Submit your post

Follow Us

'बाहर कोरोना आहे पापा' कहकर पुलिसवाले को रोकते बच्चे का वीडियो किसी को भी रुला देगा

एक बच्चा है. उसके पिता पुलिस में हैं. लॉकडाउन के दौर में वर्दी पहनकर तैयार हो रहे हैं. बेल्ट-वेल्ट कस रहे हैं. लेकिन बच्चा अपने पिता को बाहर नहीं जाने देना चाहता. कोरोना की वजह से. वो सोफे पर बैठकर रो रहा है. अपनी पूरी ताकत को समेटकर चीख रहा है, ‘पापा, बाहेर कोरोना आहे, पापा.’ उसने इस बात की रट लगा ली है.

बाहर कोरोना है, पापा. इतना तो उसे पता है कि कोरोना ज़रूर कोई ‘दुष्ट चीज़’ है. उसका बस चले, तो अपनी छोटी-सी मुट्ठी से पापा को घसीटकर कहीं छिपा ले. बोलते हुए कि बैठो चुपचाप. कह दिया, तो कह दिया. लेकिन पापा को जाना है, क्योंकि पुलिस की ड्यूटी है. जाना ही पड़ता है, क्योंकि ‘ऊपर से’ फोन आया है.

साहब का फोन आया था

पापा उसे समझाते हुए कहते हैं, ‘साहेबांचा फोन आला होता मला.’ मतलब कि मुझे साहब का फोन आया था. फिर बच्चे की तरफ दोनों हाथ बढ़ाते हैं. बच्चा पास आने से मना करता है. हाथ पटकता है. वो दिलासा देते हैं, ‘मी लगेच आलो, दोनच मिनटात जाऊन येतो.’ माने अभी आया. दो मिनट में जाकर आता हूं. और बाप बच्चे को उठाकर गले लगा लेता है.

ये महाराष्ट्र के एक पुलिसवाले की कहानी है, जो इस समय कई लोगों की कहानी होगी. इसका वीडियो और इमोशन, दोनों वायरल हो रहे हैं. यहां देख सकते हैं:

21 दिन का लॉकडाउन

दुनिया कोरोना से लड़ रही है. लाखों लोग घरों में कैद हैं. लेकिन हज़ारों लोग मोर्चे पर तैनात हैं. डॉक्टर, नर्स, मीडिया पर्सन और पुलिस. भारत में 21 दिन का लॉकडाउन है. पुलिस को लेकर तमाम तरह की ख़बरें आती हैं. लेकिन सिर्फ इस बच्चे की नज़र से भी देखा जाए, तो लगेगा कि इस माहौल में ड्यूटी पर निकलना ही अपने आप में एक टास्क है. इस समय इन सबका शुक्रगुज़ार होना चाहिए.

देश-दुनिया में ऐसी न जाने कितनी कहानियां बोरा भर-भर इकट्ठा हो रही होंगी. रिश्तों की, हालातों की, अनुभवों की. इंसान जब इस बुरे दौर से उबरेगा, तो इन कहानियों के साथ लौटेगा. फिर से हाथ मिलाएगा. फिर से गले लगेगा. चूमेगा. एक-दूसरे के आंसू पोछेगा और बेधड़क बाहर जाते हुए कहेगा: बस, दो मिनट में आया.


वीडियो- कोरोना वायरस: चीन के वुहान शहर से जो ख़बर आई है वो आपको राहत देगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इतना सैनेटाइजर लगा चुका हूं कि अल्कोहल की मात्रा देखते हुए मुझे ठेका घोषित कर देना चाहिए

लॉकडाउन में घर के (बहुत) काम करते हुए, घर के बारे में ऐसी चीजें पता लगीं कि भरोसा ही नहीं हो रहा.

वो 8 कॉमेडी फिल्में जो लॉकडाउन में देखकर खुद को थैंक यू बोलेंगे

हमारी मूवी रेकमेंडेशन लिस्ट. नोश फरमाएं. हंसते-गुदगुदाते खुशी मिलेगी.

वो 5 ताकतवर पोलिटिकल थ्रिलर्स जो आपको अभी घर बैठे ज़रूर देखनी चाहिए

कोरोना लॉकडाउन में अच्छी फिल्में देखना चाहते हैं तो पोलिटिकल थ्रिलर/ड्रामा श्रेणी में ये हैं हमारी रेकमेंडेशंस.

जिस तिहाड़ में निर्भया के दोषियों को फांसी हुई, उसी जेल में ये फांसियां भी हो चुकी हैं

वो हाई प्रोफाइल केस, जिन्होंने पूरे देश का ध्यान खींचा.

इन 6 ज़बरदस्त फिल्मों में कोरोना जैसी महामारी दिखाई गई है

महामारी पर बनी हुई इन फिल्मों को पूरी दुनिया में देखा जा रहा है

निर्भया के दोषियों को फांसी मिलने पर बॉलीवुड हस्तियों ने क्या कहा?

निर्भया के गुनहगारों को आज सुबह फांसी दे दी गई.

अलका याज्ञ्निक के 36 लुभावने गानेः जिन्हें गा-गाकर बरसों लड़के-लड़कियों ने प्यार किया

प्लेलिस्ट जो बार-बार सुनी जाने वाली है. अलका आज 53 की हो गई हैं.

शशि कपूर ने बताया था, दुनिया थर्ड क्लास का डिब्बा है

पढ़िए उनके दस यादगार डायलॉग्स.

जब तक ये 11 गाने रहेंगे, शशि कपूर याद आते रहेंगे

हर एज ग्रुप की प्ले लिस्ट में आराम से जगह बना सकते हैं ये गाने.

कोरोना वायरस का असर दिखाती ये 17 तस्वीरें देखीं आपने?

क्या से क्या हो गया, देखते-देखते.