Submit your post

Follow Us

स्टीफन हॉकिंग की मौत की तारीख से जुड़े संयोग पर विश्वास नहीं होता!

15.10 K
शेयर्स

‘अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ़ टाइम’ एक बेस्टसैलर रही थी और अब तक उसकी एक करोड़ से ज़्यादा प्रतियां बिक चुकी हैं.

स्टीफन हॉकिंग ने अपनी उस किताब में लिखा था कि जिस किताब में जितने गणितीय समीकरण होते हैं उतना उस किताब की बेस्टसैलिंग होने की संभावना घटते जाती है. उन्होंने आगे कहा कि इसलिए ही इस किताब में केवल एक इक्वेशन है – ई इज़ इक्वल टू एम सी स्क्वायर.

इस एक इक्वेशन का आज की तारीख़ यानी 14 मार्च से अजीब सा संयोग स्थापित हो गया है. पहले नहीं था अब हो गया है. वो है दो महान वैज्ञानिक जो इस इक्वेशन से जुड़े हुए हैं उनमें से एक का जन्मदिन – अल्बर्ट आइंस्टीन (14 मार्च, 1879 – 18 अप्रैल, 1955), और दूसरे वैज्ञानिक की मृत्यु – स्टीफन हॉकिंग (8 जनवरी, 1942 – 14 मार्च, 2018).

कॉसमॉस, ग्रहों, ग्रेविटी, सितारों की बात करने वाले, टाइम को एक और आयाम मानने वाले दोनों वैज्ञानिक अपने अपने समय के सबसे ‘ब्राइट माइंड’ कहे जा सकते हैं – यानी अपने टाइम और स्पेस के सबसे ज़्यादा इल्यूमिनेशन करने वाले और क्या ही संयोग है कि कॉसमॉस और टाइम के हिसाब से दोनों कैसे एक दूसरे से जुड़ गए. एक का जन्म और एक की मृत्यु. गोया समय हमसे कह रहा हो – एनर्जी न उत्पन्न की जा सकती है, न नष्ट, बस ये अपना रूप बदलती रहती है, या फिर एनर्जी पदार्थ (मैटर) में और पदार्थ एनर्जी में बदलता है बस.

आइए पढ़ते हैं बारह कोट्स इन वैज्ञानिकों के –

# 1)

12


#2)

06


#3)

11


#4)

05


#5)

10


#6)

04


#7)

09


#8)

03


#9)

08


#10)

02


#11)

07


#12)

01


ये भी पढ़ें:

स्टीफन हॉकिंग नहीं रहे, ये वक्त उनकी चेतावनी याद करने का है

वीडियो देखें:

वो वॉर फिल्म जिसमें आम लोग युद्ध से बचाकर अपने सैनिकों को घर लाते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Death date of Stephen William Hawking is same as birthday of Albert Einstein i.e. 14th March, both scientist are associated with advance physics

पोस्टमॉर्टम हाउस

गैंग्स ऑफ वासेपुर की मेकिंग से जुड़ी ये 24 बातें जानते हैं आप!

अनुराग कश्यप की इस क्लासिक को रिलीज हुए 7 साल हो चुके हैं. दो हिस्सों वाली इस फिल्म के प्रोडक्शन से बहुत सी बातें जुड़ी हैं. देखें, आप कितनी जानते हैं.

कबीर सिंह: मूवी रिव्यू

It's not the goodbye that hurts, but the flashbacks that follows.

क्या हुआ जब दो चोर, एक भले आदमी की सायकल लेकर फरार हो गए

सायकल भी ऐसी जिसे इलाके में सब पहचानते थे.

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.