Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या दिल्ली पुलिस ने चांदनी चौक में ना जाने को कहा है?

5
शेयर्स

‘दी लल्लनटॉप’ देश में चल रहे लोकसभा चुनाव की ग्राउंड से सीधी कवरेज आप तक पहुंचा रहा है. इसके अलावा फेसबुक के साथ मिलकर देश के अलग-अलग इलाकों में फ़ेक न्यूज़ से बचने के लिए वर्कशॉप भी कर रहा है. साथ ही, लोगों से जान रहा है कि उन्हें किन ख़बरों के फ़ेक होने पर शक है. इस कड़ी में हमारी टीम पहुंची दिल्ली. यहां ‘दी लल्लनटॉप’ के रिपोर्टर नीरज ने ऐसी ही वर्कशॉप की.
वर्कशॉप अटेंड कर रही जाह्नवी को एक ख़बर पर शक था.

जाह्नवी कॉलेज स्टूडेंट हैं और उन्हें ये मैसेज WhatsApp के ज़रिए मिला है.
जाह्नवी कॉलेज स्टूडेंट हैं और उन्हें ये मैसेज WhatsApp के ज़रिए मिला है.

वो एक वायरल मैसेज की सच्चाई जानना चाहती हैं जिसमें दावा किया जा रहा है कि दिल्ली और बैंगलोर के भीड़-भाड़ वाले इलाके में आतंकी हमला हो सकते हैं. हमने इस दावे की पड़ताल की. पहले दावा जान लेते हैं.

दावा

असल दावा इंग्लिश में है. हम हिंदी तर्जुमा यहां लिख रहे हैं.

सभी लोगों से गुज़ारिश है कि अपने परिवार और प्रियजनों को चांदनी चौक और इसके जैसे दिल्ली और बैंगलोर के भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाने से परहेज करने को कहें. लश्कर-ए-तौयबा के 2 ग्रुप्स यहां पहुंच गए हैं और सुसाइड अटैक करने की योजना बना रहे हैं.

असल दावा अंग्रेजी में है.
असल दावा अंग्रेजी में है.

पड़ताल

दरअसल, ये मैसेज सीज़नल है. ये काफी सालों से वायरल हो रहा है. इस मैसेज के बारे में जब दी क्विंट ने नई दिल्ली के DCP मधुर वर्मा से बात की थी, तो उन्होंने इस मैसेज को फेक बताया था. ये स्टोरी 22 जनवरी, 2019 की है. यानी गणतंत्र दिवस से कुछ दिन पहले की. उन्होंने माना था कि ये मैसेज whatsApp और सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल हो रहा है. लेकिन साफ किया कि पुलिस ने ऐसा कोई नोटिस जारी नहीं किया है.
# राष्ट्रीय महत्व के दिनों में अक्सर पुलिस ऐसे नोटिस जारी करती है. स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और गांधी जयंती के दिनों में अक्सर ऐसे नोटिस जारी किए जाते हैं. जिसमें हिदायत दी जाती है कि भीड़-भाड़ वाले इलाकों से बचा जाए. इन दिनों में आतंकी हमले की योजना बनाने वाले भी धरे जाते हैं. लेकिन इससे वायरल हो रहा ये मैसेज जस्टिफाई नहीं होता. अगर पुलिस कोई नोटिस जारी करती है तो वो whatsApp पर नहीं, अपनी वेबसाइट और मीडिया के ज़रिए जारी करती है. ऐसी घोषणा आम दिनों के लिए नहीं होती.

नतीजा

हमारी पड़ताल में ये दावा पुराना और भ्रामक निकला. हालांकि इसे सिरे से ख़ारिज करना भी गलत होगा. इसलिए आप सिर्फ उस मैसेज पर ही विश्वास करें जिसके साथ पुलिस या प्रशासन की ओर से जारी कोई नोटिस, लेटर वगैरह भी दिखे. जहां तक बात रही इस मैसेज की. ये मैसेज झूठा है. जिसकी पुष्टि खुद पुलिस ने की हैं.

अगर आपको किसी ख़बर पर शक हो तो हमें लिखें. हमारा पता है: PADTAALMAIL@GMAIL.COM

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Fact Check: Viral WhatsApp message suggesting people avoid crowded Chandini Chowk, Delhi and Banglore amid chances of Lashkar attack

10 नंबरी

'इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड' का देशभक्ति वाला गाना सुना? अब ये 12 गाने सुनिए जो ऐसे गानों में टॉप हैं

देशभक्ति वाले ये टॉप 12 गाने आप में जोश भर देंगे.

पता चल गया बादल और रडार वाली बात के पीछे नरेंद्र मोदी की ग़लती नहीं थी!

प्रधानमंत्री ने इंटरव्यू में जो कहा, उसके पीछे साइंस है, जिसका पता बस भारतीयों को है.

IPL 2019 के वो 7 मौके, जब अंपायरों ने मैदान पर ब्लंडर किए

आईपीएल 2019 खराब अंपायरिंग के रिकॉर्ड के लिए भी जाना जाएगा.

आपकी मम्मी का फेवरेट डायलॉग कौन सा है?

आने दो पापा को या आग लगे इस मोबाइल को?

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

अपनी अगली फिल्म में गे बनने जा रहे हैं आयुष्मान खुराना

फिल्म का टीज़र आ गया है.

15 साल के फिल्मी करियर में पहली बार इमरान, बच्चन के साथ स्क्रीन शेयर करते नज़र आएंगे

ये फिल्म एक साइकोलॉजिकल गेम पर बेस्ड है.

जब एक गैंगस्टर ने लड़की की कार उठा ली और वो एक ठग के साथ बदला लेने निकल पड़ी

बाकी की डिटेल्स स्टोरी में पढ़िए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

हटके फिल्मों के लिए मशहूर आयुष्मान की अगली फिल्म भी ऐसी ही है

'बधाई हो' से भी बम्पर हिट हो सकती है ये फिल्म, 'स्त्री' बनाने वाली टीम बना रही है.