Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

इस गोलगप्पे वाले का मंथली प्लान देखकर ग्राहक टूट पड़ते हैं

5
शेयर्स

धर्मेंद्र सिंह. जिला उज्जैन, मध्य प्रदेश. अनलिमिटेड गोलगप्पे बेचने के कारण आजकल सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं. धर्मेंद्र 32 साल के हैं और उज्जैन के ही विक्रम यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है. 2018 में लगे उज्जैन कार्तिक मेले से इनका जियो गोलगप्पे का स्टॉल वायरल होना शुरू हुआ.

धर्मेंद्र उज्जैन के दशहरा मैदान और स्टेशन के नज़दीक सेल्फी पॉइंट पर 10 रूपए के 6 गोलगप्पे बेचते हैं. लेकिन इनके पास गोलगप्पे के कुछ अनलिमिटेड प्लांस भी हैं. 100 रुपए देकर आप तीन घंटे में जितना चाहें गोलगप्पे खा सकते हैं. एक और प्लान के तहत आप 2000 रुपए देकर महीने भर शाम 6-9 बजे के बीच अनलिमिटेड गोलगप्पे खा सकते हैं. धर्मेंद्र बताते हैं कि अधिकतर लोग 30-35 से अधिक गोलगप्पे नहीं खाते. कुछ ही लोग 50 के पार पहुंच पाते हैं और 100 के पार तो गिने-चुने ही लोग पहुंचते हैं. यूथ में ज्यादा गोलगप्पे खाने को लेकर होड़ लगी रहती है. कई लोग पैसे वसूलने या फिर रेकॉर्ड बनाने के लालच में गोलगप्पे बर्बाद भी कर देते हैं.

Jio का ख़याल कब आया?
गोलगप्पे या पानी के बतासे का कारोबार धर्मेंद्र करीब आठ-नौ साल से कर रहे हैं. धर्मेंद्र अपने भाइयों के साथ मिलकर बिजनेस करते हैं. 2017 में इन्हें जियो के अनलिमिटेड प्लान से अनलिमिटेड गोलगप्पे का ख्याल आया और इन्होंने अपने कारोबार में बदलाव किए. धर्मेंद्र बताते हैं कि उज्जैन कार्तिक मेला 2018 से मेरा स्टॉल वायरल होना शुरू हुआ. सड़क किनारे गोलगप्पे बेचने वाले धर्मेंद्र ने बताया कि इस ऑफर से ग्राहक बढ़े हैं.

धर्मेंद्र बताते हैं कि उसके इस ऑफर से ग्राहक बढ़े हैं.
धर्मेंद्र बताते हैं कि उसके इस ऑफर से ग्राहक बढ़े हैं.

जब बेचनी पड़ी थी इंडिगो कार
धर्मेंद्र के पिता किसान थे. 2015 में इनका कारोबार ठीक-ठाक चल रहा था तो इन्होंने इंडिगो की कार खरीदी लेकिन अगले साल पिता की मौत हो गई. आर्थिक तंगी के कारण EMI नहीं चुका पा रहे थे और अंततः गाड़ी बेचनी पड़ी. अब धर्मेंद्र का बिजनेस फिर से रफ़्तार पकड़ रहा है और इन्होंने नया घर ले लिया है.

कभी बंद करना चाहते थे रेड़ी अब बढ़ाना चाहते हैं
2016 में आर्थिक तंगी के कारण धर्मेंद्र बुरे दौर से गुजर रहे थे. इस दौरान इन्होंने पूरी तरह से उम्मीद छोड़ दी थी. सोचा कि इस बिजनेस में कुछ नहीं रखा है और इस कारोबार को बंद करके अब कुछ नया करते हैं. इसी दौरान जियो का ख्याल आया था. अब बिजनेस बढ़ रहा है जिसे और बढ़ाना चाहते हैं.

मुकेश अंबानी हैं आदर्श
धर्मेंद्र, दिग्गज बिजनेसमैन मुकेश अंबानी को अपना आदर्श मानते हैं. धर्मेंद्र और उनके साथी जियो का इस्तेमाल करते हैं. ये बताते हैं कि अंबानी के कारण ही बिजनेस दोबारा रफ़्तार पकड़ रहा है. जियो नाम के इस्तेमाल को लेकर धर्मेंद्र बताते हैं- हम नाम का कोई गलत इस्तेमाल तो नहीं कर रहे हैं. यदि जियो को हमारे नाम से कभी कोई दिक्क्त होगी तो नाम बदलकर ‘पियो पानी बतासे’ कर देंगे.

बिजनेस बढ़ाने का है इरादा
धर्मेंद्र का इरादा बिजनेस बढ़ाने का है और उज्जैन के बाद इंदौर में स्थायी दुकान खोलने जा रहे हैं. मौजूदा वक्त में इंदौर में इनके अस्थायी स्टॉल हैं. धर्मेंद्र बताते हैं- फंड मिले तो बिजनेस को और बढ़ाना चाहता हूं.


वीडियो: कॉफी विद करण में हार्दिक पंड्या ने क्या घटिया बोला कि अब माफी मांग रहे हैं

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Dharmendra singh of ujjain sell golgappe with unlimited plans

10 नंबरी

देश के वो चार फैसले, जिसके बारे में सिर्फ पीएम मोदी ही जानते थे

सांसद तो छोड़िए, कोई कैबिनेट मंत्री भी इसके बारे में नहीं जानता था

ऋतिक रोशन की वो फिल्म, जो सत्यजीत रे की चोरी हुई स्क्रिप्ट पर बनी थी

इस फिल्म में एलियन का रोल करने वाला एक्टर हॉलीवुड में भी कर चुका है काम.

येसुदास के 18 गाने: आखिरी वाला पहले नहीं सुना होगा, अब बार-बार सुनेंगे!

इन तोप सिंगर ने इतने अवॉर्ड जीते कि 30 साल पहले कह दिया, 'अब मुझे नहीं, नए लोगों को अवॉर्ड दो'.

कौन हैं वो पांच जज, जो 10 जनवरी से अयोध्या मामले की सुनवाई करेंगे?

जिनके फैसलों ने देश के हर आदमी को प्रभावित किया है.

रणवीर सिंह की 'गली बॉय' अगर झामफाड़ फिल्म नहीं निकली, तो पइसे हमसे ले जाना

ये हम छाती ठोककर इसलिए कह रहे हैं क्योंकि फिल्म का ट्रेलर कतई धांसू है.

ये इंडियन साइंटिस्ट छिपकली की कटी पूंछ की तरह आदमी का कटा हाथ उगा देता!

दुनिया का पहला सिंथेटिक जीन बनाने के लिए खुराना को नोबेल प्राइज मिला.

आसान नहीं होगा पीएम मोदी का रोल, विवेक ओबेरॉय के सामने 8 बड़े चैलेंज!

विवेक ओबेरॉय को अपनी लाइफ की बेस्ट एक्टिंग दिखाने का मौका मिला है.

मोदी से पहले आए 6 मौके, जब अगड़ी जातियों को आरक्षण देने की कोशिश हुई

अदालतों में क्या हश्र हुआ इन फैसलों का?

सरकार भले दे लेकिन सवर्ण ले नहीं पाएंगे आरक्षण!

सवर्ण आरक्षण के वो फैक्ट्स जो आपको कोई और नहीं बताएगा ;)

'सामान्य वर्ग के गरीबों' के आरक्षण पर 7 सवाल, जिनके जवाब सब जानना चाहते हैं

क्या मुसलमान भी 'सामान्य' माने जाएंगे?