Submit your post

Follow Us

इस गोलगप्पे वाले का मंथली प्लान देखकर ग्राहक टूट पड़ते हैं

40.13 K
शेयर्स

धर्मेंद्र सिंह. जिला उज्जैन, मध्य प्रदेश. अनलिमिटेड गोलगप्पे बेचने के कारण आजकल सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं. धर्मेंद्र 32 साल के हैं और उज्जैन के ही विक्रम यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है. 2018 में लगे उज्जैन कार्तिक मेले से इनका जियो गोलगप्पे का स्टॉल वायरल होना शुरू हुआ.

धर्मेंद्र उज्जैन के दशहरा मैदान और स्टेशन के नज़दीक सेल्फी पॉइंट पर 10 रूपए के 6 गोलगप्पे बेचते हैं. लेकिन इनके पास गोलगप्पे के कुछ अनलिमिटेड प्लांस भी हैं. 100 रुपए देकर आप तीन घंटे में जितना चाहें गोलगप्पे खा सकते हैं. एक और प्लान के तहत आप 2000 रुपए देकर महीने भर शाम 6-9 बजे के बीच अनलिमिटेड गोलगप्पे खा सकते हैं. धर्मेंद्र बताते हैं कि अधिकतर लोग 30-35 से अधिक गोलगप्पे नहीं खाते. कुछ ही लोग 50 के पार पहुंच पाते हैं और 100 के पार तो गिने-चुने ही लोग पहुंचते हैं. यूथ में ज्यादा गोलगप्पे खाने को लेकर होड़ लगी रहती है. कई लोग पैसे वसूलने या फिर रेकॉर्ड बनाने के लालच में गोलगप्पे बर्बाद भी कर देते हैं.

Jio का ख़याल कब आया?
गोलगप्पे या पानी के बतासे का कारोबार धर्मेंद्र करीब आठ-नौ साल से कर रहे हैं. धर्मेंद्र अपने भाइयों के साथ मिलकर बिजनेस करते हैं. 2017 में इन्हें जियो के अनलिमिटेड प्लान से अनलिमिटेड गोलगप्पे का ख्याल आया और इन्होंने अपने कारोबार में बदलाव किए. धर्मेंद्र बताते हैं कि उज्जैन कार्तिक मेला 2018 से मेरा स्टॉल वायरल होना शुरू हुआ. सड़क किनारे गोलगप्पे बेचने वाले धर्मेंद्र ने बताया कि इस ऑफर से ग्राहक बढ़े हैं.

धर्मेंद्र बताते हैं कि उसके इस ऑफर से ग्राहक बढ़े हैं.
धर्मेंद्र बताते हैं कि उसके इस ऑफर से ग्राहक बढ़े हैं.

जब बेचनी पड़ी थी इंडिगो कार
धर्मेंद्र के पिता किसान थे. 2015 में इनका कारोबार ठीक-ठाक चल रहा था तो इन्होंने इंडिगो की कार खरीदी लेकिन अगले साल पिता की मौत हो गई. आर्थिक तंगी के कारण EMI नहीं चुका पा रहे थे और अंततः गाड़ी बेचनी पड़ी. अब धर्मेंद्र का बिजनेस फिर से रफ़्तार पकड़ रहा है और इन्होंने नया घर ले लिया है.

कभी बंद करना चाहते थे रेड़ी अब बढ़ाना चाहते हैं
2016 में आर्थिक तंगी के कारण धर्मेंद्र बुरे दौर से गुजर रहे थे. इस दौरान इन्होंने पूरी तरह से उम्मीद छोड़ दी थी. सोचा कि इस बिजनेस में कुछ नहीं रखा है और इस कारोबार को बंद करके अब कुछ नया करते हैं. इसी दौरान जियो का ख्याल आया था. अब बिजनेस बढ़ रहा है जिसे और बढ़ाना चाहते हैं.

मुकेश अंबानी हैं आदर्श
धर्मेंद्र, दिग्गज बिजनेसमैन मुकेश अंबानी को अपना आदर्श मानते हैं. धर्मेंद्र और उनके साथी जियो का इस्तेमाल करते हैं. ये बताते हैं कि अंबानी के कारण ही बिजनेस दोबारा रफ़्तार पकड़ रहा है. जियो नाम के इस्तेमाल को लेकर धर्मेंद्र बताते हैं- हम नाम का कोई गलत इस्तेमाल तो नहीं कर रहे हैं. यदि जियो को हमारे नाम से कभी कोई दिक्क्त होगी तो नाम बदलकर ‘पियो पानी बतासे’ कर देंगे.

बिजनेस बढ़ाने का है इरादा
धर्मेंद्र का इरादा बिजनेस बढ़ाने का है और उज्जैन के बाद इंदौर में स्थायी दुकान खोलने जा रहे हैं. मौजूदा वक्त में इंदौर में इनके अस्थायी स्टॉल हैं. धर्मेंद्र बताते हैं- फंड मिले तो बिजनेस को और बढ़ाना चाहता हूं.


वीडियो: कॉफी विद करण में हार्दिक पंड्या ने क्या घटिया बोला कि अब माफी मांग रहे हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Dharmendra singh of ujjain sell golgappe with unlimited plans

10 नंबरी

हटके फिल्मों के लिए मशहूर आयुष्मान की अगली फिल्म भी ऐसी ही है

'बधाई हो' से भी बम्पर हिट हो सकती है ये फिल्म, 'स्त्री' बनाने वाली टीम बना रही है.

Impact Feature: ZEE5 ओरिजिनल अभय के 3 केस जो आपको ज़रूर देखने चाहिए

रोमांचक अनुभव देने वाली कहानियां जो सच के बेहद जाकर अपराधियों के पागलपन, जुनून और लालच से दो-चार करवाती हैं.

कभी पब्लिश न हो पाई किताब पर शाहरुख़ खान की फिल्म बॉबी देओल के करियर को उठा सकेगी!

शाहरुख़, एस. हुसैन ज़ैदी की कहानी पर फिल्म ला रहे हैं, जिन्हें इंडिया का मारियो पुज़ो कहा जा सकता है.

सलमान ने सुनील ग्रोवर के बारे में ऐसी बात कही है कि सुनील कोने में ले जाकर पूछेंगे- 'भाई सच में?'

साथ ही कटरीना कैफ ने भी कुछ कहा है.

जेब में चिल्लर लेकर घूमने से दुनिया के दूसरे सबसे महंगे सुपरस्टार बनने की कहानी

जन्मदिन पर जानिए ड्वेन 'द रॉक' जॉन्सन के जीवन से जुड़ी पांच मजेदार बातें.

कहानी पांच लोगों की, जिन्होंने बिना सरकारी पैसे और गोली के इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी को पकड़ा

इस आतंकवादी को इंडिया का ओसामा-बिन-लादेन कहा जाता था.

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. पर अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट आने के बाद सबसे पहले करें ये दस काम

आत्महत्या जैसे ख्याल मन में आने ही न दीजिए. रिश्तेदार जीते-जी आपकी जिंदगी नरक बनाने आ रहे हैं.

जापान में मुर्दे क्यों लगते हैं बरसों लम्बी लाइनों में, इन 7 तस्वीरों से जानिए

मुस्कुराइए, कि आप भारत में हैं. जापान में नहीं.

उन 43 बॉलीवुड स्टार्स की तस्वीरें, जिन्होंने मुंबई में वोट डाले

जानिए कैनडा के नागरिक अक्षय कुमार ने वोट दिया या सिर्फ वोट अपील ही करते रहे?