Submit your post

Follow Us

Pappy की वजह से पीएम मोदी का दावा गलत हो गया!

घोघा से दाहेज के बीच का सफर आठ घंटे से घटकर एक घंटे हुआ, तो ‘सवा-छह करोड़ गुजराती’ खुश हुए. लेकिन उनकी खुशी क्लाउड नाइन पर पहुंच गई जब प्रधानमंत्री ने मंच से कहा कि ये ‘भारत में अपनी तरह का पहला’ प्रोजेक्ट है. ये बात सिंक होती, इससे पहले प्रधानमंत्री बोल गए कि ये दक्षिण पूर्वी एशिया का भी ये इतना बड़ा पहला प्रोजेक्ट है. सुनने वाले अभिभूत हो गए.

लेकिन ज़्यादा देर नहीं हुई कि ट्विटर की नीली चिड़िया चीं-चीं करने लगी. कई लोगों ने इस तरफ ध्यान दिलाया कि प्रधानमंत्री को घोघा-दाहेज रो-रो फेरी को ‘अपनी तरह का पहला’ प्रोजेक्ट नहीं कहना चाहिए था. क्योंकि वैसी ही फेरी सेवा तो कोची में पहले से चल रही है.

इस ट्वीट में पीएम को उनका सोमालिया वाला बयान याद दिलाया जा रहा है-

इस ट्वीट में पीएम को उनका सोमालिया वाला बयान याद दिलाया जा रहा है

कुछ लोगों ने पीएम की तुलना कोची की मेयर सौमिनि जैन से की. सौमिनी ने बतौर कोची मेयर फेरी सर्विस से जुड़े प्रोजेक्ट शुरू किए हैं-

mayor

तो बात किसकी सही है, ये जानने के लिए हमने थोड़ी बहुत खोदा-खादी की. और नतीजा ये निकला कि घोघा-दाहेज पहली रो-रो सर्विस तो नहीं ही है. जो बहस हो सकती है, वो वर्डप्ले पर ही हो सकती है. माने इस पर कि घोघा दाहेज ‘अपनी तरह का पहला’ प्रोजेक्ट है या नहीं.

कोची की रो-रो फेरी

केरल के कोची शहर में आपको 10 किलोमीटर भी चलना हो, तो अनिवार्य रूप से कोई झील, नहर या नदी पार करनी पड़ती है. ये शहर बैकवॉटर में बसा है. तो कई सारे द्वीप हैं यहां. पुल बने हुए हैं, लेकिन लंबा फेरा बचाने के लिए कई लोग जंकर का इस्तेमाल करते हैं. ये एक चौड़ी और सपाट नाव की तरह होते हैं, जिन्हें बार्ज भी कहते हैं. कार या बाइक सीधे जंकर पर चढ़ा दी जाती है और वो काफी सस्ते में आपको झील या नदी पार करा देते हैं.

कोची में ही वायपिन द्वीप है. यहां से फोर्ट कोचिन के बीच काफी लोग आना-जाना करते हैं. ये एक व्यस्त रूट है, जिस पर खूब जंकर चला करते थे. यूट्यूब पर कई वीडियो मिल जाएंगे, जिनमें जंकर गाड़ियों और लोगों को कोची फोर्ट-वायपिन रूट पर ले जा रहे हैं. हम यहां 2013 से एक वीडियो दे रहे हैं.

फिलहाल ये जंकर बंद हैं, क्योंकि यहां नई रो-रो फेरी के लिए नया टर्मिनल बन रहा है. लेकिन अब भी एक फेरी है, पप्पी (Pappy) नाम की. ये कभी चालू तो कभी बंद होती रहती है. लेकिन ये बिलकुल सही है कि कोची में तब से फेरी चल रही है, जब घोघा-दाहेज रो-रो फेरी के लिए टर्मिनल का शिलान्यास भी नहीं हुआ था. इसका काम भी वही था, जो घोघा-दाहेज का बताया जाता है. स्केल का फर्क ज़रूर है, लेकिन कॉन्सेप्ट (अवधारणा) के स्तर पर दोनों सर्विस एक जैसी हैं.

इस ट्वीट में नज़र आ रही रोरो फेरी के लिए कोचिन में नया टर्मिनल बन रहा है
इस ट्वीट में नज़र आ रही रोरो फेरी के लिए कोचिन में नया टर्मिनल बन रहा है

तो क्या हम कह सकते हैं कि एक Pappy के चक्कर में पीएम से गलती हो गई?

