Submit your post

Follow Us

स्टीफन हॉकिंग की मौत की तारीख से जुड़े संयोग पर विश्वास नहीं होता!

‘अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ़ टाइम’ एक बेस्टसैलर रही थी और अब तक उसकी एक करोड़ से ज़्यादा प्रतियां बिक चुकी हैं.

स्टीफन हॉकिंग ने अपनी उस किताब में लिखा था कि जिस किताब में जितने गणितीय समीकरण होते हैं उतना उस किताब की बेस्टसैलिंग होने की संभावना घटते जाती है. उन्होंने आगे कहा कि इसलिए ही इस किताब में केवल एक इक्वेशन है – ई इज़ इक्वल टू एम सी स्क्वायर.

इस एक इक्वेशन का आज की तारीख़ यानी 14 मार्च से अजीब सा संयोग स्थापित हो गया है. पहले नहीं था अब हो गया है. वो है दो महान वैज्ञानिक जो इस इक्वेशन से जुड़े हुए हैं उनमें से एक का जन्मदिन – अल्बर्ट आइंस्टीन (14 मार्च, 1879 – 18 अप्रैल, 1955), और दूसरे वैज्ञानिक की मृत्यु – स्टीफन हॉकिंग (8 जनवरी, 1942 – 14 मार्च, 2018).

कॉसमॉस, ग्रहों, ग्रेविटी, सितारों की बात करने वाले, टाइम को एक और आयाम मानने वाले दोनों वैज्ञानिक अपने अपने समय के सबसे ‘ब्राइट माइंड’ कहे जा सकते हैं – यानी अपने टाइम और स्पेस के सबसे ज़्यादा इल्यूमिनेशन करने वाले और क्या ही संयोग है कि कॉसमॉस और टाइम के हिसाब से दोनों कैसे एक दूसरे से जुड़ गए. एक का जन्म और एक की मृत्यु. गोया समय हमसे कह रहा हो – एनर्जी न उत्पन्न की जा सकती है, न नष्ट, बस ये अपना रूप बदलती रहती है, या फिर एनर्जी पदार्थ (मैटर) में और पदार्थ एनर्जी में बदलता है बस.

आइए पढ़ते हैं बारह कोट्स इन वैज्ञानिकों के –

# 1)

12


#2)

06


#3)

11


#4)

05


#5)

10


#6)

04


#7)

09


#8)

03


#9)

08


#10)

02


#11)

07


#12)

01


ये भी पढ़ें:

स्टीफन हॉकिंग नहीं रहे, ये वक्त उनकी चेतावनी याद करने का है

वीडियो देखें:

वो वॉर फिल्म जिसमें आम लोग युद्ध से बचाकर अपने सैनिकों को घर लाते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

अगर आपने मार्वल की कोई फिल्म नहीं देखी, तब भी 'मॉर्बियस' को देख सकते हैं. क्योंकि इसका मार्वल की पिछली फिल्मो से कोई लेना-देना नहीं है.

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

ये एक आम इंसान के हीरो बनने की कहानी है. उसके खुद को लगातार रीक्रिएट करने की कहानी है.

मूवी रिव्यू: अटैक

मूवी रिव्यू: अटैक

फिल्म ठीक उस बच्चे की तरह है जो परीक्षा से एक रात पहले पूरा सिलेबस कवर करना चाहता है. नहीं समझे? तो रिव्यू पढिए.

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

कैसी है ऋषि कपूर की आखिरी फिल्म?

फिल्म रिव्यू- RRR

फिल्म रिव्यू- RRR

ये फिल्म देखकर समझ आता है कि जब किसी फिल्ममेकर का विज़न क्लीयर हो और उसे अपना क्राफ्टबोध हो, तो एक साधारण कहानी पर भी अद्भुत फिल्म बनाई जा सकती है.

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

हमारे यहां के फिल्ममेकर्स को ये समझना है कि किसी फिल्म को लोकल ऑडियंस की सेंसिब्लिटीज़ के हिसाब से ढालने का मतलब उन्हें डंब समझना नहीं है.

मूवी रिव्यू: जलसा

मूवी रिव्यू: जलसा

विज़िबल और इनविज़िबल रूप से कन्फ्लिक्ट या कहें तो डिवाइड पूरी फिल्म में दिखता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

शो की कास्ट में काबिल एक्टर्स के नाम होने के बावजूद ये शो राइटिंग के टर्म्स में पिछड़ जाता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: अपहरण 2

वेब सीरीज़ रिव्यू: अपहरण 2

इस बार भी मेकर्स ने वही गलती की है.

मूवी रिव्यू: द कश्मीर फाइल्स

मूवी रिव्यू: द कश्मीर फाइल्स

ये फ़िल्म ग्रे में जाकर चीजों को टटोलने की कोशिश नहीं करती. यहां सबकुछ या तो ब्लैक है या वाइट.