Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू: केसरी

1.63 K
शेयर्स

आज से तकरीबन 122 साल पहले, 12 सितम्बर 1897 को एक जंग लड़ी गई थी. ब्रिटिश आर्मी के सिख सिपाहियों और पठान लड़ाकों के बीच. उस दिन वहां जो हुआ वो इतना अद्भुत था कि इतिहास में जगह पा गया. अक्षय कुमार की नई फिल्म ‘केसरी’ इसी जंग की कहानी है.

सारागढ़ी का संग्राम

कहानी को चंद लाइनों में समेटा जा सकता है. पठान सेना किसी वजह से उस वक़्त के हिंदुस्तान के कुछ इलाकों पर कब्ज़ा करना चाहती है. पहली बाधा है सारागढ़ी की चौकी. और वहां तैनात 36 सिख रेजिमेंट के 21 सिपाही. उन 21 सिपाहियों के दस हज़ार पठानों से भिड़ जाने की कहानी है ‘केसरी’.

21 सिपाहियों की दस हज़ार सैनिकों से जंग.
21 सिपाहियों की दस हज़ार सैनिकों से जंग.

ऐतिहासिक घटनाओं पर आधारित फिल्मों में कुछेक चीज़ें बहुतायत में होने की आशंका रहती है. जैसे अननेसेसरी चेस्ट थंपिंग, ओवर मेलोड्रामा और हिस्ट्री छोड़कर कुछ भी दिखाने की ज़िद. ‘केसरी’ इन सब चीज़ों से बचकर दिखाके हैरानी का सुखद झटका देती है. ‘केसरी’ देखते वक्त आपके ज़हन में सिक्खों के गुरु गोविंद सिंह जी के बोल घूमते रहते हैं. ‘सवा लाख नाल एक लड़ावां, तां गोविंद सिंह नाम धरावां’. ‘केसरी’ इसी जज़्बे का नॉन-ड्रामेटिक, नॉन-नॉनसेंस सिनेमाईकरण है. ‘केसरी’ के फौजियों के लिए फ़ौज में होना देशभक्ति से पहले नौकरी है. जंग पर आधारित फिल्म में ‘जंग कुछ और नहीं बस कारोबार है’ जैसे डायलॉग होना बताता है कि मेकर्स का ज़हन-ओ-दिल सही जगह पर है.

सिर्फ जंग की कहानी नहीं है ‘केसरी’

फर्स्ट हाफ थोड़ा लंबा खिंच गया है. और उसकी वजह से फिल्म भी. कुछेक गाने तो फिल्म के फ्लो को ही बिगाड़ देते हैं. हालांकि फर्स्ट हाफ में कुछ रॉ फनी मोमेंट्स भी हैं. अक्षय कुमार की थप्पड़मार कॉमेडी से दूर ये वाला ह्यूमर अच्छा लगता है. फिल्म सिर्फ सारागढ़ी की लड़ाई की कहानी ही नहीं कहती. बल्कि छुआछूत जैसे विषय भी छूती है और मानवता, करुणा की ज़रूरत को भी रेखांकित करती है. वो सीन तो बहुत उम्दा बन पड़ा है जब एक सिपाही भोला सिंह को एक बूढ़ी मुस्लिम अम्मा एक बादाम देती है. उसके प्रति सम्मान के रूप में जीवन भर अछूत समझ कर दुत्कारा जाता भोला सिंह उस सम्मान को पाकर चमत्कृत रह जाता है. ऐसे कुछेक पल और भी हैं.

जंग वाली फिल्मों में दया, करुणा की बात अलग ही प्रभाव रखती है.
जंग वाली फिल्मों में दया, करुणा की बात अलग ही प्रभाव रखती है.

एक्टिंग अक्षय कुमार समेत सबकी अच्छी है. अक्षय अपनी और फिल्मों की तरह बात-बेबात लाउड नहीं होते. गुंजाइश होने के बावजूद. और ये फिल्म के हक में बहुत बड़े प्लस की तरह काम करता है. इसके लिए डायरेक्टर अनुराग सिंह को अतिरिक्त मार्क्स. साथी सिपाहियों का रोल करने वाले तमाम कलाकार पूरी तरह विश्वसनीय लगते हैं. कुल मिलाकर कास्टिंग अच्छी है. परिणीति चोपड़ा के हिस्से सिर्फ ड्रीम सिक्वेंसेस आए हैं. उन्होंने अपना काम ठीक-ठाक किया है.

