Submit your post

Follow Us

फ़िल्म रिव्यू : फ़ुकरे रिटर्न्स

“मम्मियों को कुछ नहीं मालूम अपनी दोस्ती के बारे में. वो अपनी जगह सही हैं और हम अपनी जगह.”

वो साला बचपन ही नहीं जिसमें घरवालों और बाकी दुनिया ने आपको फुकरा न कहा हो. आप पंजाबी नहीं होंगे तो कुछ और ही कहा होगा लेकिन उसके मायने यही होंगे. ये कहानी ऐसे ही फुकरों की है. जिन्होंने इसकी पहली किस्त देखी है उन्हें तो ये बात बाकायदे मालूम ही होगी. भोली पंजाबन जेल से बाहर निकल जाती है और चूचा, हन्नी, ज़फ़र और लाली के साथ साथ पंडित जी की फिर से रेल बनाने को तैयार है. साथ में मंत्री जी भी हैं जो भोली का तेल निकालने को आतुर हैं. नेता जी की आंखें पैसे पे लगी हुई है. इसी टोली का सारा खेला है फुकरे रिटर्न्स में.

फ़िल्म में कास्ट वही है. एकदम वही. बस नेता जी नए हैं. राजीव गुप्ता को इतने बड़े रोल में देखके बढ़िया लगता है. एकदम फबते हैं. उन्हें और काम मिलना चाहिए. एकदम दबा के. ये उन लोगों में हैं जिन्हें बढ़िया से खंगाला नहीं गया है. बाकी, पुलकित सम्राट, वरुन शर्मा, अली फ़ज़ल, मनजोत सिंह, प्रिय आनंद, विशाखा सिंह, पंकज त्रिपाठी और ऋचा चड्ढा तो हैय्ये हैं.

चार फ़ुकरे
चार फ़ुकरे

फ़िल्म बनाने वालों को ये समझ में आ गया था कि भोली पंजाबन हिट हो चुकी है इसलिए इस बार उन्हें स्क्रीन पर भरपूर टाइम मिला है. चूचा मज़े देता रहता है. लाली की ज़िन्दगी अभी भी ‘रंगीनियत’ से कोसों दूर है. हनी ने होने वाले ससुर से भी बात कर ली है. ज़फ़र नई जगह सेता हो जाना चाहता है और पंडित जी कॉलेज के गेट पर अभी भी मौजूद हैं. लेकिन फिर भी फ़िल्म में वो रस नहीं मिल पाता है जो पहली किस्त में था. अक्सर पहली फ़िल्म की कामयाबी पर दूसरी बनाने में यही होता ही है. ये फ़िल्म अगर पहली किस्त होती तो इससे बेहतर मज़ा देती.

फ़िल्म में कुछ चीज़ें हैं जो बेवजह होती रहती हैं. बस यूं ही. शेर के बच्चे को चूचा यूं ही सहलाता रहता है. उसकी कोई वजह नहीं है. वैसा न भी होता तो भी चलता. लेकिन क्या है कि ये थोड़ा अजीब लगता है. बंद हो चुके चिड़ियाघर में ये 5 ही घुस पाते हैं. और कोई नहीं आता. कभी भी नहीं. और ये जब मर्ज़ी आ-जा  रहे हैं. कुछ क्लियर नहीं होता.

फ़िल्म में पिछवाड़े पर सांप के काटने से, झाड़ी में दो लड़कों के टट्टी करने से, हनी के आवाज़ करते हुए पेशाब करने से हंसी क्रियेट करने की कोशिश की गई है.


फ़िल्म में एक कैरेक्टर जो अपने चेहरे, टाइमिंग से हंसी लाता है – पंडित जी. पंडित जी यानी पंकज त्रिपाठी. न्यूटन के वक्त सोच में डूब गया था कि कैसे वासेपुर का सुल्तान जो भैंसा और आदमी एक ही जैसा काटता था, आत्मा सिंह बन जाता है. अब यही कहानी आगे बढ़ती है और आत्मा सिंह पंडित जी बन गया है. क्या कमाल का वेरिएशन है. ये आदमी सिर्फ अपनी टूटी अंग्रेजी और फूटी किस्मत के दम पर हंसाता है. जनता इस ऐक्टिंग की कायल होने वाली है. एक सीक्वेंस में ऋचा चड्ढा और पंकज, दोनों की बातचीत दिखाई गई है. वहां इन दोनों ने खूब नम्बर कमाए हैं.


पंडित जी.
पंडित जी.

फ़िल्म का ऐसा है कि देख ली जाए तो कुछ बुरा नहीं होगा. लेकिन पिछली फुकरे का भार इसपर न लादा जाए तो ही गनीमत रहेगी. इसमें वो दिल्ली नहीं है जो पहली फ़िल्म की आधी जान थी. इसमें वो प्यार नहीं है जिसने अम्बरसरिया को हर दूसरे फ़ोन की कॉलरट्यून बना दिया था. इसमें ह्यूमर है मगर उसे स्क्रीन पर लाने की वो ईमानदारी गायब है. और इसकी कमी खलती है.


 ये भी पढ़ें:

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

शाहरुख खान से कार्तिक आर्यन तक इन सुपरस्टार्स के स्ट्रगल के किस्से हैरान कर देंगे

किसी ने भूखे पेट दिन गुजारे तो किसी ने मक्खी वाली लस्सी तक पी.

जब रमेश सिप्पी की 'शक्ति' देखकर कहा गया,'दिलीप कुमार अमिताभ बच्चन को नाश्ते में खा गए'

जानिए जावेद अख्तर ने क्यों कहा, 'शक्ति में अगर अमिताभ की जगह कोई और हीरो होता, तो फिल्म ज़्यादा पैसे कमाती?'

जब देव आनंद के भाई अपना चोगा उतारकर फ्लश में बहाते हुए बोले,'ओशो फ्रॉड हैं'

गाइड के डायरेक्टर के 3 किस्से, जिनकी मौत पर देव आनंद बोले- रोऊंगा नहीं.

2020 में एमेज़ॉन प्राइम लाएगा ये 14 धाकड़ वेब सीरीज़, जो मस्ट वॉच हैं

इन सीरीज़ों में सैफ अली खान से लेकर अभिषेक बच्चन और मनोज बाजपेयी काम कर रहे हैं.

क्यों अमिताभ बच्चन की इस फिल्म को लेकर आपको भयानक एक्साइटेड होना चाहिए?

ये फिल्म वो आदमी डायरेक्ट कर रहा है जिसकी फिल्में दर्शकों की हालत खराब कर देती हैं.

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

नेटफ्लिक्स ने इस साल इंडियन दर्शकों के लिए कुछ भयानक प्लान किया है

1 साल, 18 एक्टर्स और 4 धांसू फिल्में.

'एवेंजर्स' बनाने वालों के साथ काम करेंगी प्रियंका, साथ में 'द फैमिली मैन' के डायरेक्टर भी गए

एक ही प्रोजेक्ट पर काम करने के बावजूद राज एंड डीके के साथ काम नहीं कर पाएंगी प्रियंका चोपड़ा.

पेप्सी को टैगलाइन देने वाले शहीद विक्रम बत्रा की बायोपिक की 9 शानदार बातें

सिद्धार्थ मल्होत्रा अपने करियर में डबल रोल और बायोपिक दोनों पहली बार कर रहे हैं.

विक्रम के ऊपर लटके रहने वाले बेताल की कहानी, जिसने मधुबाला के साथ हिट फिल्म दी थी

टीवी पर इनके सीरियल ने 'रामायण' और 'महाभारत' से पहले ही धमाल मचा दिया था.