Submit your post

Follow Us

दारु पीकर कैब वाले के बताशे फोड़ रही लड़की का वीडियो वायरल

भारतीय विदेशों में नाम कमा रहे हैं. कुछ लगे हाथ बदनाम भी हुए जा रहे हैं. एक वीडियो वायरल हो रहा है. भारतीय मूल की एक लड़की उबर टैक्सी ड्राइवर के साथ हाथापाई कर रही है. ड्राइवर बेचारा आस-पास के लोगों से पुलिस को बुलाने को कह रहा है. लेकिन लड़की को उससे भी फर्क नहीं पड़ता.

लडकी के हाथ-पैर चल रहे हैं, उसी स्पीड से मुंह भी. और मुंह से गालियां बरस रही हैं. यह सब एक पब्लिक इलाके में लगभग 5 मिनट चलता रहा. खुर्क फिर भी न मिटी तो ड्राइवर की गाड़ी में जा बैठी और गाड़ी चलाने को कहा.  ड्राइवर झगड़े को अवॉइड करने के लिए गाड़ी से बाहर आ जाता है. पर लड़की का नशा और गुस्सा अभी भी सातवें आसमान पर है. गाड़ी का सारा सामान निकालकर बाहर फेंकने लगती है. ड्राइवर वहीं खड़ा पुलिस को फोन करता रहता है. वीडियो आप भी देखिए.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इबारत : शरद जोशी की वो 10 बातें जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

इबारत : सुमित्रानंदन पंत, वो कवि जिसे पैदा होते ही मरा समझ लिया था परिवार ने!

इनकी सबसे प्रभावी और मशहूर रचनाओं से ये हिस्से आप भी पढ़िए

गिरीश कर्नाड और विजय तेंडुलकर के लिखे वो 15 डायलॉग, जो ख़ज़ाने से कम नहीं!

आज गिरीश कर्नाड का जन्मदिन और विजय तेंडुलकर की बरसी है.

पाताल लोक की वो 12 बातें जिसके चलते इस सीरीज़ को देखे बिन नहीं रह पाएंगे

'जिसे मैंने मुसलमान तक नहीं बनने दिया, आप लोगों ने उसे जिहादी बना दिया.'

ऑनलाइन देखें वो 18 फ़िल्में जो अक्षय कुमार, अजय देवगन जैसे स्टार्स की फेवरेट हैं

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशन है अक्षय, अजय, रणवीर सिंह, आयुष्मान, ऋतिक रोशन, अर्जुन कपूर, काजोल जैसे एक्टर्स की.

कैरीमिनाटी का वीडियो हटने पर भुवन बाम, हर्ष बेनीवाल और आशीष चंचलानी क्या कह रहे?

कैरी के सपोर्ट में को 'शक्तिमान' मुकेश खन्ना भी उतर आए हैं.

वो देश, जहां मिलिट्री सर्विस अनिवार्य है

क्या भारत में ऐसा होने जा रहा है?

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

17 साल पहले रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने ज़लज़ला ला दिया था

4 फील गुड फ़िल्में जो ऑनलाइन देखने के बाद दूसरों को भी दिखाते फिरेंगे

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशंस हमारी साथी स्वाति ने दी हैं.

आर. के. नारायण, जिनका लिखा 'मालगुडी डेज़' हम सबका नॉस्टैल्जिया बन गया

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है