Submit your post

Follow Us

कैमरा, बाजीराव और मस्तानी, तीनों से अय्याशी की भंसाली ने

16
शेयर्स

जल्दी में हैं तो एक लाइन में कहे देते हैं. चेप और चोमू लव स्टोरी है ये पिच्चर. फुर्सत हो तो पढ़ लो डीटेल में.

धरम
मतलब जोधा अकबर रिवर्स. इस बार लड़की आधी मुसलमान है. लेकिन पेशवा पक्का हिंदू. पूरे हिन्दुस्तान के आसमान पर भगवा रंग लहराएगा. ये सपना है पेशवा का. मस्तानी की मदद क्यों की? क्योंकि एक हिंदू राज्य का फर्ज है दूसरे हिंदू राज्य की मदद करना. लेकिन कोशिश पूरी है सेकुलर बनने की. मस्तानी से पैदा हुए बेटे का मुसलमान नाम रखा जायेगा पर वो बड़ा होगा तो संस्कृत श्लोक पढ़ते हुए. मस्तानी प्यार में हिंदू हो जायेगी. ‘हर हर महादेव’ कह पेशवा का तिलक करेगी जब वो मुसलमान निजाम से लड़ने जाएगा. बार बार खुद के मुसलमान होने को डिफेंड करती रहेगी. मस्तानी लेक्चर देगी कि मुसलमान भी भगवा चादर चढ़ाते हैं और दुर्गा को हिंदू हरी चूड़ियां पहनाते हैं.

पर ये हिंदू-मुस्लिम एकता का फंडा अब पुराना हो गया है. बासी लगता है. मैसेज तो यही है कि हिंदू दिल बड़ा कर के मुसलमान को अपना ले. क्योंकि मुसलमान बाहरी है. जैसे मस्तानी थी. जो इंतज़ार करती रही अपने ब्राह्मण पति का. कि वो आ कर उसे ले जाए और पत्नी का दर्जा दिला दे.

इक्स-मोहब्बत 
‘ब्राह्मण हूं पर काम क्षत्रिय वाले करता हूं.’ बाजीराव चोटी वाला ब्राह्मण है. पर है योद्धा. चालीस लड़ाइयों को लगातार जीतने वाला लेकिन अंत में हार जाता है. प्रेम से. वो बीमारी से नहीं मरता. बल्कि धर्म के रक्षक उसे मरने पर मजबूर करते हैं. मस्तानी निडर है. मिलावटी हिंदू है इसलिए उसमें शर्म नहीं है. जिस तरह बाजीराव की पत्नी काशी (प्रियंका चोपड़ा) में है जो पूरी हिंदू है. प्रेम के लिए कुछ भी करेगी. खुद को सौगात में ले आएगी. दूसरी पत्नी बनकर रहेगी. दुनिया से लड़ेगी. पर खुद की बेज्जती करने वालों से नहीं. उनके सामने हथियार डाल देगी. बाजीराव के लिए. बाजीराव की तरह वो भी हारेगी प्रेम से.

बकर 
डायलाग अच्छे लगते हैं जब फिल्म शुरू होती है. और ख़त्म होते होते ड्रामेबाजी की हद तक आ जाते हैं. फिल्म में एक-दो पंचलाइन्स हो तो सालों तक लोग उन्हें दोहराते हैं. पर पूरी फिल्म को भारी डायलॉग्स से भर देना उसे चेप बना देता हैं. पब्लिक के पास टैम कम है भंसाली साहब. जल्दी में निपटाते तो बेटर होता.

कहानी 
प्रेडिक्टेबल है. इंटरवल तक तो लगता है कुछ नया नया. पर इंटरवल के बाद आपको पता होता है कि सलीम और अनारकली की तरह ये साथ न हो पाएंगे. क्योंकि पेशवाई का मान ऐसा होना नहीं देगा.

क्यों देखें
फील लेने के लिए. हमको तो पीछे का टिकस नहीं मिला तो मुंडी उचका के देखे आगे से. पर आप देखना तो पीछे से. एनीमेशन कहते हैं जिसे, वो बढ़िया है. 40 हजार सैनिक ऊपर से दिखाते हैं चींटी की तरह. वैसे ये भी संजय लीला भंसाली से एक्सपेक्टेड है. पर थोड़ी तारीफ भी करनी चाहिए.

क्यों न देखें
अगर एक चोमू लव स्टोरी न देखनी हो तो. वही अमर प्रेम. वही अमन का पैगाम. जिएंगे मरेंगे इक्स में टाइप. आपको पता होता है कि फिल्म में क्या होगा इसलिए बाजीराव जब टूट कर गिरता है, या मस्तानी जब बेड़ियों में दम तोड़ती है, आपको कोई फर्क नहीं पड़ता. यू आर लाइक, आई न्यू इट ब्रो!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Film Review of Bajirao Mastani

10 नंबरी

हटके फिल्मों के लिए मशहूर आयुष्मान की अगली फिल्म भी ऐसी ही है

'बधाई हो' से भी बम्पर हिट हो सकती है ये फिल्म, 'स्त्री' बनाने वाली टीम बना रही है.

Impact Feature: ZEE5 ओरिजिनल अभय के 3 केस जो आपको ज़रूर देखने चाहिए

रोमांचक अनुभव देने वाली कहानियां जो सच के बेहद जाकर अपराधियों के पागलपन, जुनून और लालच से दो-चार करवाती हैं.

कभी पब्लिश न हो पाई किताब पर शाहरुख़ खान की फिल्म बॉबी देओल के करियर को उठा सकेगी!

शाहरुख़, एस. हुसैन ज़ैदी की कहानी पर फिल्म ला रहे हैं, जिन्हें इंडिया का मारियो पुज़ो कहा जा सकता है.

सलमान ने सुनील ग्रोवर के बारे में ऐसी बात कही है कि सुनील कोने में ले जाकर पूछेंगे- 'भाई सच में?'

साथ ही कटरीना कैफ ने भी कुछ कहा है.

जेब में चिल्लर लेकर घूमने से दुनिया के दूसरे सबसे महंगे सुपरस्टार बनने की कहानी

जन्मदिन पर जानिए ड्वेन 'द रॉक' जॉन्सन के जीवन से जुड़ी पांच मजेदार बातें.

कहानी पांच लोगों की, जिन्होंने बिना सरकारी पैसे और गोली के इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी को पकड़ा

इस आतंकवादी को इंडिया का ओसामा-बिन-लादेन कहा जाता था.

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. पर अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट आने के बाद सबसे पहले करें ये दस काम

आत्महत्या जैसे ख्याल मन में आने ही न दीजिए. रिश्तेदार जीते-जी आपकी जिंदगी नरक बनाने आ रहे हैं.

जापान में मुर्दे क्यों लगते हैं बरसों लम्बी लाइनों में, इन 7 तस्वीरों से जानिए

मुस्कुराइए, कि आप भारत में हैं. जापान में नहीं.

उन 43 बॉलीवुड स्टार्स की तस्वीरें, जिन्होंने मुंबई में वोट डाले

जानिए कैनडा के नागरिक अक्षय कुमार ने वोट दिया या सिर्फ वोट अपील ही करते रहे?