Submit your post

Follow Us

गंधाते रिक्शे वाले को चूमता गे प्रोफेसर! इस सीन में खुशबू नहीं, प्यार है

फिल्म रिव्यू: अलीगढ़ 

डायरेक्टर: हंसल मेहता

स्टोरी: अपूर्व असरानी

प्रड्यूसर: इरोस/कर्मा पिक्चर्स

रन टाइम: 2 घंटे


दो सीन हैं. पहला. एक बड़ा शहर है. एक बड़ी कंपनी के दफ्तर की छत पर एक खूबसूरत सी साड़ी में एक लड़की एक लड़के को चूम रही है.

दूसरा. उसी समय एक छोटे शहर के एक छोटे से कमरे में एक आदमी दूसरे आदमी को चूम रहा है. कान पर, होठों पर, सीने पर. पहला आदमी दुबला-पतला मटमैली सी बंडी पहने है. बाल खिचड़ी हो रहे हैं. शरीर बुढ़ा रहा है. और दूसरा आदमी एक रिक्शा वाला है. रिक्शा चला कर आया था. जाने कब नहाया होगा. शरीर गंधा रहा होगा.

दोनों ही सीनों में सेक्स करने की एक स्ट्रॉन्ग इच्छा है. दोनों ही सीनों में प्यार है. दोनों मर्दों का प्रेम उतना ही सच्चा है जितना एक मर्द और औरत का. पहला सीन आपको इरॉटिक लगेगा. लेकिन दूसरे में आप सीट पर हिले-डुलेंगे. क्योंकि उसमें खुशबू नहीं है. ‘इश्क’ शब्द को आप जिस तरह इमैजिन करते हैं, ये उससे कोसों दूर है. आप इसमें बॉलीवुड की किसी रोमैंटिक फिल्म का कोई गाना नहीं फिट कर सकेंगे. आपकी इसी इमैजिनेशन को अलीगढ़ तोड़ देती है. ‘इश्क’ की नई परिभाषा लिखती है.

प्रोफेसर सिरास एक सीधा-साधा आदमी है. भगवान की पूजा करता है. दरवाजे पर देवी लक्ष्मी की फोटो लगाता है. गोश्त वाले हाथों से कोई दाल वाला बर्तन छू ले तो पूरी दाल छोड़ देता है. शादी भी करता है. लता मंगेशकर को सुनता है. प्रेम कविताएं लिखता है. लेकिन किसी औरत के लिए नहीं.

सिरास गे है. पर उसे पता नहीं है कि वो गे है. उसे बस इतना पता है कि पत्नी से प्रेम नहीं कर पाया. और जिससे प्यार करता है वो एक मर्द है. वो कोई एक्टिविस्ट नहीं है. उसकी चाल जनाना नहीं है. उसकी आवाज लड़कियों जैसी नहीं. वो दूसरे मर्दों से फ़्लर्ट नहीं करता. उसमें एक भी ऐसी चीज नहीं है जो उसे दुनिया कि निगाहों में ‘गे’ बनाती हो. अलीगढ़  ‘गे’ शब्द से जुड़ा हर स्टीरियोटाइप तोड़ती है.

सिरास के जीवन में ‘कम आउट’ का कॉन्सेप्ट नहीं है. क्योंकि वो सोच ही नहीं सकता कि अपने बेडरूम को उसे मीडिया में ले जाने और टीवी पर दिखाने के भी कुछ मायने हो सकते हैं. उसे पता ही नहीं है कि उसके लिए लोग लड़ रहे हैं. जो उसके लिए नॉर्मल है वो देश और कानून के लिए इतनी बड़ी बात क्यों है?

और बात बड़ी है क्योंकि सिरास मिडिल क्लास है. उसका ‘फ्रेंड’ इरफान तो रिक्शे वाला था. ऐसा गायब हुआ कि वापस नहीं आया. जाने जिंदा भी था या मर गया.

सिरास भी मरता है. लेकिन उसे सिर्फ उन लोगों ने नहीं मारा जो उसके खिलाफ थे, जो उसके जलते थे, नफरत करते थे. उन्होंने ने भी मारा जो उसके साथ खड़े होने का दावा करते थे. जब यूनिवर्सिटी से मारने की कोशिश की तो सिरास को लगा कि क्लॉक टावर से कूद कर अपनी जान दे दे. पर फिर शराब पीने घर पर वापस आ गया. उसे यूनिवर्सिटी ने नहीं मारा. कोर्ट की सुनवाइयों ने और अखबार की सुर्खियों ने मारा.

फिल्म जरूर देखिए. ये जानने के लिए समलैंगिकता जैसी टीवी और अखबारों में दिखती है वैसी नहीं होती. जितना आसान गे राइट्स के बारे में अखबारों में पढ़ना होता है, उतना ही कठिन उसे जीना होता है.

मनोज बाजपई और राजकुमार राव. दोनों ही कमाल हैं. हंसल मेहता और अपूर्व असरानी को थैंक यू है. बड़ा वाला थैंक यू.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो एक्टर जो लोगों को अंग्रेज़ लगता था, लेकिन था पक्का हिंदुस्तानी

जिसकी हिंदी, उर्दू और अंग्रेज़ी पर गज़ब की पकड़ थी.

भारत-चीन तनाव: PM मोदी के बयान पर भड़के पूर्व फौजी, कहा- वे मारते मारते कहां मरे?

पीएम ने कहा था न कोई हमारी सीमा में घुसा है न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है.

'बुलबुल' ट्रेलर: देखकर लग रहा है ये बिल्कुल वैसी फिल्म है, जैसी एक हॉरर फिल्म होनी चाहिए

डर भी, रहस्य भी, रोमांच भी और सेंस भी. ऐसा लग रहा है कि फिल्म 'परी' से भी ज्यादा डरावनी होगी.

इस आदमी पर से भरोसा उसी दिन उठ गया था, जब इसने सनी देओल का जीजा बनकर उन्हें धोखा दिया था

परदे पर अब तक 182 बार मर चुका है ये एक्टर.

'गो कोरोना गो' वाले रामदास आठवले की कही आठ बातें, जिन्हें सुनकर दिमाग चकरा जाए

अब आठवले ने चायनीज फूड के बहिष्कार की बात कही है.

विदेशी मीडिया को क्यों लगता है कि भारत-चीन सीमा पर हालात बेकाबू हो सकते हैं?

सब जगह लद्दाख झड़प की चर्चा है.

वो 7 इंडियन एक्टर्स/सेलेब्रिटीज़, जिन्होंने आत्महत्या कर ली थी

इस लिस्ट में लीजेंड्स से लेकर स्टार्स सब शामिल हैं.

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

उनके ख्वाबों की लिस्ट में उनके व्यक्तित्व का सार छुपा हुआ है.

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

इनमें से एक फिल्म अगले कुछ दिनों में रिलीज़ होने वाली है, जो सुशांत के करियर की आखिरी फिल्म होगी.

इंडियन आर्मी ऑफिसर्स पर बन रही 7 फिल्में, जिन्हें देखकर छाती चौड़ी हो जाएगी

इन फिल्मों में इंडिया के सबसे बड़े सुपरस्टार्स काम कर रहे हैं.