Submit your post

Follow Us

ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज से पहले विराट कोहली ने एक मारक बात कही है

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज शुरू हो रही है. पहला मैच 6 दिसंबर से एडिलेड में होगा. कहा जा रहा है कि कोहली की कप्तानी वाली इस टीम इंडिया के पास ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने का मौका है. क्योंकि सामने ऑस्ट्रेलिया की टीम कमजोर है. कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के एक रेडियो स्टेशन को इंटरव्यू दिया है. उस इंटरव्यू की ये पांच बातें पढ़िए-

स्लेजिंग पर

इंडिया का कोई भी खिलाड़ी विरोधी टीम से ऑन फील्ड किसी भी तरह के टकराव या बहस की शुरुआत नहीं करेगा. पहले जो भी हुआ है वो अब नहीं होगा. अब मैं अपने बारे में ज्यादा आश्वस्त हूं इसलिए मुझे किसी को कुछ साबित करने की जरूरत नहीं है. वक्त के साथ हर इंसान की सोच में ये बदलाव आता ही है. (2011-12 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर कोहली ऑस्ट्रेलियन क्राउड को मिडिल फिंगर दिखाते दिखे थे.)

ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने पर

मुझे ऐसा लगता है कि ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीतने के लिए जो एक टीम में चाहिए, वो सब इस बार हमारे पास है. पिछले चार सालों में हमारी टीम मजबूत हुई है. इसलिए इस बार यहां हमारी कोशिश एक या दो मैचों को जीतने पर खुश होने की नहीं होगी. हम हर सेशन, हर मैच जीतने के लिए मैदान पर उतरेंगे और किसी भी कीर्तिमान से सतुंष्ट नहीं होंगे.

Untitled design (95)

ऑस्ट्रेलियाई टीम पर

हो सकता है कि जो चीजें पिछली सीरीज में हुईं थी, यहां न हों. मगर ऑस्ट्रेलियाई टीम मैदान पर अग्रेशन के बिना नहीं खेलती है. अग्रेशन उनके खेल का हिस्सा है और वो सामने वाली टीम से भी यही करने की उम्मीद रखते हैं. ये एक कंपीटिटिव सीरीज होने वाली है इसलिए इस टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता है.

ऑस्ट्रेलियन पिचों पर

मुझे ऑस्ट्रेलिया में बैटिंग करना अच्छा लगता है. ये हर खिलाड़ी के निजी स्किल्स पर निर्भर करता है कि वो कितना कंफर्टेबल होकर यहां खेलता है. यहां की पिचों पर पेस और बाउंस का मैंने हमेशा फायदा उठाया है. गेंद बल्ले पर अच्छे से आती है इसलिए अगर आप सही माइंडसेट से खेलते हैं तो यहां खूब रन बनाए जा सकते हैं.

टेस्ट में कम होते दर्शकों पर

ऐसा नहीं है. जब हम इंग्लैंड में खेल रहे थे तो खूब दर्शक आए. दोनों टीमें जान लगा रहीं थी. इसलिए ये जरूरी है कि दोनों टीमें जीतने के लिए खेलें. दर्शक तब नहीं आते हैं जब एक ही टीम डोमिनेट करे. फाइटबैक जरूरी है जिससे दर्शकों को गेम में मजा आए. उम्मीद है कि ऑस्ट्रेलिया के साथ ये सीरीज कंपीटिटिव रहेगी.

कोहली का ये इंटरव्यू यहां सुनें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

पाताल लोक: वेब सीरीज़ रिव्यू

'वैसे तो ये शास्त्रों में लिखा हुआ है लेकिन मैंने वॉट्सऐप पे पढ़ा था.‘

इरफ़ान के ये विचार आपको ज़िंदगी के बारे में सोचने पर मजबूर कर देंगे

उनकी टीचर ने नीले आसमान का ऐसा सच बताया कि उनके पैरों की ज़मीन खिसक गई.

'पैरासाइट' को बोरिंग बताने वाले बाहुबली फेम राजामौली क्या विदेशी फिल्मों की नकल करते हैं?

ऐसा क्यों लगता है कि आरोप सही हैं.

रामायण में 'त्रिजटा' का रोल आयुष्मान खुराना की सास ने किया था?

रामायण की सीता, दीपिका चिखालिया ने किए 'त्रिजटा' से जुड़े भयानक खुलासे.

क्या दूरदर्शन ने 'रामायण' मामले में वाकई दर्शकों के साथ धोखा किया है?

क्योंकि प्रसार भारती के सीईओ ने जो कहा, वो पूरी तरह सही नहीं है. आपको टीवी पर जो सीन्स नहीं दिखे, वो यहां हैं.

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!