Submit your post

Follow Us

फ्रोज़न 2: मूवी रिव्यू

5
शेयर्स

फ्रोज़न वन में एल्सा को डर था कि उसके पास दुनिया के लिहाज़ से कुछ ज़्यादा ही शक्तियां हैं, लेकिन फ्रोज़न टू में उसे उम्मीद रखनी होगी कि ये शक्तियां पर्याप्त हों.

– ये फ्रोज़न 2 मूवी की प्रमोशनल लाइन है.

# कहानी-

एल्सा और ऐना. दो बहनें. बहनें कम सोलमेट ज़्यादा. फ्रोजन पार्ट वन में भी दोनों एक दूसरे पर जान छिड़का करती थीं. इसमें भी. एल्सा के पास जादुई पावर हैं. बर्फ़ से जुड़ी हुईं. वो एरेंडेल की रानी भी है. वहीं ऐना एक आम लड़की है लेकिन अपने साहस और सूझ-बूझ के चलते हर एडवेंचर में एल्सा का भरपूर साथ निभाती है.

अभी उनके एरेंडेल राज्य में चारों ओर शांति है. बस एक बंदा थोड़ा परेशान है. क्रिस्टॉफ. क्यूंकि वो ऐना को प्रपोज़ नहीं कर पा रहा. ओलाफ और स्वेन भी अपनी मस्ती में हैं. ओलॉफ कौन? अरे पिछली मूवी में दोनों बहनें बर्फ से स्नो मैन बनाया करती थीं न. उन्हीं स्नो मैन में से एक में एल्सा ने जान फूंक के उससे फ्रोज़न का सबसे क्यूट करैक्टर ओलॉफ बनाया. और स्वेन कौन? क्रिस्टॉफ का पालतू बारहसिंगा.

 I don’t even know a Samantha.
I don’t even know a Samantha. [ओलॉफ मूवी में सबसे ज़्यादा लॉफ लाता है]
इन सब की मौज मस्ती में तब खलल पड़ता है जब एल्सा को नॉर्थ से एक आवाज़ सुनाई देती है. ये सब लोग एल्सा के साथ उस आवाज़ का पीछा करते हैं और उस दौरान दोनों बहनों को अपनी मां, अपने दादा, एरेंडेल और नॉर्थएंड्रा ट्राइब की दोस्ती में आई दरार और स्टोन मैन नाम के करैक्टर के बारे में कई राज़ का पता चलते हैं. क्या ये लोग एरेंडेल बचा पाते हैं? क्या एरेंडेल और नॉर्थएंड्रा फिर से दोस्त बन पाते हैं? क्या एल्सा और ऐना के पेरेंट्स की मौत का रहस्य सुलझ पाता है? क्या क्रिस्टॉफ, ऐना को प्रपोज़ कर पाता है? इंटरवल तक उपजे इन सवालों के उत्तर इंटरवल के बाद एक-एक कर मिलने लगते हैं.

# क्या अच्छा है-

1) बच्चों के लिए तो ये फुल ऑन एंटरटेनिंग मूवी है ही. साथ ही एल्सा, ऐना और उनके दोस्तों के एडवेंचर्स, बढ़िया एनिमेशन, बैकग्राउंड म्यूज़िक और ग्राफिक्स के ज़रिए बड़ों को भी सम्मोहित कर देते हैं.

2) जो लोग कहते हैं कि अब बेडटाइम स्टोरीज़, फेयरी टेल्स जैसी चीजों वाले दिन नहीं रहे, उन्हें डिज़्नी, पिक्सार, मार्वल, डीसी जैसे हॉलीवुड स्टूडियोज़ के इन एफर्ट्स को ज़रूर एप्रिशिएट करना चाहिए. माध्यम बदल गए हैं लेकिन वेस्ट अब भी अपनी कहानियों को अपने जादू को ज़िन्दा रखे हुए है. जावेद सा’ब ने कहा था-

मुझको यकीं है, सच कहती थी, जो भी अम्मी कहती थी,
जब मेरे बचपन के दिन थे चांद में परियां रहती थीं.

