Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या दिल्ली पुलिस ने चांदनी चौक में ना जाने को कहा है?

‘दी लल्लनटॉप’ देश में चल रहे लोकसभा चुनाव की ग्राउंड से सीधी कवरेज आप तक पहुंचा रहा है. इसके अलावा फेसबुक के साथ मिलकर देश के अलग-अलग इलाकों में फ़ेक न्यूज़ से बचने के लिए वर्कशॉप भी कर रहा है. साथ ही, लोगों से जान रहा है कि उन्हें किन ख़बरों के फ़ेक होने पर शक है. इस कड़ी में हमारी टीम पहुंची दिल्ली. यहां ‘दी लल्लनटॉप’ के रिपोर्टर नीरज ने ऐसी ही वर्कशॉप की.
वर्कशॉप अटेंड कर रही जाह्नवी को एक ख़बर पर शक था.

जाह्नवी कॉलेज स्टूडेंट हैं और उन्हें ये मैसेज WhatsApp के ज़रिए मिला है.
जाह्नवी कॉलेज स्टूडेंट हैं और उन्हें ये मैसेज WhatsApp के ज़रिए मिला है.

वो एक वायरल मैसेज की सच्चाई जानना चाहती हैं जिसमें दावा किया जा रहा है कि दिल्ली और बैंगलोर के भीड़-भाड़ वाले इलाके में आतंकी हमला हो सकते हैं. हमने इस दावे की पड़ताल की. पहले दावा जान लेते हैं.

दावा

असल दावा इंग्लिश में है. हम हिंदी तर्जुमा यहां लिख रहे हैं.

सभी लोगों से गुज़ारिश है कि अपने परिवार और प्रियजनों को चांदनी चौक और इसके जैसे दिल्ली और बैंगलोर के भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाने से परहेज करने को कहें. लश्कर-ए-तौयबा के 2 ग्रुप्स यहां पहुंच गए हैं और सुसाइड अटैक करने की योजना बना रहे हैं.

असल दावा अंग्रेजी में है.
असल दावा अंग्रेजी में है.

पड़ताल

दरअसल, ये मैसेज सीज़नल है. ये काफी सालों से वायरल हो रहा है. इस मैसेज के बारे में जब दी क्विंट ने नई दिल्ली के DCP मधुर वर्मा से बात की थी, तो उन्होंने इस मैसेज को फेक बताया था. ये स्टोरी 22 जनवरी, 2019 की है. यानी गणतंत्र दिवस से कुछ दिन पहले की. उन्होंने माना था कि ये मैसेज whatsApp और सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल हो रहा है. लेकिन साफ किया कि पुलिस ने ऐसा कोई नोटिस जारी नहीं किया है.
# राष्ट्रीय महत्व के दिनों में अक्सर पुलिस ऐसे नोटिस जारी करती है. स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और गांधी जयंती के दिनों में अक्सर ऐसे नोटिस जारी किए जाते हैं. जिसमें हिदायत दी जाती है कि भीड़-भाड़ वाले इलाकों से बचा जाए. इन दिनों में आतंकी हमले की योजना बनाने वाले भी धरे जाते हैं. लेकिन इससे वायरल हो रहा ये मैसेज जस्टिफाई नहीं होता. अगर पुलिस कोई नोटिस जारी करती है तो वो whatsApp पर नहीं, अपनी वेबसाइट और मीडिया के ज़रिए जारी करती है. ऐसी घोषणा आम दिनों के लिए नहीं होती.

नतीजा

हमारी पड़ताल में ये दावा पुराना और भ्रामक निकला. हालांकि इसे सिरे से ख़ारिज करना भी गलत होगा. इसलिए आप सिर्फ उस मैसेज पर ही विश्वास करें जिसके साथ पुलिस या प्रशासन की ओर से जारी कोई नोटिस, लेटर वगैरह भी दिखे. जहां तक बात रही इस मैसेज की. ये मैसेज झूठा है. जिसकी पुष्टि खुद पुलिस ने की हैं.

अगर आपको किसी ख़बर पर शक हो तो हमें लिखें. हमारा पता है: PADTAALMAIL@GMAIL.COM

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

अमेरिका में भारत के नाम का डंका बजाने वाले भारत के इस राष्ट्रपति की ये 15 बातें सुनिए

आज बरसी है डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की.

मनोज बाजपेयी और जैक्लीन की वो नेटफ्लिक्स फिल्म, जो रिलीज़ से पहले अपनी पूरी कहानी बता चुकी

'मिसज़ सीरियल किलर' ट्रेलर- जैक्लीन के करियर की पहली फिल्म जिसमें वो रोमैंस के अलावा कुछ और करेंगी.

मेरी मूवी लिस्ट: वो पांच फिल्में जो आपके दिमाग की गजब कसरत करा देंगी

देखने के बाद सोचेंगे अब तक क्यों नहीं देखी थी. ये मूवी रेकमेंडेशन लाई हैं हमारी साथी प्रेरणा.

वो 5 वेब सीरीज़ जो फ़ैमिली के साथ बिना नर्वस हुए देख सकते हैं

'मेरी मूवी लिस्ट' सीरीज़ में आज की रेकमेंडेशन दी हैं हमारे साथी दर्पण ने.

'सबसे अक़्लमंद जीवित व्यक्ति' कहे जाने वाले युवाल की कोरोना से जुड़ी 28 बातें, सदियां याद रखेंगी

'संकट के समय में लोग बहुत जल्दी अपना विचार बदल सकते हैं.'

वो 6 कमाल की क्रिकेट सीरीज़ और डॉक्यूमेंट्री फ़िल्में जो आपको ऑनलाइन ज़रूर देखनी चाहिए

इस खेल से इश्क़ दोगुना हो जाएगा, कसम से! 'मेरी मूवी लिस्ट' सीरीज़ में आज की रेकमेंडेशन हमारे साथी अभिषेक की.

पहाड़ों के इन छह अद्भुत टूरिस्ट डेस्टिनेशन में से आपने कितने देखे हैं?

लॉकडाउन के बाद घूमने जाने के लिए अभी से जगह चुन लें.

बलराज साहनी की 4 फेवरेट फिल्में : खुद उन्हीं के शब्दों में

शाहरुख, आमिर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार्स के फेवरेट एक्टर थे बलराज साहनी.

लॉकडाउन का ग़म ग़लत करना है, तो ये पांच मज़ेदार मराठी फ़िल्में देख डालिए

एक से बढ़कर एक हैं.

ऑनलाइन कहां देखें ये 8 धांसू फिल्में जिनमें लोग कहीं न कहीं लॉक हो जाते हैं

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशन है हमारे साथी विजेता की.