कम्माल का एक्शन

फिल्म के दो और बड़े प्लस पॉइंट्स हैं. एक्शन और सिनेमेटोग्राफी. एक्शन सीन्स तो बहुत ही उम्दा हैं. और उससे बड़ी बात कि अतार्किक नहीं हैं. ऐसी फिल्मों में एक वक़्त के बाद एक्शन रिपिटेटिव लगने लगता है पर ‘केसरी’ में ऐसा बिल्कुल नहीं है. आखिर तक नित नया एक्शन घटता रहता है. वो सीन तो बहुत मस्त बन पड़ा है जिसमें अक्षय एक आम बंदूक पर दूरबीन बांधकर उसे दुनिया की पहली टेलिस्कोपिक गन बना देते हैं और दुश्मन के शार्प शूटर की बंदूक को ठीक बीच में से दो फाड़ कर देते हैं. दर्शकों के मुंह से अपनी-अपनी श्रद्धानुसार वाऊ या वाह निकलता है. इसके अलावा क्लाइमैक्स सीन भी बढ़िया है.

एक्शन सीन्स पैसा वसूल हैं.
एक्शन सीन्स पैसा वसूल हैं.

सिनेमेटोग्राफी के लिए भी फिल्म को पूरे नंबर देने पड़ेंगे. पहाड़ियों से घिरी सरागढ़ी के कुछेक एरियल शॉट्स तो बला के खूबसूरत लगते हैं. सिनेमेटोग्राफर अंशुल चौबे को फुल मार्क्स. दो गाने बहुत अच्छे हैं. ‘मनोज मुंतशिर’ का लिखा ‘तेरी मिट्टी’ तो पहले ही हिट हो चुका है. इसके बोल बहुत अच्छे हैं. जैसे ‘तू कहती थी, तेरा चांद हूं मैं और चांद हमेशा रहता है’.

डायरेक्टर अनुराग सिंह इससे पहले ‘रकीब’ जैसी फ्लॉप फिल्म और पंजाबी में कुछ हिट फ़िल्में बना चुके हैं. ‘केसरी’ हिंदी में उनका पहला बड़ा प्रोजेक्ट है और वो अपने काम के साथ पूरा न्याय करते हैं.

तो कुल मिलाकर हवलदार ईशर सिंह, उनके बीस सिपाही और एक खानसामे खुदादाद की ये रोमांचक जंग इस होली पर देखी जा सकती है. इसे देखकर घर लौटते वक़्त आपके ज़हन में एक और मशहूर कथन रक्स करता है.

‘सूरा सो पहचानिए जो लरे दीन के हेत, पुर्ज़ा पुर्ज़ा कट मरे कबहू न छाड़े खेत’.


वीडियो:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Film Review: Kesari starring Akshay Kumar, Parineeti Chopra directed by Anurag Singh

10 नंबरी

क्या 'सुपर 30' के ट्रेलर को देखकर आपको भी ये बातें फील हुई हैं?

ऋतिक रोशन की विवादों से घिरी फिल्म 'सुपर 30' का ट्रेलर आखिरकार आ तो गया मगर छा पाएगा?

आज़ादी से पहले जन्मे इस गायक ने सलमान को टॉप पर पहुंचाने के लिए सबसे ज़्यादा एफर्ट किए

उस कॉलेज ड्रॉपआउट के 6 गीत और ढेरों किस्से, जिसने 40,000 गाने गाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया

ये हैं कश्मीर में सक्रिय टॉप 10 आतंकवादी

कश्मीर के सुरक्षा बलों ने तैयार की है ये लिस्ट

कश्मीर में हिंदू पंडितों पर हुए अत्याचारों और उनके विस्थापन को करीब से दिखाएंगी ये दो फ़िल्में

'3 इडियट्स' और 'ताशकंद फाइल्स' बनाने वालों की इन फिल्मों के बारे में जानकार आपके लिए डिसाइड करना मुश्किल होगा कि कौन सी देखें.

पुबसी, नानी, प्रभा: साउथ स्टार्स के इन दिलचस्प निक नेम्स में से आपको कितने पता हैं?

महेश बाबू और जूनियर एनटीआर के नाम शायद सबसे रोचक हैं.

देखिए नरेंद्र मोदी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ की 17 तस्वीरें

कल शाम नरेंद्र मोदी ने 8000 मेहमानों के सामने दूसरी बार भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी.

यूपी में हुए घिनहा गैंग रेप और मर्डर केस पर बनी है आयुष्मान की अगली फिल्म 'आर्टिकल 15'

इस फिल्म के एक ही दिन में दो-दो ट्रेलर्स आ गए.

दिया मिर्ज़ा की इस सीरीज़ ने भारत-पाकिस्तान संबंधों पर बनी फिल्मों की कहानी को पलट दिया है

'काफ़िर' का ट्रेलर देखने के बाद आप हैरान-परेशान रह जाएंगे.

इंडिया का वो ऐक्टर, जिसे देखकर इरफ़ान ख़ान और नवाज़ुद्दीन भी नर्वस हो जाएं

नर्वस होने की लिस्ट में शाहरुख़, सलमान, आमिर सबके नाम लिख लीजिए.

अजय के पापा वीरू देवगन की वो बातें जो बहुत कम लोग जानते होंगे

आखिरी विदाई देने अजय देवगन के घर पहुंचने से लेकर वीरू देवगन के जाने पर बॉलीवुड के तमाम लोगों ने ट्विटर पर भी शोक जताया है.