Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

अंग्रेज़ी मीडियम. स्कूल नहीं पिक्चर. इस हफ्ते लगी है. देखने पर भी सही लगी है. कहानी है उदयपुर में रहने वाली एक फैमिली की. वैसे तो काफी लंबी-चौड़ी फैमिली है लेकिन फिल्म में सिर्फ तीन लोगों की कहानी दिखाई गई है. चंपक बंसल, उसकी बेटी तारीका और चंपक का रिश्ते में लगने वाले भाई गोपी की. तारीका का सपना है कि वो विदेश जाकर पढ़े. उसके पापा को लगता है कि इससे उसकी बिटिया दूर हो जाएगी. लेकिन फिर भी वो मेहनत करता है अपनी बेटी का एडमिशन यूनाइटेड किंगडम के मशहूर ट्रूफोर्ड यूनिवर्सिटी में करवाने के लिए. वहां एक पुलिसवाली से इनकी भिड़ंत हो जाती है और मामला गड़बड़ा जाता है. फिल्म की मोटा-मोटी कहानी यही है. लेकिन इन घटनाओं-किस्सों के बीच जो होता है, वो फिल्म है.

बीमारी से लौटे इरफान की ये कमबैक फिल्म है.
बीमारी से लौटे इरफान की ये कमबैक फिल्म है. न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर हो गया था इन्हें. उसका इलाज अब भी चल रहा है.

इरफान खान ने चंपक बंसल का रोल किया है. ये आदमी फिल्म में बाप और भाई दोनों है. दो मूड हैं. दो फेज़ हैं. आदमी एक है. लेकिन वो इरफान खान है. इस फिल्म में उन्हें देखकर थोड़ा ‘करीब करीब सिंगल’ वाला फील आएगा. लेकिन यकीन मानिए ये वाला अलग लेवल है. उनके भाई बने हैं दीपक डोबरियाल. इस आदमी ने फिल्म में क्या मचाया है. जब ये सबसे ज़्यादा सीरियस होकर रो रहे होते हैं, तब भी उन्हें देखकर जनता हंसती हुई पगला जाती है. दोनों भाई दिन में मिठाई की दुकान के टाइटल घसीटाराम के लिए लड़ते हैं और रात को पार्टी करते हुए कन्फेशन कर लेते हैं. सुबह फिर लड़ाई चालू. चंपक की बेटी तारीका जिसे बचपन से विदेश जाना था, उसका रोल किया है राधिका मदान ने. ‘पटाखा’ वाली. हालांकि यहां उनके फटने का मौका नहीं था. वो स्कूल किड से लेकर कॉलेज गोइंग लड़की दोनों के किरदार को विश्वास करने लायक बनाती हैं. उस किरदार की उम्र के लोगों के साथ एक कनेक्ट बनता है. साथ में करीना कपूर उस ब्रिटिश पुलिसवाली के रोल में हैं, जिसके हत्थे चंपक और गोपी चढ़ जाते हैं. उनके हिस्से का काम कम है लेकिन मजबूत है. फिल्म में आसानी से घुलता है.

फिल्म के एक सीन में चंपक अपने भाई गोपी के साथ.
फिल्म के एक सीन में चंपक अपने भाई गोपी के साथ. जैसा इनका साथ है, फिल्म में करण-अर्जुन का एक गाना रीमिक्स करके डाला जा सकता था.

फिल्म का म्यूज़िक प्यारा है. जैसे बैकग्राउंड में अलग-अलग मौकों पर ‘एक ज़िंदगाी’ और ‘लाड़की’ बजता रहता है. वहां नोटिस करने के बाद आप घर आकर इन गानों को वापस से सुनना चाहते हैं. फिल्म से अलग. जो चीज़ें राजस्थान में घट रही हैं, वहां एक कुछ फोक म्यूज़िक सा बैकग्राउंड में सुनाई देता है. लेकिन वो बिलकुल आखिर में है. कुछ जगहों पर एक्सट्रा चूं-चां सुनाई देती है, जो शायद ये बताने के लिए होती है कि ये सीन फनी है, थोड़ा हंस लीजिए. दिखने में फिल्म बड़ी ब्राइट सी है. हल्का पीलापन लिए हुए. जैसे दुबई का ज़िक्र आता है ये कलर सेपिया हो जाता है. लंदन वाले सीन्स में इमोशन और ठंडक दोनों आप तक पहुंचती है.

