Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज से पहले विराट कोहली ने एक मारक बात कही है

370
शेयर्स

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज शुरू हो रही है. पहला मैच 6 दिसंबर से एडिलेड में होगा. कहा जा रहा है कि कोहली की कप्तानी वाली इस टीम इंडिया के पास ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने का मौका है. क्योंकि सामने ऑस्ट्रेलिया की टीम कमजोर है. कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के एक रेडियो स्टेशन को इंटरव्यू दिया है. उस इंटरव्यू की ये पांच बातें पढ़िए-

स्लेजिंग पर

इंडिया का कोई भी खिलाड़ी विरोधी टीम से ऑन फील्ड किसी भी तरह के टकराव या बहस की शुरुआत नहीं करेगा. पहले जो भी हुआ है वो अब नहीं होगा. अब मैं अपने बारे में ज्यादा आश्वस्त हूं इसलिए मुझे किसी को कुछ साबित करने की जरूरत नहीं है. वक्त के साथ हर इंसान की सोच में ये बदलाव आता ही है. (2011-12 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर कोहली ऑस्ट्रेलियन क्राउड को मिडिल फिंगर दिखाते दिखे थे.)

ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने पर

मुझे ऐसा लगता है कि ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीतने के लिए जो एक टीम में चाहिए, वो सब इस बार हमारे पास है. पिछले चार सालों में हमारी टीम मजबूत हुई है. इसलिए इस बार यहां हमारी कोशिश एक या दो मैचों को जीतने पर खुश होने की नहीं होगी. हम हर सेशन, हर मैच जीतने के लिए मैदान पर उतरेंगे और किसी भी कीर्तिमान से सतुंष्ट नहीं होंगे.

Untitled design (95)

ऑस्ट्रेलियाई टीम पर

हो सकता है कि जो चीजें पिछली सीरीज में हुईं थी, यहां न हों. मगर ऑस्ट्रेलियाई टीम मैदान पर अग्रेशन के बिना नहीं खेलती है. अग्रेशन उनके खेल का हिस्सा है और वो सामने वाली टीम से भी यही करने की उम्मीद रखते हैं. ये एक कंपीटिटिव सीरीज होने वाली है इसलिए इस टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता है.

ऑस्ट्रेलियन पिचों पर

मुझे ऑस्ट्रेलिया में बैटिंग करना अच्छा लगता है. ये हर खिलाड़ी के निजी स्किल्स पर निर्भर करता है कि वो कितना कंफर्टेबल होकर यहां खेलता है. यहां की पिचों पर पेस और बाउंस का मैंने हमेशा फायदा उठाया है. गेंद बल्ले पर अच्छे से आती है इसलिए अगर आप सही माइंडसेट से खेलते हैं तो यहां खूब रन बनाए जा सकते हैं.

टेस्ट में कम होते दर्शकों पर

ऐसा नहीं है. जब हम इंग्लैंड में खेल रहे थे तो खूब दर्शक आए. दोनों टीमें जान लगा रहीं थी. इसलिए ये जरूरी है कि दोनों टीमें जीतने के लिए खेलें. दर्शक तब नहीं आते हैं जब एक ही टीम डोमिनेट करे. फाइटबैक जरूरी है जिससे दर्शकों को गेम में मजा आए. उम्मीद है कि ऑस्ट्रेलिया के साथ ये सीरीज कंपीटिटिव रहेगी.

कोहली का ये इंटरव्यू यहां सुनें-

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Five points Virat Kohli speaks about playing in Australia during a Radio Interview ahead of India-Aus Series

पोस्टमॉर्टम हाउस

श्वास, नैशनल अवॉर्ड विजेता वो फिल्म जिसने मराठी सिनेमा को ऑस्कर एंट्री तक पहुंचाया

क्या गुज़रती है जब पता चलता है आपके किसी अज़ीज़ के आंखों की रोशनी हमेशा के लिए जाने वाली है!

फिल्म रिव्यू: 2.0

चिट्टी के रोल में रजनीकांत इंट्रेस्टिंग लगते हैं, वहीं अक्षय कुमार जितना तूफान मचा सकते थे उन्होंने मचाया है.

फिल्म रिव्यू: भैयाजी सुपरहिट

फिल्म में जितनी मेहनत डायलॉग में की गई है, उसका आधा भी अगर कहानी में किया गया होता, तो 'भैयाजी सुपरहिट' एक कायदे की फिल्म बन सकती थी, जो ये बनते-बनते रह गई.

फ़िल्म रिव्यू: टाइगर्स

बहुत सताए लगते हो बेटा, तभी मुर्गी के गू में भी उम्मीद तलाश रहे हो!

फिल्म रिव्यू: 'नाळ'

क्या हुआ जब एक बच्चे को पता चला उसकी मां सौतेली है?

फिल्म रिव्यू: पीहू

अगर आप इस फिल्म को देखने के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचना चाहते हैं, तो आप किसी गलत ऑडिटोरियम में घुस गए हैं.

फिल्म रिव्यू: ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान

आप कभी बाज़ार में घूमते हुए मुंह के स्वाद के लिए कुछ खा लेते हैं. लेकिन वो खाना आप रोज नहीं खा सकते क्योंकि उससे हाजमा खराब होने का डर बना रहता है. 'ठग्स...' वही है.

इस नए वायरल वीडियो में मोदी एक विकलांग बुजुर्ग का अपमान करते क्यूं लगते हैं?

जिनका अपमान होने की बात कही जा रही है, वो बुजुर्ग गुजरात में मुख्यमंत्री से ज़्यादा बड़ी हैसियत रखते हैं!

2.0 का ट्रेलर आ गया, जिसे देखकर मोबाइल फ़ोन रखने वाले हर आदमी को डर लगेगा

साथ ही पढ़िए इस फिल्म की मेकिंग से जुड़ी 9 दिलचस्प बातें.

'डोंबिवली फास्ट': जब एक अकेला आदमी सिस्टम सुधारने निकल पड़ा

और फिर पूरे सिस्टम ने उसे मिटा डालने के लिए कमर कस ली.