन के सीरियल ‘शांति’ की याद आ रही है न?

इसी सीरीज़ के लिए एक्टर ब्रायन कॉक्स को लोगन रॉय का किरदार निभाने के लिए ड्रामा टीवी सीरीज़ में बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड दिया गया. ड्रामा टीवी सीरीज़ में बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड ओलिविया कोलमैन को दिया गया. ‘दी क्राउन’ में उनके क्वीन एलिज़ाबेथ द्वितीय के किरदार के वास्ते. एक हिस्टॉरिकल ड्रामा वेब सीरीज़ जिसके तीनों सीज़न और तीसों एपिसोड्स हम भारतीयों के लिए नेटफ्लिक्स में उपलब्ध हैं.

#8) चर्नोबिल- इसके अलावा टेलीविज़न, छोटे पर्दे या वेब सीरीज़ में एक नाम और भारतीयों के लिए जानने लायक है. ‘चर्नोबिल’. क्यूंकि इसका भारत में काफी बज़ था. और इसने गोल्डन ग्लोब में कुल 2 प्राइज जीते- बेस्ट मिनीसीरीज़ कैटेगरी में और साथ ही इसके एक्टर स्टेलन जॉन को मिनीसीरीज़ कैटेगरी में बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का अवॉर्ड भी दिया गया. ‘चर्नोबिल’ मानव इतिहास की सबसे बड़ी परमाणु दुर्घटना का नाट्य रूपांतरण है. पूरी दुनिया को हिला कर रख देने वाली ये दुर्घटना 25 अप्रैल, 1986 की रात यूक्रेन के चर्नोबिल परमाणु संयंत्र में घटी थी.


वीडियो देखें:

घोस्ट स्टोरीज़: चार भुतहा कहानियां जिन्हें देखकर रोंगटे खड़े हो जाने वाली फील नहीं आती-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

पॉलिटिक्स और डिप्लोमेसी वाला खेल है Among Us.

फिल्म रिव्यू- कार्गो

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.