फिल्म में तारीका बंसल का रोल करने वाली राधिका मदान. इस बेचारी बच्ची का कसूर बस इतना है कि ये लंदन पढ़ने जाना चाहती है.
फिल्म में तारीका बंसल का रोल करने वाली राधिका मदान. इस बेचारी बच्ची का कसूर बस इतना है कि ये लंदन पढ़ने जाना चाहती है.

फिल्म की गंभीरता को बचाए रखते हुए उसे बोरिंग और झिलाऊ होने से बचा पाना. ये एक अच्छी बात है ‘अंग्रेज़ी मीडियम’ की. फिल्म का मैसेज साफ है कि वो क्या कहना चाहती है. भरपूर इमोशन है. लेकिन हर जगह जो ह्यूमर का तड़का लगता है न, वो इस फिल्म के फेवर में सबसे ज़्यादा काम करता है. फिल्म जहां भारी होती है, वहां उसे अगली लाइन से मैनेज कर लिया जाता है. लिखावट को लेयर देने की कोशिश की गई है. कोशिश करना और उसमें सफल होना, दो अलग-अलग चीज़ें हैं. हंसी-मजाक में भी सीरियस बात हो रही है, जैसे उमेश शुक्ला की ‘102 नॉट आउट’ में था. फिल्म की अगली सबसे शानदार चीज़ है इरफान और दीपक की केमिस्ट्री. क्या मज़ाल की इन दोनों के स्क्रीन पर होते हुए आप 10 सेकंड से ज़्यादा बिना हंसे रह जाएं. ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी. साथ में एक ज्ञान भी देती है, जो आप फिल्म को माफ करते हुए ले लेते हैं.

फिल्म के एक सीन में करीना कपूर. इन्हें कहानी में अलग से जोड़ा जाता है, ताकि पिता बने इरफान को सही दिखाया जा सके.
फिल्म के एक सीन में करीना कपूर. इन्हें कहानी में अलग से जोड़ा जाता है, ताकि पिता बने इरफान को सही दिखाया जा सके और बच्चों को गलत.

फिल्म में एक सीन है, जहां तारीका और उसका बेस्ट फ्रेंड केमिस्ट्री लैब में कोई एक्सपेरिमेंट कर रहे होते हैं. तारीका कर देती है गड़बड़. ऐसे में उसका मदद के लिए वो लड़का आता है. लेकिन आने से पहले वो आगे-पीछे, दाएं-बाएं टीचर को देखता है. ये टीचर को देखने वाला पॉइंट जो है, वो ही इस फिल्म को खास बनाता है. डिटेलिंग. लेकिन ऐसा हर सीन में नहीं है. कुछ चीज़ें तो ज़्यादा ही फिल्मी और अनरियल हो जाती हैं. जैसे लंदन में जाकर ब्लैक लिस्ट हो जाना. नाम बदलकर दुबई के रास्ते लंदन पहुंचना. पैसे से भरे बस्ते के लिए ‘भागमभाग’ मचाना.

दीपक डोबरियाल. इन्होंने गोपी का रोल किया है. इस फिल्म का सबसे वॉचेबल हिस्सा यही हैं. सुपरफनी.
दीपक डोबरियाल. इन्होंने गोपी का रोल किया है. इस फिल्म का सबसे वॉचेबल हिस्सा यही हैं. सुपरफनी.

ये फिल्म बेसिकली एक बाप-बेटी की कहानी दिखाती है. अगर कोई रेफरेंस पॉइंट चाहते हैं, तो ‘बागबान’ का इग्ज़ांपल ले सकते हैं. लेकिन इन दोनों फिल्मों में ज़मीन आसमान का अंतर है. लेकिन ये फिल्म बाप और बेटी में से सिर्फ बाप का पक्ष और कहानी दिखाती है. मतलब वो भी ज़रूरी है कि हम जानें कि हमारे मम्मी-पापा ने हमारे लिए कितनी दिक्कतें झेली हैं. लेकिन बेटी वाली साइड को फ्रीडम के नाम पर बड़े सतही तरीके से दिखाया गया है. इसी चक्कर में फिल्म कंज़रवेटिव हो जाती है. बाप का लालच है कि बेटी उसके पास रहे, तो फिल्म के मुताबिक ये ठीक है. लेकिन जब बेटी चाहती है कि वो पढ़ने के लिए लंदन जाए, तो वो गलत. मां-बाप को तो आप कुछ कह नहीं सकते क्योंकि उसे तो ब्लासफेमस (ईशनिंदा) मान लिया जाएगा. इसलिए सारी गलतियां बेटी तारीका के सिर मढ़ दो और गिल्ट भी उसी के हवाले कर दो. ये भारतीय जनता को लुभाने का प्रयास है लेकिन मेंटैलिटी में गड़बड़ी है.