लगता है, वेस्टर्न वर्ल्ड के हिस्से के चांद में अभी भी वो परियां रहती हैं. शायद पहले से भी ज़्यादा जादुई, पहले से ज़्यादा मेस्मराइज़िंग.

3) केवल स्टोरी ही नहीं स्टोरी टेलिंग को भी कैसे रिफाइन किया जा सकता है ये हमें ‘फ्रोज़न 2’ जैसी मूवीज़ से सीखना चाहिए. ऑपेरा जैसे किसी क्लासिक आर्ट को इतने एंटरटेनिंग ढंग से ‘रिन्यू’ किए जाने की जितनी तारीफ़ की जाए कम है. कोई करैक्टर कुछ बोल रहा है, धीरे-धीरे उन डायलॉग्स में राइमिंग आ जाती है. उसके बाद उसकी पिच बदल जाती है और फिर एक-एक कर म्यूज़िक इंस्ट्रमेंट जुड़ते चले जाते हैं. और आस पास एक ऐसा वातावरण निर्मित हो जाता है कि आप सतह में तैर ही नहीं सकते. आपको डूबना ही पड़ता है.

4) फिल्म का म्यूज़िक इसके सबसे स्ट्रॉन्ग एस्पेक्ट्स में से एक है. और उसे इतना दमदार बनाने के पीछे पिछली मूवी और उसके म्यूज़िक के हिट होने का मोटिवेशन रहा होगा. याद करिए जब पिछली मूवी का गीत ‘लेट इट गो’ एक सेंसेशन बन गया था.

5) जहां बॉलीवुड में फिलोसॉफी और एक ‘कविता-पन’ के लिए अब कोई स्पेस नहीं रहा वहीं फ्रोजन जैसी मूवी के डायलॉग्स और लिरिक्स काफी डीप हैं. लिरिक्स के कुछ चंक्स देखिए-

Up till now the next step was a question of how/I never thought it was a question of whether.

Up is down, day is night when you’re not there/Oh, you’re my only landmark.

Yes, she will sing to those who hear.

Where the north wind meets the sea/There’s a mother full of memory.

हिंदी डब्ड मूवी में प्रियंका और परिणीता, क्रमशः एल्सा और ऐना की आवाज़ बनी हैं.
हिंदी डब्ड मूवी में प्रियंका और परिणीता, क्रमशः एल्सा और ऐना की आवाज़ बनी हैं.

कुछ चुटीले डायलॉग्स देखिए-

Come on, it’ll be fun. Unless we get stuck here, you starve and I give up.

 I don’t even know a Samantha. [आप कहेंगे कि इस वाले डायलॉग में क्या ख़ास है. लेकिन यकीन जानिए मूवी देखने के बाद ये आपको मूवी का सबसे ह्यूमरस डायलॉग लगेगा.]

6) जब कोई चीज़ रीइन्वेंट की जाती है तो ध्यान दिया जाता है कि पहले वाले वर्ज़न में से नेगटिव एस्पेक्ट्स हटा दिए जाएं. वो पुरानी कहानियां जहां राजा रानी में से राजा ही सब कुछ करता था. रानी का काम होता था सिर्फ सुंदर दिखना. ‘फ्रोजन’ इन बेडटाइम स्टोरीज़ को इन्वेंट करते वक्त इस ‘पितृसत्तात्मकता’ को भी नकारती है. ये नियो-फेयरी टेल है.

7) मूवी आपका मनोरंजन करते हुए पर्यावरण के प्रति भी सचेत करती है और ट्राइब्स को लेकर भी संवेदनशील है. अगर आप अच्छी चीज़ों को ज़ल्दी ग्रहण करते हैं तो मूवी देखने के दौरान कई मानवीय मूल्यों को आप अपने अंदर ग्रो होते हुए देख सकते हैं.