ये हम आपकी समझदारी पर छोड़ते हैं. क्योंकि ‘अपनी तरह का पहला’ का क्या मतलब था, ये तो मोदी जी के ‘मन की बात’ है. हमें पता चलेगी, तो आपको भी बता देंगे. चलते-चलते इतना बता दें कि केरल के अलावा असम और गोआ में भी रो-रो फेरी प्रोजेक्ट या तो बन रहे हैं या बनने वाले हैं. रही बात दक्षिण पूर्वी एशिया की, तो फिलिपींस, इंडोनेशिया और बांग्लादेश में भी रो-रो सर्विस चल रही हैं.

एक बोनस ज्ञान और ले लीजिए. ये वर्डप्ले के बारे में ही है. अगर आप इस तरह से खेलना चाहें कि कोची की रो-रो फिलहाल बंद है, तो ये जानें कि चल घोघा-दाहेज फेरी भी नहीं रही है. प्रधानमंत्री ने उद्घाटन बस किया है. असल सेवा शुरू होगी ‘लाभ पंचम’ से, जो इस साल 25 अक्टूबर को पड़ रही है. और इस दिन शुरू होने वाली सेवा भी सिर्फ यात्री ले जाएगी. सामान या गाड़ियांं नहीं. उसके लिए अगले साल का इंतज़ार करना होगा.


बुलेट ट्रेन के ये अनोखे फीचर्स शिंजो आबे को भी नहीं पता हैं!

और पढ़ेंः

उस मोखड़ाजी दादा की 13 बातें, जिनका नाम लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रो-रो सर्विस शुरू की

रो-रो फेरी सर्विस की वो खास बातें, जिसने 8 घंटे के वक्त को 1 घंटे में बदल दिया है

कबाड़ी का काम करते हैं नरेंद्र मोदी के भाई, भाभी मांजती हैं बर्तन

क्या सोनिया गांधी के इस खास जज ने दीवाली पर बैन किए हैं पटाखे?

ये वीडियो देखने के बाद कंपनी में कार की सर्विस करवाने से पहले 100 बार सोचेंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

कोविड-19 महामारी के बाद बॉलीवुड बनाने जा रहा ये 10 जबरदस्त फिल्में

इस लिस्ट में बड़े बजट पर मेगा-स्टार्स के साथ बनने वाली फिल्में भी हैं नया कॉन्टेंट ड्रिवन सिनेमा भी.

'चक दे! इंडिया' की 12 मज़ेदार बातें: कैसे सलमान हॉकी कोच बनते-बनते रह गए

शाहरुख खान की इस यादगार फिल्म की रिलीज को 13 साल पूरे हो गए हैं.

देखिए सुषमा स्वराज की 25 दुर्लभ तस्वीरें, हर तस्वीर एक दास्तां है

सुषमा की ज़िंदगी एक खूबसूरत जर्नी थी, और ये तस्वीरें माइलस्टोंस.

नौशाद ने शकील बदायूंनी को कमरे में बंद कर लिया, तब जाकर 'टाइमलेस' गीत जन्मा

नन्हा मुन्ना राही हूं, मन तड़पत हरि दर्शन को, जैसे कई गीत रचने वाले बदायूंनी का आज जन्मदिन है.

वो गाना जिसे गाते हुए रफी साहब के गले से खून आ गया

मोहम्मद रफी के कुछ रोचक मगर कम चर्चित किस्से.

रफाल तो अब आया, इससे पहले भारत किन-किन फाइटर प्लेन से दुश्मनों का दिल दहलाता था

'इंडियन एयरफोर्स कोई चुन्नु-मुन्नु की सेना नहीं है.'

टेलीग्राम ने 2GB फ़ाइल शेयर करने का ऑप्शन शुरू किया, साथ में वॉट्सऐप के मज़े भी ले लिए

वॉट्सऐप तो बस 16MB की फ़ाइल पर सरेंडर कर देता है

15,000 रुपए के अंदर 32 इंची स्मार्ट टीवी के कितने बेहतर ऑप्शन मौजूद हैं

अब तो टीवी भी बहुत स्मार्ट हो चला है.

कोरोना काल में भी रेलवे ने ये 'तीसमार खां' टाइप काम कर डाले

क्या रेलवे के दिन फिर जाएंगे?

विकास दुबे एनकाउंटर मामले की जांच करने वाले पैनल के तीन सदस्य कौन हैं?

योगी सरकार में एनकाउंटर की जांच को लेकर सवाल उठते रहे हैं.