फिल्म में जितनी तोहमतें इस बच्ची के ऊपर लाद दी गई हैं, इस केस में फिल्म का नाम 'अंग्रेज़ी मीडियम' नहीं गिल्टी होना चाहिए था.
फिल्म में जितनी तोहमतें इस बच्ची के ऊपर लाद दी गई हैं, उस लिहाज़ से फिल्म का नाम ‘अंग्रेज़ी मीडियम’ नहीं गिल्टी होना चाहिए था.

फिल्म में बिखराव बहुत है. फिल्म कई मौकों पर अलग-थलग सी पड़ जाती है. खिंची हुई भी लगती है. उसको बस फिल्म का ह्यूमर कोशंट संभालता है. लेकिन लालच बुरी बला है, इसलिए ‘जितना मिला काफी है’.

इंडिया में बहुत कम ऐसी फिल्में बनती हैं जिनके सीक्वल ओरिजिनल फिल्म से बेटर हों. ‘तनु वेड्स मनु’ के बाद ‘मीडियम’ फ्रैंचाइज़ी भी कुछ उसी जोन में है. फिल्म डेवलप होने में समय नहीं लगाती. तुरंत लोड हो जाती है. आपको अंटे में लेने के बाद फिल्म ज्ञान-गंगा बहा देती है. इमोशनल करने की कोशिश करती है, हंसाती है और मज़े-मज़े में खत्म हो जाती है. इतना फील छोड़कर कि आप घर जाकर कुछ मिनट तक अपने मम्मी-पापा से (कंफर्ट लेवल देखकर) चिपटे रहेंगे. लेकिन शुरू से लेकर आखिर तक ये रहती सिनेमा ही है.


 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

उनके ख्वाबों की लिस्ट में उनके व्यक्तित्व का सार छुपा हुआ है.

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

इनमें से एक फिल्म अगले कुछ दिनों में रिलीज़ होने वाली है, जो सुशांत के करियर की आखिरी फिल्म होगी.

इंडियन आर्मी ऑफिसर्स पर बन रही 7 फिल्में, जिन्हें देखकर छाती चौड़ी हो जाएगी

इन फिल्मों में इंडिया के सबसे बड़े सुपरस्टार्स काम कर रहे हैं.

ये FICCI, ASSOCHAM, CII वगैरह सुनाई तो खूब देते है, पर होते क्या हैं?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 जून को इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) के सेशन को संबोधित किया.

बड़े बजट और सुपरस्टार्स वाली वो 5 फिल्में, जो किसी भी हाल में ऑनलाइन रिलीज़ नहीं होंगी

ये 2020 की सबसे बड़ी और बहुप्रतीक्षित फिल्में हैं.

इबारत : गिरफ़्तारी भागने का मौक़ा होने के बाद भी शहीद रामप्रसाद बिस्मिल भागे क्यों नहीं?

काकोरी केस में गिरफ़्तार किए गए थे बिस्मिल.

भारत के लिए खेले इन क्रिकेटर्स के पास कौन सी डिग्री है?

बड़ी डिग्री वाले हैं ये क्रिकेटर.

वो 8 बॉलीवुड फिल्में, जो थिएटर्स के बदले सीधे ऑनलाइन रिलीज़ होने जा रही हैं

इस लिस्ट में इंडिया के सबसे बड़े सुपरस्टार्स से लेकर दिग्गज फिल्ममेकर्स की फिल्में भी शामिल हैं.

कोरोना से जुड़ी आठ अफवाहें, जिनको लोगों ने बिना सोचे-समझे, धड़ल्ले से शेयर किया

वायरस से ज्यादा तेज़ी से तो ये अफवाहें फ़ैलीं.

अंग्रेजों से गुरिल्ला युद्ध लड़ने वाले आदिवासी नायक जिनकी जान कॉलरा ने ले ली

कहानी झारखंड के सबसे बड़े हीरो की, जिसने 25 साल में ही दुनिया छोड़ दी थी.