# ट्रेलर देखें- 

# क्या कुछ ‘कमतर’ है-

जोक्स, एंडवेंचर या जीवंत मोमेंट्स के बीच में कई लंबे वक्फे हैं. फिल्म का कंटेंट, इसकी स्टोरी और इसका मैसेज भी इतना पावरफुल नहीं है जितना इसके प्रिक्वल का था. साथ ही सभी करैक्टर्स को जो एक ‘सेंट्रल थीम’ का धागा, बिना खुद विज़ेबल हुए बांधे रखता है, उसका न होना इस मूवी में दिखता है. ओलॉफ के अलावा कोई और करैक्टर हंसाने का माद्दा नहीं रखता. एक और छोटी दिक्कत मूवी के इंटरवल को लेकर भी है जो बड़े एबरप्ट ली ढंग से आता है. क्यूंकि वो सिर्फ इंडियन दर्शकों के लिए ‘ओवर दी टॉप’ क्रिएट किया गया है.

# अंततः-

हमने मूवी इंग्लिश में देखी है. लेकिन आप चाहें इसे हिंदी में देख सकते हैं. हिंदी डबिंग प्रियंका और परिणीता ने बेशक की है फिर भी मैं आपको राय दूंगा कि मूवी का ऑरिजनल इंग्लिश वाला वर्ज़न ही देखें. क्यूंकि मूवी में बहुत सारे गीत हैं, ये गीत मूवी की जान हैं. जिनका अनुवाद या तो नहीं किया गया होगा. या फिर उतने एफर्ट्स के साथ नहीं किया गया होगा.


वीडियो देखें:

तनु वेड्स मनु की याद दिलाती है ‘मोतीचूर चकनाचूर’-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

मेकअप पर ट्रोल होने के पहले के वो छह मौके जब रानू मंडल ने इंटरनेट तोड़ दिया

रानू को पसंद किए जाने की वजह क्या है?

ये 10 एजेंसियां आपका फोन टैप कर सकती हैं

सरकार ने खुद नाम बताए हैं.

वो 22 बातें जो राजकुमार हीरानी अपनी फिल्में रचते हुए हमेशा ध्यान में रखते हैं

जिन्होंने मुन्नाभाई एमबीबीएस, संजू, 3 ईडियट्स और पीके जैसी फिल्में बनाई हैं.

धरती कहे पुकार: सलिल के ये 20 गीत सोने से पहले और उठने के बाद बजाएं, आत्मा तृप्त महसूस होगी

जिनके गीतों से दिन भी अच्छा गुजरेगा, नींद भी अच्छी आएगी, आज उनका बड्डे है.

'इनसाइड एज 2' ट्रेलर- क्रिकेट, फिक्सिंग, पॉलिटिक्स, पैसा, सेक्स, ड्रग्स और पावर गेम की कहानी

ये वो पहला प्रोजेक्ट है, जिसमें जनता विवेक ओबेरॉय को देखने के लिए एक्साइटेड है. वैसे, जैसे पहले कभी नहीं देखा.

अंग्रेजों से गुरिल्ला युद्ध लड़ने वाले आदिवासी नायक जिनकी जान कॉलरा ने ले ली

कहानी झारखंड के सबसे बड़े हीरो की, जिसने 25 साल में ही दुनिया छोड़ दी थी.

10 बातें, जिनसे पता चलता है कि नरेंद्र मोदी, नेहरू के सबसे बड़े फॉलोवर हैं

आज नेहरू का हैपी बर्थडे है.

नोटबंदी के दौरान PM मोदी ने भी एक अफवाह उड़ाई थी, जानते हो क्या?

नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर पढ़िए वो 10 अफवाहें, जिन्होंने प्रेशर बनाए रखा.

वो 15 गाने, जिनके बिना छठ पूजा अधूरी है

पुराने गानों के बिना व्रत ही पूरा नहीं होता.

राग दरबारी : वो किताब जिसने सिखाया कि व्यंग्य कितनी खतरनाक चीज़ है

पढ़िए इस किताब से कुछ हाहाकारी वन लाइनर्स.