Submit your post

Follow Us

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E5- कौन गिरा है कौन मरा है, किस मातम है कौन कहे

5
शेयर्स

एक दीवार पर खून के कुछ धब्बे हैं. उसके बगल में ही एक छोटी लड़की बैठी है. पूरा शहर जल रहा है. सैनिकों और रेल्म के बाकी सारे लोगों के ऊपर मौत मंडरा रही है. ड्रैगन और डिनायरस के रूप में. ये सब कुछ तब हो रहा है जबकि अभी कुछ देर पहले ही संधि हो चुकी है. लेकिन कोई क्या ही कर सकता है जब दोनों ही तरफ पागलपन तारी हो. जिन्होंने संधि की है उनकी कोई औकात नहीं इस युद्ध में और जो युद्ध की चाह रखते हैं वही सब कुछ हैं.

सत्य है कि- युद्ध की चाह रखने वाले, युद्ध टालने वालों से हमेशा से ज़्यादा शक्तिशाली रहते आए हैं.  

आर आर मार्टिन का शाहकार – गेम ऑफ़ थ्रोन्स. पहले, दूसरे, तीसरे और चौथे एपिसोड का रिव्यू कर चुकने के बाद आज बारी है पांचवे की.

पढ़िए- गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 1 - रिव्यू

पढ़िए- गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 2 - रिव्यू

पढ़िए- गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

पढ़िए- गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

13  मई, 2019 को भारतीय समयानुसार सुबह 6:30 बजे भारत में इसके आठवें सीज़न के पांचवे एपिसोड (S8E5), का प्रीमियर किया गया. हॉटस्टार पे. ये सीजन का ऑफिशियली सेकंड लास्ट एपिसोड है और पूरे गेम ऑफ़ थ्रोन्स का भी. लेकिन इसमें वो सब कुछ हो रहा है जो इस महा गाथा का अंत करता. यानी छठे एपिसोड के लिए केवल चीज़ों को समेटना बाकी रहा.

सवा घंटे के इस एपिसोड में बहुत सी ऐसी चीज़ें हुई हैं जिसकी हमें उम्मीद थी, बस ये देखना रह गया था कि कैसे? हम जानते ही थे कि सरसी और हाउंड का क्या होगा? हमें ये भी अंदेशा था कि डिनायरस और उसके ड्रैगन का क्या होगा? समुद्र की रक्षा कर रहे इयूरॉंन ग्रेजॉय का क्या होगा?  और इन सबके उत्तर को लेकर निश्चित इसलिए थे क्यूंकि इनकी नियति में कोई भी परिवर्तन सीरियल की लंबाई को और बढ़ा देता.

यूं गेम ऑफ़ थ्रोन्स जैसे मैग्नम ओपस के लिए ये तथ्य भी एक स्पॉइलर ही है कि- इसके दो ही एपिसोड बाकी रह गए हैं. 

यूं कुछ चीज़ें बड़ी ज़ल्दी में भी की गई या निपटा दी गई लगती हैं. जैमी लेनेस्टर से लेकर थियॉन तक के किरदारों को पूरा समय दिया गया था, वो बनाने के लिए, कि जो वो अंत में बन जाते हैं. लेकिन दूसरी तरफ अब डिनायरस के लिए समय की कमी सी पड़ गई लगती है. ये भी समझ में नहीं आता कि पिछले कुछ एपिसोड से टायरन लेनेस्टर की अक्ल पर पत्थर सा क्यूं पड़ गया है. इस एपिसोड में भी उसकी प्रासंगिकता केवल क्षमा याचना तक ही सीमित रही.

अगर आप गौर करें तो इस पूरे लास्ट सीज़न में दरअसल हो क्या रहा है कि किरदार अपनी आदतों और संस्कारों के हिसाब से बर्ताव करने के बजाय महज़ कहानी आगे बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं. यूं टायरन भी अपने किरदार को प्ले नहीं कर रहा, बस ‘एक किरदार’ को प्ले कर रहा है. साथ ही पूरे आठवें सीज़न में ही देखने को मिला कि किरदार अपेक्षाओं से अलग तो व्यवहार कर रहे हैं लेकिन उसके पीछे का मोटिव समझ नहीं आ रहा. इसे लेज़ी राइटिंग कहा जा सकता है.

वैसे एक अच्छी बात ये है कि इस एपिसोड के स्पेशल इफेक्ट्स मार्वल सीरीज़ की फिल्मों को टक्कर देते हुए लगते हैं. जलते हुए शरीर, कटते हुए सर और ढहती हुई दीवारें वीभत्स तरीके से कलात्मक हैं. सबसे अच्छी बात इस एपिसोड की ये रही कि इस वाले के ‘महायुद्ध’ में रोशनी की दिक्कत नहीं थी, वो जो तीसरे एपिसोड में पूरी दुनिया ने बताई थी.

अब बच गया है इस सीरियल का अंतिम एपिसोड, जो 19 मई को प्रसारित किया जाएगा.


जाते जाते इस एपिसोड का एक वन लाइनर-

जितना बड़ा रिस्क, उतना बड़ा ईनाम.


वीडियो देखें-

धोनी और दूसरे क्रिकेटर्स के फेवरेट मेरठ वाले क्रिकेट बैट बनते देखिए –

;

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Game of Thrones Season 8 Episode 5 – Review Without Spoilers

10 नंबरी

आपकी मम्मी का फेवरेट डायलॉग कौन सा है?

आने दो पापा को या आग लगे इस मोबाइल को?

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

अपनी अगली फिल्म में गे बनने जा रहे हैं आयुष्मान खुराना

फिल्म का टीज़र आ गया है.

15 साल के फिल्मी करियर में पहली बार इमरान, बच्चन के साथ स्क्रीन शेयर करते नज़र आएंगे

ये फिल्म एक साइकोलॉजिकल गेम पर बेस्ड है.

जब एक गैंगस्टर ने लड़की की कार उठा ली और वो एक ठग के साथ बदला लेने निकल पड़ी

बाकी की डिटेल्स स्टोरी में पढ़िए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

हटके फिल्मों के लिए मशहूर आयुष्मान की अगली फिल्म भी ऐसी ही है

'बधाई हो' से भी बम्पर हिट हो सकती है ये फिल्म, 'स्त्री' बनाने वाली टीम बना रही है.

Impact Feature: ZEE5 ओरिजिनल अभय के 3 केस जो आपको ज़रूर देखने चाहिए

रोमांचक अनुभव देने वाली कहानियां जो सच के बेहद जाकर अपराधियों के पागलपन, जुनून और लालच से दो-चार करवाती हैं.

कभी पब्लिश न हो पाई किताब पर शाहरुख़ खान की फिल्म बॉबी देओल के करियर को उठा सकेगी!

शाहरुख़, एस. हुसैन ज़ैदी की कहानी पर फिल्म ला रहे हैं, जिन्हें इंडिया का मारियो पुज़ो कहा जा सकता है.

सलमान ने सुनील ग्रोवर के बारे में ऐसी बात कही है कि सुनील कोने में ले जाकर पूछेंगे- 'भाई सच में?'

साथ ही कटरीना कैफ ने भी कुछ कहा है.