Submit your post

Follow Us

'फैमिली मैन 2' के 15 ज़बरदस्त डायलॉग्स, आपका फेवरेट कौन सा है?

आजकल देश का सबसे हॉट टॉपिक है ‘फैमिली मैन 2’. चाय की टपरियों से लेकर, ट्विटर के स्पेसेस तक हर जगह इस सीरीज़ को लेकर ही गप्पें चल रही हैं. बड़ा रेयर ही देखने को मिलता है कि सब एक सुर में किसी शो की तारीफों के पुल बांधे जा रहे हों. दीवानगी का आलम तो ये है कि कोई श्रीकांत और जेके को मॉडर्न एरा जय-वीरू बता रहा है, तो कोई सुचि को इंडियन स्काईलर. चेल्लम सर को तो सीरीज लैंड होते ही लोगों ने भारतीय बैटमैन की उपाधि दे दी थी. वो इतने पॉपुलर हो गए हैं कि सीज़न 3 में उनकी एंट्री के बारे में सोच कर लोग अभी से उत्साहित हैं.

‘फैमिली मैन सीज़न 1’ में ‘Privacy is a myth just like democracy’ जैसे कई हार्ड हिटिंग डायलॉग  थे. इस सीज़न में भी राइटरों ने किरदारों को गढ़ने के साथ-साथ शो में कई बेहतरीन डायलॉग्स भी जड़े हैं. सीरीज़ से छांटकर ऐसे ही पंद्रह डायलॉग्स का गुलदस्ता हमने आपके लिए बनाया है. आनंद लें. विचार करें. अमल करें.


#1


#2


#3

03


#4


#5


#6


#7


#8


#9


#10


#11


#12


#13


#14


#15


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है.


वीडियो: मनोज बाजपेयी, केके मेनन, अली फ़जल की फिल्म ‘रे’ की ये खास बातें क्या आप जानते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

अगर आपने मार्वल की कोई फिल्म नहीं देखी, तब भी 'मॉर्बियस' को देख सकते हैं. क्योंकि इसका मार्वल की पिछली फिल्मो से कोई लेना-देना नहीं है.

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

ये एक आम इंसान के हीरो बनने की कहानी है. उसके खुद को लगातार रीक्रिएट करने की कहानी है.

मूवी रिव्यू: अटैक

मूवी रिव्यू: अटैक

फिल्म ठीक उस बच्चे की तरह है जो परीक्षा से एक रात पहले पूरा सिलेबस कवर करना चाहता है. नहीं समझे? तो रिव्यू पढिए.

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

कैसी है ऋषि कपूर की आखिरी फिल्म?

फिल्म रिव्यू- RRR

फिल्म रिव्यू- RRR

ये फिल्म देखकर समझ आता है कि जब किसी फिल्ममेकर का विज़न क्लीयर हो और उसे अपना क्राफ्टबोध हो, तो एक साधारण कहानी पर भी अद्भुत फिल्म बनाई जा सकती है.

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

हमारे यहां के फिल्ममेकर्स को ये समझना है कि किसी फिल्म को लोकल ऑडियंस की सेंसिब्लिटीज़ के हिसाब से ढालने का मतलब उन्हें डंब समझना नहीं है.

मूवी रिव्यू: जलसा

मूवी रिव्यू: जलसा

विज़िबल और इनविज़िबल रूप से कन्फ्लिक्ट या कहें तो डिवाइड पूरी फिल्म में दिखता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

शो की कास्ट में काबिल एक्टर्स के नाम होने के बावजूद ये शो राइटिंग के टर्म्स में पिछड़ जाता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: अपहरण 2

वेब सीरीज़ रिव्यू: अपहरण 2

इस बार भी मेकर्स ने वही गलती की है.

मूवी रिव्यू: द कश्मीर फाइल्स

मूवी रिव्यू: द कश्मीर फाइल्स

ये फ़िल्म ग्रे में जाकर चीजों को टटोलने की कोशिश नहीं करती. यहां सबकुछ या तो ब्लैक है या वाइट.