Submit your post

Follow Us

'जब ये नेता पैदा हुआ तो आसमान में दो-दो इंद्रधनुष निकले थे'

इस तस्वीर में दिखाई दे रहे हैं प्रेसिडेंट-प्राईम मिनिस्टर-एडमिरल-जनरल अलादीन. वदीया के ‘द डिक्टेटर’. और उनके हाथ में एक फ्यूनरल जार है जिसमें उनके प्रेरणास्रोत रहे किम जोंग इल की ‘अस्थियां’ हैं. अलादीन दरअसल साशा बैरन कोहन हैं जो अपनी फिल्म के प्रचार के लिए 2012 के ऑस्कर में इस तरह पहुंचे थे. उन्होंने किम की ‘अस्थियां’ रेड कार्पेट पर गिरा दी थीं.

किम जोंग इल. (फोटोःरॉयटर्स)
किम जोंग इल. (फोटोःरॉयटर्स)

किम जोंग इल अलादीन की ही तरह नॉर्थ कोरिया के सुप्रीम लीडर थे. असली वाले. आज नॉर्थ कोरिया पर उनके बेटे किम जोंग उन का राज है. सुप्रीम लीडर उन की तारीफ आपने खूब सुनी है. लेकिन हम बता रहे हैं. बेटा, बेटा ही है और बाप-बाप ही है. आज किम जोंग इल के बड्डे पर जानिए किम जोंग इल की कुछ बातें जो साबित कर देंगी कि अलादीन का कोई प्रेरणास्रोत हो सकता है तो वो किम जोंग इल ही हैं. 

1.सूपरनैचुरल जन्म

वहां ये मिथ गढ़ा गया है कि जब ये पैदा हुए थे, तब बेकदू के पहाड़ों पर दो इंद्रधनुषों ने इनका स्वागत किया था. आसमान में एक नया तारा भी निकला था. नॉर्थ कोरिया में लोग बाकायदा इस बात को मानते हैं. ‘अलादीन’ की ही तरह इनकी मां के बारे में भी यही कहा जाता है कि वे उनके पैदा होते वक्त इस दुनिया से चली गई थीं. इसपर बहस है और कई लोग मानते हैं कि उनकी हत्या हुई थी.

2.’फिल्म बफ’

कहते हैं कि किम को फिल्में बहुत पसंद थी. 20 हज़ार टेप्स थे उनके पास. फेवरेट फिल्म रैम्बो. 1978 में इन्होंने फिल्म डायरेक्टर शिन सैंग ओक और उनकी एक्टर पत्नी चोई युन ही को साउथ कोरिया से किडनैप करवा लिया. चाहते थे कि ये दोनों नॉर्थ कोरिया में फिल्म इंडस्ट्री खड़ी करें. दस साल बाद कहीं ऑस्ट्रिया के रास्ते अमेरिका भाग पाए. वहीं रहते हैं. अब भी अपने घर नहीं लौटे हैं.

3. ‘बवालीगोल्फर’

इन्होंने जब पहली बार गोल्फ स्टिक उठाई उसी बार में ’38 अंडर पार’ का खेल पूरा कर लिया, जिसमें ग्यारह होल थे. गोल्फ के खेल में इस ‘चरम’ पर पहुंच कर इन्हें लगा कि अब बस बहुत हुआ. उसी दिन अपना रिटायरमेंट अनाउंस कर दिया. इस बात को उनके 17 बॉडी गार्ड्स ने ‘कंफर्म’ भी किया था.

4. ‘उम्दा लेखक’

नॉर्थ कोरियन प्रोपगैंडा के मुताबिक किम प्रकांड पंडित भी थे. उनकी ऑफिशियल बायोग्रैफी के मुताबिक इन्होंने यूनिवर्सिटी में तीन साल की पढ़ाई के दौरान 1500 किताबें लिखीं.

‘नो वेस्ट, सब डाइजेस्ट’

इतना सब करते थे, तो बहुत एनर्जी की ज़रूरत पड़ती थी. इसलिए जो खाते थे, सब अंदर ही रहता था. ये संडास नहीं जाते थे.

लेकिन…एक सपना पूरा नहीं हुआ

प्योंगयेंग में किम (दाएं) की उनके पिता के साथ तस्वीर. (फोटोः रॉयटर्स)
प्योंगयेंग में किम (दाएं) की उनके पिता के साथ तस्वीर.
(फोटोः रॉयटर्स)

इतनी काबिलियत के बावजूद किम कभी नॉर्थ कोरिया के राष्ट्रपति नहीं बन पाए. क्योंकि इनके बाप ने मरने के बाद भी वो पद नहीं छोड़ा. वो क्या है कि नॉर्थ कोरिया में किम वंश को शासकों को मरने के बाद एक ‘एटरनल’ पद दिया जाता है. जनम जनम के लिए. तो इनके पिता एटरनल प्रेसीडेंट बने. इनको सुप्रीम लीडर पद से काम चलाना पड़ा.

ये बता दें कि ये सब सच नहीं है, न हम ऐसा मानते हैं. ये नॉर्थ कोरियन प्रोपगैंडा के तहत वहां के लोगों को पढ़ाया सिखाया जाता है. और कंडीश्निंग ऐसी है कि लोग इसे सच भी मानते हैं.


ये भी पढ़ेंः

स्लैप डे मनाने वाले भी नहीं जानते होंगे थप्पड़ के दस रूप

महेंद्र सिंह धोनी को बकइयां बन के चलते देखिए, इससे खूूबसूरत कुछ नहीं है आज

मां हिरन की बच्चों के लिए दी गई कुर्बानी का सच होश उड़ाने वाला है

जहां बीएसएफ के मकान, वहां बाबा रामदेव की दुकान

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

कुछ बढ़िया ढूंढ़ रहे हैं, तो इसे देखना बनता है.

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

'ऑपरेशन रोमियो' एक फेथफुल रीमेक है. मगर ये किसी भी फिल्म के होने का जस्टिफिकेशन नहीं हो सकता.

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म अपने इमोशनल मोमेंट्स को जितना जल्दी बिल्ड अप करती है, ठीक उतना ही जल्दी नीचे भी ले आती है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

सीरीज़ की सबसे अच्छी और शायद बुरी बात सिर्फ यही है कि इसका पूरा फोकस सिर्फ शील पर है.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

एक मौलवी और बच्चे की ये फिल्म इस दौर में बेहद ज़रूरी है.

फिल्म रिव्यू- KGF 2

फिल्म रिव्यू- KGF 2

KGF 2 एक धुआंधार सीक्वल है, जो 2018 में शुरू हुई कहानी को एक सैटिसफाइंग तरीके से खत्म करती है.

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

विजय के फैन हैं तो ही फ़िल्म देखने जाएं. नहीं तो रिस्क है गुरु.

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

विजय राज ने महफ़िल लूट ली.

वेब सीरीज़ रिव्यू : गुल्लक 3

वेब सीरीज़ रिव्यू : गुल्लक 3

बाकी दोनों सीज़न्स की तरह इस सीज़न की राइटिंग कमाल की है.

फिल्म रिव्यू- दसवीं

फिल्म रिव्यू- दसवीं

'इतिहास से ना सीखने वाले खुद इतिहास बन जाते हैं'.